सरकार का दावा : ग्रामीण भारत 85 फीसदी स्वच्छ, 7.4 करोड़ टॉयलेट बनेप्रतीकात्मक फोटो
Highlights
  • 6000 गांवों के 90,000 परिवारों का सर्वे किया गया
  • 93.4 प्रतिशत घरों में टॉयलेट का इस्तेमाल किया जा रहा
  • 2017 में 91 फीसदी लोगों द्वारा टॉयलेट के इस्तेमाल की बात सामने आई थी

नई दिल्ली: स्वच्छ भारत मिशन के तहत अब तक 85% ग्रामीण भारत स्वच्छ हो चुका है. ग्रामीण विकास मंत्रालय ने शुक्रवार को ये दावा किया. सरकार की तरफ से जारी ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक ग्रामीण इलाकों में जन अभियान की मदद से अब तक 7.4 करोड़ टॉयलेट का निर्माण किया जा चुका है. भारत सरकार का दावा है अब तक पूरे देश के 391 ज़िलों में कुल तीन लाख 80 हज़ार गांव खुले में शौच से मुक्त हो चुके हैं. ग्रामीण विकास मंत्रालय के मुताबिक एक स्वतंत्र वेरिफिकेशन एजेंसी ने हाल ही में 6000 गांवों के 90,000 परिवारों के सर्वे में पाया है कि इनमें से 93.4 % के घरों में टॉयलेट का इस्तेमाल किया जा रहा था.

Also Read: 5 Lakh Community Toilets, 67 Lakh Household Toilets By 2019; Hardeep Singh Puri Promises Big To Improve Delhi’s Sanitation Scenario

इससे पहले 2017 में क्वालिटी कॉउंसिल ऑफ़ इंडिया के एक स्वतंत्र सर्वे में 91 % लोगों द्वारा टॉयलेट के इस्तेमाल की बात सामने आई थी जबकि इससे पहले 2016 में नेशनल सैंपल सर्वे आर्गेनाईजेशन के एक स्वतंत्र सर्वे में यह आंकड़ा 95% दिखाया गया था.

Also Read: ‘When Building Colonies Construct Public Toilets Also, Delhi High Court Tells Delhi Development Authority

NDTV – Dettol Banega Swachh India campaign lends support to the Government of India’s Swachh Bharat Mission (SBM). Helmed by Campaign Ambassador Amitabh Bachchan, the campaign aims to spread awareness about hygiene and sanitation, the importance of building toilets and making India open defecation free (ODF) by October 2019, a target set by Prime Minister Narendra Modi, when he launched Swachh Bharat Abhiyan in 2014. Over the years, the campaign has widened its scope to cover issues like air pollutionwaste managementplastic banmanual scavenging and menstrual hygiene. The campaign has also focused extensively on marine pollutionclean Ganga Project and rejuvenation of Yamuna, two of India’s major river bodies

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

Air Pollution: Viable Alternative Emerges To Burning Paddy Straw In Punjab

In a bid to cur pollution caused by the practice of stubble burning, Worldwide Fund for Nature India is working in collaboration with a private firm to use rice straw as an energy feeder in boilers