NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India
  • Home/
  • Photos/
  • 2023 बाजरे का अंतर्राष्ट्रीय वर्ष होगा, जानिए इससे जुड़ी जरूरी बातें

2023 बाजरे का अंतर्राष्ट्रीय वर्ष होगा, जानिए इससे जुड़ी जरूरी बातें

बाजरे को वापस लाने और घरेलू, और वैश्विक मांग बनाने और लोगों को पोषण संबंधी भोजन देने के लिए, भारत सरकार ने 2018 में राष्ट्रीय बाजरा वर्ष को चिह्नित करने का निर्णय लिया. 2021 में, भारत ने संयुक्त राष्ट्र को 2023 को अंतर्राष्ट्रीय वर्ष घोषित करने का प्रस्ताव दिया. भारत के प्रस्ताव को 72 देशों का समर्थन मिला और संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) ने 2023 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष के रूप में घोषित किया गया.

कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के अनुसार, भारत बाजरे का एक प्रमुख उत्पादक है, जो एशिया के उत्पादन का 80 प्रतिशत और वैश्विक उत्पादन का 20 प्रतिशत हिस्सा है. यह सदियों से मध्य भारत का प्रमुख मुख्य भोजन रहा है, लेकिन हाल के वर्षों में, बाजरा धीरे-धीरे डाइट से अलग हो गया है.

कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय का कहना है कि 1965-70 तक, बाजरा भारत में कुल खाद्यान्न सामग्री के 20 प्रतिशत का हिस्सा था, जो अब घटकर मात्र 6 प्रतिशत रह गया है.

बाजरे की मांग को वापस लाने के लिए, भारत सरकार ने 2023 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष के रूप में मनाने का निर्णय लिया है ताकि भारतीय बाजरा, व्यंजनों, मूल्य वर्धित उत्पादों को विश्व स्तर पर स्वीकार किया जा सके.

बाजरे के अंतर्राष्ट्रीय वर्षों का उद्देश्य है- 1. खाद्य सुरक्षा और पोषण के लिए बाजरे के योगदान के बारे में जागरूकता बढ़ाना 2. बाजरे के टिकाऊ उत्पादन और गुणवत्ता में सुधार के लिए हितधारकों को प्रेरित करना 3. अन्य दो उद्देश्यों तक पहुंचने के लिए अनुसंधान और विकास और विस्तार सेवाओं में बढ़े हुए निवेश पर ध्यान आकर्षित करना.

2023 को बाजरा वर्ष के रूप में चिह्नित करने के लिए कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने निम्नलिखित प्रारंभिक कदम उठाए हैं: - कोर कमेटी का गठन किया गया है - देश में बाजरा उत्पादन और आपूर्ति को कैसे बढ़ावा दिया जाए, इस पर विभिन्न राज्यों, प्रसंस्करणकर्ताओं, शेफ/डाइट एक्‍सपर्ट, किसानों के साथ सलाह ली गई है - भारतीय बाजरा अनुसंधान संस्थान (IIMR) को सभी नीतियों, गतिविधियों और कम्युनिकेशन पर नज़र रखने के लिए एक नोडल संस्थान बनाया गया है - जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के लिए 6 टास्क फोर्स का गठन किया गया है.

अपनी डाइट में बाजरे को शामिल करने के लाभों के बारे में बात करते हुए, राष्ट्रीय पोषण और स्वास्थ्य बोर्ड, नीति आयोग के सदस्‍य डॉ. राज भंडारी ने कहा, 'बाजरे को मूल्य वर्धित न्यूनतम संसाधित उत्पादों के रूप में रखने से स्वस्थ भारत का मार्ग प्रशस्त होगा. इस शक्ति से भरपूर पोषक-अनाज के सकारात्मक गुण शुगर और हाई बीपी जैसी बीमारियों को भी दूर रखा जा सकता है.'

पर्यावरणीय पहलू पर प्रकाश डालते हुए जोआना केन-पोटाका, कार्यकारी निदेशक, इंटरनेशनल क्रॉप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर द सेमी-एरिड ट्रॉपिक्स (ICRISAT) ने कहा, 'आपने सुपरफूड्स के बारे में सुना होगा; खाद्य पदार्थ जो सुपर पौष्टिक हैं. बाजरा इन्‍ही में से एक है और ये मूल रूप से स्मार्ट भोजन हैं जो आपके लिए अच्छा है, किसान के लिए अच्छा है और ग्रह के लिए अच्छा है.

भारतीय बाजरा अनुसंधान संस्थान, हैदराबाद के डॉ. दयाकर राव ने बाजरा - सुपर अनाज के महत्व को दोहराते हुए कहा, 'बाजरा खराब गुणवत्ता वाली मिट्टी में उग सकता है और खाद्य सुरक्षा के लिए एक अच्छी योजना भी बना सकता है. बढ़ती आबादी और जलवायु परिवर्तन के परिदृश्य के साथ खाद्य सुरक्षा भविष्य में एक मुद्दा बन सकता है.'

Highlights: Banega Swasth India Launches Season 10

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पढ़ें

This website follows the DNPA Code of Ethics

© Copyright NDTV Convergence Limited 2024. All rights reserved.