National Nutrition Week 2020: हर गर्भवती महिला को डाइट से जुड़ी ये 10 बातें जरूर जान लेनी चाहिए

National Nutrition Week 2020: हर गर्भवती महिला को डाइट से जुड़ी ये 10 बातें जरूर जान लेनी चाहिए

Pregnancy Diet Tips: गर्भवती महिलाओं को हेल्दी और पोषक तत्वों से भरपूर डाइट लेना जरूरी होता है. यहां नेशनल न्यूट्रिशन वीक (National Nutrition Week) के दौरान कुछ प्रेगनेंसी डाइट टिप्स दिए गए हैं, जो गर्भवती महिलाओं को बच्चे की हेल्दी ग्रोथ (Healthy Growth) करने में मदद कर सकते हैं.
Banega Swachh India Hindi Special
- in Banega Swachh India Hindi Special
0
National Nutrition Week 2020: हर गर्भवती महिला को डाइट से जुड़ी ये 10 बातें जरूर जान लेनी चाहिएNational Nutrition Week 2020: गर्भवती महिलाओं को अपने आहार में पोषक तत्वों को शामिल करना चाहिए
Highlights
  • 1 से 7 सितंबर तक राष्ट्रीय पोषण सप्ताह मनाया जाता है.
  • गर्भवती महिलाओं को हेल्दी डाइट लेनी चाहिए.
  • शिशु के विकास में पोषण महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

National Nutrition Week 2020: राष्ट्रीय पोषण सप्ताह सितंबर के पहले सप्ताह के दौरान मनाया जाता है. यह सप्ताह शरीर और समग्र स्वास्थ्य के लिए कई पोषक तत्वों के महत्व पर प्रकाश डालता है. नेशनल न्यूट्रिशन वीक 2020 (National Nutrition Week 2020) के अवसर पर यहां माताओं के लिए कुछ प्रेगनेंसी डाइट टिप्स (Pregnancy Diet Tips) दिए गए हैं. जिन्हें गर्भावस्था के नाजुक चरण के दौरान फॉलो करना जरूरी होता है. एक पौष्टिक आहार, मध्यम व्यायाम, अच्छी नींद और खुशहाल विचार हेल्दी प्रेगनेंसी (Healthy Pregnancy) के लिए आवश्यक शर्तें हैं. प्रसवपूर्व, गर्भवास्था और प्रसवोत्तर अवधि में पोषण की महत्वपूर्ण भूमिका होती है. शिशु के स्वस्थ विकास के लिए डाइट में सभी आवश्यक पोषक तत्वों को शामिल करना जरूरी है.

गर्भवती महिलाओं के लिए डाइट टिप्स | Diet Tips For Pregnant Women

1. फोलिक एसिड: एक 400 एमसीजी प्रसवपूर्व अवधि के दौरान रोजाना लेने की जरूरत होती है. यानि गर्भवती होने से कम से कम तीन महीने पहले. यह बहुत महत्वपूर्ण है कि भ्रूण में न्यूरल ट्यूब दोष को रोकने के लिए फोलिक एसिड की इस मात्रा का सेवन किया जाता है. विटामिन बी कॉम्प्लेक्स फोलिक एसिड के इष्टतम उपयोग में मदद करता है और इसलिए समान रूप से महत्वपूर्ण है. हरी पत्तेदार सब्जियां भी फोलिक एसिड का एक और समृद्ध स्रोत हैं.

2. बढ़ते भ्रूण को पर्याप्त वृद्धि के लिए कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा, विटामिन, खनिज और ट्रेस तत्वों की जरूरत होती है. गर्भवती महिला को अपने भोजन के प्रकार पर ध्यान देना चाहिए.

3. गर्भावस्था के दौरान शारीरिक एनीमिया विकसित करने की प्रवृत्ति होती है क्योंकि रक्त की प्लाज्मा मात्रा लाल रक्त कोशिकाओं के सापेक्ष फैलती है. इसका मुकाबला करने के लिए, एंटेना के दौरे के दौरान वे दूसरे तिमाही में आयरन की खुराक लेनी भी जरूरी है.

4. कैल्शियम और विटामिन डी की खुराक की भी सिफारिश की जाती है. ये हड्डियों को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

National Nutrition Week 2020: हर गर्भवती महिला को डाइट से जुड़ी ये 10 बातें जरूर जान लेनी चाहिए
National Nutrition Week: कैल्शियम और विटामिन डी आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होना चाहिए

5. गर्भावस्था में हार्मोनल परिवर्तनों के कारण कब्ज का विकास होना काफी आम है. अगर गर्भवती महिला अपनी गर्भावस्था का समर्थन करने के लिए प्रोजेस्टेरोन की खुराक पर है, तो फाइबर युक्त आहार के साथ-साथ मध्यम मात्रा में व्यायाम उसे इस समस्या को दूर करने में मदद करता है.

6. डेयरी उत्पाद, दाल, अनाज कैल्शियम से भरपूर होते हैं. हरी पत्तेदार सब्जियाँ विशेष रूप से ड्रमस्टिक पत्ते, पालक आदि, अंजीर, खजूर और ऑर्गनो-मीट आयरन का एक समृद्ध स्रोत हैं. फल, सब्जियां, साबुत अनाज फाइबर से भरपूर होते हैं. एक अंगूठे के नियम के रूप में, गर्भवती महिलाओं को प्रतिदिन तीन प्रकार के फल और तीन प्रकार की सब्जियों का सेवन करने की सलाह दी जाती है.

7. एक गर्भवती महिला में दिल की जलन और भाटा ग्रासनलीशोथ विकसित करने की प्रवृत्ति होती है. उन्हें छोटे लगातार भोजन करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है जिसमें इससे मुकाबला करने के लिए तेल और मसाले कम मात्रा में होते हैं. साथ ही, कुछ महिलाओं में जेस्टेशनल डायबिटीज मेलिटस विकसित करने की प्रवृत्ति होती है. ऐसी महिला जो बॉर्डरलाइन डायबिटिक या बिगड़ा हुआ शर्करा के साथ होती हैं, उन्हें सलाह दी जाती है कि वे एक सख्त कैलोरी काउंट का पालन करें और नियमित रूप से शर्करा की निगरानी करें.

8. गर्भावस्था की पूरी अवधि के दौरान शराब और कैफीन का सेवन करना हतोत्साहित करता है क्योंकि ये न केवल गैस्ट्रिटिस को खराब कर रहे हैं बल्कि बच्चे को प्रभावित कर सकते हैं. गर्भावस्था के दौरान शराब का सेवन गर्भपात, अभी भी जन्म और जीवन की एक लंबी शारीरिक, व्यवहारिक और बौद्धिक अक्षमता (भ्रूण अल्कोहल स्पेक्ट्रम विकार) का कारण बन सकता है. दवाओं और धूम्रपान भी भ्रूण को प्रभावित करते हैं और इनसे बचा जाना चाहिए.

9. कुछ पनीर, बिना पका हुआ दूध, फैट को बढ़ा सकता है. समुद्री भोजन, बिना पके हुए कच्चे फल, सब्जियां, लिस्टेरिया नामक बैक्टीरिया से दूषित हो सकती हैं जो भोजन की विषाक्तता का कारण बन सकती हैं.

10. फलों और सब्जियों में कीटनाशक अवशेषों के सेवन का डर होता है, इसलिए हमेशा ऑर्गेनिक रूप से उगाए गए उत्पादों पर स्टॉक करना सुरक्षित होता है. पर्यावरण कार्य समूह अमेरिकी कृषि विभाग द्वारा एकत्रित कीटनाशक अवशेषों के आंकड़ों के आधार पर सालाना डर्टी डोजेन और ‘क्लीन 15’ नामक सब्जियों और फलों की सूची जारी करता है. यह सलाह दी जाती है कि उन्हें ‘क्लीन 15’ में बहुत सारे फलों और सब्जियों की जांच करें और ‘डर्टी डोजेन’ के लिए व्यवस्थित रूप से उगाए गए पदार्थों की जगह लें.

कुल मिलाकर मां को भोजन से होने वाली बीमारियों से बचाव के लिए न केवल शिशु के पर्याप्त विकास के लिए बल्कि खाद्य स्वच्छता पर भी ध्यान देना चाहिए.

(डॉ. शशिकला क्षीरसागर, सलाहकार प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ, विक्रम अस्पताल, बैंगलोर)

अस्वीकरण: इस लेख के भीतर व्यक्त की गई राय लेखक की निजी राय है. एनडीटीवी इस लेख की किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता, या वैधता के लिए जिम्मेदार नहीं है. सभी जानकारी एक आधार पर प्रदान की जाती है. लेख में दिखाई देने वाली जानकारी, तथ्य या राय एनडीटीवी के विचारों को प्रतिबिंबित नहीं करती है और एनडीटीवी उस के लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व नहीं मानता है.

NDTV – Dettol Banega Swasth India campaign is an extension of the five-year-old Banega Swachh India initiative helmed by Campaign Ambassador Amitabh Bachchan. It aims to spread awareness about critical health issues facing the country. In wake of the current COVID-19 pandemic, the need for WASH (WaterSanitation and Hygiene) is reaffirmed as handwashing is one of the ways to prevent Coronavirus infection and other diseases. The campaign highlights the importance of nutrition and healthcare for women and children to prevent maternal and child mortality, fight malnutrition, stunting, wasting, anaemia and disease prevention through vaccines. Importance of programmes like Public Distribution System (PDS), Mid-day Meal Scheme, POSHAN Abhiyan and the role of Aganwadis and ASHA workers are also covered. Only a Swachh or clean India where toilets are used and open defecation free (ODF) status achieved as part of the Swachh Bharat Abhiyan launched by Prime Minister Narendra Modi in 2014, can eradicate diseases like diahorrea and become a Swasth or healthy India. The campaign will continue to cover issues like air pollutionwaste managementplastic banmanual scavenging and sanitation workers and menstrual hygiene

World

17,91,56,496Cases
5,81,68,051Active
11,71,06,212Recovered
38,82,233Deaths
Coronavirus has spread to 193 countries. The total confirmed cases worldwide are 17,91,56,496 and 38,82,233 have died; 5,81,68,051 are active cases and 11,71,06,212 have recovered as on June 23, 2021 at 3:45 am.

India

3,00,28,709 50,848Cases
6,43,19419,327Active
2,89,94,855 68,817Recovered
3,90,660 1,358Deaths
In India, there are 3,00,28,709 confirmed cases including 3,90,660 deaths. The number of active cases is 6,43,194 and 2,89,94,855 have recovered as on June 23, 2021 at 2:30 am.

State Details

State Cases Active Recovered Deaths
Maharashtra

59,87,521 8,470

1,26,468 1,055

57,42,258 9,043

1,18,795 482

Kerala

28,29,460 12,617

1,00,881 746

27,16,284 11,730

12,295 141

Karnataka

28,15,029 3,709

1,18,615 4,541

26,62,250 8,111

34,164 139

Tamil Nadu

24,36,819 6,895

56,886 4,443

23,48,353 11,144

31,580 194

Andhra Pradesh

18,57,352 4,169

53,880 4,260

17,91,056 8,376

12,416 53

Uttar Pradesh

17,04,678 202

3,910 253

16,78,486 397

22,282 58

West Bengal

14,85,438 1,852

22,508 232

14,45,493 2,037

17,437 47

Delhi

14,32,778 397

1,918 78

14,05,927 467

24,933 8

Chhattisgarh

9,91,653 482

8,007 557

9,70,244 1,032

13,402 7

Rajasthan

9,51,393 137

2,388 303

9,40,101 437

8,904 3

Odisha

8,83,490 2,957

30,859 1,240

8,48,960 4,159

3,671 38

Gujarat

8,22,620 135

5,159 480

8,07,424 612

10,037 3

Madhya Pradesh

7,89,415 65

1,707 273

7,78,902 318

8,806 20

Haryana

7,67,726 146

2,200 137

7,56,231 263

9,295 20

Bihar

7,20,207 268

2,811 206

7,07,833 468

9,563 6

Telangana

6,15,574 1,175

16,640 606

5,95,348 1,771

3,586 10

Punjab

5,93,063 405

5,968 509

5,71,207 880

15,888 34

Assam

4,88,179 2,869

32,975 350

4,50,924 2,482

4,280 37

Jharkhand

3,44,775 110

1,417 72

3,38,256 180

5,102 2

Uttarakhand

3,38,978 171

2,896 68

3,29,030 231

7,052 8

Jammu And Kashmir

3,12,584 428

7,181 578

3,01,134 999

4,269 7

Himachal Pradesh

2,00,791 188

2,276 132

1,95,062 315

3,453 5

Goa

1,64,957 303

2,920 146

1,59,029 438

3,008 11

Puducherry

1,15,364 284

3,214 150

1,10,423 433

1,727 1

Manipur

64,993 575

9,214 84

54,714 649

1,065 10

Tripura

63,140 395

3,747 163

58,735 554

658 4

Chandigarh

61,467 23

278 33

60,383 56

806

Meghalaya

45,976 421

4,273 77

40,915 341

788 3

Arunachal Pradesh

33,664 289

2,548 9

30,956 279

160 1

Nagaland

24,438 64

1,757 87

22,204 149

477 2

Ladakh

19,871 33

360 5

19,309 38

202

Sikkim

19,458 137

2,430 18

16,732 152

296 3

Mizoram

18,409 430

4,424 197

13,900 233

85

Dadra And Nagar Haveli

10,520 4

61 1

10,455 3

4

Lakshadweep

9,504 33

315 4

9,142 36

47 1

Andaman And Nicobar Islands

7,425 10

103 6

7,195 4

127

Coronavirus Outbreak: Full CoverageTesting CentresFAQs

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

No Risk For Children Born To Mothers Given Flu Jabs During Pregnancy: Study

Although pregnant people are not more susceptible to acquiring influenza infection, they are at an increased risk of complications if they get the flu during pregnancy, as per a study