Connect with us

आशा वर्कर्स और स्वास्थ्यकर्मियों के जज्बे को सलाम

Published On: July 16, 2020 | Duration: 1 MIN, 47 SEC
लॉकडाउन के दौरान स्वास्थ्य सेवाओं पर भी असर पड़ा है. भारत के खासकर ग्रामीण इलाकों में ASHA यानी अक्रेडिटेड सोशल हेल्थ एक्टिविस्ट और ANM यानी ऑक्सिलरी नर्सिंग मिडवाइव्स ने गर्भवती महिलाओं और बच्चों की देखभाल में बहुत मदद की है. गर्भवती महिलाओं ने बताया कि कोरोनावायरस की वजह से वह डरी हुई थीं लेकिन आशा दीदियों ने उनकी पूरी मदद की.
Click to comment

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *