Connect with us

कोरोनावायरस अपडेट

कोविड के लक्षण वाले लोगों को 10 दिनों के लिए आइसोलेट होना चाहिए: डब्ल्यूएचओ की नई गाइडलाइंस

जैसे ही दुनिया भर में कोरोनोवायरस के मामलों में अचानक वृद्धि हुई एक और महामारी की लहर बढ़ने की आशंका हो गई है. ऐसे में डब्ल्यूएचओ ने नए दिशानिर्देश जारी किए हैं.

COVID-19: Sentinel Sequencing Reveals Presence Of All Omicron Variants In Community
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने दुनिया भर में COVID-19 में वृद्धि को मैनेंज करने के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं.

नई दिल्ली: दुनिया भर के कई देशों में इस बीमारी के फैलने के साथ ही कोरोनोवायरस का डर भी जारी है. भारत में, रविवार (15 जनवरी) को अपडेट किए गए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में 104 नए कोरोनोवायरस इंफेक्‍शन हुए, जबकि सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 2,149 रह गई.

महामारी की एक और लहर की आशंका को देखते हुए और आवश्यक सावधानी बरतते हुए, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने घातक वायरस से संक्रमित होने वाले लोगों के संबंध में नए दिशानिर्देश जारी किए हैं. WHO ने दुनिया भर में कोरोना वायरस की स्थिति की समीक्षा की एक सतत प्रक्रिया के एक भाग के रूप में सामुदायिक सेटिंग्स, COVID-19 ट्रीटमेंट और क्‍लीनिकल मैनेंजमेंट में मास्क पहनने पर अपने दिशानिर्देशों को अपडेट किया है.

इसे भी पढ़ें: अन्य देशों में कोविड-19 संक्रमणों में वृद्धि के बीच भारत अलर्ट मोड पर

आइए नजर डालते हैं WHO द्वारा अपडेट किए गए दिशानिर्देशों पर:

आइसोलेशन एक महत्वपूर्ण कदम है:

COVID-19 के लक्षणों वाले लोगों को लक्षण दिखाई देने के बाद कम से कम 10 दिनों के लिए अलग-थलग कर देना चाहिए. उन लोगों के लिए जो COVID-19 के लिए पॉजिटिव हैं, लेकिन कोई संकेत या लक्षण नहीं हैं, आसोलेशन का समय पांच दिन हो सकता है. डब्ल्यूएचओ यह भी सलाह देता है कि अगर एक एंटीजन-आधारित रैपिड टेस्ट पर नेगेटिव टेस्‍ट आता है तो एक कोविड-19 रोगी को आसोलेशन से जल्दी छुट्टी दी जा सकती है.

मास्क पहनने की सख्त सलाह:

डब्ल्यूएचओ ने सार्वजनिक स्थानों पर मास्क के उपयोग की सिफारिश की है, इसे घातक वायरस की रोकथाम में एक महत्वपूर्ण कारक के रूप में अपडेट किया गया है. दिशानिर्देश कहते हैं कि व्यक्ति को निम्नलिखित स्थितियों में मास्क पहनना चाहिए:

  • यदि कोई हाल ही में COVID-19 रोगी के संपर्क में आया है
  • जब किसी को COVID-19 है या उसका संदेह है
  • जब किसी को गंभीर COVID-19 का हाई रिस्‍क हो
  • भीड़-भाड़, बंद या खराब हवादार जगह में

इसे भी पढ़ें: Omicron XBB 1.5 और BF.7: नए COVID वैरिएंट के बीच भारत की क्‍या स्थिति है?

COVID-19 उपचार और अन्य सिफारिशें:

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने Ritonavir-Boosted Nirmatrelvir (“Paxlovid” के रूप में भी जाना जाता है) के उपयोग के लिए अपनी मजबूत सिफारिश को आगे बढ़ाया है. संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी हल्के या मध्यम COVID-19 रोगियों में Paxlovid के उपयोग की सिफारिश करती है, जिनका अस्पताल में भर्ती होने का हाई रिस्‍क हैं. WHO ने दो अन्य दवाओं, सोट्रोविमैब (sotrovimab) और कासिरिविमैब-इमडिविमैब (casirivimab-imdevimab) के इस्तेमाल न करने की सलाह देते हुए कहा कि ये दोनों दवाएं वर्तमान में ओमिक्रोन जैसे वेरिएंट के खिलाफ अप्रभावी हो सकती हैं.

वर्तमान में COVID-19 रोगियों के लिए छह ट्रीटमेंट ऑप्‍शन हैं: तीन वह जो हाई रिस्‍क वाले व्यक्तियों को अस्पताल में भर्ती होने से रोकते हैं और तीन जो गंभीर या गंभीर बीमारी वाले लोगों की जान बचाते हैं.

WHO ने सिफारिश की है कि गैर-गंभीर COVID-19 वाली गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को वायरस के उपचार और दवाओं के सभी चरणों में अपने डॉक्टरों से सलाह लेनी चाहिए.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=