NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India

जलवायु परिवर्तन

अगस्त तक जारी रहेगी भीषण गर्मी: विश्व मौसम विज्ञान संगठन सलाहकार

दक्षिणी यूरोप गर्मियों के पर्यटन सीजन के दौरान रिकॉर्ड तोड़ गर्मी से जूझ रहा है, जिससे अधिकारियों को स्वास्थ्य समस्याओं और मौत के बढ़ते जोखिम की चेतावनी दी गई है

Read In English
अगस्त तक जारी रहेगी भीषण गर्मी: विश्व मौसम विज्ञान संगठन सलाहकार
मौसम ने लाखों अमेरिकियों के जीवन को भी बाधित किया है

जिनेवा: अत्यधिक गर्मी पर डब्ल्यूएमओ एक सलाहकार ने शुक्रवार (21 जुलाई) को कहा कि हाल के हफ्तों में रिकॉर्ड तापमान रहने के बाद, पूरे अगस्त के दौरान दुनिया के एक बड़े हिस्से में हीटवेव जारी रहने की उम्मीद है. विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्ल्यूएमओ) ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि उन्हें इस सप्ताह उत्तरी अमेरिका, एशिया, उत्तरी अफ्रीका और भूमध्य सागर में तापमान 40 सेल्सियस (104 फ़ारेनहाइट) से ऊपर रहने की उम्मीद है ” इस दौरान लंबे समय तक गर्मी की लहर चलेंगी”. डब्ल्यूएमओ के वरिष्ठ अत्याधिक गर्मी सलाहकार जॉन नायरन ने रॉयटर्स को बताया,

हमें उम्मीद करनी चाहिए या कम से कम ये देखते हुए योजना बनानी चाहिए कि ये भीषण गर्मी अगस्त तक जारी रहेगी.

इसे भी पढ़ें: जलवायु परिवर्तन की कहानी, कवियों की जुबानी : मिलिए उन कवियों से जो ‘जलवायु परिवर्तन के दौर में प्यार’ की कविताओं से लाना चाहते हैं बदलाव 

दक्षिणी यूरोप चरम गर्मी के पर्यटन सीजन के दौरान रिकॉर्ड तोड़ गर्मी से जूझ रहा है, जिससे अधिकारियों को स्वास्थ्य समस्याओं और यहां तक कि मृत्यु के बढ़ते जोखिम की चेतावनी दी गई है. चरम मौसम ने भी लाखों अमेरिकियों के जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया है, दक्षिणी कैलिफोर्निया से लेकर सुदूर दक्षिण तक खतरनाक गर्मी पड़ रही है. प्रचंड गर्मी ने मध्य पूर्व पर भी असर डाला है. नायरन ने कहा कि जलवायु परिवर्तन का मतलब है कि गर्मी की लहरें अधिक बार बढ़ेंगी और सभी मौसमों को प्रभावित करेंगी. नायरन ने कहा,

हम वैश्विक तापमान में वृद्धि देखने की प्रवृत्ति पर हैं जो हीटवेव की तीव्रता और आवृत्ति की बढ़ोतरी में योगदान देगा. हमें इसके साफ संकेत मिले हैं कि वे बसंत ऋतु में पहले से ही बढ़ रहे हैं.

27-सदस्यीय यूरोपीय संघ सहित कुछ देश उम्मीद कर रहे हैं कि सभी देश इस वर्ष के अंत में संयुक्त राष्ट्र जलवायु वार्ता में जलवायु परिवर्तन का कारण बनने वाले जीवाश्म ईंधन की खपत को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने के लिए सहमत होंगे. हालांकि तेल और गैस संसाधन वाले देशों ने इस विचार का विरोध किया है. नायरन ने कहा,

इस बात के बहुत पुख्ता सबूत हैं कि अगर हम जीवाश्म ईंधन को खत्म कर दें, तो हम जो देख रहे हैं उसमें एक बड़ा योगदान देने वाला कम हो जाएगा. हम इसे जल्दबाजी में नहीं बदल सकते, लेकिन तुरंत कोई एक्शन तो उठा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें:जलवायु परिवर्तन को रोकने के लिए कम्युनिटी रेजिलिएंस में निवेश करने की जरूरत: नीरा नदी, को-फाउंडर, दसरा

(यह स्टोरी एनडीटीवी स्टाफ की तरफ से संपादित नहीं की गई है और एक सिंडिकेटेड फीड से प्रकाशित हुई है.)

Highlights: Banega Swasth India Launches Season 10

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पढ़ें

This website follows the DNPA Code of Ethics

© Copyright NDTV Convergence Limited 2024. All rights reserved.