Connect with us

बेहतर भविष्य के लिए रेकिट की प्रतिबद्धता

चाचा चौधरी और अन्य फेमस सुपरहीरो से जानें हाथ धोना क्यों जरूरी है?

डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया लेजेंडरी इंडियन कॉमिक बुक कैरेक्टर चाचा चौधरी के जरिए से बच्चों को हेल्‍थ और हाइजीन के बारे में सिखा रहा है

Read In English

नई दिल्ली: स्पाइडरमैन, सुपरमैन और बैटमैन जैसे सुपरहीरो के हमारी लाइफ में आने से पहले, भारतीय बच्चों और यहां तक कि एडल्ट्स के पास भी अपना सुपरहीरो था, जिसका नाम था- चाचा चौधरी. बुद्धिमान बूढ़े चाचा चौधरी ने केबल टेलीविजन के आने से पहले से ही पीढ़ी दर पीढ़ी लोगों का एंटरटेनमेंट किया है. वह एक कॉमेडी बुक के जरिए घर-घर आनंद और ज्ञान का प्रसार करते थे. बड़ी सफेद मूंछें, लाल पगड़ी और हाथ में छड़ी लेकर चाचा चौधरी में कई प्रॉब्‍लम्‍स को सुलझाने की क्षमता थी. 1970 के दशक के इस पुराने फेमस हीरो ने अब न केवल एंटरटेनमेंट के लिए बल्कि हाइजीन पर एक मैसेज देने के लिए वापसी की है. इस बार वो हैं डेटॉल के सुपरहीरो!

डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया ने डायमंड कॉमिक्स के साथ मिलकर बच्चों के लिए एक कॉमिक बुक ‘डेटॉल सुपरहीरो’ पेश की है. इस स्‍पेशल एडिशन में, ‘हाइजीन’ सुपरहीरो के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है, क्योंकि वे कीटाणुओं से लड़ते हैं और बच्चों की रक्षा करते हैं. बेसिक आइडिया यह है कि हाइजीन लाइफ हेल्‍दी लाइफ के बराबर है. सभी कहानियों को विभिन्न सेटिंग्स में बच्चों और हाइजीन सुपरहीरो के बीच बातचीत के इर्द-गिर्द बुना गया है, मुख्य रूप से तीन सेटिंग्स हैं: घर, पड़ोस और स्कूल.

चाचा चौधरी और अन्य फेमस सुपरहीरो से जानें हाथ धोना क्यों जरूरी है?

डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया ने डायमंड कॉमिक्स के साथ बच्चों के लिए एक कॉमिक बुक ‘डेटॉल सुपरहीरो’ पेश की है

चाचा चौधरी के साथ शक्तिमान, साबू, पिंकी और बिल्लू जैसे दूसरे सुपरहीरो भी आए हैं. दिलचस्प बात यह है कि प्यारे सुपरहीरो हाइजीन हीरो की भूमिका निभा रहे हैं. विचार यह है कि सभी बच्चे कुछ प्रोटोकॉल का पालन करके और सक्रिय रूप से कीटाणुओं से लड़कर हाइजीन हीरो बन सकते हैं.

व्यापक दर्शकों तक पहुंचने के लिए, कॉमिक बुक को कई लैंग्‍वेज- अंग्रेजी, हिंदी, मराठी, तमिल, तेलुगु, कन्नड़, स्पेनिश और पुर्तगाली में रिलीज किया गया है.

एनडीटीवी के साथ बातचीत में, डॉ. ज्योत्सना सिस्तला, मैनेजर, पर्पस प्रोग्राम्स, रेकिट ने बच्चों को शिक्षित करने के लिए एक कॉमिक बुक का इस्‍तेमाल करने के पीछे के विचार को साझा किया. डॉ सिस्टला ने कहा,

हमारे आस-पास जो कुछ भी बदल गया है, उसके बावजूद बच्चों के लिए एक चीज नहीं बदली है, वह है कहानियों और कॉमेडी कैरेक्‍टर के लिए उनका प्यार. चाचा चौधरी एक ऐसा चरित्र है जो पीढ़ियों से चल रहा है. वास्तव में, कैरेक्‍टर का एक ग्रुण है. उन कहानियों को हर कोई पसंद करता है. हम हाइजीन के बारे में संदेश को बेहतर ढंग से कम्‍युनिकेट करने के विभिन्न तरीकों को देख रहे थे और इसीलिए हम कहानियों लेकर आए हैं.

डायमंड कॉमिक्स की टीम ने कहानियों और विज़ुअलाइज़ेशन के निर्माण के लिए बनेगा स्वस्थ इंडिया टीम के साथ काम किया. कथा और कहानी का पता लगाने के लिए कहानीकारों, प्रोग्राम के कार्यान्वयनकर्ताओं और बच्चों के इनपुट एकत्र किए गए थे. इस अभिनव संदेश के पीछे एक शिक्षाविद् ऋचा शुक्ला का दिमाग है. शुक्ला ने इस परियोजना पर व्यापक रूप से काम किया और एजुकेशन में कॉमिक्स की भूमिका के बारे में बताया. उन्‍होंने कहा,

पॉजिटिव रोल मॉडलिंग के पीछे बहुत सारे सर्वे हैं. जब कुछ कैरेक्‍टर बच्चों को अट्रेक्‍ट करते हैं और यदि आपके पास वास्तव में ये पात्र हैं तो कुछ महत्वपूर्ण संदेश देते हैं जो बच्चों के जीवन का हिस्सा बन जाते हैं. चाचा चौधरी और अन्य लोगों के चरित्र ने हमेशा कुछ चीजों को बहुत पॉजिटिव लाइट में पेश किया है चाहे वह समस्या समाधान या सोच के बारे में हो. मैसेजिंग उम्र के हिसाब से होनी चाहिए और मज़ेदार तरीके से की जानी चाहिए. हमारी स्‍टोरी में बहुत संघर्ष है, नाटक है, सुपरहीरो है

आगे कैरेक्‍टर के बारे में बात करते हुए, शुक्ला ने कहा,

यह आज एक बहुत ही गतिशील, विकासशील बच्चों की दुनिया है. वे मार्वल और डिज्नी की दुनिया में रह रहे हैं लेकिन यह मेट्रो के बच्चों तक सीमित है. एक बड़ी आबादी है जिसकी अभी भी इस तक पहुंच नहीं है. इसलिए, क्या हुआ अगर हमारे प्यारे पुराने कैरेक्‍टर उस आबादी के बीच बदलाव लाने में सक्षम हैं जिसे इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है. इसके अलावा, यदि कैरेक्‍टर का बच्चों पर प्रभाव पड़ता है, तो वे जो सिखा रहे हैं उसका पालन करने की संभावना है. हमारे पात्र उपदेश नहीं दे रहे हैं; वे इसे एक ऐसे रूप में कर रहे हैं जो बच्चों को अधिक आकर्षित करता है जो इसमें बहुत अधिक एक्शन और ड्रामा ला रहा है.

इसे भी पढ़ें: डेटॉल का हाइजीन करिकुलम बदल रहा बच्चों का जीवन, जानें हाइजीन अवेयरनेस को लेकर कितनी सफलता मिली

‘डेटॉल सुपरहीरो’ के अंदर एक झलक

एनडीटीवी-डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडियाज लक्ष्य- संपूर्ण स्वास्थ्य का टेलीथॉन में अभिनेता, निर्माता, कोरियोग्राफर और आवाज कलाकार जावेद जाफरी ने कॉमिक बुक से एक कहानी पढ़ी और कई पात्रों को अभिनय किया. “स्वच्छता स्कूल में” टाइटल वाली कहानी सुरक्षित भोजन की आदतों और स्वच्छता के बारे में आकर्षक तथ्यों का वर्णन करती है. इसमें चाचा चौधरी, स्कूल के प्रिंसिपल, एक शिक्षक, अलौकिक चरित्र फौलादी सिंह और शक्तिमान, छात्र, और कीतासुर (रोगाणुओं के लिए एक हास्य नाम) सहित विभिन्न पात्र हैं.

कहानी एनिमेटेड माइक्रोऑर्गेनिज्म के बारे में है जो स्कूल के टॉयलेट में होते हैं और इंफेक्‍शन फैलाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप छात्र बीमार पड़ जाते हैं. यह हेडमास्‍टर के ध्यान में लाया जाता है, जो चाचा चौधरी को फोन करते हैं और उनसे स्थिति को कंट्रोल करने के लिए स्कूल कैंपस का दौरा करने का आग्रह करते हैं.

चाचा चौधरी हेडमास्‍टर से पूछते हैं कि क्या स्कूल ने “हाइजीन कॉर्नर” बनाए रखा था. यह पता लगाने पर कि मैनेजमेंट कॉन्‍सेप्‍ट से अनजान था, फेमस कॉमिक कैरेक्‍टर स्कूल में एक निर्दिष्ट स्थान होने के महत्व का विवरण देता है जिसमें हाइजीन प्रैक्टिस से संबंधित सभी सामग्री, जैसे साबुन, हैंडवाश, हैंड सैनिटाइज़र, अन्य शामिल हैं. चाचा चौधरी ने कहा,

यदि बच्चों को हाइजीन के महत्व के बारे में पता नहीं है, तो जर्म्‍स निश्चित रूप से अटैक करेंगे.

चाचा चौधरी और अन्य फेमस सुपरहीरो से जानें हाथ धोना क्यों जरूरी है?

“स्कूल में हाइजीन” कहानी का एक अंश

शक्तिमान और फौलादी सिंह जैसे सुपरहीरो की मदद से, स्कूल में सेनिटेशन प्‍लैस की सफाई की जाती है, और एक ‘हाइजीन कॉर्नर’ की स्थापना की जाती है.

चाचा चौधरी छात्रों को पढ़ाते हैं, “साबुन और पानी से जब धोएंगे हाथ, तो बीमारी फैलाने वाले कीटाणु नहीं आ पाएंगे पास.” इसका अनुवाद है, “यदि आप अपने हाथ साबुन और पानी से धोते हैं तो रोग पैदा करने वाले रोगाणु दूर रहेंगे”.

कैरेक्‍टर तब हाथ धोने और पर्सनल हाइजीन बनाए रखने का सही तरीका बताता है.

जाफ़री कहानी की नैतिकता “स्वच्छ रहेंगे तो स्वस्थ रहेंगे:, के साथ खत्‍म करते हैं.

जाफरी ने छात्रों को स्वच्छता के बारे में सिखाने के लिए कॉमिक बुक का यूज करने की अवधारणा की सराहना की. उन्‍होंने कहा,

हाल के वर्षों में ऑडियो-वीडियो प्रचार के कारण, छात्र सामान्य रूप से पढ़ना भूल गए हैं. कॉमिक बुक का चलन लगभग खत्‍म हो गया है, लेकिन यह अवधारणा इसे फिर से जीवंत करती है. इससे बच्चों में पढ़ने की आदत विकसित करने में भी मदद मिलेगी.

बुक में ऐसी और भी कहानियां हैं जो आस-पड़ोस और घर में साफ-सफाई के बारे में बताती हैं. इस साल की शुरुआत में लॉन्च की गई बुक पहले ही सैकड़ों और हजारों बच्चों के दिलों में जगह बना चुकी है. बुक को कोने-कोने तक ले जाने के प्‍लान को साझा करते हुए डॉ. सिस्तला ने कहा,

हमारा लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि कॉमिक्स हर उस स्कूल तक पहुंचे, जिसमें हम काम करते हैं. हमने 50 प्रतिशत स्कूलों को कॉमिक्स से कवर किया है. हम बच्‍चों और टीचर्स की कहानियों और अनुभवों पर प्रतिक्रिया भी एकत्र कर रहे हैं. उद्देश्य उन्हें बेहतर बनाना होगा, और शायद उसी के ऑडियो सीरीज में विविधता लाना, जिसे व्यापक दर्शकों तक प्रसारित किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें: जानिए कीटाणुओं से लड़ना और स्वस्थ भारत का निर्माण करना क्‍यों है जरूरी

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=