Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

स्वास्थ्य सभी के लिए: जानें आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के बारे में सबकुछ

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का उद्देश्य स्वास्थ्य से संबंधित सभी हितधारकों – रोगियों, स्वास्थ्य कर्मियों, पैरामेडिक्स, अस्पतालों, क्लीनिकों, प्रयोगशालाओं, फार्मेसियों को एक मंच पर लाना है

Read In English
Health For All Here’s All You Need To Know About Ayushman Bharat Digital Mission
आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन अब देशभर के अस्पतालों के डिजिटल हेल्थ सॉल्यूशंस को एक-दूसरे से जोड़ेगा: पीएम मोदी

नई दिल्ली: “आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन अब देशभर के अस्पतालों के डिजिटल स्वास्थ्य समाधानों को एक-दूसरे से जोड़ेगा. इसके तहत देशवासियों को अब डिजिटल हेल्थ आईडी मिलेगी. हर नागरिक के स्वास्थ्य रिकॉर्ड को डिजिटल रूप से संरक्षित किया जाएगा”, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 सितंबर, 2021 को आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की शुरुआत करते हुए कहा. डिजिटल मिशन का उद्देश्य स्वास्थ्य से संबंधित सभी हितधारकों – रोगियों, स्वास्थ्य कर्मियों, पैरामेडिक्स, अस्पतालों, क्लीनिकों, प्रयोगशालाओं, फार्मेसियों – को एक मंच पर लाना है. पीएम मोदी ने कहा कि अभियान का उद्देश्य देश में स्वास्थ्य सेवाओं को आसान और सुलभ बनाना है.

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 के मामलों में तेजी, एक और लहर या महज एक छोटी तरंग?

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन में आयुष्मान भारत हेल्थ अकाउंट (ABHA) शामिल है, जिसे पहले हेल्थ आईडी, हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स रजिस्ट्री (HPR) और हेल्थ फैसिलिटी रजिस्ट्री (HFR) के नाम से जाना जाता था. आइए जानें इसके बारे में सबकुछ –

स्वास्थ्य आईडी क्या है? (What Is A Health ID?)

आयुष्मान भारत स्वास्थ्य खाता (ABHA) का उद्देश्य भारत का डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र बनाना है. आभा (ABHA) आपको अपने और अपने परिवार के लिए डिजिटल स्वास्थ्य रिकॉर्ड बनाने और उन्हें डिजिटल रूप से एक्सेस करने और साझा करने की अनुमति देता है. आभा (ABHA) एक बेतरतीब ढंग से उत्पन्न 14 अंकों की संख्या है, जिसका उपयोग विशिष्ट रूप से व्यक्तियों की पहचान करने, उन्हें प्रमाणित करने और उनके स्वास्थ्य रिकॉर्ड (केवल उनकी सहमति के साथ) को मल्‍टिपल सिस्‍टम्‍स और हितधारकों तक फैलाने के लिए किया जाता है.

इसे भी पढ़ें: अशिक्षित ट्राइबल हेथकेयर सेक्टर को कैसे ठीक किया जा सकता है? एक्सपर्ट्स ने दिए सुझाव

आभा कैसे बनाएं? (How To Create ABHA?)

आप आभा (ABHA) वेब पोर्टल पर स्व-पंजीकरण द्वारा या गूगल प्‍लेस्‍टोर से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन स्वास्थ्य रिकॉर्ड एप्लिकेशन डाउनलोड कर सकते हैं. आप एक सहभागी स्वास्थ्य सुविधा (participating health facility) में अपने अर ABHA के निर्माण के लिए भी अनुरोध कर सकते हैं, जिसमें सार्वजनिक या निजी अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और पूरे भारत में स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र शामिल हो सकते हैं.

आप आधार या मोबाइल नंबर या ड्राइविंग लाइसेंस के जरिए इसे क्रिएट कर सकते हैं. अगर आप आभा पोर्टल पर इसे बनाने के लिए अपने आधार नंबर का इस्‍तेमाल करते हैं, तो आपके आधार से जुड़े मोबाइल नंबर पर वन-टाइम पासवर्ड (OTP) भेजा जाएगा. मोबाइल नंबर या आधार के माध्यम से पंजीकरण में 10 मिनट से भी कम समय लगता है.

याद रखें, ड्राइविंग लाइसेंस के मामले में, अपनी डीटेल्‍स देने के बाद आपको एक नामांकन संख्या मिलेगी, जिसे आपको पास की पार्टीसिपेट‍िंग फैस‍ि‍लिटी में ले जाना होगा और इसके बाद आपको आभा मिलेगा.

इसे भी पढ़ें: अमेरिका से पब्लिक हेल्थ की पढ़ाई करके लौटे दंपत्ति महाराष्ट्र के आदिवासी इलाके के लिए बने स्वास्थ्य दूत

मोबाइल नंबर के माध्यम से अपना आभा बनाएं (Create Your ABHA Through Mobile Number)

1. अपना मोबाइल नंबर दर्ज करें और आगे बढ़ने के लिए एक ओटीपी का उपयोग करके इसे सत्यापित करें.
2. नाम, जन्म तिथि और लिंग सहित अपना विवरण भरें.
3. अपना PHR (व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड) पता बनाएं, एक स्व-घोषित उपयोगकर्ता नाम, जो स्वास्थ्य सूचना विनिमय और सहमति प्रबंधक (HIE-CM) में साइन इन करने के लिए जरूरी है. वर्तमान में, सभी आभा यूजर्स आभा साइन-अप के दौरान अपना स्वयं का PHR पता उत्पन्न कर सकते हैं.
4. एक पासवर्ड बनाएं और अपना राज्य और जिला जोड़ें.
5. ‘सबमिट’ बटन पर क्लिक करने पर आपका आभा बन जाएगा और आपको अपने मोबाइल नंबर पर एक एसएमएस के जरिए सूचित किया जाएगा. आप अपना आभा कार्ड वेबसाइट से भी डाउनलोड कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: मिलिए 43 वर्षीय डॉक्टर से, जिनका लक्ष्य लद्दाख के दूरदराज के इलाकों में सभी को हेल्थ सर्विस मुहैया कराना है

आभा (स्वास्थ्य आईडी) का उद्देश्य क्या है? (What Is The Purpose Of ABHA (Health ID)?)

एक चित्र, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एक कारखाने में काम करते हुए, प्रतीक, जो बिहार के एक सुदूर गांव का रहने वाला है, एक दुर्घटना का शिकार हो जाता है. उसे पास के एक अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टर ने उसका मेडिकल रिकॉर्ड मांगा. जाहिर है, उसके सारे दस्तावेज उसके गांव में हैं. ऐसे परिदृश्य में, एक रोगी को सभी जरूरी परीक्षण फिर से करने के लिए कहा जाता है, जो स्पष्ट रूप से चिकित्सा लागत में वृद्धि करता है और समय लेने वाला होता है, नतीजतन उपचार में देरी होती है.

यहां आभा या हेल्थ आईडी की भूमिका आती है, जिसमें हर परीक्षण, हर बीमारी, डॉक्टरों का दौरा, ली गई दवाएं और निदान का विवरण होगा. चूंकि सूचना डिजिटल रूप से संग्रहीत है, इसलिए इसे कभी भी, कहीं भी उपलब्ध कराया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें: मिलिए तमिलनाडु में आदिवासियों को स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान कराने वाले डॉ रेगी जॉर्ज और डॉ ललिता रेगी से

हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स रजिस्ट्री क्या है? (What Is Healthcare Professionals Registry?)

हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स रजिस्ट्री चिकित्सा की आधुनिक और पारंपरिक दोनों प्रणालियों में स्वास्थ्य सेवाएं देने वाले सभी स्वास्थ्य पेशेवरों का भंडार है. हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स रजिस्ट्री (HPR) स्वास्थ्य कर्मियों को मरीजों से जोड़ने के लिए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन द्वारा बनाया गया एक ब्रिज है.

चूंकि डॉक्टर अखबारों में विज्ञापन नहीं देते हैं, यह केवल एक व्‍यक्‍त‍ि से दूसरे व्‍यक्ति तक होने वाला प्रचार है जिससे कि लोगों केा एक अच्छे डॉक्टर के बारे में पता चलता है. पीएम मोदी ने कहा था कि अब डॉक्टरों को उनकी विशेषता, आस-पास के डॉक्टरों, जहां तुरंत पहुंच हो, के बारे में सारी जानकारी उपलब्ध होगी.

एचपीआर के हिस्से के रूप में, सत्यापित स्वास्थ्य पेशेवर टेलीमेडिसिन के माध्यम से दूर से रोगियों का इलाज कर सकते हैं और डिजिटल स्वास्थ्य रिकॉर्ड की समीक्षा कर सकते हैं.

स्वास्थ्य सुविधा रजिस्ट्री क्या है? (What Is Health Facility Registry?)

स्वास्थ्य सुविधा रजिस्ट्री (HFR) देश की विभिन्न चिकित्सा प्रणालियों में स्वास्थ्य सुविधाओं का एक व्यापक भंडार है. इसमें अस्पतालों, क्लीनिकों, नैदानिक प्रयोगशालाओं और इमेजिंग केंद्रों, फार्मेसियों सहित सार्वजनिक और निजी दोनों स्वास्थ्य सुविधाएं शामिल हैं.

5 अप्रैल, 2022 तक, 21.18 करोड़ आभा (ABHA) नंबर बनाए गए हैं, 24,390 हेल्थ फैसेलिटीज और 11,645 डॉक्टरों ने अपना पंजीकरण कराया है.

इसे भी पढ़ें: कोविड-19: क्या एक्‍सई वेरिएंट भारत को चौथी लहर की ओर ले जा सकता है?

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts