Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

3 दशकों में वृद्ध जनसंख्या बढ़ी, हेल्‍थ सर्विस में सुधार की जरूरत: वर्ल्‍ड सोशल रिपोर्ट 2023

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट ने देशों को बेहतर हेल्‍थ केयर सर्विस को बनाए रखने, पर्याप्त स्वच्छता और मेडिकल थैरेपी, एजुकेशन और फैमिली प्‍लानिंग तक पहुंच, महिला सशक्तिकरण और लैंगिक समानता देने की सलाह दी.

Read In English
3 दशकों में वृद्ध जनसंख्या बढ़ी, हेल्‍थ सर्विस में सुधार की जरूरत: वर्ल्‍ड सोशल रिपोर्ट 2023
बढ़ती आबादी की जरूरतों को पूरा करने के लिए स्वास्थ्य संबंधी नीतियों और कार्य योजनाओं में सुधार के साथ-साथ अच्छी स्वास्थ्य सेवाओं पर ध्‍यान देने का आह्वान किया गया है.

नई दिल्ली: अगले तीन दशकों में बुजुर्गों की संख्या में जबरदस्‍त वृद्धि होगी. वैश्विक स्तर पर, 2021 में, दुनिया भर में 761 मिलियन लोग 65 और उससे अधिक उम्र के थे, और 2050 तक यह संख्या 1.6 बिलियन से बढ़कर 1.6 बिलियन होने की उम्मीद है. संयुक्त राष्ट्र (यूएन) द्वारा जारी वर्ल्ड सोशल रिपोर्ट 2023: लीविंग नो वन बिहाइंड इन ए एजिंग वर्ल्ड के अनुसार, यह कुल आबादी का 16 प्रतिशत से अधिक हिस्‍सा होंगे. बढ़ती आबादी की जरूरतों को पूरा करने के लिए, रिपोर्ट में स्वास्थ्य संबंधी नीतियों और कार्य योजनाओं में सुधार के साथ-साथ अच्छी स्वास्थ्य सेवाओं पर ध्‍यान देने का आह्वान किया गया है. इसमें कहा गया है कि हेल्‍थ और सोशल सर्विस के साथ-साथ हेल्‍थ केयर के विभिन्न स्तरों पर देखभाल का बेहतर समन्वय महत्वपूर्ण है.

इसे भी पढ़ें: बुनियादी स्वास्थ्य देखभाल की कमी के कारण 2021 में हर 4.4 सेकंड में एक बच्चे या युवा की मौत: संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट

रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रेंड अपनी चुनौतियों और अवसरों के साथ आता है क्योंकि देश सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को पाने की कोशिश कर रहा है. देशों को महत्वपूर्ण स्वास्थ्य और आयु-संबंधी नीतिगत सुधार करने चाहिए, साथ ही संबंधित एसडीजी, जैसे अच्छा स्वास्थ्य और कल्याण, गरीबी न होना और असमानताओं को कम करने के लिए दुनिया भर में अरबों लोगों की रहने की स्थिति में सुधार करना चाहिए.

देशों को बेहतर स्वच्छता और चिकित्सा उपचार, शिक्षा और फैमिली नियोजन तक पहुंच, महिला सशक्तिकरण और लैंगिक समानता प्रदान करने की दिशा में काम करने की आवश्यकता है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि असमानता सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है. कई देशों में, महिलाएं औसतन पुरुषों की तुलना में अधिक समय तक जीवित रहती हैं, और अमीर गरीबों की तुलना में अधिक समय तक जीवित रहते हैं.

ये अंतर आंशिक रूप से खराब पोषण और पर्यावरण तथा व्यावसायिक खतरों के जोखिम से उत्पन्न होते हैं जो सीमित आय और शिक्षा वाले पुरुषों और लोगों में अधिक आम हैं. पुरुषों और महिलाओं के बीच असमानता वृद्धावस्था तक बनी रहती है. रिपोर्ट में कहा गया है कि आर्थिक रूप से महिलाओं की औपचारिक श्रम बाजार भागीदारी का निचला स्तर, कम काम और काम के वर्षों के दौरान कम वेतन बाद के जीवन में अधिक आर्थिक असुरक्षा का कारण बनते हैं.

इसे भी पढ़ें: Omicron XBB 1.5 और BF.7: नए COVID वैरिएंट के बीच भारत की क्‍या स्थिति है?

इन क्षेत्रों में वृद्धों की संख्या सबसे अधिक है

अधिकांश बुजुर्ग लोग यूरोप, उत्तरी अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और अधिकांश पूर्वी और दक्षिण-पूर्वी एशिया में रहते हैं इन क्षेत्रों के अधिकांश देशों में वृद्ध व्यक्तियों का अनुपात 10 प्रतिशत से अधिक है और कुछ मामलों में यह कुल जनसंख्या का 20 प्रतिशत से अधिक है.

वह क्षेत्र जिन में वृद्ध लोगों की संख्या में वृद्धि होने की उम्मीद है

उत्तरी अफ्रीका, पश्चिम एशिया और उप-सहारा अफ्रीका में अगले तीन दशकों में बुजुर्गों की संख्या में सबसे तेज वृद्धि होने का अनुमान है.

सलाहें:

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट ने देशों को निम्‍न सलाह दी है:

  • अच्छी स्वास्थ्य सेवाओं को बनाए रखें.
  • हेल्‍थ और सोशल सर्विस में केयर के बेहतर समन्वय की जरूरत है.
  • श्रम उत्पादकता बढ़ाने और गरीबी और असमानता को कम करने के लिए शिक्षा में सुधार करें.
  • आजीविका और काम से जुड़ी लंबे समय से चली आ रही नीतियों और प्रथाओं पर दोबारा विचार करें.
  • व्यक्तिगत स्थितियों की एक विस्तृत सीरीज को समायोजित करने के लिए रिटायरमेंट की सही आयु तय करें.
  • पारंपरिक रूप से फॉर्मल जॉब मार्केट से दूर महिलाओं और समूहों के लिए काम के अवसरों का विस्तार करें.
  • पेंशन और हेल्‍थ केयर के तौर पर वित्तीय रूप से वृद्धावस्था में आर्थिक सुरक्षा को बढ़ावा दें.
  • पर्याप्त धन सुनिश्चित करते हुए पेंशन कवरेज बढ़ाएं.
  • यह सुनिश्चित करें कि टेक्‍स फंड पेंशन योजनाओं का परिचय या विस्तार हो ताकि सभी वृद्ध लोगों के पास बुनियादी स्तर की इनकम सेफ्टी हो.

मैड्रिड इंटरनेशनल प्लान ऑफ एक्शन ऑन लिविंग के आधार पर विश्व स्वास्थ्य संगठन और संयुक्त राष्ट्र ने वर्ष 2021-2030 को अच्छे स्वास्थ्य के साथ उम्र बढ़ने अथवा जीवन जीने के दशक के रूप में घोषित किया है.

बुजुर्गों की आबादी बढ़ने के साथ कई देशों में लॉन्‍ग टर्म केयर की मांग बढ़ रही है.

संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक मामलों के अवर महासचिव ली जुनहुआ ने कहा,

साथ मिलकर, हम कल की पीढ़ियों के लाभ के लिए आज की असमानताओं को संबोधित कर सकते हैं, चुनौतियों को मैनेज कर सकते हैं और उन अवसरों का लाभ उठा सकते हैं जो जनसंख्या वृद्धावस्था लाती हैं.

इसे भी पढ़ें: मिलें 15 साल की अनन्या से, जो ग्रामीण लड़कियों को मेंस्ट्रुअल हेल्‍थ पर जागरूक कर रही हैं

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=