Connect with us

खुद की देखभाल

International Yoga Day 2022: राष्ट्रपति, पीएम मोदी और अन्य मंत्रियों ने किया योगासन

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक के मैसूर पैलेस मैदान से योग दिवस समारोह का नेतृत्व किया, साथ ही में 75 अन्य मंत्री 75 प्रतिष्ठित स्थानों से योग दिवस समारोह में उनके साथ शामिल हुए

Read In English
International Day Of Yoga 2022: President, PM Modi And Other Ministers Perform Yoga
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 का विषय 'मानवता के लिए योग' है

नई दिल्ली: आठवां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस आज (21 जून) भारत और दुनिया भर में ‘मानवता के लिए योग’ की थीम के साथ मनाया जा रहा है. संयुक्त राष्ट्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुझाव के अनुसार 21 जून को योग दिवस मनाने की तारीख के रूप में चुना गया था, 21 जून की यह तारीख इसीलिए तय की गई थी क्योंकि यह वर्ष का सबसे लंबा दिन है. इस वर्ष, भारत में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक के मैसूर पैलेस मैदान से योग दिवस समारोह का नेतृत्व किया, साथ ही में 75 अन्य मंत्री 75 प्रतिष्ठित स्थानों से योग दिवस समारोह में उनके साथ शामिल हुए. आपको बता दें कि, यह आजादी के 75 साल के विषय को ध्यान में रखते हुए योजना बनाई गई थी.

इसे भी पढ़ें: International Day Of Yoga 2022: मैसूर से पीएम मोदी ने कहा, ‘जीवन का मार्ग बन रहा है योग’

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए, पीएम मोदी ने इस वर्ष की थीम के पीछे के विचार के बारे में बात की और कहा,”योग अब एक वैश्विक पर्व बन गया है. योग मात्र किसी व्यक्ति के लिए नहीं, संपूर्ण मानवता के लिए है. इसलिए, इस बार अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की थीम है- मानवता के लिए योग.”

उन्होंने आगे कहा कि, “हम कितने तनावपूर्ण माहौल में क्यों न हों, कुछ मिनट का ध्यान हमें रिलैक्स कर देता है, हमारी प्रोडक्टिविटी बढ़ा देता है. इसलिए, हमें योग को एक अतिरिक्त काम के तौर पर नहीं लेना है. हमें योग को जानना भी है, हमें योग को जीना भी है. हमें योग को पाना भी है और हमें योग को अपनाना भी है.”

इसे भी पढ़ें: अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022: बच्चों के लिए त्वरित योग मुद्राएं

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में योग किया और कहा, “योग हमारी प्राचीन भारतीय विरासत का एक हिस्सा है. मानवता के लिए भारत का उपहार, यह स्वास्थ्य और कल्याण के लिए एक समग्र दृष्टिकोण है, हमारे मन, शरीर और आत्मा को संतुलित करता है. मैं सभी से योग को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाने और इसके लाभों का अनुभव करने का आग्रह करता हूं.”

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री, डॉ. मनसुख मंडाविया ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, केवडिया, गुजरात में आठवें अंतर्राष्ट्रीय योग समारोह में भाग लिया. योग का संदेश देते हुए उन्होंने कहा, “पूरा विश्व आज एकजुट होकर योग कर रहा है. ऋषि-मुनियों की इस अमूल्य भेंट को आप भी अपने जीवन में उतारें.”

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, प्राचीन अभ्यास के लाभों को रेखांकित करते हुए, सैकड़ों प्रतिभागियों के साथ योगासन करने वाले डॉ मंडाविया ने कहा कि एक देश के नागरिकों को एक विकसित राष्ट्र बनने के लिए स्वस्थ रहने की आवश्यकता है. मंडाविया ने कहा कि योग मन और शरीर, और विचार और क्रिया की एकता का प्रतीक है. यह एक समग्र दृष्टिकोण है जो स्वास्थ्य और कल्याण के लिए अमूल्य है. मंडाविया ने कहा,

योग केवल व्यायाम के बारे में नहीं है, यह अपने आप को, दुनिया और प्रकृति के साथ एकता की भावना को खोजने का एक तरीका है. एक समृद्ध भारत के लिए, हमें एक स्वस्थ भारत की आवश्यकता है और एक स्वस्थ भारत के लिए, हमें स्वस्थ नागरिक की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि एक स्वस्थ राष्ट्र ही एक विकसित राष्ट्र का निर्माण कर सकता है.

इसे भी पढ़ें: International Yoga Day 2022: जानें, मन, शरीर और आत्मा के लिए योग का महत्व

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 पर लोगों को बधाई देते हुए, वाणिज्य और उद्योग, उपभोक्ता मामले और खाद्य और सार्वजनिक वितरण और कपड़ा मंत्री, पीयूष गोयल ने कहा, “योग भारत की एक अमूल्य विरासत है और योग मानवता के लिए आशीर्वाद है. आइए हम सभी को योग की कालातीत शिक्षाओं को अपनाने और ज्ञान के इस प्राचीन धन के माध्यम से अपने जीवन को बढ़ाने के लिए प्रेरित करें.”

कपड़ा मंत्री, पीयूष गोयल ने हरियाणा के कुरुक्षेत्र में प्रतिष्ठित ब्रह्म सरोवर के पास अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह का भी नेतृत्व किया.

दिल्ली सरकार द्वारा त्यागराज स्टेडियम में आयोजित ‘दिल्ली की योगशाला’ में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हिस्सा लिया. सीएम केजरीवाल ने सभी से प्रतिदिन योग और प्राणायाम करने का संकल्प लेने का आग्रह किया.

यदि बच्चों में योग का अभ्यास करने की आदत डाल दी जाती है, तो वे जीवन भर इससे जुड़े रहेंगे. हमारा उद्देश्य बच्चों को योग सिखाना और सीखना है कि इसे स्कूलों में कैसे शुरू किया जा सकता है.

दिल्ली की योगशाला कार्यक्रम के बारे में बोलते हुए, सीएम केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने मुफ्त में योग सीखा और यह दिल्ली वालों के लिए भी मुफ्त होगा और आगे उन्होंने कहा,

हमें योग को उस मंच से ले जाना है जहां हजारों लोग इसका अभ्यास कर रहे हैं, जहां लाखों लोग इसका अभ्यास करते हैं. कुछ लोग मुफ्त योग कक्षाओं के लिए मेरी आलोचना करते हैं. मैंने इसे (योग) कक्षा 8 में मुफ्त में सीखा है, इसलिए यह लोगों के लिए मुफ्त होगा. उन्होंने कहा कि क्योंकि जीवन में हर जरूरी चीज, जैसे हवा, मुफ्त है, वैसे योग भी मुफ्त होना चाहिए.

इसे भी पढ़ें: अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस: कुछ बातें जो आपको जाननी जरूरी हैं

वित्त और कॉर्पोरेट मामलों की मंत्री निर्मला सीतारमण दिल्ली के जंतर मंतर से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह में शामिल हुईं. सुश्री सीतारमण ने उत्सव के सुचारू संचालन के लिए “नई दिल्ली में मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान के युवा उत्साही प्रशिक्षकों और चिकित्सकों” को धन्यवाद दिया.

भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी योग किया. उन्होंने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर योग करते हुए अपनी तस्वीरें साझा करते हुए लिखा, “योगाभ्यास मेरे जीवन का अभिन्न अंग है.”

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी को आठवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएं दी और कहा, “तन और मन की आरोग्यता सुनिश्चित करने व आध्यात्मिक चेतना की जागृति का माध्यम ‘योग’ आज ‘विश्व निधि’ बन चुका है. आइए, सभी लोग ‘योग करें, निरोग रहें!’”

लखनऊ के राजभवन में आयोजित सामूहिक योगाभ्यास कार्यक्रम में सीएम आदित्यनाथ ने योग किया. उन्होंने कहा, “आध्यात्मिक उत्कर्ष, आत्मिक शांति और आरोग्यता के प्रदाता ‘योग’ से पूरी मानवता को जोड़ना ही ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ का उद्देश्य है.”

उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा, “योग का पहला नियम अनुशासन से जुड़ा है. योग हमें अनुशासन में बांधकर, निरोगता और शारीरिक व मानसिक विकास की ओर ले जाता है. योग एक छोटी सी व्यवस्था से एक बड़े आयाम की ओर हम सभी को ले जाने का कार्य करता है.”

केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री और पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने दिल्ली के लाल किले में योग दिवस समारोह में भाग लिया. उन्होंने लिखा, “योग हमें एक सूत्र में बंधे रहना सिखाता है.”

गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने साबरमती रिवरफ्रंट, अहमदाबाद में आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम में भाग लेकर योग का अभ्यास किया, जिसमें लगभग 7,500 लोगों ने भाग लिया. भीड़ को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “कोरोनावायरस के प्रकोप के बाद अधिक से अधिक लोगों ने योग और ‘प्राणायाम’ पर आधारित स्वस्थ जीवन शैली के महत्व को समझा है.”

उन्होंने एक सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा, “आइए योग को जीवन में पूरे मन से अपनाएं, आइए स्वयं और समुदाय के कल्याण के लिए योग का अभ्यास करें.”

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने योग का अभ्यास करते हुए अपनी तस्वीरें साझा करते हुए लिखा, “योग संगीत है जो आपके शरीर को आपकी आत्मा से जोड़ता है.”

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने नागपुर के ऐतिहासिक कस्तूरचंद पार्क में आयोजित योग दिवस कार्यक्रम में हिस्सा लिया. उन्होंने लोगों से मानवता और सार्वभौमिक कल्याण के लिए योग का अभ्यास करने का आग्रह किया और लिखा, “योग हमारी प्राचीन भारतीय परंपराओं से एक अमूल्य उपहार है जो मन और शरीर की एकता का प्रतीक है.”

इसे भी पढ़ें: मलाइका अरोड़ा की सलाह, बेहतर मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है योग

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts