NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India

बेहतर भविष्य के लिए रेकिट की प्रतिबद्धता

मिशन जीरो मलेरिया लॉन्च करने के लिए मॉर्टिन और ‘मलेरिया नो मोर’ एक साथ आए

रेकिट का मिशन जीरो मलेरिया भारत में 2030 तक मलेरिया को खत्म करने के लक्ष्य के अनुरूप है, बरेली में उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से शुरू की एक नई पहल

Read In English
मिशन जीरो मलेरिया लॉन्च करने के लिए मॉर्टिन और 'मलेरिया नो मोर' एक साथ आए
मिशन जीरो मलेरिया का उद्देश्य है स्वास्थ्य जागरूकता बढ़ाना और लोगों को और हेल्थ सिस्टम व सरकारी निकायों के भीतर स्वच्छता के लिए व्यवहार में परिवर्तन लाने के लिए प्रेरित करना है.

बरेली: रेकिट के प्रसिद्ध घरेलू कीटनाशक ब्रांड मार्टिन ने हाल ही में बरेली में उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से ‘मिशन जीरो मलेरिया’ लॉन्च किया. 2030 तक मलेरिया को खत्म करने के भारत के लक्ष्य के साथ, मिशन जीरो मलेरिया को इंप्लीमेंटेशन पार्टनर के रूप में ‘मलेरिया नो मोर’ के साथ लॉन्च किया गया है. इसका उद्देश्य स्वास्थ्य जागरूकता बढ़ाना और लोगों को और हेल्थ सिस्टम व सरकारी निकायों के भीतर स्वच्छता के लिए व्यवहार में परिवर्तन लाने के लिए प्रेरित करना है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र में, मलेरिया के 82.5% मामले भारत में ही हैं, जो इसे एक मलेरिया बहुल क्षेत्र बनाते हैं. 2019 में, भारत के उत्तर प्रदेश में मलेरिया के आधिकारिक रूप से रिपोर्ट किए गए मामलों में से 70% केवल 2 जिलों, बरेली और बदायूं में मिले. हाल के दिनों में बरेली में मलेरिया और डेंगू का अचानक से हैरान करने वाला फैलाव देखने को मिला है. यहां 2019 में मलेरिया और डेंगू दोनों का प्रकोप देखा गया और 2021 में डेंगू का प्रकोप देखने को मिला. 2022 में मलेरिया के 40% से अधिक मामले 18 वर्ष से कम आयु के लोगों में देखने को मिले जबकि, लगभग 7% मामलों में 5 वर्ष की आयु तक के बच्चे मलेरिया से प्रभावित मिले.

इसे भी पढ़ें: भारत में बच्चों को स्वच्छता की शिक्षा देना और अच्छी आदतें डालना ही डेटॉल की DIY हाइजीन वर्कबुक का मकसद 

बरेली जिले में मलेरिया के मामलों में लगातार वृद्धि के कारण उत्तर प्रदेश सरकार ने इसके जोखिम को कम करने और वेक्टर जनित बीमारियों से पीड़ित लोगों की मदद करने के लिए कई कदम उठाए हैं. चूंकि, सार्वजनिक और निजी क्षेत्र एक-दूसरे के पूरक हैं और सिस्टम को मजबूत करने में मदद करते हैं. इसलिए, यह निजी और सरकारी क्षेत्र के साथ मिलकर स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे के निर्माण और हेल्थ केयर में सहयोग कर मलेरिया उन्मूलन प्रयासों को आगे बढ़ाना काफी महत्वपूर्ण हो जाता है. इसी के मद्देनजर मोर्टिन और ‘मलेरिया नो मोर’ बरेली में मलेरिया को नियंत्रित करने और उन्मूलन के लिए लक्षित लाभार्थियों को स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है. यह साझेदारी मलेरिया के प्रकोप को कम करने के उपायों हेतु निवेश, प्रौद्योगिकी और नवाचार की दिशा में काम करेगी, ताकि इस महामारी पर नियंत्रण पाया जा सके.

रेकिट के निदेशक, विदेश मामले और भागीदारी (दक्षिण एशिया), रवि भटनागर का कहना है कि,

मलेरिया नो मोर के साथ हमारी साझेदारी के माध्यम से मलेरिया को खत्म करने के महत्वाकांक्षी लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में कदम उठाने को लेकर हम रोमांचित हैं. यह साझेदारी बीमारियों के फैलाव और व्यापकता को बेहतर ढंग से समझने के लिए उन्नत डेटा प्रबंधन और विश्लेषण का उपयोग करके लक्षित कदमों पर फोकस करेगी. इस जानकारी का उपयोग मलेरिया रोग से सबसे ज्‍यादा प्रभावित क्षेत्रों में काम करने में किया जाएगा. यह साझेदारी मलेरिया के सदियों पुराने खतरे पर नियंत्रण के लिए आधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल कर स्वास्थ्य और कल्याण की दिशा में भारत के बढ़ते कदमों का सहयोग करेगी

मलेरिया नो मोर, इंडिया के कंट्री डायरेक्टर प्रतीक कुमार ने कहा,

हमें भारत में मलेरिया से लड़ने में मदद करने के लिए रेकिट के साथ साझेदारी की घोषणा करते हुए खुशी हो रही है। साझेदारी के माध्यम से, हमारा उद्देश्य बीमारी के बारे में जागरूकता पैदा करना, निवारक कार्रवाई को प्रोत्साहित करना और उत्तर प्रदेश राज्य – विशेष रूप से बरेली में मलेरिया और डेंगू के लिए उपचार की मांग और उपचार अनुपालन उपायों में सुधार करना है। रेकिट और मलेरिया नो मोर एक साथ मिलकर भारत में मच्छर जनित बीमारियों के बोझ को कम करने में महत्वपूर्ण प्रभाव डालने की उम्मीद करते हैं। यह कार्यक्रम लक्षित भौगोलिक क्षेत्र में मलेरिया और डेंगू की घटनाओं को कम करने के लिए डिजिटल तकनीकों और नवाचारों पर निर्भर करेगा क्योंकि हमें लगता है कि आने वाले वर्षों में भारत में मच्छर जनित बीमारियों के खिलाफ लड़ाई में प्रौद्योगिकी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। रेकिट और मलेरिया नो मोर की इस साझेदारी के साथ, हम अपने माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2030 तक देश से मलेरिया को खत्म करने के दृष्टिकोण का समर्थन करने की उम्मीद करते हैं।

इसे भी पढ़ें: स्वस्थ भारत के लिए लोक संगीत: डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया ने तमिल में हाइजीन म्यूजिक एल्बम लॉन्च किया 

रेकिट के रीजनल मार्केटिंग डायरेक्टर, हाइजीन, साउथ एशिया, सौरभ जैन ने कहा,

मॉर्टिन नए समाधान पेश कर ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने की दिशा में लगातार काम कर रहा है. उपायों का प्रभाव बढ़ाने के लिए व्यवहार में लगातार परिवर्तन लाना जरूरी है इसीलिए हम मिशन जीरो मलेरिया के साथ जुड़े हैं, ताकि कोई भी इसमें पीछे न छूटने पाए. 2030 तक मलेरिया के उन्मूलन को सुनिश्चित करने के लिए मलेरिया नो मोर के साथ साझेदारी में बहुउद्देशीय कार्यक्रमों के माध्यम से उत्तर प्रदेश के बरेली में लोकहित के इस कार्य में काम करने पर मोर्टिन को गर्व है

डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया, 2015 से उत्तर प्रदेश सरकार के साथ काम कर रहा है, जिसका मकसद है बच्चों के जरिये लोगों तक जानकारी पहुंचा कर उनके नजरिये व व्यवहार में बदलाव लाना और स्वच्छता व स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के उपाय करना. इस अभियान का फोकस इस बात पर है कि प्रत्येक भारतीय को अच्‍छी हेल्‍थ केयर मुहैया कराई जा सके और इनोवेशन, टेक्नोलॉजी व हेल्थ केयर के जरिये औसत जीवन प्रत्याशा (एवरेज लाइफ एक्सपेक्टेंसी) को बढ़ाकर 80 वर्ष की आयु तक पहुंचाया जा सके. पूरे राज्य में रेकिट के विभिन्न कार्यों में गांवों को खुले में शौच से मुक्त बनाने में मदद करना, भारत के सबसे बड़े धार्मिक आयोजन- कुंभ मेले में स्वच्छता और स्वास्थ्य को बढ़ावा देना और इस दिशा में भारत सरकार की पहल में सहयोग करना शामिल है.

रेकिट के बारे में:

रेकिट एक स्वच्छ, स्वस्थ दुनिया के लिए स्वास्थ्य और पोषण संबंधी गतिविधियों से जुड़ा हुआ है. हमारा मानना है कि हाई क्वालिटी हाइजीन, वेलनेस और पोषण कुछ विशेष लोगों का ही नहीं, बल्कि हर किसी का हक है.

रेकिट स्वच्छता, स्वास्थ्य और पोषण के मामले में दुनिया के कुछ सबसे प्रतिष्ठित और भरोसेमंद उपभोक्ता ब्रांडों वाली कंपनी है, जिसमें एयर विक, कैलगॉन, सिलिट बैंग, क्लियरेसिल, डेटॉल, ड्यूरेक्स, एनफैमिल, फिनिश, गेविस्कॉन, हार्पिक, लाइसोल, मॉर्टिन, आदि शामिल हैं। इसके अलावा म्‍यूसिनेक्‍स, न्‍यूरोफन, न्‍यूट्रामाइजेन, स्‍ट्रपसिल्‍स, वेनिस, वीट और वूलाइट भी इसके अन्‍य मशहूर ब्रांडों में शामिल हैं.

दुनिया भर में रोजाना करीब 20 मिलियन से अधिक रेकिट उत्पाद खरीदे जाते हैं. हमने हमेशा उपभोक्ताओं और लोगों को सर्वोपरि माना है, हम नए अवसरों की तलाश करते हैं और अपने हर कार्य में उत्कृष्टता के लिए प्रयासरत रहते हैं. हम अपने सफलता को सभी भागीदारों के साथ साझा करने में विश्‍वास रखते हैं. हम हमेशा अच्‍छे काम करना चाहते हैं.

दुनिया भर में हमारी ग्‍लोबल टीम में 43,000 से अधिक सहयोगी हमारे साथ जुड़कर काम कर रहे हैं. हम उद्देश्‍यों के प्रति समर्पित ब्रांडों, एक स्वस्थ धरती और एक न्यायपूर्ण समाज की अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए सामूहिक ऊर्जा के साथ काम करते हैं. हमारे बारे में ज्‍यादा जानकारी के लिए www.reckitt.com पर विजिट करें या हमसे संपर्क करें.

*रेकिट कंपनियों के समूह रेकिट बेंकिजर का व्यापारिक नाम है.

इसे भी पढ़ें: ‘स्वच्छता की पाठशाला’ बच्चों को सिखा रही है स्वस्थ जीवनशैली

Highlights: Banega Swasth India Launches Season 10

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पढ़ें

This website follows the DNPA Code of Ethics

© Copyright NDTV Convergence Limited 2024. All rights reserved.