Connect with us

पर्यावरण

भारत की चक्रवात राजधानी ‘सुंदरबन’: जानिए स्वास्थ्य पर कैसे असर डालते हैं चक्रवात

सुंदरबन के लोग उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के कारण हाई टाइड का सामना करते हैं. जिसकी वजह से किनारों, तालाबों और नदियों में बाढ़ आ जाती है. इससे न केवल मछली बल्कि लोगों द्वारा उगाई जाने वाली सब्जियों को भी भारी नुकसान हो रहा है

Read In English
Sundarbans, The Cyclone Capital Of India: The Direct Impact Of Cyclones On Health
2007 से अब तक 12 चक्रवात सुंदरबन क्षेत्र में आ चुके हैं

नई दिल्ली: हाल ही में सुंदरबन में चक्रवात आने की आवृत्ति में वृद्धि देखी जा रही है. वे चक्रवात भले ही प्रबल नहीं हो सकते हैं, लेकिन वे सुंदरबन के लोगों के जीवन और आजीविका को बाधित करने के लिए लगातार और मजबूत हो रहे हैं. दिल्ली में स्थित एक गैर-लाभकारी स्वतंत्र नीति अनुसंधान संस्थान, ऊर्जा, पर्यावरण और जल परिषद का कहना है कि पश्चिम बंगाल के 15 जिले, जो लगभग 72 मिलियन लोगों के घर हैं, चक्रवात, बाढ़ और सूखे जैसी चरम जलवायु घटनाओं को झेल रहे हैं. हावड़ा, कोलकाता, उत्तर 24 परगना, पश्चिम मेदिनीपुर और दक्षिण 24 परगना जैसे जिले चक्रवातों के लिए हॉटस्पॉट हैं, जो 1970 और 2019 के बीच राज्य में पांच गुना बढ़ गए हैं. इस अवधि के दौरान तूफान की वृद्धि समान दर से बढ़ी है.

इसे भी पढ़ें: बढ़ती लवणता और समुद्र का स्तर सुंदरबन के लोगों के लिए खड़ी करता है कई स्वास्थ्य चुनौतियां

गोसाबा ब्लॉक के अमलामेठी गांव के 48 वर्षीय गंगा घोष का जन्म और पालन-पोषण सुंदरबन में हुआ है और उन्होंने सालों से हर प्रकार के चक्रवातों को देखा है. जबकि गंगा घोष का बेटा आजीविका चलाने के लिए कोलकाता चला गया है, वह अपने पति, एक कैंसर रोगी, बहू और पोते-पोतियों के साथ सुंदरबन में रहती हैं. गंगा घोष ने पिछले कुछ सालों में न केवल चक्रवातों की संख्या में वृद्धि देखी है, बल्कि मच्छरों का भी प्रकोप देखा है. उन्होंने कहा,

हर तूफान के बाद, मच्छर बढ़ जाते हैं. पेचिश, उल्टी, बुखार और ऐसी ही कई अन्य बीमारियों के मामले भी सामने आते हैं.

जलवायु परिवर्तन प्रभाव: सुंदरबन के अस्तित्व के लिए मैंग्रोव क्यों महत्वपूर्ण हैं?

गंगा घोष का पूर्व घर – यह पहले चक्रवात आइला और फिर चक्रवात अम्फान से तबाह हो गया था

25 मई, 2009 को पूर्वी तट पर भारतीय राज्यों में चक्रवात ऐला के टकराने के बाद, आईसीएमआर के अतिरिक्त महानिदेशक और महामारी विज्ञान और संचारी रोगों के प्रमुख डॉ. समीरन पांडा और उनकी टीम ने यह जांचने के लिए एक अध्ययन किया कि क्या ऐला पश्चिम बंगाल में पूर्वी-मेदिनीपुर जिले से डायरिया के बढ़ते मामलों के लिए जिम्मेदार था. “भारत में उष्णकटिबंधीय चक्रवात AILA के बाद एक तटीय जिले में दस्त के प्रकोप की त्वरित स्थिति और प्रतिक्रिया मूल्यांकन” शीर्षक वाला अध्ययन 2011 में भारतीय चिकित्सा अनुसंधान खंड 133 (4) में प्रकाशित किया गया था. जून, 2007 (बेसलाइन) की तुलना में जून, 2009 में दस्त का खतरा हल्दिया और एगरा के उप-प्रभागों के लिए क्रमशः 16 और 13 गुना अधिक होने का अनुमान लगाया गया था. मल के नमूनों (स्टूल सैम्पल) से विब्रियो कोलरा 54 प्रतिशत तक बढ़ा, जिसकी वजह से सामुदायिक स्तर पर हैजे का आउटब्रेक हुआ है.

सुपर साइक्लोनिक तूफान “अम्फान” ने 16-21 मई, 2020 के दौरान पश्चिम बंगाल तट को पार किया, जो सुंदरबन में बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में दाखिल हुआ, जिसकी अधिकतम निरंतर हवा की गति 155-165 किमी प्रति घंटे से लेकर 185 किमी प्रति घंटे तक थी. यह 1999 के ओडिशा एसयूसीएस के बाद बंगाल की खाड़ी के ऊपर पहला सुपर साइक्लोनिक स्टॉर्म (एसयूसीएस) था और इसने विशेष रूप से उत्तर और दक्षिण 24 परगना में भारी तबाही मचाई थी. NDTV के साथ एक इंटरव्‍यू में, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चक्रवात अम्फान से हुए शारीरिक नुकसान को साझा करते हुए कहा,

पश्चिम बंगाल के 23 जिलों में से 16 जिलों में फैले 6 करोड़ से अधिक लोग सीधे प्रभावित हुए. 50 लाख से अधिक घर और लगभग 17 लाख हेक्टेयर कृषि भूमि पूरी तरह से नष्ट हो गई. 50 लाख से अधिक किसानों की आजीविका चली गई, 58,000 हेक्टेयर जल निकाय नष्ट हो गए, जिसकी वजह से मछलियां भी नष्ट हो गईं. विश्व धरोहर स्थल सुंदरबन का 4,200 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया. हजारों एकड़ जंगल, स्कूल, कॉलेज, सबस्टेशन, पावर स्टेशन, बिजली के खंभे, आईसीडीएस केंद्र और स्वास्थ्य केंद्र, सब कुछ तबाह हो गया है.

बढ़ते चक्रवात और पौष्टिक भोजन तक घटती पहुंच

भारतीय सुंदरबन में, लोग मुख्य रूप से कृषि, मछली पकड़ने और जलीय कृषि पर निर्भर हैं जिसमें केकड़ा, झींगा, झींगा बीज संग्रह और भोजन और आजीविका के लिए शहद संग्रह शामिल हैं. 31 वर्षीय अपर्णा धारा काकद्वीप प्रखंड के गांव लक्ष्मीपुर में अपने पति, दो पुत्रों (16 व 12 वर्षीय) व ससुराल वालों के साथ रहती हैं. परिवार की आय का प्रमुख स्रोत खेती है – वे धान और सब्जियां उगाते हैं – वे एक छोटी-सी दुकान चलाते हैं और मुर्गी पालन करते हैं. खारे पानी के कारण वे पिछले एक साल से कुछ नहीं उगा पा रहे हैं. साथ ही, चक्रवात अम्फान के बाद से उनका घर दो बार तबाह हो चुका है.

हाई टाइड की आवृत्ति के कारण, कभी-कभी पानी घर में आता है, जिसकी वजह से ही पिछली बार हमें स्कूलों और अन्य निश्चित संरचनाओं में भागना पड़ा था. अपर्णा ने कहा, हमारे बहुत सारे पोल्ट्री भी बर्बाद हो गए, क्योंकि वे पानी में बह गए थे.

भारत की चक्रवात राजधानी ‘सुंदरबन’: जानिए स्वास्थ्य पर कैसे असर डालते हैं चक्रवात

मुर्गी पालन (पोल्ट्री) सुंदरबन के लोगों के लिए आजीविका का एक स्रोत है

2009 में आए चक्रवात ऐला के बाद, डॉ. व्यास ने एक अध्ययन किया और पाया कि चक्रवात के एक साल बाद भी, 23 प्रतिशत कृषि भूमि पर खेती नहीं की जा सकी. नतीजतन, लोगों को अपनी आजीविका के लिए कृषि से जलीय कृषि की ओर जाना पड़ा और वन क्षेत्रों में प्रवेश करना पड़ा.

इसी तरह, पाथरप्रतिमा ब्लॉक के गोबर्धनपुर गांव में सुंदरबन के दक्षिणी समुद्र में रहने वाली 30 वर्षीय मधुमिता धान की खेती करती हैं और अपने छह सदस्यीय परिवार के लिए सब्जियां उगाती हैं. सुंदरबन में जब भी तूफान आता है, वह मधुमिता के वृक्षारोपण, फसल और मछली के स्टॉक को तबाह कर देता है.

सुंदरबन में रहने वाले अधिकांश लोग आर्थिक रूप से गरीब हैं. वे निर्वाह मात्र जो कुछ भी पकड़ते हैं या उगाते हैं वही खाते हैं और बाजार में बेचते भी हैं. लेकिन जब चक्रवात उनके घर को तबाह कर देता है, फसलों और वनस्पतियों को नष्ट कर देता है और भूमि को तबाह कर देता है, तो वे अपने जीवन यापन के लिए भी खेती कैसे करेंगे? जिरियाट्रिशियन और जनरल फिजिशियन और सुंदरबन में दो दशकों से अधिक समय से काम कर रहे एनजीओ बैंचबो के अध्यक्ष डॉ. धीरेस कुमार चौधरी ने कहा, एनीमिया और कुपोषण, विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों के बीच, यहां आम है.

इसे भी पढ़ें: भारत के सुंदरवन में जलवायु परिवर्तन ने खाद्य सुरक्षा को कैसे प्रभावित किया है, आइए जानते हैं

कोलकाता स्थित एनजीओ ‘सोल’ सुंदरबन में बच्चों और सावर जनजाति के साथ जमीनी स्तर पर काम करता है. संगठन सुंदरबन के गांवों में नियमित रूप से चिकित्सा शिविर आयोजित करता है. एनजीओ सोल के संस्थापक शुभंकर बनर्जी ने कहा,

हमारे स्वास्थ्य शिविरों के दौरान, हमने पाया है कि इस क्षेत्र के 90 प्रतिशत से अधिक बच्चे गंभीर रूप से कुपोषित (एसएएम) हैं. यहां कुपोषण जबरदस्त है. बच्चे भले ही असामान्य या बीमार न दिखें, लेकिन जैसे ही आप उनकी स्वास्थ्य जांच शुरू करेंगे, आप पाएंगे कि उनके शरीर को पोषण की सख्त जरूरत है.

सागर विकास खंड दक्षिण 24 परगना के खंड विकास अधिकारी सुदीप्त मंडल ने बताया कि सागर द्वीप में रहने वाले लोग मुख्य रूप से समुद्री भोजन पर निर्भर हैं. ब्लॉक के 46,000 परिवारों में से लगभग हर घर में मत्स्य पालन के लिए एक तालाब है जिसका उपयोग वे व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए नहीं कर सकते हैं, लेकिन वे परिवार को खिलाने के लिए पर्याप्त उत्पादन करने में सक्षम हैं. महत्वपूर्ण रूप से, मछली पोषण का एक स्रोत है.

यदि चक्रवातों के कारण खारा पानी तालाबों में प्रवेश करता है, तो पानी का संतुलन बिगड़ जाता है जिसे अच्छी बारिश के बाद ही बहाल किया जा सकता है. लोग अभी भी यास द्वारा क्षतिग्रस्त तालाबों में मत्स्यपालन नहीं कर पा रहे हैं. उन्होंने कहा कि वे अगले साल से ऐसा करने में सक्षम होंगे.

भारत की चक्रवात राजधानी ‘सुंदरबन’: जानिए स्वास्थ्य पर कैसे असर डालते हैं चक्रवात

भारतीय सुंदरबन में खारे पानी से भरा एक तालाब

जर्नल ऑफ हेल्थ मैनेजमेंट में प्रकाशित एक अध्ययन “सुंदरबन में बाल स्वास्थ्य: पारस्परिक रूप से रिइंफोर्सिंग शॉक्स कैसे प्रासंगिक निर्धारकों के रूप में कार्य करते हैं?” के अनुसार, बचपन की पुरानी कुपोषण और सामान्य बचपन की बीमारी पश्चिम बंगाल, भारत के सुंदरबन के डेल्टा क्षेत्र में अत्यधिक प्रचलित है.

अध्ययन में कहा गया है कि प्राकृतिक आपदा दीर्घकालिक गरीबी, कम लचीलापन, स्वास्थ्य से जुड़ी शारीरिक और सामाजिक बाधाओं के साथ-साथ अप्रभावी सेवा वितरण प्रणाली के माध्यम से बच्चों के स्वास्थ्य को बदतर बनाते हैं.

सुंदरबन के लोगों के बीच पोषण के स्तर को समझने के लिए, डॉ. समीरन पांडा दक्षिण 24 परगना जिले के लिए राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 डेटा का उल्लेख करने का सुझाव दिया है, जिसके भीतर सुंदरबन का एक बड़ा हिस्सा स्थित है. एनएफएचएस-5 (2019-20) के कुछ प्रमुख निष्कर्ष इस प्रकार हैं:

– जिले में कुपोषित बच्चों का प्रचलन बढ़ा है. पांच साल से कम उम्र के 36.7 प्रतिशत बच्चे अविकसित (उम्र के हिसाब से कम लम्बाई) हैं. यह 2015-16 के बाद से 9.4 प्रतिशत की वृद्धि है.

– 2019-20 में पांच साल से कम उम्र के 21.2 फीसदी बच्चे वेस्टेड (लम्बाई के हिसाब से कम वजन) बताए गए, जो 2015-16 से 1.1 फीसदी ज्यादा हैं. दूसरी ओर, 11.8 प्रतिशत बच्चे गंभीर रूप से अपाहिज बताए गए, यह 2015-16 के 5.9 प्रतिशत से अधिक हैं.

– जिले में जहां पांच साल से कम उम्र के 32.2 फीसदी बच्चे कम वजन के हैं, वहीं सात फीसदी अधिक वजन के हैं.

– 61.6 फीसदी महिलाएं (15-49 साल) और 70.4 फीसदी बच्चे (6-59 महीने) एनीमिक हैं.

डॉ. पांडा ने कहा,

इन सभी उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के साथ, निवासियों को हाई टाइड के साथ-साथ समुद्र से आने वाले खारे पानी की समस्या से भी जूझना पड़ता है. इससे न केवल तटों पर बाढ़ आती है, बल्कि तालाबों और नदियों पर भी इसका असर पड़ता है. इसकी वजह से न केवल मछलियों का बल्कि उन सब्जियों का भी बड़े पैमाने पर विनाश होता है जो उगाई जाती हैं. इन प्राकृतिक आपदाओं के कारण जनसंख्या नकारात्मक रूप से प्रभावित होती है और इससे उनकी आजीविका पर काफी असर पड़ता है. एक बार जब इस तरह की स्थिति उत्पन्न हो जाती है, तो महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य पर पोषण के आधार पर असमानता के कारण नकारात्मक असर पड़ता है. इसके अलावा डॉ. पांडा ने कहा कि, शौचालय जैसी स्वच्छता प्रणाली चक्रवात के कारण बह जाती है जो सीधे तौर पर सुंदरबन के लोगों के स्वास्थ्य और कल्याण को प्रभावित करती है.

इसे भी पढ़ें: जलवायु परिवर्तन प्रभाव: सुंदरबन के अस्तित्व के लिए मैंग्रोव क्यों महत्वपूर्ण हैं?

सख्त भूभाग और भौगोलिक भेद्यता सुंदरबन की मौजूदा चुनौतियों को और बढ़ा देती है. हमारी कहानी के तीसरे भाग में, हम इस पर नज़र डालेंगे कि कैसे भूगोल लोगों के लिए स्वास्थ्य सेवा तक पहुँच को बोझिल बना देता है. यहां पढ़ें.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=