Connect with us

स्वतंत्रता दिवस स्पेशल

स्वतंत्रता दिवस विशेष: अमिताभ बच्चन ने भारत की ‘आशा’ कार्यक्रम पर प्राथमिक स्वास्थ्य कर्मियों को किया सम्मानित

अभियान के राजदूत अमिताभ बच्चन ने आशा जैसी प्राथमिक स्वास्थ्य कर्मियों को सम्मानित करने के लिए एक विशेष शो में टीम बनेगा स्वस्थ इंडिया के साथ स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे किए

Read In English
स्वतंत्रता दिवस विशेष: अमिताभ बच्चन ने भारत की 'आशा' कार्यक्रम पर प्राथमिक स्वास्थ्य कर्मियों को किया सम्मानित

नई दिल्ली: 15 अगस्त को स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने पर, बनेगा स्वस्थ इंडिया ने कैंपेन के एम्बेसडर अमिताभ बच्चन के साथ एक स्‍पेशल शो का आयोजन किया, जिसमें दस लाख आशा (मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता) कार्यकर्ताओं को भारत की ‘आशा’ कार्यक्रम के तहत सम्मानित किया गया. ये आशा कार्यकर्ता देश में स्वास्थ्य सेवा वितरण प्रणाली में अहम भूमिका निभाती हैं. अपनी समर्पित सेवाओं और स्वास्थ्य की रक्षा और इसे बढ़ावा देने के उत्कृष्ट योगदान के लिए, आशा कार्यकर्ताओं को विश्व स्वास्थ्य संगठन से वैश्विक मान्यता भी मिली हुई है. वे डब्ल्यूएचओ महानिदेशक के ग्लोबल हेल्थ लीडर्स अवार्ड के छह प्राप्तकर्ताओं में से एक हैं.

इसे भी पढ़ें: ग्रामीणों को शिक्षित करने और अच्छा स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए पेंटिंग का उपयोग करती हैं मध्य प्रदेश की आशा वर्कर

अपने काम का जश्न मनाने और देश भर में आशा कार्यकर्ताओं को और मजबूत करने, सशक्त बनाने, समर्थन करने और उनकी प्रेरक यात्रा को देश के सामने लाने के लिए, जो एक स्वस्थ भारत के निर्माण में मदद कर रहीं है, बच्चन ने इस एपिसोड के दौरान आठ आशा कार्यकर्ताओं के साथ बात की.

जानिए कैंपेन के एम्बेसडर अमिताभ बच्चन ने शो के दौरान क्या कहा:

  1. स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में भारत की उपलब्धियों पर अमिताभ बच्चन: भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने पर देश में दर्ज किए गए महत्वपूर्ण सुधारों पर प्रकाश डालते हुए, अमिताभ बच्चन ने कहा, “हमारे देश ने स्वास्थ्य सेवा में महत्वपूर्ण सुधार किए हैं. जीवन प्रत्याशा 1950 में 35 वर्ष से दोगुनी होकर आज 70 वर्ष हो गई है. अधिकांश संक्रामक रोगों पर काबू पा लिया गया है. ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा के कई प्रमुख इंडीकेशन में भी सुधार हुआ है.”
  2. आशा कार्यकर्ताओं की भूमिका को अमिताभ बच्चन ने किया सलाम: देश में आशा कार्यकर्ताओं के काम की सराहना करते हुए उन्होंने कहा, “मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं (आशा) द्वारा एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई है जो राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन की रीढ़ हैं और एक स्वस्थ भारत सुनिश्चित करने में वे सबसे आगे हैं. ग्रामीण और शहरी गरीबों के बीच मातृ और शिशु मृत्यु दर को कम करने और विशेष रूप से भारत को पोलियो मुक्त बनाने के लिए और अब हमारे प्रभावशाली कोविड टीकाकरण कवरेज में मदद करने के लिए आशा कार्यकर्ताओं का योगदान बहुत बड़ा है.”
  3. अमिताभ बच्चन ऑन द रोल बनेगा स्वस्थ भारत अभियान ने एक स्वस्थ भारत के निर्माण में भूमिका निभाई है: एनडीटीवी-डेटॉल इंडिया बनेगा स्वस्थ इंडिया अभियान के बारे में बात करते हुए, जिसके साथ कैंपेन के एम्बेसडर अमिताभ बच्चन आठ वर्षों से अधिक समय से जुड़े हुए हैं, उन्होंने कहा, “जैसा कि हम NDTV – डेटॉल बनेगा स्वस्थ भारत अभियान के 8 वें सीज़न का समापन कर रहे हैं, आज इस स्वतंत्रता दिवस विशेष पर हम उन दस लाख आशा कार्यकर्ताओं को सलाम करते हैं, जो भारत में स्वास्थ्य सेवा वितरण में सबसे आगे हैं.”
  4. बच्चन ने आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में बात की: शो में, अमिताभ बच्चन ने देश भर के आठ प्राथमिक स्वास्थ्य कर्मियों के साथ एक स्वस्थ भारत के निर्माण में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका को उजागर किया और कहा, “आशा कार्यकर्ताओं को भारत में समुदाय और सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली के बीच एक सेतु के रूप में कार्य करने के लिए ट्रेंड किया जाता है.”
  5. अमिताभ बच्चन ने बनेगा स्वस्थ भारत अभियान के एजेंडे पर प्रकाश डाला: अभियान के राजदूत ने कहा कि अभियान के इस सत्र का एजेंडा ‘किसी को पीछे नहीं छोड़ना’ है. अपनी बात खत्‍म करते हुए उन्होंने कहा, “और कोई भी आशा कार्यकर्ता से बेहतर इसका उदाहरण नहीं दे सकता है, जिसकी भूमिका यह सुनिश्चित करना है कि कोई भी पीछे न रहे. वे प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल में पहली यूनिट हैं.”

इसे भी पढ़ें: Independence Day Special: मिलिए ऐसी पोषण योद्धा से, जिसने राजस्थान के अपने गांव में दिया नया संदेश, ‘स्वस्थ माताएं ही स्वस्थ संतान पैदा कर सकती हैं’

1 Comment

1 Comment

  1. Vinam lowanshi

    August 15, 2022 at 7:10 pm

    आशा स्वास्थ विभाग की महत्वपूर्ण कड़ी है जो एनएचएम के प्रमुख उद्देश्य मातृ मृत्यु दर कम करना, शिशु मृत्यु दर कम करना, और शक्ल प्रजनन दर को कम करने के लिए निरंतर प्रयासरत हैं
    कोबिड काल में आशा एक ऐसी कडी थी जो घर-घर जाकर मरीजों की दवाइयां पहुंचा रही थी और उनकी जांच करवा रही थी आशा की वजह से ही कोबिड को बहुत हद तक कंट्रोल किया गया, कठिन परिस्थितियों में आशा ने उम्मीद से ज्यादा काम किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=