Connect with us

स्वतंत्रता दिवस स्पेशल

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

एनडीटीवी-डेटॉल बनेगा स्वस्थ भारत ने कैंपेन के एंबेसडर अमिताभ बच्चन के साथ एक स्पेशल एपिसोड -भारत की ‘आशा’ को सलाम के साथ स्वतंत्रता दिवस मनाया

Read In English
Independence Day Special With Amitabh Bachchan: The Critical Role Of ASHA Workers In Building A Healthy India
अमिताभ बच्चन के साथ इंडिपेंडेंस डे स्पेशल: भारत की 'आशा' को सलाम

नई दिल्ली: NDTV-डेटॉल बनेगा स्वस्थ भारत ने कैपेंन के एंबेसडर अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस को एक विशेष एपिसोड– भारत की ‘आशा’ को सलाम, के साथ चिह्नित किया. आजादी के 75 साल का जश्न मनाते हुए, यह एपिसोड एक मिलियन आशा (मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता) कार्यकर्ताओं को समर्पित था, जो भारत में ग्रामीण स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे की रीढ़ हैं और कुपोषण, स्वास्थ्य के खिलाफ देश की लड़ाई की अग्रिम पंक्ति की कार्यकर्ता हैं. उन्होंने स्वच्छता के संदेश को दूर-दराज इलाकों तक ले जाने में भी मदद की है. यहां तक कि COVID-19 महामारी के दौरान भी वे अपने-अपने समुदायों में फ्रंटलाइन कंट्रीब्यूटर बनीं. अपनी समर्पित सेवाओं और स्वास्थ्य की रक्षा और इसे बढ़ावा देने के उत्कृष्ट योगदान के लिए, आशा को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से वैश्विक मान्यता भी मिली है. वे डब्ल्यूएचओ महानिदेशक के ग्लोबल हेल्थ लीडर्स अवार्ड के छह प्राप्तकर्ताओं में से एक हैं.

अपने काम का जश्न मनाने और अपनी प्रेरक यात्रा को प्रदर्शित करने के लिए, इस कैंपेन के ण्‍ंबेडर अमिताभ बच्चन ने देश भर के आठ स्वास्थ्य कर्मियों को पेश किया और स्वस्थ भारत के सपने को प्राप्त करने में उनकी कड़ी मेहनत की सराहना की.

पेश है स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल एपिसोड की खास बातें:

1. अभियान के राजदूत अमिताभ बच्चन ने स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में भारत की उपलब्धियों और स्वस्थ भारत के सपने को पूरा करने में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डालते हुए दो घंटे के स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल एपिसोड की शुरुआत की.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

हमारी आशा कार्यकर्ताओं ने एक अहम भूमिका निभाई है, जो राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन की रीढ़ हैं. वह स्वस्थ भारत सुनिश्चित करने में सबसे आगे हैं: कैंपेन के एंबेसडर अमिताभ बच्चन

उन्‍होंने कहा:

  • हमारे देश ने स्वास्थ्य सेवा में उल्लेखनीय सुधार किया है. जीवन प्रत्याशा 1950 में 35 वर्ष से दोगुनी होकर आज 70 वर्ष हो गई है. अधिकांश संक्रामक रोगों पर काबू पा लिया गया है. ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा के कई मेन इंडिकेटर में भी सुधार हुआ है.
  • हमारी आशा कार्यकताओं द्वारा एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई है, जो राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन की रीढ़ हैं और एक स्वस्थ भारत सुनिश्चित करने में सबसे आगे हैं. ग्रामीण और शहरी गरीबों के बीच मातृ और शिशु मृत्यु दर को कम करने और विशेष रूप से भारत को पोलियो मुक्त बनाने के लिए टीकाकरण में सुधार और अब हमें हमारे प्रभावशाली COVID टीकाकरण कवरेज को पाने में मदद करने में उनका योगदान बहुत बड़ा है.

2. 2022 मई में, वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने भारत के मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं या आशा को ग्लोबल हेल्थ लीडर्स अवार्ड से सम्मानित किया था. ये अवॉर्ड पाने वालीं उन छह प्राप्तकर्ताओं में से थीं जिन्होंने हेल्‍थ केयर और इसे बढ़ावा देने के लिए उत्कृष्ट योगदान दिया था. भारत में डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधि डॉक्‍टर रॉडरिको ओफ्रिन ने एनडीटीवी – डेटॉल बनेगा स्वस्थ भारत स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल में हिस्‍सा लिया और एक स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की भूमिका पर जोर दिया.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

शो में उन्होंने कहा,

  • आशा कार्यकर्ता हेल्‍थ केयर की सच्ची चैंपियन हैं, वे प्राइमरी हेल्‍थ केयर को लोगों, विशेषकर सबसे कमजोर आबादी तक पहुंचाती हैं.
  • ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली कई महिलाओं, बच्चों और कमजोर लोगों के लिए, आशा कार्यकर्ता अक्सर स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों को पूरा करने वाली कार्यकर्ता हैं.
  • सालों से, वे कम्युनिटी को हेल्‍थ केयर, केयर और सलाह देने का काम कर रही हैं और लोगों को पोषण, टीकाकरण, परिवार नियोजन जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर शिक्षित करने में मदद करती हैं और उन्हें बीमारियों से संक्रमित होने से बचाने में अपना योगदान देती हैं.
  • उनका यह अथक प्रयास, प्रतिबद्धता और योगदान तारीफ के काबिल है.

3. रेकिट के दक्षिण एशिया स्वास्थ्य और पोषण, क्षेत्रीय विपणन निदेशक दिलेन गांधी ने आशा कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए कार्यों के प्रभाव के बारे में बताया.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

रेकिट का मूल विश्वास यह है कि हम मानते हैं कि न्यूट्रिशन, हेल्‍थ और हाइजीन का अधिकार विशेषाधिकार नहीं होना चाहिए, यह एक अधिकार होना चाहिए: दिलेन गांधी

उन्‍होंने कहा,

  • हमने जो महसूस किया है, वह यह है कि आशा द्वारा अपने-अपने क्षेत्र में किया गया वन-ओन-वन कम्‍यूनिकेशन, संचार का सबसे बुनियादी और सबसे प्रभावी रूप है.
  • डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया प्रोग्राम के जरिए हम पूरे देश में साढ़े 11 करोड़ से ज्यादा लोगों तक पहुंच चुके हैं. और यह सब लगभग 8,000 फ्रंटलाइन स्टाफ और वॉलंटियर्स के काम से होता है. अब कल्पना कीजिए कि 10 लाख आशा कार्यकर्ताओं द्वारा किए जा रहे काम का भारत पर क्या प्रभाव पड़ रहा है.
  • भारत में आशा कार्यकर्ता दिन-रात काम कर रही हैं और बेहतर स्वास्थ्य सेवा के लिए संघर्ष कर रही हैं. मुझे लगता है, वे हमारे देश में अमूल्य संपत्ति हैं, और इसका आगे भी लाभ उठाया जा सकता है.
  • रेकिट के लिए मूल विश्वास यह है कि हम मानते हैं कि पोषण, स्वास्थ्य और स्वच्छता का अधिकार विशेषाधिकार नहीं होना चाहिए, यह एक अधिकार होना चाहिए. यह सभी के लिए सुलभ होना चाहिए. अपने कार्यक्रमों के साथ, हम स्वच्छता और बुनियादी स्वस्थ आदतों के बारे में समझ विकसित करने का प्रयास कर रहे हैं. हम कोशिश करते हैं और प्रोडक्‍ट को मार्केट में आसानी से उपलब्ध कराएं और सही तरीके से कम्‍यूनिकेशन करें, ताकि लोग स्वच्छता और हाथ धोने के महत्व को समझ सकें. अब हम आदतों में बड़ा बदलाव देख रहे हैं. अगले 75 वर्षों में, हम और अधिक परिवर्तन देखने की आशा करते हैं.

4. मध्य प्रदेश के गुरुगुड़ा गांव की एक आशा कार्यकर्ता रंजना द्विवेदी अमिताभ बच्चन के साथ बनेगा स्वस्थ भारत स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल के पैनल में शामिल हुईं. बच्चन ने उन्हें एक आशा कार्यकर्ता के रूप में पेश किया, जो अपने गांव के लोगों को ‘आशा दी’ के रूप में अपनी सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रतिदिन 20 किलोमीटर की यात्रा करती है. बच्चन ने रंजना द्वारा प्रतिदिन सामना की जाने वाली कठिनाइयों पर प्रकाश डाला और कहा कि कभी-कभी स्वास्थ्य सुविधाएं और सेवाएं प्रदान करने के लिए, रंजना को एक नदी या जंगल पार करना पड़ता है, जो एक बहुत ही चुनौतीपूर्ण कार्य है. उन्होंने यह भी कहा कि COVID-19 महामारी के दौरान रंजना के काम को अमेरिका में नेशनल पब्लिक रेडियो द्वारा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी प्रदर्शित किया गया था, जिन्होंने दुनिया भर की 19 महिलाओं पर एक डॉक्‍यूमेंट्री बनाई थी, इसमें भारत से, रंजना को चुना गया था.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

मेरे समुदाय ने सोचा था कि टीकाकरण के बाद वे बच्‍चों को जन्म नहीं दे पाएंगे, मुझे इन सभी मिथ्‍स को तोड़ने के लिए घर-घर जाना पड़ा: रंजना द्विवेदी

आशा दी के रूप में अपने काम और यात्रा के बारे में बताते हुए रंजना ने कहा,

  • इतनी उलझनों के बाद भी जब मैं गांव पहुंची तो वहां के लोग कभी मुझसे बात नहीं करते थे और न ही मेरी सुनते थे. उन्हें लगा कि मैं जो कुछ भी कह रही हूं वह एक छलावा है. जब COVID-19 आया, तो उन्‍हें क्वारंटाइन का मतलब, वैक्सीन या उन्हें जो सावधानियां बरतनी हैं, उसकी कोई जानकारी नहीं थी. यह बाहर जंगल की आग की तरह फैल रहा था और मेरी सोच थी कि यह मेरे गांव में नहीं आना चाहिए. इसलिए, मैंने अपने गांव के लोगों को समझाने के लिए हर संभव कोशिश की.
  • जब वैक्सीन आई, तब भी उन्होंने बस न कह दिया. उन्होंने सोचा कि टीकाकरण के बाद वे जन्म नहीं दे पाएंगे, मुझे इन सभी मिथकों का भंडाफोड़ करने के लिए घर-घर जाना होगा. मैंने पहले वैक्सीन ली और उन्हें अपना सर्टिफिकेट दिखाया और धीरे-धीरे मैं सभी को समझाने में सक्षम हो गई और आज हमने 100 प्रतिशत टीकाकरण हासिल कर लिया है.

5. रेकिट के निदेशक विदेश और भागीदारी SOA रवि भटनागर, ने स्वस्थ भारत के निर्माण की दिशा में रेकिट द्वारा की गई कई पहलों के बारे में बताया.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

हमें अपने सिस्टम में और आशा कार्यकर्ताओं को जोड़ने की जरूरत है और सरकार को इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए ताकि एक आशा कार्यकर्ता पर काम का कम भार पड़े: रवि भटनागर

उन्‍होंने कहा,

  • हमने महाराष्ट्र के दो जिलों – अमरावती और नंदुरबार में हर बच्चे तक पहुंच की पहल की है, जिसमें हमने प्रतिबद्ध किया है कि जीरो डेट होगी और पहले 1000 दिनों पर ध्यान केंद्रित किया गया है. आशा, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और स्वयंसेवकों की मदद से हम लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल रहे हैं. डेटॉल का एक अन्य कार्यक्रम, जो हाल ही में शुरू हुआ है, उत्तर प्रदेश में डायरिया नेट जीरो पहल है, जहां हम 13 जिलों को कवर कर रहे हैं और उचित हस्तक्षेप के साथ बच्चों के जीवन को बचाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. हम 10,000 आशा कार्यकर्ताओं को भी प्रशिक्षित कर रहे हैं और राज्य के प्रत्येक आशा कार्यकर्ता को प्रशिक्षित करने और उस संख्या को 100 प्रतिशत तक ले जाने का लक्ष्य रखते हैं.
  • हमने जो काम किया है, उससे हमें सबसे बड़ी सीख यह मिली है कि आशा कार्यकर्ताओं के पास बहुत काम है. वे एचआईवी, मलेरिया, डेंगू जैसे भारत में बहुत से राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रमों को वितरित करने में मदद करती हैं. मुझे लगता है, हमें अपने सिस्टम में और आशा कार्यकर्ताओं को जोड़ने की जरूरत है और सरकार को इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए ताकि एक आशा कार्यकर्ता पर कम भार पड़े.
  • अंत में, मुझे लगता है, अगर भारत में कोई आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता नहीं होती, तो स्वास्थ्य सेवा को अंतिम मील तक पहुंचाना एक बहुत ही कठिन, बल्कि असंभव कार्य होता.

6. पिछले 15 वर्षों से आशा कार्यकर्ता के रूप में काम कर रही ओडिशा के गर्गडबहल की मटिल्डा कुल्लू भी इस शो में शामिल हुईं. वह पहली आशा कार्यकर्ता हैं जिनका नाम आशा दी के रूप में अपने काम के प्रति समर्पण के लिए 2021 में प्रसिद्ध पत्रिका फोर्ब्स की सबसे शक्तिशाली भारतीय महिलाओं की सूची में शामिल किया गया है. आज, उनके निरंतर प्रयासों के कारण, उनके गांव में संस्थागत प्रसव की दर 100 प्रतिशत है, लोगों और बच्चों के समग्र स्वास्थ्य में भी सुधार हुआ है, और उनका गांव भारत के उन कुछ गांवों में से एक है, जिन्होंने 100 प्रतिशत COVID वैक्सिनेशन पूरा किया है.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

मुझे लगता है कि कोविड के दौरान आशा कार्यकर्ता सबसे अधिक प्रभावित हुईं हैं: मटिल्डा कुल्लू

अपनी यात्रा के बारे में बात करते हुए मटिल्डा ने कहा,

  • जब मैंने 2006 में काम करना शुरू किया, तो मैंने देखा कि मेरे गांव की कोई भी गर्भवती महिला अपने चेक-अप और प्रसव के लिए अस्पतालों में नहीं जा रही थी. उन्होंने सोचा कि घर पर बच्चे को जन्म देना अस्पताल में जन्म देने से कहीं बेहतर है. और यही कारण था कि मेरे गांव में शिशु और मातृ मृत्यु दर बहुत अधिक थी.
  • मैंने आशा कार्यकर्ता के रूप में इस पर काम करना शुरू किया और महिलाओं को प्रेरित, शिक्षित किया. आज, मुझे यह कहते हुए गर्व हो रहा है कि मेरे गांव की महिलाएं घर के बजाय संस्थागत जन्म पसंद करती हैं.
  • मैंने उनके परिवारों को गर्भावस्था से संबंधित चीजों पर भी शिक्षित करने में मदद की जैसे कि मां को किस तरह की देखभाल मिलनी चाहिए, डाइट सही होनी चाहिए और नवजात शिशुओं को स्तन का दूध क्यों दिया जाना चाहिए और कुछ नहीं.
  • COVID के दौरान, मुझे लगता है कि आशा कार्यकर्ता सबसे अधिक प्रभावित हुईं, क्योंकि उन्होंने एक बार भी अपने और अपने परिवार के बारे में नहीं सोचा. उन्होंने तुरंत अपने कर्तव्य का पालन किया और जिन चीजों को उन्हें देने के लिए कहा गया था. उस लड़ाई में कई आशा कार्यकर्ताओं की भी जान चली गई थी.
  • जब COVID-19 की वैक्सीन आई, तो सबसे पहले आशा कार्यकर्ता ने इसे लिया. वे मिथकों, दुष्प्रभावों के बारे में नहीं डरती थीं, उन्होंने इसे ले लिया, यह सोचकर कि वे टीका लेंगी, तो जनता को भी प्रेरित करने में सक्षम होंगी.
  • आशा कार्यकर्ता बनना एक चुनौतीपूर्ण काम है, लेकिन लोगों को हम पर भरोसा करते देखकर बहुत अच्छा लगता है. आज मेरा पूरा गांव मेरे परिवार की तरह है और मैं उनकी मदद करने के लिए काफी प्रेरित महसूस कर रही हूं.

7. सुशांत कुमार नायक, वरिष्ठ सलाहकार, सामुदायिक प्रक्रिया, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, ओडिशा सरकार, जो 2008 से ओडिशा राज्य में आशा कार्यक्रम का प्रबंधन कर रही हैं, ने सामुदायिक स्तर पर स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत करने में आशा कार्यकर्ताओं की भूमिका के बारे में बताया और बताया कैसे ओडिशा आशा कार्यकर्ताओं को चुन रहा है, उनका कौशल बढ़ा रहा है और उन्हें बेहतर प्रदर्शन के लिए प्रेरित कर रहा है.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

सभी सरकारें आशा कार्यकर्ताओं के कल्याण के बारे में सोचें: सुशांत कुमार नायक

  • हम आशा कार्यकर्ताओं को उनके अपने गांव या कस्बे से चुनते हैं ताकि उनमें अपनेपन का अहसास हो. एक वर्ष में, हम उनके ज्ञान, कौशल और योग्यता के निर्माण के लिए 10-12 दिनों का प्रशिक्षण लेते हैं, जो एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है. प्रारंभ में, भारत में मातृ और बाल मृत्यु दर पर ध्यान केंद्रित किया गया था, अब इसके साथ-साथ गैर-संचारी रोगों पर भी ध्यान केंद्रित किया गया है. इसलिए, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आशा कार्यकर्ता अप टू डेट और कुशल हों.
  • प्रोत्साहन भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है, आशा कार्यकर्ताओं को समय पर भुगतान करना और समय-समय पर जमीन पर उनके काम के लिए उन्हें पहचानना बहुत आवश्यक है. ओडिशा राज्य में, हमारे पास सबसे अधिक प्रोत्साहन हैं और हम यह भी सुनिश्चित करते हैं कि उनके भुगतान में कोई बैकलॉग न हो. हम बहुत सारे पुरस्कार और मान्यता भी देते हैं – यह सब एक सक्षम वातावरण बनाने के लिए है ताकि वे प्रेरित रहें और समाज के अन्य सदस्यों की मदद करने के अपने प्रयासों को जारी रखें.
  • सभी सरकारों को आशा कार्यकर्ताओं के कल्याण के बारे में सोचना चाहिए. गतिविधियों की संख्या बढ़ रही है और हमें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि हमारी आशाओं को उनके काम के लिए हर महीने भुगतान किया जा रहा है. हमें आशा के लिए अभी तय की गई राशि को बढ़ाने की जरूरत है.

8. नव्या नवेली नंदा, हेल्थ टेक एंटरप्रेन्योर और जेंडर इक्वेलिटी एक्टिविस्ट, जो आशा कार्यकर्ताओं के साथ जमीनी स्तर पर काम कर रही हैं, ने बताया कि कैसे उन्होंने महिलाओं से संबंधित मुद्दों को अपना फोकस बनाया.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

महिलाओं के स्वास्थ्य जैसे जरूरी मामलों पर बात करने के लिए मौजूद प्लेटफार्मों और सोशल मीडिया का इस्‍तेमाल करके इस भूमिका को निभाने और कार्यभार संभालने की युवाओं की जिम्मेदारी है: नव्या नवेली नंदा

उन्‍होंने कहा,

  • महिलाओं के स्वास्थ्य और स्वच्छता से जुड़े मुद्दों पर काम शुरू करने के लिए मुझे जिस चीज ने प्रेरित किया, वह मूल रूप से एक छोटा सा उदाहरण है. पिछले साल, एक हेल्थकेयर प्लेटफॉर्म – आरा हेल्थ, जिसकी मैंने सह-स्थापना की थी, पर काम करते हुए, हमने 14-20 साल के आयु वर्ग की कुछ लड़कियों के साथ स्वास्थ्य और स्वच्छता पर एक छोटी सी कार्यशाला का आयोजन किया, जहां हम उनसे मासिक धर्म के बारे में बात कर रहे थे. विभिन्न हेल्‍थ केयर प्रैक्टिस को उन्हें अपने मासिक धर्म के दौरान अपनाना चाहिए. उस कार्यशाला के दौरान, एक युवा लड़की मेरे पास आई और उसने अपनी कहानी साझा की कि कैसे वह यह देखकर इतनी हैरान थी कि उसका मासिक धर्म रेड कलर का है. उसने सोचा कि यह नीला होना चाहिए क्योंकि सैनिटरी पैड विज्ञापनों पर हम सभी टेलीविजन पर यही देखते हैं. और इससे मुझे एहसास हुआ कि समस्या वास्तव में कितनी बड़ी है, न केवल प्रोडक्‍ट तक पहुंचने में बल्कि जागरूकता और शिक्षा पर. हम इस प्रक्रिया के बारे में बिल्कुल भी पारदर्शी नहीं हैं, जिससे ज्यादातर महिलाएं गुजरती हैं.
  • मुझे भी लगता है, हमारे आशा कार्यकर्ताओं की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है. जिस तरह से वे संदेश को हर घर तक ले जाती हैं और महिलाओं के स्वास्थ्य और स्वच्छता से संबंधित मिथकों और अंधविश्वासों को दूर करने में मदद करती हैं, हम इसे अनदेखा नहीं कर सकते. इनके बिना हमारा काम अधूरा है. हम कई इलाकों और स्थानों में जा सकते हैं, लेकिन अंत में यह उनका समर्पण और काम के प्रति जुनून है जो भारत को स्वस्थ बनने में मदद कर रहा है.
  • न केवल युवाओं के लिए बल्कि शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के बीच की खाई को पाटने के लिए भी प्रौद्योगिकी का उपयोग सबसे शक्तिशाली उपकरणों में से एक है. केवल पिछले कुछ वर्षों में देखें कि भारत में इंटरनेट कैसे विकसित हुआ है. उम्मीद की जा रही है कि 2030 तक भारत में लगभग 1.3 बिलियन इंटरनेट उपयोगकर्ता होंगे. ग्रामीण भारत में आज लगभग 373 मिलियन इंटरनेट उपयोगकर्ता हैं – जिससे यह वास्तव में गहराई और हम कितनी तेजी से बढ़े हैं, यह दर्शाता है.
  • महिलाओं के स्वास्थ्य जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर बात करने के लिए उपलब्ध प्लेटफॉर्म और सोशल मीडिया का उपयोग करके उस भूमिका को निभाने और कार्यभार संभालने की जिम्मेदारी युवाओं की है.

9. निर्मला मैपत कोगे, महाराष्ट्र के अमरावती जिले की आशा कार्यकर्ता, ने बताया कि वह कैसे काम करती है और कैसे उन्‍होंने अपने गांव में अंधविश्वासों से लड़ाई लड़ी और लोगों को स्वस्थ जीवन जीने में मदद की.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

हम न तो डॉक्टर हैं और न ही नर्स, लेकिन हमें जगह-जगह हेल्‍थ केयर की खाई को पाटने की ट्रेनिंग देते हैं: निर्मला मैपत कोगे

निर्मला ने कहा,

  • मैं यह काम 2014 से कर रही हूं. आशा वर्कर का काम लोगों के घर-द्वार पर बुनियादी स्वास्थ्य देखभाल मुहैया कराना है. हम न तो डॉक्टर हैं और न ही नर्स, लेकिन हमें जगह-जगह स्वास्थ्य देखभाल की खाई को पाटने का प्रशिक्षण दिया गया है.
  • पहले मेरे गांव के लोग किसी भी इलाज के लिए डॉक्टर या अस्पताल जाने में विश्वास नहीं करते थे. वे कई अंधविश्वासों में विश्वास करते थे. एक आशा दी के रूप में, मैं घर-घर गई और अपने गांव के लोगों को शिक्षित किया कि वे कैसे एक स्वस्थ जीवन जी सकते हैं. उन्हें दवा के महत्व, अस्पताल में प्रसव के बारे में बताया न कि घर में, बच्चों के टीकाकरण आदि के बारे में. आज, मैं अपने लोगों में बदलाव देख रही हूं, वे एक स्वस्थ जीवन जी रहे हैं.

10. डॉ. हेमा दिवाकर, तकनीकी सलाहकार, मातृ स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, जिन्होंने महिला स्वास्थ्य देखभाल के लिए तीन दशक की सेवा समर्पित की है ने आशा की कार्यबल को बढ़ाने के लिए भारत की आवश्यकता के बारे में बात की है.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

भारत में, अगर हम अकेले वूमेन हेल्‍थ केयर के बारे में बात करते हैं, तो हमें और अधिक संख्या में आशा कार्यकर्ताओं की जरूरत है: डॉ हेमा दिवाकर

  • भारत में अगर अकेले महिला स्वास्थ्य देखभाल की बात करें तो हमें और भी कई आशा कार्यकर्ताओं की जरूरत है. वर्तमान में, हर साल 30 मिलियन डिलिवरी हो रही हैं और हमारे पास केवल दस लाख आशा कार्यकर्ता हैं.
  • हम हमेशा कहते हैं बनेगा स्वस्थ भारत जब स्वस्थ महिलाएं स्वस्थ बच्चों को जन्म देंगी. हमारी आने वाली पीढ़ी जितनी स्वस्थ होगी, हमारा देश उतना ही स्वस्थ होगा. तो, आप देखते हैं कि प्रोग्रामिंग महिलाओं के गर्भ से ही हो रही है और इसलिए यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि हम पहले 1000 दिनों पर ध्यान केंद्रित करें. और इस सब के लिए, आशा कार्यकर्ताओं की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि वे उनसे सीधे संपर्क में हैं.
  • आशा कार्यकर्ता महिलाओं को सीधे जानती हैं, वे उन सभी महिलाओं को जानती हैं जो अपने इलाके में गर्भवती हैं. वे अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखती हैं ताकि उन्हें एनीमिया, शुगर, डायबिटीज, बीपी या किसी भी तरह की जटिलता का सामना न करना पड़े. वे पहले व्यक्ति हैं जिनके पास ये महिलाएं पहुंचती हैं.
  • हमें आशा कार्यकर्ताओं की क्षमता निर्माण पर काम करना है, उनकी टास्क फोर्स को बढ़ाना है, हम सभी को उस दिशा में सोचना है.

11. 28 वर्षीय मसूरी गगराई आदिवासी क्षेत्र झारखंड के लौजोरा कलां गांव के 1,446 लोगों के लिए आशा कार्यकर्ता के रूप में काम करती हैं.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

आज गांव के सभी बच्चे हेल्‍दी हैं और जो कुपोषण से पीड़ित थे वह भी अच्‍छे से अपना जीवन व्‍यतीत कर रहे हैं: मसूरी गगराई

मसूरी, जिन्हें उनके गांव में पोषण योद्धा के रूप में भी जाना जाता है, ने अपनी उपलब्धियों के बारे में बताया और कहा,

  • आशा कार्यकर्ता के रूप में काम करना शुरू करने से पहले ही मुझे बच्चों में कुपोषण की चिंता थी. जब मैं शादी के बाद गांव आती थी तो सोचती थी कि मेरे गांव में इतने कमजोर बच्चे क्यों हैं. धीरे-धीरे, जब मुझे पता चला कि ये बच्चे कुपोषण से पीड़ित हैं, तो मैंने उनकी मदद करने का फैसला किया. मैं एक आशा दी के रूप में काम में शामिल हुई और परिवारों को शिक्षित करना शुरू किया.
  • मैं उनकी माताओं का मार्गदर्शन करती थी, उन्हें बताती थी कि उन्हें अपने बच्चों को क्या खाना देना है और इस लड़ाई को लड़ना है. मैंने उनसे कहा कि वे अपना भोजन खुद उगाएं, अपने बैकयार्ड में मौसमी फल और सब्जियां उगाएं और इसे अपने बच्चों को रोजाना दें.
  • धीरे-धीरे पोषण वाटिका कार्यक्रम, जिसका अर्थ है कि बैकयार्ड में अपना खुद का भोजन उगाना, ने गति पकड़ी और लोगों को फर्क दिखाई देने लगा. उन्होंने महसूस किया, भले ही उनके पास भोजन उपलब्ध है, उनके बच्चे पीड़ित थे क्योंकि उनके पास कोई शिक्षा या जागरूकता नहीं थी.
  • आज गांव के सभी बच्चे स्वस्थ हैं और जो कुपोषण की लड़ाई लड़ रहा था वह भी ठीक है.

12. अमिताभ बच्चन ने पैनल में एक और आशा कार्यकर्ता का स्वागत किया – वो थीं उत्तर प्रदेश की 42 वर्षीय दीप्ति पांडे. COVID-19 के दौरान, दीप्ति ने निस्वार्थ भाव से एक गर्भवती महिला की देखभाल की, जिसे COVID हुआ था और गंभीर लक्षण विकसित हुए थे.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

अगर मैं किसी की जान बचा पाती हूं, तो इससे मुझे वाकई खुशी मिलती है: दीप्ति पांडे

अपने काम के प्रति समर्पण और महामारी के दौरान योगदान के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा,

  • जीवन में मेरा आदर्श वाक्य है – मैं अधिक से अधिक लोगों को बचाना चाहती हूं. अगर मैं किसी की जान बचाने में सक्षम हूं, तो इससे मुझे वाकई खुशी मिलती है.
  • मैं गांवों में जाती हूं, सर्वे करती हूं – देखती हूं कि कोई बच्चा बीमार है या नहीं. मैं घर-घर जाकर लोगों का हेल्‍थ चेकअप करती हूं. यह सब मेरे दिन-प्रतिदिन के काम का हिस्सा है. मैं महिलाओं से कहती हूं कि अगर उनके बच्चे को दिन में तीन बार से ज्यादा बार पानी जैसा दस्त होता है तो मुझे बताएं. मैं अपने गांव में अतिसार के इलाज में मदद करती हूं, जो कि सबसे आम बीमारी है. मैं ग्रामीणों को हाथ धोने के सही तरीके के बारे में भी शिक्षित करती हूं.

13. इसके बाद, अमिताभ बच्चन ने भारत में आशा कार्यकर्ताओं के निस्वार्थ समर्पण के एक और उदाहरण पर प्रकाश डाला और बेंगलुरु से अमीना बेगम का स्वागत किया. वह एक आशा कार्यकर्ता के रूप में 12 वर्षों से बेंगलुरु की मलिन बस्तियों में काम कर रही हैं और उनका मानना है कि ज्ञान ही शक्ति है. उन्‍होंने अपने तीनों बच्चों को शिक्षित करने में मदद की है, जो आज अपने-अपने जीवन में अच्छी तरह से बस गए हैं.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

अमीना बेगम 12 साल से बेंगलुरु की मलिन बस्तियों में आशा कार्यकर्ता के रूप में काम कर रही हैं और उनका मानना है कि ज्ञान ही शक्ति है

अपनी यात्रा के बारे में बोलते हुए और आशा के रूप में काम करने का निर्णय लेने के लिए उन्हें क्या प्रेरित किया, अमीना बेगम ने कहा,

  • मैंने भारत में पोलियो प्रोग्रामिंग के दौरान अपना काम शुरू किया था. मैं लोगों को पोलियो के बारे में समझाती थी और बच्चों को खुराक पिलाती थी.
  • पोलियो पर ध्यान दिए जाने के बाद, मैंने बच्चों के टीकाकरण और गर्भवती महिलाओं के लिए संस्थागत प्रसव के महत्व पर परिवारों को शिक्षित करना शुरू किया. प्रारंभ में, मेरे किसी भी गांव वाले को मुझ पर भरोसा नहीं था, लेकिन मैंने उनका विश्वास हासिल किया, उन्हें स्वास्थ्य सेवा की मूल बातें और इसके महत्व को समझने में मदद की और आज मेरे गांव के सभी लोग मेरी बात को अच्‍छे से सुनते हैं.

14. नागालैंड के दीमापुर शहर से ग्रेजुएट काली शोहे, जो पिछले 12 वर्षों से आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के रूप में काम कर रही हैं, ने भी शो में अपने गांव में एक आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के रूप में अपनी यात्रा साझा की.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

हम ग्रामीणों को सरकार द्वारा दी जा रही सभी सुविधाओं और योजनाओं के बारे में शिक्षित करते हैं: काली शोहे

उन्‍होंने कहा,

  • हम वास्तव में कड़ी मेहनत करते हैं, हम घर-घर जाते हैं और स्वस्थ भारत का संदेश देते हैं और एक स्वस्थ राष्ट्र के निर्माण में मदद करते हैं. हम ग्रामीणों को सरकार द्वारा प्रदान की जा रही सभी सुविधाओं और योजनाओं के बारे में शिक्षित करते हैं.
  • इतना ही नहीं, हम आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के रूप में बच्चों और गर्भवती माताओं के स्वास्थ्य की निगरानी में मदद करते हैं. हम सुनिश्चित करते हैं कि बच्चे स्वस्थ रहें और कुपोषित न हों. यदि हम लगता हैं कि बच्चा कुपोषण से पीड़ित है, तो हम उनके परिवारों और माताओं को शिक्षित करते हैं; कभी-कभी, हम परिवारों को अस्पताल ले जाने के लिए भी मार्गदर्शन करते हैं.
  • मैं समुदाय में 12 साल से काम कर रही हूं, हमारे बीच जो बॉन्डिंग है और जो विश्वास हम साझा करते हैं वह बहुत बड़ा है. वे मुझ पर इस तरह भरोसा करते हैं कि मैं जो भी सलाह देती हूं, उसका पालन करती हूं. यह कोई आसान काम नहीं था, लेकिन कड़ी मेहनत, निरंतर समर्पण के साथ, मैंने इसे हासिल किया है.

15. अंत में, 35 वर्षीय निशा चौबीसा भी स्वतंत्रता दिवस के विशेष शो में शामिल हुईं. निशा अपने गांव के भिंडर ब्लॉक के मजावाड़ा में एक आशा कार्यकर्ता के रूप में कार्यरत हैं, उन्होंने परिवार नियोजन और गर्भ निरोधकों के बारे में जागरूकता पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. वर्ष 2019 में, उनके जुनून और प्रयासों ने उन्हें आउटलुक पोशन अवार्ड्स में पोषण योद्धा पुरस्कार जीतने के लिए प्रेरित किया.

अमिताभ बच्चन के साथ स्वतंत्रता दिवस स्‍पेशल: स्वस्थ भारत के निर्माण में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है

पहले फैमिली प्‍लानिंग, कॉन्‍ट्रासेप्टिव इस पर खुलकर चर्चा नहीं होती थी, लेकिन धीरे-धीरे शिक्षा और जागरूकता की शक्ति से बदलाव आया है: निशा चौबीसा

अपने काम के बारे में बताते हुए और अपने गांव में आए बदलाव पर उन्‍होंने कहा,

  • पहले मेरे गांव के लोगों को परिवार नियोजन के बारे में और इसका क्या मतलब होता है, इसकी कोई जानकारी नहीं थी. उन्होंने गर्भ निरोधकों के बारे में कभी नहीं सुना था और इसलिए कभी इनका इस्तेमाल नहीं किया.
  • मैंने उन्हें समझाया कि इसे कैसे उपयोग करना है और इसके क्‍या लाभ हैं. साथ ही शिक्षित महिलाओं और पुरुषों दोनों को दो बच्चों के जन्म के बीच के अंतर समझने की आवश्यकता है.
  • पहले परिवार नियोजन, गर्भ निरोधकों के विषय पर इस पर खुलकर चर्चा नहीं होती थी, लेकिन धीरे-धीरे शिक्षा और जागरूकता की शक्ति से बदलाव आया है.

आशा कार्यकर्ताओं के बारे में

आशा (जिसका अर्थ हिंदी में उम्‍मीद है) मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता के लिए एक संक्षिप्त शब्द है. आशा, 2005 से ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल, विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों के लिए, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) की सहायता करने वाली जमीनी स्तर की स्वास्थ्य कार्यकर्ता हैं. देश में 10 लाख से अधिक आशा वर्कर हैं. मई 2022 में, विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉ टेड्रोस अदनोम घेब्रेयसस ने आशा कार्यकर्ताओं को समुदाय को स्वास्थ्य प्रणाली से जोड़ने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका के लिए सम्मानित किया, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि रूरल पॉवर्टी में रहने वाले लोग प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं तक पहुंच सकें, जैसा कि पूरे COVID-19 महामारी के दौरान दिखाई दिया. भारत की आशा डब्ल्यूएचओ महानिदेशक के ग्लोबल हेल्थ लीडर्स अवार्ड के छह प्राप्तकर्ताओं में से हैं. अवॉर्ड सेरेमनी 75वें वर्ल्ड हेल्थ असेंबली के लाइव-स्ट्रीम्ड हाई लेवल ओपनिंग सेशन का हिस्सा था.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=