Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

Van Mahotsav 2022: जानिए एक सप्ताह तक चलने वाले वन महोत्सव के बारे में जरूरी बातें

Van Mahotsav: वार्षिक वृक्षारोपण उत्सव के हिस्से के रूप में, पूरे देश में सरकारी संगठनों, नागरिक निकायों से लेकर व्यक्तियों द्वारा हजारों पेड़ लगाए जाते हैं

Read In English
Van Mahotsav 2022: A Week-Long Forest Festival, Here’s All You Need To Know
भारत में हर साल जुलाई के पहले हफ्ते में वन महोत्सव मनाया जाता है

नई दिल्ली: क्या आप जानते हैं कि वन हमारे ग्रह के लगभग 31 प्रतिशत भूमि क्षेत्र को कवर करते हैं? संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि लुप्त जंगलों का मतलब ग्रामीण समुदायों में आजीविका का गायब होना, कार्बन उत्सर्जन में वृद्धि, जैव विविधता में कमी और भूमि का क्षरण है. वनों, विशेष रूप से पेड़ों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए, भारत हर साल जुलाई के पहले सप्ताह में वन महोत्सव या वन महोत्सव मनाता है. वार्षिक वृक्षारोपण उत्सव के हिस्से के रूप में, पूरे देश में सरकारी संगठनों, नागरिक निकायों से लेकर व्यक्तियों तक विभिन्न हितधारकों द्वारा हजारों पेड़ लगाए जाते हैं.

वन महोत्सव मनाने के पीछे का उद्देश्य स्थानीय लोगों को वृक्षारोपण अभियान में शामिल करना और पर्यावरण जागरूकता फैलाना है.

वन महोत्सव पर्यावरणविद् और केंद्रीय कृषि और खाद्य मंत्री (1952-53) कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी के दिमाग की उपज है. 1950 में, उन्होंने वन महोत्सव के तहत क्षेत्र को बढ़ाने और वन संरक्षण और पेड़ लगाने के लिए जनता के बीच उत्साह पैदा करने के लिए वन महोत्सव की शुरुआत की. यह महोत्‍सव भारत के विभिन्न राज्यों में एक साथ मनाया जाता था.

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने सोमवार (27 जून) को कहा कि दिल्ली सरकार 11 जुलाई से 15 दिवसीय मेगा वृक्षारोपण अभियान शुरू करेगी. वन महोत्सव 11 जुलाई को सेंट्रल रिज से शुरू होगा और 25 जुलाई को असोला भट्टी माइंस में 1 लाख पौधारोपण कर समाप्त होगा. उन्होंने कहा इस वर्ष 35 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य है.

2 जुलाई से दिल्ली सरकार कमला नेहरू रिज पर औषधीय पौधे लगाएगी और पौधे मुफ्त में भी बांटेगी.

भारत सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध के साथ वन महोत्सव शुरू करेगा

भारत में 1 जुलाई से 19 सिंगल-यूज प्लास्टिक वस्तुओं पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. एक सरकारी अधिसूचना के अनुसार, पॉलीस्टाइनिन और विस्तारित पॉलीस्टाइनिन सहित सिंगल यूज प्‍लास्टिक का निर्माण, आयात, स्टॉकिंग, वितरण, बिक्री और उपयोग, वस्तुओं को प्रतिबंधित किया जाएगा. इन चीजों पर लगा है बैन:- इयर बड, प्लास्टिक स्टिक, प्लास्टिक के झंडे, कैंडी की स्टिक, आइसक्रीम की स्टिक, सजावट के लिए पॉलीस्टाइनिन (थर्मोकोल) के साथ प्लेट, कप, गिलास, कटलरी जैसे कांटे, चम्मच, फोक, ट्रे, मिठाई के बॉक्‍स, इंवीटेशन कार्ड, और सिगरेट के पैकेट, प्लास्टिक या पीवीसी बैनर 100 माइक्रोन से कम के, और स्टिरर.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts