Connect with us

बेहतर भविष्य के लिए रेकिट की प्रतिबद्धता

स्वस्थ भारत के लिए लोक संगीत: लॉन्च की गई स्वच्छता पर भारत की पहली म्यूजिक एल्बम

स्वच्छता पर भारत के पहले संगीत एल्बम के हिस्से के रूप में रईस खान प्रोजेक्ट ने बनेगा स्वस्थ भारत के लिए लोक गीतों की रचना की है

Read In English
परिवर्तन के लिए लोक संगीत: लॉन्च की गई स्वच्छता पर भारत की पहली म्यूजिक एल्बम

‘हाथ थे भी धोवो, मैं भी धोवां, साबुन पानी सूं हाथ धोवां, निरोग बनाओ म्‍हारो राजस्थान ना’ (तुम अपने हाथ धो लो, मैं भी अपना धोऊंगा, अपने हाथ साबुन और पानी से धोओ, चलो हमारे राजस्थान को स्वस्थ बनाते हैं) – ये लोगों के बीच स्वच्छता का संदेश फैलाने के उद्देश्य से रईस खान प्रोजेक्ट द्वारा रचित और गाए गए एक लोक गीत के बोल हैं. लोक गीतों में वर्तमान को अतीत से जोड़ने का एक तरीका है. लोक संगीत को हमेशा जागरूकता पैदा करने के सर्वोत्तम साधनों में से एक के रूप में जाना जाता है. राजस्थानी लोक संगीत, संगीत के ऐसे रूपों में से एक है जिसने सभी बाधाओं को तोड़ दिया है और उम्र, जाति, लिंग, नस्ल या भाषा की परवाह किए बिना दुनिया भर में लाखों लोगों के दिलों पर कब्जा कर लिया है.

राजस्थान और देशभर के बच्चों तक म्‍यूजिक के जरिए पहुंचने और उन्हें स्वच्छता और शिक्षा के साथ मज़ेदार तरीके से जोड़ने के उद्देश्य से, डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया ने रईस खान प्रोजेक्ट के साथ सहयोग किया है.

इस सहयोग के तहत, रईस खान परियोजना ने स्वच्छता पर भारत के पहले म्‍यूजिक एल्बम की रचना की है, जिसमें पांच लोक गीत शामिल हैं. इसे राजस्थान दिवस से पहले मंगलवार को 29 मार्च के दिन लॉन्च किया गया. म्‍यूजिक एल्बम को राज्य के शिक्षा मंत्री डॉ. बुलाकी दास कल्ला की उपस्थिति में लॉन्च किया गया था. लॉन्च के दौरान डॉ दास ने कहा,

डेटॉल और रईस खान प्रोजेक्ट लोक संगीत स्वच्छता के संदेश को फैलाने का एक अनूठा तरीका है. राजस्थान की संगीत विरासत को स्वास्थ्य और स्वच्छता के उत्थान में इतना बड़ा योगदान देते हुए देखना वास्तव में गर्व की बात है.

यह उम्‍मीद है कि ‘स्वस्थ भारत’ के अंतिम लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए बच्चे इन गीतों को आसानी से समझ लेंगे और अपने दैनिक जीवन में इन गीतों के संदेश को आत्मसात कर लेंगे. गौरव जैन, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, रेकिट – दक्षिण एशिया ने इस बात पर प्रकाश डाला कि कला और संगीत शक्तिशाली उपकरण हैं, जो बड़े पैमाने पर सामाजिक परिवर्तन ला सकते हैं और लोगों को अच्छी प्रथाओं को अपनाने के लिए प्रेरित कर सकते हैं. उन्होंने कहा,

हम संगीत को दर्शकों से जुड़ने और स्वास्थ्य और स्वच्छता पर प्रभावी ढंग से सामाजिक संदेश देने के माध्यम के रूप में देख रहे हैं. रईस खान परियोजना के साथ हम सेल्‍फ केयर हाइजीन प्रेक्‍ट‍िसेज पर ध्यान केंद्रित करके एक स्वस्थ देश बनाने के अपने प्रयास में राजस्थान की समृद्ध विरासत और लोक संगीत को भारत भर के बच्चों तक ले जा रहे हैं. यह पहल ‘लीव नो वन बिहाइंड’ के मिशन की ओर रेकिट की ओर से एक और कदम है.

रवि भटनागर (निदेशक – विदेश और भागीदारी एसओए, रेकिट) के अनुसार, सांस्कृतिक प्रथाओं में संदेशों को सावधानीपूर्वक एकीकृत करने पर सामाजिक परिवर्तन तेज गति से हो सकता है. उन्होंने कहा,

हम स्वच्छता को एक संस्कृति बनाना चाहते हैं. लोक कला और गीतों का उपयोग सिर्फ एक आकर्षक माध्यम है, बल्कि एक स्थान की संस्कृति में भी निहित है. हमें बहुत गर्व है कि रईस खान प्रोजेक्ट डेटॉल बनेगा स्वस्थ भारत के स्वच्छ, स्वस्थ राजस्थान और भारत के एजेंडे का समर्थन कर रहा है.

स्वच्छता लोक गीत

मधुर और फुट टैपिंग लोक गीतों का उद्देश्य स्वच्छता और स्वास्थ्य के संदेश को एक अभिनव और मजेदार तरीके से फैलाना है. गाने के बोल डेटॉल स्कूल हाइजीन करिकुलम से तैयार किए गए हैं. हर गाना मधुर होने के साथ-साथ एक मजबूत संदेश भी देता है. उस्ताद रईस खान, पेशेवर तालवादक और लोक संगीतकार, राजस्थान ने कहा,

संगीत एक सशक्त माध्यम है. यह हमें लोगों से जुड़ने में मदद करता है. हमारे राज्य और राष्ट्र के बच्चों को स्वच्छता की सकारात्मक आदतें अपनाने और स्वस्थ रहने में मदद करने के लिए हमारे संगीत की शक्ति का उपयोग करना सबसे संतुष्टिदायक है. इसे हकीकत बनाने के लिए हम डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया के आभारी हैं.

‘निरोग बनाओ राजस्थान’: आइए राजस्थान को स्वस्थ बनाएं

यूनिसेफ के अनुसार, विश्व स्तर पर कुपोषण के 50 प्रतिशत तक मामले अपर्याप्त पानी, स्वच्छता और स्वच्छता के कारण होते हैं. इसमें आगे कहा गया है कि शौचालय जाने के बाद या खाने से पहले हाथ धोने की सरल क्रिया से बच्चों को दस्त होने का खतरा 40 प्रतिशत से अधिक कम हो सकता है. स्वस्थ समुदाय की कुंजी स्वच्छता के संदेश के साथ, रईस खान प्रोजेक्‍ट अपने गीत ‘निरोग बनाओ राजस्थान’ के जरिए लोगों से साबुन और पानी से हाथ धोने और हाथ की स्वच्छता को अपने जीवन का हिस्सा बनाने का आह्वान करती है.

  • गीत : ‘निरोग बनाओ राजस्‍थान’: आइए राजस्थान को स्वस्थ बनाएं
  • संगीत, बोल, कंपोजिशन, गायन : रईस खान प्रोजेक्‍ट

गाने के बोल जानने के लिए यहां क्लिक करें

‘सौ बीमारियां सूं बचण रे तरीके’: हाथ धोने का महत्व

हाथ धोने के संदेश को और आगे ले जाते हुए रईस खान प्रोजेक्ट का यह गाना हाथ धोने का सही तरीका बताता है. गीत लोगों को गीले हाथों पर साबुन लगाने और 20 सेकंड के लिए ठीक से रगड़ने, एक साफ तौलिये का उपयोग करके साफ और सूखा पोंछने के लिए कहता है. यह इस बात पर प्रकाश डालता है कि हाथ धोने से व्यक्ति निमोनिया, डायरिया, कोविड जैसी कई बीमारियों से खुद को बचा सकता है.

  • गीत : 'सौ बीमारियां सूं बचण रे तरीके': हाथ धोने का महत्व
  • संगीत, बोल, कंपोजिशन, गायन : रईस खान प्रोजेक्‍ट

गाने के बोल जानने के लिए यहां क्लिक करें

‘सुंदर घरना साफ रखें’: घर में साफ-सफाई

घरों को स्वच्छ रखने की प्रथा कितनी महत्वपूर्ण है, इस संदेश के साथ, यह गीत लोगों को अपने घरों को साफ रखने, कोई भी भोजन तैयार करने से पहले हाथ धोने, खाने-पीने के पानी को ढक कर रखने, शौचालय का उपयोग करने के बाद और पालतू जानवरों के साथ खेलने के बाद हाथ धोने की याद दिलाता है.

  • गीत : 'सुंदर घरना साफ रखें': घर में साफ-सफाई
  • संगीत, बोल, कंपोजिशन, गायन : रईस खान प्रोजेक्‍ट

गाने के बोल जानने के लिए यहां क्लिक करें

‘स्कूल कूल’: स्कूल में स्वच्छता

स्कूल में स्वच्छता बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे बच्चों के बीमार पड़ने का खतरा कम होता है. रईस खान प्रोजेक्ट, अपने गीत ‘स्कूल कूल’ के माध्यम से यह बताते हैं कि एक स्वच्छ विद्यालय बहुत अच्छा है. वे बच्चों से डेटॉल उत्पादों से नियमित रूप से हाथ धोने का आग्रह करते हैं.

  • गीत : 'स्कूल कूल': स्कूल में स्वच्छता
  • संगीत, बोल, कंपोजिशन, गायन : रईस खान प्रोजेक्‍ट

गाने के बोल जानने के लिए यहां क्लिक करें

‘आस पास में सफाई रखो: पड़ोस में स्वच्छता

स्वच्छता एल्बम का पांचवां ट्रैक पड़ोस में स्वच्छता बनाए रखने पर केंद्रित है. गीत पर्यावरण को स्वस्थ बनाने के लिए पेड़ लगाने की भी बात करता है. यह बच्चों से यह सुनिश्चित करने का आह्वान करता है कि वे कूड़ेदान का उपयोग करें और अपने आसपास कचरा न डालें.

  • गीत : 'आस पास में सफाई रखो: पड़ोस में स्वच्छता
  • संगीत, बोल, कंपोजिशन, गायन : रईस खान प्रोजेक्‍ट

गाने के बोल जानने के लिए यहां क्लिक करें

(लेखकों के बारे में: रवि भटनागर रेकिट के विदेश मामलों और साझेदार SOA के निदेशक हैं और ऋचा शुक्ला एक शिक्षाशास्री हैं)

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=