Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

महिलाओं और बच्चों में कुपोषण से कैसे निपटा जाए? जानिए यूनिसेफ इंडिया के न्यूट्रिशन प्रमुख से

यूनिसेफ इंडिया के न्यूट्रिशन चीफ अर्जन डे वाग्त ने पोषण की कमी से निपटने में व्यक्तिगत प्रयासों के महत्व पर जोर दिया. उन्होंने बच्चों में कुपोषण के प्राथमिक कारणों में से एक स्टंटिंग और महिलाओं में एनीमिया के बारे में बात की.

Read In English
How To Combat Malnutrition Among Women And Children? Chief Of Nutrition, UNICEF India Speaks
न्यूट्रिशन सेक्शन के प्रमुख, यूनिसेफ, अर्जन डे वाग्त, ने महिलाओं और बच्चों में पोषण की कमी और एनीमिया से निपटने के लिए आवश्यक कारणों, संकेतकों, प्रभावों और संभावित हस्तक्षेपों के बारे में विस्तार से बताया.

नई दिल्ली: भारत में कुपोषण ने मौजूदा न्यूट्रिशन और हेल्थ प्रोग्राम के भीतर प्राथमिकता वाले कार्यों का आह्वान किया है. सभी इंडिकेटर्स में, स्टंटिंग (उम्र के हिसाब से कम लंबाई), बच्चों में कुपोषण और महिलाओं में एनीमिया के प्राथमिक लक्षणों में से एक है. एनडीटीवी से बात करते हुए यूनिसेफ इंडिया के न्यूट्रिशन प्रमुख अर्जन डे वाग्त ने महिलाओं और बच्चों के बीच पोषण की कमी और एनीमिया से निपटने के लिए आवश्यक कारणों, संकेतकों, प्रभावों और संभावित हस्तक्षेपों के बारे में विस्तार से बात की.

NDTV: स्टंटिंग कैसे बच्चों में पोषण की कमी के प्राथमिक संकेतकों में से एक बनी हुई है?

अर्जन डे वाग्त: स्टंटिंग का मूल रूप से मतलब है जब कोई बच्चा लंबाई में पर्याप्त रूप से नहीं बढ़ता है. यह रातोंरात नहीं होता है; बल्कि, यह लंबे समय तक विकास का संकेतक है. नेशनल हेल्थ फैमिली सर्वे (एनएफएचएस-5) के मुताबिक, भारत में हर तीन में से एक बच्चा स्टंटेड यानी कि आविकसित है. इसके अलावा, सिर्फ शरीर ही नहीं है जो अच्छी तरह से विकसित नहीं होता है, बल्कि बच्चे का इम्यून सिस्टम भी प्रभावित होता है. ऐसे बच्चे कमजोर इम्यून सिस्टम के कारण बीमारी के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं. इसके अलावा, पोषण की कमी भी मस्तिष्क के विकास में देरी करती है और खराब कॉग्निटिव परफॉर्मेंस की ओर ले जाती है. हमने देखा है कि पहले तीन वर्षों में, मस्तिष्क को अपने पर्याप्त आकार में बढ़ने के लिए उचित पोषण की आवश्यकता होती है, अन्यथा, एक बच्चे का मस्तिष्क अविकसित होता है, जिसका आगे लम्बे समय तक प्रभाव पड़ता है.सबसे अच्छा निवेश माता-पिता अपने बच्चों को स्वास्थ्य के बारे में शिक्षित करके कर सकते हैं और उन्हें पौष्टिक भोजन खिला सकते हैं, खासकर उनके प्राथमिक वर्षों में. यदि उन्हें ठीक से नहीं खिलाया जाता है, तो इसके प्रभाव अपरिवर्तनीय होते हैं. बहुत से बच्चे छह साल की उम्र में स्कूल जाते हैं, लेकिन उनमें से कुछ के लिए, उनका दिमाग पूरी तरह से विकसित नहीं होता है, जैसा कि अन्य बच्चों की तुलना में किसी विशेष स्थिति या प्रश्न के प्रति उनकी प्रतिक्रियाओं से स्पष्ट होता है.हम हमेशा कहते हैं कि बच्चे के जीवन के पहले दो साल और गर्भावस्था के पहले 1000 दिन महत्वपूर्ण होते हैं. हमें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि अपेक्षित मां और बच्चे को पर्याप्त रूप से भोजन खिलाया जाए.

इसे भी पढ़ें: सबके लिए पर्याप्त भोजन है, बस उस तक पहुंच जरूरी है: संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट कोऑर्डिनेटर शोम्बी शार्प

NDTV: भारत में खाद्य नीतियों की क्या स्थिति है?

अर्जन डे वाग्त: भारत में अच्छी तरह से डिजाइन किए गए तकनीकी दृष्टिकोण के साथ बहुत अच्छी खाद्य नीतियां और कार्यक्रम हैं. इसलिए, देश जानता है कि क्या करना है, लेकिन चुनौती यह है कि क्या ये नीतियां और कार्यक्रम हर जरूरतमंद व्यक्ति के लिए सुलभ हैं.

NDTV: हम महिलाओं और बच्चों के पोषण स्तर को कैसे सुधार सकते हैं?

अर्जन डे वाग्त: भारतीय दृष्टिकोण से, चार श्रेणियां बेहद ज़रूरी हैं:

आहार: सभी पोषक तत्वों से युक्त संतुलित भोजन महत्वपूर्ण है. यह साबुत अनाज, पौधे और पशु आधारित प्रोटीन का एक संयोजन होना चाहिए, जिसमें दाल, पत्तेदार सब्जियां, नट्स, विटामिन, फलों और सुपरफूड से भरपूर भोजन शामिल हैं. बच्चों, गर्भवती और नई माताओं को सभी पोषक तत्वों से युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए. हमें वयस्कों, विशेष रूप से मां को, उपलब्ध भोजन का उपयोग करने के तरीके के बारे में शिक्षित करने की आवश्यकता है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि बच्चे को उस छोटे से पेट में अधिकतम मात्रा में पोषक तत्व मिले.

ग्रोथ मॉनिटरिंग: हमें यह निर्धारित करने के लिए एक गर्भवती मां और एक नई मां के विकास की देखरेख करने की जरूरत है कि क्या वह खुद के और शिशु के खानपान के लिए पर्याप्त वजन प्राप्त कर रही है. पांच साल से कम उम्र के बच्चों के खान-पान पर नज़र रखने की ज़रूरत है. हमें हर महीने उनके वजन की जांच करने की जरूरत है, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे अच्छी तरह से बढ़ रहे हैं.

एनीमिया को संबोधित करें: हमें भारतीय महिलाओं के बीच एनीमिया के मुद्दे को संबोधित करने की ज़रूरत है. एनीमिया के कई कारण हैं, जिनमें आयरन, फोलेट, विटामिन की कमी आदि शामिल हैं. इसके शारीरिक, सामाजिक और आर्थिक परिणाम हो सकते हैं क्योंकि इससे थकान, तनाव, कम प्रोडक्टिविटी, क्रोनिक एनीमिया और बहुत कुछ होता है. एक गर्भवती माँ को उसके और उसके बच्चे के स्वास्थ्य का समर्थन करने के लिए दैनिक आधार पर आयरन के अधिक सेवन की आवश्यकता होती है. इसकी कमी से मातृ मृत्यु दर का खतरा बढ़ जाता है.

इसे भी पढ़ें: महामारी से सीख: मिलिए मध्य प्रदेश की कृष्णा मवासी से, जिनके किचन गार्डन ने उनके गांव को भुखमरी से बचाया

NDTV: भारतीय महिलाओं में एनीमिया: केंद्र का “एनीमिया मुक्त भारत” कार्यक्रम इससे निपटने में कैसे मदद कर सकता है?

अर्जन डे वाग्त: एनीमिया, जिसे लो हीमोग्लोबिन भी कहा जाता है, को रक्त को पर्याप्त रूप से मजबूत बनाने के लिए सही प्रकार के पोषक तत्वों की कमी के रूप में परिभाषित किया जा सकता है. शरीर के ऊतकों तक पर्याप्त ऑक्सीजन ले जाने के लिए पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होती है.

एनीमिया में आप कमजोर और थका हुआ महसूस करते हैं, और आप अच्छी तरह से ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते हैं. हमने सबसे अधिक संख्या में भारतीय महिलाओं को इससे पीड़ित देखा है, लेकिन कई उपायों के साथ इसका मुकाबला किया जा सकता है.महिलाओं के लिए आयरन और फोलिक एसिड की खुराक का सेवन एक आवश्यक कारक है. यह किशोरों और बच्चों के लिए भी फायदेमंद है. साथ ही संतुलित आहार भी इसका महत्वपूर्ण कारक है, लेकिन लोग इससे अनजान हैं. उन्हें लगता है कि चावल और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर अन्य खाद्य पदार्थ खाने से सेहतमंद हुआ जा सकता है.

एनीमिया को रोकने के लिए सूक्ष्म पोषक तत्वों और फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करने की आवश्यकता है.पोषण संबंधी साक्षरता भी एनीमिया से लड़ने में मदद कर सकती है, लेकिन भारत में यह अभी भी बहुत कम है. एक पोषण विशेषज्ञ के रूप में, मैं चाहता हूं कि कार्यक्रमों को तैयार करने में जिस तरह का निवेश किया जाता है, वह पोषण साक्षरता को बढ़ावा देने के लिए समान हो, ताकि लोगों को यह समझने में मदद मिल सके कि स्वस्थ भोजन में क्या शामिल होना चाहिए. पौष्टिक भोजन महंगा होना जरूरी नहीं है, लेकिन आपको यह जानना होगा कि इसका लाभ कैसे उठाया जाए.भारत सरकार के “एनीमिया मुक्त भारत” कार्यक्रम की बात करें तो यह छह हस्तक्षेपों का सुझाव देता है.

इसे भी पढ़ें: एनडीटीवी-डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया सीजन 9- ‘लक्ष्य, संपूर्ण स्वास्थ्य का’ के बारे में जरूरी बातें

यह मानता है कि एनीमिया को रोकने के लिए कोई मैजिक बुलेट नहीं है, लेकिन इसके लिए कई उपायों की ज़रूरत होती है. आयरन और फोलिक एसिड सप्लीमेंट के सेवन के अलावा, आविष्कारों में डीवर्मिंग, डिजिटल तरीकों से एनीमिया का परीक्षण, फूड फोर्टिफिकेशन, एनीमिया के गैर-पौष्टिक कारणों को एड्रेस करना, और गहन व्यवहार परिवर्तन संचार अभियान शामिल हैंखाद्य फोर्टिफिकेशन एक और महत्वपूर्ण घटक है.

लोगों को नियमित भोजन के सेवन को अधिक पौष्टिक बनाने की जरूरत है. केंद्र सरकार ने दिशा-निर्देश जारी किए हैं और एकीकृत बाल विकास सेवा (आईसीडीएस) और मध्याह्न भोजन (एमडीएम) सहित अन्य योजनाओं द्वारा परोसे जाने वाले खाद्य पदार्थों में फोर्टिफाइड नमक, गेहूं का आटा और तेल का उपयोग अनिवार्य कर दिया है.पिछले कुछ वर्षों में, हमने एनीमिया मुक्त भारत कार्यक्रम के बारे में जागरूकता में वृद्धि देखी है.

कई राज्यों में लगभग 40-50 प्रतिशत सुधार देखा गया, खासकर किशोरों के बीच. हालांकि, हमें अधिक लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है, लेकिन अक्सर ऐसा होता है कि जिन लोगों को आवश्यक खाद्य पदार्थों और पूरक आहार की सबसे अधिक आवश्यकता होती है, उन तक आखिर में यह पहुंच ही जाते हैं.

 

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=