Connect with us

मानसिक स्वास्थ्य

ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी से जानिए कोविड के दौरान भावनात्मक स्वास्थ्य का महत्व

बनेगा स्वस्थ इंडिया टीम ने भावनात्मक स्वास्थ्य के महत्व को समझने के लिए ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी से बात की और विशेष रूप से चल रही महामारी जैसे संकट की स्थिति के दौरान इसकी अहमियत को समझा

Read In English
How To Ensure Emotional And Mental Well-being During COVID-19? Expert Answers

मानसिक स्वास्थ्य भावनात्मक, मनोवैज्ञानिक और शारीरिक कल्याण के बीच की कड़ी है. COVID-19 महामारी और उसके बाद के लॉकडाउन के परिणामस्वरूप परिवार और दोस्तों से अलगाव हो गया है. लोगों के बीच बढ़ी हुई शारीरिक दूरी और बीमारी के प्रकोप ने अधिक से अधिक लोगों को असहायता, अलगाव, दु: ख, चिंता और अवसाद की भावनाओं का अनुभव करने के लिए प्रेरित किया है. ऐसे कठिन समय में, अच्छा भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य सुनिश्चित करना पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है. लेकिन जब इतना दुख और निराशा है, तो शांत कैसे रहें? बनेगा स्वस्थ इंडिया टीम ने भावनात्मक स्वास्थ्य के महत्व को समझने के लिए ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी से बात की और विशेष रूप से चल रही महामारी जैसे संकट की स्थिति के दौरान इसकी अहमियत को समझा. पेश हैं इंटरव्यू के कुछ अंश.

सवाल: हम शारीरिक स्वास्थ्य के बारे में बात करते हैं, लेकिन इस अभूतपूर्व समय में हम अपने भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए क्या कर सकते हैं?

ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी: हमें यह समझने की जरूरत है कि भावनात्मक स्वास्थ्य क्या है. भावनात्मक स्वास्थ्य से हमारा तात्पर्य परिस्थितियों से मुकाबला करने के हमारे कौशल से है. अगर हम COVID से पहले अपने भावनात्मक स्वास्थ्य को देखें, यदि हम मानते हैं कि तनाव, चिंता, क्रोध, भय स्वाभाविक है, तो हम COVID से पहले भी सर्वश्रेष्ठ भावनात्मक स्वास्थ्य की स्थिति में नहीं थे. और फिर एक स्थिति आई जहां हमने अपने दिमाग को यह कहने दिया कि डर और चिंता आम बात है. हम असहज भावनाओं को सामान्य नहीं कह सकते. यह किसी बीमारी को सामान्य कहने जैसा है. तनाव, गुस्सा या चिंता सामान्य चीजें नहीं है. इसका असर शरीर पर भी दिखाई देता है. जब हम इनमें से कोई भी भावना से ग्रस्‍त होते हैं, तो शरीर भी नाड़ी, हाथों का पसीना, आपको मतली जैसे लक्षण दिखाना शुरू कर देता है. यानी ये भावनाएं सामान्य नहीं हैं. तो, सबसे महत्वपूर्ण बात भावनात्मक स्वास्थ्य के मुद्दों की पहचान करना है. यहां तक कि अगर मेरे पास मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे नहीं हैं, तो मुझे भावनात्मक स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा ताकि कभी भी मेरा मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित न हो. भावनात्मक स्वास्थ्य का अर्थ है हम जो महसूस कर रहे हैं उसके लिए लोगों और परिस्थितियों को दोष देना. हर विचार, शब्द, व्यवहार की जिम्मेदारी लेना, क्योंकि हम अपने विचारों और भावनाओं के निर्माता हैं. हम यह नहीं कह सकते कि सिर्फ स्थिति कठिन है इसलिए वे विचार सामान्य हैं.

सवाल: जब से महामारी शुरू हुई है, तब से हर आयु वर्ग में चिंता बढ़ने की खबरें आ रही हैं. शांत रहना अक्सर मुश्किल होता है. ऐसे में मानसिक तनाव से कैसे निपटें?

ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी: एक सरल फॉर्मूला है – तनाव, लचीलेपन से विभाजित दबाव के बराबर है. इसलिए हमें समीकरण ठीक करने की जरूरत है. दबाव वह स्थिति है जो हर किसी पर अलग-अलग होता है. बच्चे को परीक्षा से दबाव हो सकता है या ट्रैफिक जाम से, COVID हो सकता है, या हो सकता है कि हम बीमारी से गुज़र रहे हों, दबाव यह हो सकता है कि हमने किसी को खो दिया है. दबाव का मतलब है कि मेरे जीवन में मेरे साथ क्या हो रहा है, लेकिन तनाव दबाव के बराबर नहीं है. तनाव लचीलापन से विभाजित दबाव है. लचीलेपन का अर्थ है आंतरिक शक्ति. इसलिए, हमें डिनामनेटर का निर्माण शुरू करने की आवश्यकता है. हम केवल किसी हिस्‍से को दोष नहीं दे सकते. न्यूमरेटर का निर्माण करें, क्योंकि यही वह जगह है जहां शक्ति निहित है. इसलिए, यदि हम सरल कदम उठाते हैं, जैसे, दिन की शुरुआत दुनिया के बारे में जानने और सुनने से न करें. सुबह-सुबह, मन को शुद्ध और सकारात्मक सामग्री से पोषण दें, आध्यात्मिकता का अध्ययन, कुछ भी सकारात्मक जो हमें पसंद है का रूख करें. रोज़ाना 30-40 मिनट का ध्यान करें. सोने से कम से कम 15-20 मिनट पहले इसे दोहराएं. क्योंकि ये भावनात्मक स्वास्थ्य पर गहरा असर डालते हैं. यह अभ्यास करना शुरू करें कि लोग और परिस्थितियां मेरी भावनाओं का निर्माण नहीं करती हैं; मैं विधाता हूं. अगर हम गुस्से जैसी साधारण सी बात को लें, तो इसका COVID से कोई लेना-देना नहीं है. तो, हमें गुस्सा आ रहा है क्योंकि लोग हमारे तरीके से व्यवहार नहीं कर रहे हैं या काम नहीं कर रहे हैं? बस इस बात का ख्याल रखना शुरू कर दें कि आप इन स्थितियों पर प्रतिक्रिया न दे रहे हों. इसे आसानी और गरिमा के साथ हैंडल करें. यदि हम इतना ही करते हैं, तो हम भावनात्मक स्वास्थ्य और मन की ऊर्जा का संरक्षण कर रहे हैं. अगर हम इस ऊर्जा का संरक्षण करना शुरू कर दें, तो यह भावनात्मक स्वास्थ्य बेहतर होने लगेगा, भय और चिंता कम होने लगेगी.

सवाल: जब परिवार में कोई व्यक्ति COVID-19 पॉजिटिव हो जाता है, तो यह एक चुनौतीपूर्ण और तनावपूर्ण स्थिति बन जाती है. जब व्‍यक्ति COVID से ठीक हो गया हो, तब वह सहज और शांत कैसे रह सकता है?

ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी: सबसे पहले, हमें शब्दावली बदलने की जरूरत है. चुनौती और तनाव का कोई संबंध नहीं है. जीवन में कोई संकट न आने पर भी लोग तनाव में आ सकते हैं; इसलिए, दो चीजों की बराबरी न करें. हां, पिछले कुछ सप्ताह चुनौतीपूर्ण रहे, क्योंकि लगभग हर परिवार के एक सदस्य को कोविड हुआ है और दूसरे ने सबकुछ अपने आप मैनेज किया. अब, चुनौती खत्म हो गई है, क्योंकि व्यक्ति ठीक हो गया है. अब मुझे यह समझने की जरूरत है कि मेरा मन जो रोज पोषित और सक्रिय नहीं हो रहा था, उसे अब हर दिन एक चुनौती का सामना करना पड़ रहा था. यह ऐसा है जैसे आप अच्छा खाए बिना कड़ी मेहनत कर रहे हैं तो, शरीर कब तक संभालेगा? एक दिन अपने आप टूट जाएगा. मन के साथ भी ऐसा ही हो रहा है. हमने सोचा कि मन की देखभाल के लिए हमें कुछ नहीं करना है, मन को अपने आप प्रतिक्रिया देनी चाहिए. यह रोजाना प्रशिक्षण के बिना मैराथन दौड़ने जैसा है. यह संकेत देना शुरू कर देगा इसलिए ध्यान रखें. अपने परिवार में इस सरल अभ्यास को दोहराएं- सुबह 30 मिनट ध्यान से शुरू करें, साथ में आध्यात्मिकता का अध्ययन करें, और योग का अभ्यास करें और इसी तरह रात में 15-20 मिनट अपने लिए रखें, जहां आप फोन और टीवी का उपयोग नहीं करते हैं. यह दुनिया को दिमाग में बसाने के लिए नहीं है, बल्कि यह सुबह और रात में स्वस्थ सामग्री का सेवन करने जैसा है.

सवाल: COVID-19 के कारण बच्चे घर पर हैं, उनकी न तो स्कूल का रूटिन होता है और न ही वे अपने दोस्तों से मिल पाते हैं. उनमें चिंता और अवसाद है. बच्चों को इस स्थिति से निपटने में कैसे मदद करें?

ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी: ये ऐसा समय है, जो वास्तव में बच्चों को भावनात्मक रूप से मजबूत बना रहे हैं, क्योंकि ये व्यावहारिक रूप से जीवन कौशल में निपुण होने जैसा है न कि सिद्धांत या एक विषय में जीवन कौशल प्राप्‍त करने जैसा. यह वास्तव में बच्चे के आंतरिक लचीलेपन का निर्माण करने वाला समय है, क्योंकि कल्पना करें कि बाहर न जाना, दोस्तों से न मिलना, घर की हर चीज का ध्यान रखना, बगीचे और रसोई में माता-पिता की मदद करना, ऐसा उन्होंने पहले कभी नहीं किया और शायद अगर ये स्थिति नहीं आती, तो वे भी ऐसा नहीं करते. केवल एक चीज जिसका हमें ध्यान रखने की जरूरत है, वह यह है कि माता-पिता उनके लिए चिंता पैदा न कर रहे हों. माता-पिता की चिंता का भी बच्चों पर प्रभाव पड़ता है. यदि माता-पिता शांत और स्थिर हैं, तो बच्चे का विकास बेहतर होता है. जब आप सुबह और रात में भावनात्मक स्वास्थ्य कौशल का अभ्यास करते हैं, तो इसमें बच्चे को शामिल करें – सुबह पांच से 10 मिनट और रात में पांच मिनट तक. फोन और टीवी के साथ भोजन न करें. विचलित भोजन न तो शरीर के लिए अच्छा है और न ही मन के लिए. खाने से पहले, पांच सेकंड का विराम लें, भगवान से जुड़ें, धन्यवाद कहें और भोजन को कुछ बहुत शक्तिशाली विचारों से सक्रिय करें जैसे मैं शक्तिशाली हूं, मैं शांत और स्थिर हूं, मैं पूर्ण और स्वस्थ हूं. हम इसे सकारात्मक पुष्टि कहते हैं. याद रखें, हम वही होते हैं जो हम खाते हैं. इसके अलावा, भोजन को बहुत हाई एनर्जी में पकाया जाना चाहिए, जिसका अर्थ है कि घर की रसोई में उच्च ऊर्जा वाले शब्द जैसे प्रार्थना और भजन पूरे दिन विशेष रूप से खाना पकाने के दौरान बजने चाहिए.

सवाल: हम हर पहलू में अनिश्चितता से घिरे हुए हैं. हाल ही में, समाचार या सोशल मीडिया देखने से भी चिंता और तनाव होता है. इस बीच, कोई कैसे शांत रह सकता है और विश्वास कर सकता है कि उज्जवल भविष्य संभव है?

ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी: हम वही होते हैं जो हम देखते, पढ़ते और सुनते हैं. यदि हमारे द्वारा उपयोग की जाने वाली सामग्री में अहंकार, वासना, ईर्ष्या, हिंसा, लालच और भ्रष्टाचार है और यदि हम उसे अवशोषित करते रहे, तो हम यही बनना शुरू कर देंगे. हमें एक समीकरण याद रखने की जरूरत है: सामग्री व्यक्तित्व के समान है और व्‍यक्तित्‍व भाग्य के बराबर है. कॉन्‍टेंट आपका भावनात्मक आहार है, अब अपना कॉन्‍टेंट खुद चुनें. अगर मैं शुद्ध सामग्री को आत्मसात कर लूं, तो मैं एक शक्तिशाली व्यक्तित्व का निर्माण करना शुरू कर दूंगा. हम केवल स्क्रॉल करते हुए नहीं कह सकते हैं, ‘ओह, यह बस टाइम पास था’. यह टाइम पास नहीं था. यह विषाक्त है. सामग्री के इस्‍तेमाल का ध्यान रखें. आपकी अधिकांश भावनाएं हल हो जाएंगी.

प्रश्न: आपने कहा है कि कम सोचना जरूरी है. क्या यह अब और भी महत्वपूर्ण हो गया है?

ब्रह्मा कुमारी बहन शिवानी: बिल्कुल, हमेशा. गुणवत्ता और मात्रा एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं. अगर हम बहुत ज्यादा सोचते हैं तो हमारी क्वालिटी प्रभावित होती है यानी हमें चिंता होती है. किसी के बारे में बुरा बोलना शुरू करें
या किसी की कमियां ढूंढना शुरू करें. आप बहुत सोचते और बोलते होंगे. किसी के बारे में कुछ अच्छा कहना शुरू करो, अपने आप आपकी क्‍वालिटी चेंज होन लगेगी. इसलिए सिर्फ क्वालिटी और क्वांटिटी पर ध्यान दिया जाता है.

सवाल: डॉक्टर आज बहुत अधिक तनाव का सामना कर रहे हैं और कठिन परिस्थितियों में लंबे समय तक काम करते हैं. उनके लिए आप कोई सलाह देना चाहेंगी?

ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी : डॉक्टरों के लिए रोजाना अपने दिमाग को पोषण देना बहुत जरूरी है. तय करें कि आप आज रात और कल सुबह क्या खाएंगे. दूसरा, सोने से पहले उन्हें दिन में जो कुछ हुआ है, उसे अपने दिमाग से निकालना होगा. डॉक्टरों को संकट और मौत का सामना करने की आदत होती है, लेकिन ऐसा कभी-कभार ही होता है, लेकिन इन दिनों वे एक ही दिन में इतना कुछ होते हुए देख रहे हैं, जो उनके दिमाग में बैठ रहा है. सोने से ठीक पहले, हमें इन सब चीजों को दिमाग से कुछ समय के लिए निकाल देना चाहिए. जिसका अर्थ है सिर्फ चिंतन करना, ध्यान करना, शायद इसे लिख लेना. डॉक्टर इलाज कर सकते हैं, वे ठीक कर सकते हैं, लेकिन वे लोगों का भाग्य नहीं लिख सकते, इसलिए उन्‍हें इसके लिए अपने मन पर कोई बोझ नहीं डालना चाहिए. उन्‍हें यह मन में बिठाना होगा कि हमने सही काम किया है. जब कोई मरीज ठीक हो जाए और आपको प्रशंसा और प्यार दें, तो उसे आत्मसमर्पण कर दें. जैसे बहुत-बहुत धन्यवाद, यह उनकी नियति थी, मैं तो केवल एक यंत्र था, और वे ठीक हो गए. वहीं, जब कुछ सही नहीं होता है, तो हमें उसे भी आत्मसमर्पण करना पड़ता है कि हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया.

सवाल: नींद की आदतों में सुधार कैसे करें. विशेष रूप से COVID के बाद?

ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी: सोने से दो घंटे पहले, काम से जुड़े कम्‍युनिकेशन से दूर रहने की जरूरत है. दिन में दिमाग बीटा या बीटा प्लस स्टेज में होता है, जिसका मतलब है कि बहुत कुछ सोचना और जब हम सोते हैं तो हम बीटा से अल्फा में जाते हैं और उल्‍फा से डेल्टा में आते हैं जो गहरी नींद से जुड़ा होता है. लेकिन अगर हम सोने से पहले बहुत कुछ सोच रहे हैं, तो हम में से कई लोग अल्फा स्टेज या डेल्टा स्टेज में नहीं जा पाते हैं और इसलिए हम कहते हैं, ‘हम सो नहीं पा रहे हैं’. सोने से दो घंटे पहले, हमें काम से जुड़ी बातचीत से दूर रहना होगा- जैसे कि हमारे पास फोन और लैपटॉप नहीं है. सोने से एक घंटे पहले, अन्य सभी संसाधनों से डिस्कनेक्ट हो जाएं, जिसका अर्थ है कि कुछ भी इस्‍तेमाल न करें, कोई भी माध्‍यम जो मन को उत्तेजित कर रहा हो, उससे दूर रहें. खासकर उन लोगों के लिए जो अभी-अभी COVID से उबरे हैं और उन्हें समस्या हो रही है, आप सोने से डेढ़ घंटे पहले अपने कमरे की रोशनी मध्‍यम कर दें. तो आपका शरीर मेलाटोनिन बनाना शुरू कर देता है, जो मस्तिष्क के लिए आवश्यक होता है. इसके अलावा, बहुत सॉफ्ट, विशेष रूप से सोने के लिए बनाया गया संगीत सुनें. इसका बाएँ और दाएँ मस्तिष्क दोनों पर गहरा प्रभाव पड़ता है और विचारों की गति धीमी हो जाती है. यदि आप परिवार से बात कर रहे हैं, तो ऐसी कोई भी बात न करें जो समस्या बन सकती है, बहस न करें, अपने दिमाग को बीटा चरण में जाने दें. आपको अपने दिमाग की गतिविधि को धीमा करना होगा. यह मस्तिष्क और शरीर के सोने में सक्षम नहीं होने के बारे में नहीं है.

सवाल: डिप्रेशन, अकेलेपन से जुड़ा हुआ है. COVID के कारण, लोग आइसोलेशन और क्वारंटाइन में रह रहे हैं. क्या इसका डिप्रेशन से कोई संबंध है?

ब्रह्मा कुमारी सिस्टर शिवानी: अकेलापन और अकेला रहना दो अलग-अलग चीजें हैं, इसलिए जब मैं क्वारंटाइन में होती हूं, तो मैं अकेली होती हूं, लेकिन मुझे अकेला होने की जरूरत नहीं है. अगर मैंने अपना रूटिन ठीक से तय कर लिया है जैसे-मेरी सुबह कैसे शुरू होगी, मैं पूरे दिन खुद को कैसे बिजी रखूंगी. मैं लोगों के साथ वीडियो कॉल करती हूं, ताकि मैं उनसे जुड़ी रहूं. अगर मैं बेहतर महसूस कर रही हूं, तो मैं ऑनलाइन प्रोग्राम करती हूं. मैं कुछ भी कर सकती हूं. मैं 14 दिन या 20 दिन से अकेली हूं, लेकिन मैं अकेली नहीं हूं. पर कभी-कभी मैं लोगों के बीच होकर भी अकेली होती हूं. अकेलापन इस बात पर निर्भर करता है कि मैं हम अंदर से कैसा महसूस कर रहे हैं. इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि हमारे आस-पास कितने लोग हैं. अगर हम हमेशा ऐसा महसूस कर रहे हैं हम अकेले हैं. तो ये जानना ज़रूरी है कि हम ऐसा क्यों महसूस कर रहे हैं, हम लोगों से जुड़ाव क्यों महसूस नहीं कर पा रहे हैं? आपको बस दिमाग को ऊर्जावान बनाना है, इससे दिमाग की कमजोरी दूर होगी. अन्य चीजों को कुछ समय के लिए रोकें और लोगों से जुड़ें. लोगों को कॉल करें. और एक चीज जो सबसे असरदार होती है वह है वीडियो कॉल.

Highlights From The 12-Hour Telethon

Leaving No One Behind

Mental Health

Environment

Join Us