NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India

ताज़ातरीन ख़बरें

भारत ने पार किया 1 अरब कोविड-19 टीकाकरण का आंकड़ा

नौ महीने बाद भारत ने 1 अरब कोविड-19 रोधी टीकाकरण का आंकड़ा पार कर लिया है

Read In English
भारत ने पार किया 1 अरब कोविड-19 टीकाकरण का आंकड़ा
Highlights
  • भारत में कोविड टीकाकरण अभियान इस साल 16 जनवरी को शुरू हुआ था
  • 75% योग्‍य आबादी पहली खुराक ले चुकी है: केंद्र
  • सरकार का लक्ष्य साल के अंत तक वयस्क आबादी का पूर्ण टीकाकरण करना है

नई दिल्ली: स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) के अनुसार, भारत ने 100 करोड़ (1 बिलियन) COVID-19 वैक्सीन खुराक देकर कोरोनावायरस के खिलाफ अपनी लड़ाई में एक बड़ा मील का पत्थर हासिल किया है. भारत ने इस साल 16 जनवरी को राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू होने के 279 दिनों के बाद गुरुवार (21 अक्टूबर) को यह उपलब्धि हासिल की है. अब तक भारत के आलावा चीन (जून में ही 1अरब से ज्यादा खुराक किया था पार)ही सिर्फ एक ऐसा देश है जिसने 1 अरब से ज्यादा कोरोना-रोधी टीकाकरण किया है. आपको बता दें कि चीन की आबादी भी 1 अरब से ज्यादा की हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने ट्विटर पर इस उपलब्धि पर देश को बधाई दी. उन्‍होंने कहा,

बधाई हो भारत! यह हमारे दूरदर्शी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व का परिणाम है.

इसे भी पढ़ें : एक्सपर्ट ब्लॉग: फूड सिस्टम में ये 8 सुधार, जनजातीय आबादी को दिला सकते हैं भरपूर पोषण

उपलब्धि के बारे में एनडीटीवी से बात करते हुए, मेदांता के अध्यक्ष और एमडी डॉ नरेश त्रेहन ने कहा,

यह एक संयुक्त उपलब्धि है. भारतीय बायोटेक फार्मेसी कंपनियों ने अच्छा काम किया है.

नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने भी इस मील के पत्थर पर भारत के लोगों और स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों को बधाई दी.

उन्होंने कहा कि भारत में टीकाकरण कार्यक्रम शुरू होने के बाद से केवल 9 महीनों में किसी भी राष्ट्र के लिए 1 अरब खुराक देना उल्लेखनीय है. यह एक उपलब्धि है.

निरंतरता की जरूरत पर जोर देते हुए, डॉ. पॉल ने बताया कि भले ही पहली खुराक 75 प्रतिशत से अधिक वयस्कों को दी गई हो, लेकिन 25 प्रतिशत वयस्क जो मुफ्त टीकाकरण प्राप्त करने के योग्य हैं, वे अभी भी अशिक्षित हैं.

उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने पहली खुराक नहीं ली है, उनका टीकाकरण करने के प्रयास आगे बढ़ने चाहिए.

देश में COVID-19 के खिलाफ टीकाकरण बढ़ाने में फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं और लोगों के प्रयासों की सराहना करते हुए, WHO दक्षिण-पूर्व एशिया की क्षेत्रीय निदेशक डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा,

एक अरब COVID-19 वैक्सीन खुराक देने के मील का पत्थर चिह्नित करने के लिए भारत को बहुत-बहुत बधाई. कम समय में यह असाधारण उपलब्धि मजबूत राजनीतिक नेतृत्व, अंतर-क्षेत्रीय अभिसरण, संपूर्ण स्वास्थ्य और फ्रंटलाइन कर्मियों के समर्पित प्रयासों और स्वयं लोगों के बिना संभव नहीं थी. भारत की प्रगति को देश की सराहनीय प्रतिबद्धता और यह सुनिश्चित करने के प्रयासों के संदर्भ में देखा जाना चाहिए कि ये जीवन रक्षक टीके विश्व स्तर पर उपलब्ध हैं.

इसे भी पढ़ें : कोविड-19 ने दशकों में विश्व भूख, कुपोषण में सबसे बड़ी वृद्धि का कारण बना है: संयुक्त राष्ट्र

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, सभी वयस्कों में से लगभग 75 प्रतिशत को टीके की पहली खुराक मिल चुकी है और केवल 31 प्रतिशत लोगों को ही दोनों खुराक दी गई हैं. आंशिक रूप से और पूरी तरह से टीकाकरण के बीच यह असमानता दुनिया में सबसे अधिक है, और एक ऐसे देश के लिए चिंता का विषय है जो पहले ही 450,000, या 4.52 लाख से अधिक लोगों की मौत देख चुका है. इस अंतर को पाटने के लिए, सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से दूसरी खुराक देने पर ध्यान केंद्रित करने का आह्वान किया है.

एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि जहां देश ने वैक्सीन की एक अरब खुराक को पार कर लिया है, वहीं कोरोना वायरस के बदलते स्वरूप और टीकों के प्रति लोगों की झिझक जैसी चुनौतियों को देखते हुए कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अभी भी एक लंबा सफर तय करना है. इनमें वैक्सीन निर्माण, वितरण से जुड़ी चुनौतियां शामिल हैं. उन्होंने लोगों से सुरक्षित रहने और महामारी को हराने के लिए पूरी तरह से टीकाकरण के साथ-साथ फेस मास्क पहनने, सामाजिक दूरी बनाए रखने और हाथों को साफ रखने जैसे उचित मानदंडों का पालन करना जारी रखने का आग्रह किया.

इसे भी पढ़ें : अवसाद और डिप्रेशन जैसे मैंटल हेल्‍थ इशू से ग्रस्‍त बच्‍चे को इस तरह हैंडल करें प‍ैरेंट्स

Highlights: Banega Swasth India Launches Season 10

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पढ़ें

This website follows the DNPA Code of Ethics

© Copyright NDTV Convergence Limited 2024. All rights reserved.