Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

Menstrual Hygiene Day 2022: मासिक धर्म स्वच्छता और सैनिटेशन के बीच संबंध

Menstrual Hygiene Day 2022: एनडीटीवी-डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया की टीम ने मासिक धर्म हाईजीन और स्वच्छता के बीच संबंध को समझने के लिए दसरा से Urban WSH (वॉटर, सैनिटेशन और हाइजीन) की एसोसिएट निदेशक परनाशा बनर्जी से बातचीत की

Read In English

नई दिल्ली: क्या आप जानते हैं कि विश्व स्तर पर 2.3 अरब लोगों के पास बुनियादी स्वच्छता सेवाओं की कमी है? यूनिसेफ के अनुसार, सबसे कम विकसित देशों में, केवल 27 प्रतिशत आबादी के पास घर में पानी और साबुन से हाथ धोने की सुविधा है. यूनिसेफ आगे कहता है कि कम आय वाले देशों में लगभग आधे स्कूलों में पर्याप्त पेयजल, स्वच्छता की कमी है जो लड़कियों और महिला शिक्षकों के लिए पीरियड् को कंट्रोल करने के लिए जरूरी है. अपर्याप्त सुविधाएं लड़कियों के स्कूल के अनुभव को प्रभावित कर सकती हैं, जिससे वे अपने पीरियड्स के दौरान स्कूल छोड़ सकती हैं. लोगों के बीच मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए 28 मई को मासिक धर्म स्वच्छता दिवस से पहले, बनेगा स्वस्थ इंडिया की टीम ने दसरा से Urban WSH (वॉटर, सैनिटेशन और हाइजीन) की एसोसिएट निदेशक परनाशा बनर्जी से बात की.

स्वच्छता, मासिक धर्म और मासिक धर्म हाईजीन के बीच संबंध

बनर्जी ने कहा,

सैनिटेशन वैल्‍यू सीरीज में समावेश हम सभी के लिए एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है और जिसमें मासिक धर्म स्वच्छता बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. निश्चित रूप से कुछ सार्वजनिक और सामुदायिक शौचालयों में मासिक धर्म स्वच्छता सुविधाओं की कमी है. यहां तक कि अगर मासिक धर्म संबंधी स्वच्छता सुविधाएं हैं, तो भी वे उन मानकों के अनुरूप नहीं हैं जिनका उपयोग महिलाएं और लड़कियां कर सकती हैं. दूसरा, निपटान पर बहुत अधिक ध्यान दिया जाता है. जैसे-जैसे आय और जागरूकता का स्तर बढ़ा है, भारत में सैनिटरी पैड का उपयोग करना शुरू कर दिया गया है. हमने देखा है कि सैनिटरी पैड पहले मील तक पहुंच चुके हैं. इसके बदले में मासिक धर्म के वेस्‍ट में वृद्धि हुई है.

इसे भी पढ़ें: जानिए मासिक धर्म स्वच्छता दिवस 2022 की थीम और महत्‍व के बारे में

मासिक धर्म स्वच्छता के निपटान को लेकर लंबे समय से बहस चल रही है. इसका निस्तारण कैसे किया जाना चाहिए? एक नियमित अपशिष्ट उत्पाद या जैव चिकित्सा अपशिष्ट के रूप में? हम जिस भी तरीके से इसका निपटान करते हैं, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि स्वच्छता कार्यकर्ता मासिक धर्म स्वच्छता वेस्‍ट के संपर्क में हैं. मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन के बारे में आगे बात करते हुए, बनर्जी ने कहा,

जब मैं सैनिटेशन वैल्‍यू सीरीज में मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन के बारे में बात करती हूं, तो हमें हमारे सेवा प्रदाताओं, स्वच्छता कार्यकर्ताओं को समझना है जो वेस्‍ट का सामना करते हैं. दूसरा, उन्‍हें भी अपनी मासिक धर्म स्वच्छता की जरूरत है. सफाई कर्मचारियों को कुछ व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) पहनना होता है. कितने सफाई कर्मचारी पीपीई पहनते हैं और वह भी पर्याप्त है या नहीं, हमने पूरी तरह से इसका पता नहीं लगाया है. हम इन सफाई कर्मचारियों की सुरक्षा को कैसे देखते हैं, जो खुद मासिक धर्म में हैं?

भारत में मासिक धर्म स्वच्छता में सुधार के लिए महत्वपूर्ण कदम

इसके बारे में बातचीत करना मासिक धर्म स्वच्छता में सुधार की दिशा में पहला और सबसे महत्वपूर्ण कदम है. बनर्जी का मानना ​​​​है कि पैडमैन जैसी बॉलीवुड फिल्मों, विभिन्न विज्ञापनों और मीडिया में मासिक धर्म के बारे में बात करने से जागरूकता और मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में लोगों की समझ और इसकी आवश्यकता में वृद्धि हुई है. हालांकि, इसके चारों ओर अभी भी एक वर्जित और सामाजिक कलंक है. उन्‍होंने कहा,

मैं अभी भी फ़ार्मेसीज़ को अखबारों और काले पॉलीथिन में लिपटे मासिक धर्म स्वच्छता उत्पादों को बेचते हुए देखती हूं. हम अभी भी अपने परिवारों में हमारे आस-पास के पुरुषों के साथ – पिता, प्रेमी और पति – मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में बात करने में असहज महसूस करते हैं. यह अभी भी एक असहज बातचीत है.

उन्‍होंने कहा, मासिक धर्म स्वच्छता उत्पादों तक पहुंच बढ़ाने की जरूरत है, सैनिटरी पैड की एक बड़ी खेप है और यह भी निपटान के मुद्दों को जन्म दे रहा है, हालांकि, सस्ते मासिक धर्म स्वच्छता उत्पाद भी हैं जो महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए ठीक हैं और उनके बारे में भी लोगों को बताने की आवश्यकता होती है.

कपड़े के मासिक धर्म पैड वास्तव में बहुत अच्छी तरह काम करते हैं और वे फंगल और बैक्टीरिया के विकास को रोकते हैं जिससे बहुत सारे ऐसे लक्षण कम हो जाते हैं जिनसे महिलाएं गुजरती हैं. लेकिन हम विकल्प के बारे में पर्याप्त बात नहीं करते हैं. एक महिला के रूप में, हमारे पास एक ऑप्‍शन है, दुर्भाग्य से ये समुदाय के एक विशेषाधिकार प्राप्त हिस्से तक ही सीमित है.

बनर्जी ने कहा, तीसरा, जागरूकता और पहुंच के लिए स्‍टैकहोल्‍डर्स को ट्रेंनिंग देने की आवश्यकता है. बनर्जी ने कहा कि हम अभी भी नहीं जानते हैं कि मासिक धर्म स्वच्छता बड़े तबके में कहां तक पहुंच रखती है. हालांकि आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय जैसे कई मंत्रालयों ने शानदार काम किया है, स्वच्छ भारत मिशन अर्बन एक लिंग दिशानिर्देश लेकर आया है जो मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में बताता है. उन्‍होंने कहा,

लेकिन मुझे लगता है, प्रत्येक शहरी स्थानीय निकाय समुदायों से किस तरह बात करता है इस पर ट्रेनिंग की जरूरत है और इसके विपरीत मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन पर उनकी जरूरतों के बारे में भी सोचने की जरूरत है. इसका एक बड़ा हिस्सा शायद स्टिग्‍मा से जुड़ा है.

लड़कियां स्कूल न छोड़ें इसके लिए स्कूलों में स्वच्छता और मासिक धर्म स्वच्छता सुनिश्चित करने के बारे में बात करते हुए बनर्जी ने दो प्रमुख बातों पर जोर दिया:

1. स्कूलों और समुदायों में एक सक्षम वातावरण बनाना जहां समुदाय के नेता स्थानीय अधिकारियों के साथ काम करने के लिए आगे आ सकें. सामुदायिक नेता यह सुनिश्चित करें कि बुनियादी स्वच्छता सेवाएं और स्वच्छता प्रथाएं उपलब्ध हैं.

2. जब आप स्वच्छता के बारे में बात करते हैं और सार्वजनिक स्थानों पर स्वच्छता और स्वच्छता सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करते हैं, शौचालय उपयोग करने योग्य होते हैं और महिलाएं उन तक पहुंच बनाने में सक्षम होती हैं, तो इससे जागरूकता पैदा होती है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts