Connect with us

खुद की देखभाल

Self Care For Mothers: प्रसवोत्तर अवसाद क्या है और नई माताएं इस स्थिति पर कैसे काबू पा सकती हैं?

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ का कहना है कि प्रसवोत्तर अवसाद सामान्य मातृ-शिशु संबंध में रूकावट पैदा कर सकता है और तीव्र और दीर्घकालिक बाल विकास पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है.

Read In English
Self-Care For Mothers: What Is Postpartum Depression And How Can New Mothers Overcome The Condition?
प्रसवोत्तर अवसाद जन्म देने के बाद सामने आने वाली एक जटिलता है. यदि लक्षण हैं, तो जल्‍दी ट्रीटमेंट से आपको डिप्रेशन को कंट्रोल करने में मदद मिल सकती है.

नई दिल्ली: गर्भावस्था और प्रसव ऐसे अनुभव हैं जो महिलाओं के लिए जीवन बदलने वाले हैं. ये प्रक्रियाएं खुशी, उत्तेजना, घबराहट और चिंता से लेकर बहुत सारी तीव्र भावनाओं को ट्रिगर कर सकती हैं. हालांकि, ये कुछ मामलों में ये प्रतिक्रिया अवसाद के रूप में उभर सकती है. नई माताओं के लिए प्रसवोत्तर अवसाद का अनुभव करना दुर्लभ नहीं है. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ का कहना है कि प्रसवोत्तर अवसाद सामान्य मातृ-शिशु संबंध में दखल कर सकता है और तीव्र और दीर्घकालिक बाल विकास पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है.

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (CDC) के अनुसार, बहुत सारी नई माताओं को प्रसवोत्तर अवसाद होता है, जिनके लक्षण दो प्रकार के होते हैं – इमोशनल और बिहेव्यरल.

भावनात्मक लक्षणों में लगातार उदासी, चिंता, गंभीर मिजाज, गुस्‍सा, चिड़चिड़ापन, अपराधबोध, शर्म, कम आत्मसम्मान, सुन्नता, थकावट, बच्चे के साथ परेशानी, आत्म-हानि और यहां तक कि आत्महत्या के विचार शामिल हो सकते हैं.

दूसरी ओर, व्यवहार संबंधी लक्षणों में सामान्य गतिविधियों में रुचि न लेना, कम कामेच्छा, भूख न लगना, थकान, कमजोरी, खराब सेल्‍फ केयर और नींद न आना शामिल हो सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: माताओं के लिए सेल्‍फ केयर: मदर्स डे पर रेकिट ने अपनी प्रतिबद्धता दोहराई, कहा- हमारे कार्यक्रमों का केंद्र रहेंगी माताएं

लक्षण आमतौर पर डिलीवरी के बाद दो सप्ताह से एक महीने के भीतर शुरू होते हैं और कई महीनों या एक वर्ष तक रह सकते हैं और दुर्लभ मामलों में, वे गंभीर और लंबे समय तक चलने वाले हो सकते हैं. यह याद रखना जरूरी है कि प्रसवोत्तर अवसाद जन्म देने की जटिलता है और यदि लक्षण हैं, तो तुरंत इलाज से आपको डिप्रेशन को कंट्रोल करने में मदद मिल सकती है और यहां तक कि आपको अपने बच्चे के साथ जुड़ने में मदद मिल सकती है.

CDC के अनुसार, डिप्रेशन का इलाज किया जा सकता है और अधिकांश लोग उपचार के साथ बेहतर होते हैं. जबकि आपकी स्त्री रोग विशेषज्ञ आपको इस बात पर मार्गदर्शन करने में मदद कर सकता है कि आप इस मुद्दे के लिए उपचार कैसे कर सकते हैं, एक मनोचिकित्सक लक्षणों और उनकी गंभीरता के आधार पर आपको उपचार बताएगा.

NDTV डॉ. टीना गुप्ता, दिल्ली स्थित मनोचिकित्सक, और विशेष रूप से महिलाओं, बच्चों और किशोरों के साथ काम करने वाले मनोचिकित्सक के पास पहुंचा, जिन्होंने प्रसवोत्तर अवसाद के इलाज के लिए उपलब्ध उपचारों की व्याख्या की. डॉ. टीना गुप्‍ता ने कहा,

प्रसवोत्तर अवसाद को किसी भी अन्य अवसाद की तरह माना जाता है. समर्थन, परामर्श या चिकित्सा, और एंटीडिप्रेसेंट्स जैसी दवाएं मदद कर सकती हैं या कुछ मामलों में, दोनों का एक संयोजन भी फायदेमंद होता है. अधिकांश एंटीडिपेंटेंट ब्रेस्‍टफीड के लिए सुरक्षित हैं. दुर्लभ मामलों में जब ये उपचार लक्षणों को कम नहीं करते हैं, तो हम ब्रेन स्टिम्युलेशन थेरेपी की सलाह देते हैं.

इसे भी पढ़ें: मदर्स डे स्पेशल: सेल्फ केयर क्या है और महिलाओं की स्वास्थ्य ज़रूरतों को पूरा करना इतना ज़रूरी क्यों है?

डॉ. गुप्ता का कहना है कि प्रसवोत्तर अवसाद से पीड़ित अधिकांश महिलाओं को उनकी सलाह मददगार साबित होती है, यदि पेशेवर से नहीं, तो वे किसी ऐसे व्‍यक्ति से बात कर सकती हैं, जिनके साथ वह कम्‍फर्टेबल महसूस करती हों.

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि किसी से बात करना और उन्हें अपनी भावनाओं के बारे में बताना. स्‍पोर्ट सिस्‍टम आपको शांति खोजने में मदद करेगा. हालांकि यह समझ में आता है कि एक नवजात शिशु को हर समय ध्यान देने की आवश्यकता होती है, मैं यह भी सुझाव देता हूं कि माताओं को खुद के लिए कुछ करने के लिए कुछ समय मिल जाए, भले ही यह दिन में केवल 15 मिनट हो. उन्हें पढ़ने, व्यायाम करने की कोशिश करनी चाहिए, चलना स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है और 15-20 मिनट पैदल चलना या मेडिटेशन करना फायदेमंद हो सकता है. कभी -कभी, मैं माताओं को भी उनकी भावनाओं को जर्नल करने की सलाह देता हूं क्योंकि यह उनकी कुंठाओं को बाहर करने में मदद करता है. हर हफ्ते, विचार करें कि अब आप कितना बेहतर कर रहे हैं.

आखिर में, डॉ. गुप्ता का कहना है कि अभिभूत महसूस करना पूरी तरह से ठीक है, क्योंकि प्रसव जीवन शैली में भारी बदलाव ला सकता है और एक मां अच्‍छी तरह से जानती है कि उसे अपने बच्चे की देखभाल कैसे करनी है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts