Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

World AIDS Day 2022: इस वर्ष की थीम और एचआईवी/एड्स के तथ्यों पर एक नजर

इस वर्ष 1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस पर, यूएनएड्स एक विशिष्ट विषय, “समानता” पर केंद्रित है

Read In English
World AIDS Day 2022: इस वर्ष की थीम और एचआईवी/एड्स के तथ्यों पर एक नजर
इस वर्ष, UNAIDS एक अनोखे सब्‍जेक्‍ट, "समानता" पर केंद्रित है, जिसका उद्देश्य उन असमानताओं और नागरिकों के बीच की असमानताओं को दूर करना है जो एड्स को समाप्त करने में प्रगति को रोक रहे हैं.

नई दिल्ली: हर साल 1 दिसंबर को दुनिया भर में एड्स डे के रूप में मनाया जाता है, जिसका उद्देश्य मानव इम्यूनोडिफीसिअन्सी वायरस (एचआईवी) के खिलाफ लड़ने के लिए वैश्विक स्तर पर समुदायों को एकजुट करना, इंफेक्‍शन से पीड़ित लोगों का साथ देना और इससे मरने वालों को याद करना है. 1988 में स्थापित, विश्व एड्स दिवस पहला ग्‍लोबल हेल्‍थ डे था, और यह दिन आज भी प्रासंगिक बना हुआ है, लोगों और सरकारों को याद दिलाता है कि एचआईवी अभी भी प्रचलित है. कैंपेन के पहले दो सालों में, वर्ल्‍ड एड्स डे ने परिवारों, विशेष रूप से बच्चों और युवाओं पर एड्स के प्रभाव पर प्रकाश डाला. 1996 में, एचआईवी/एड्स पर संयुक्त राष्ट्र कार्यक्रम (यूएनएड्स) ने अभियान संचालन को अपने हाथ में ले लिया और पहल के दायरे को साल भर की रोकथाम और शिक्षा अभियान तक बढ़ा दिया.

इसे भी पढ़ें: प्रिय महिलाओं, खुद की केयर को अहमियत देने का समय आ गया है

एचआईवी और एड्स के बीच अंतर

नेशनल एड्स कंट्रोल संगठन (एनएसीओ) के अनुसार, एचआईवी से संक्रमित व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है. एक्वायर्ड इम्यून डेफिसिएंसी सिंड्रोम (एड्स) बाद के चरण में एचआईवी इंफेक्‍शन का परिणाम है. यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें लक्षणों का एक ग्रुप होता है क्योंकि इम्‍यून सिस्‍टम बहुत कमजोर हो जाता है. एचआईवी इंफेक्‍शन के एड्स में विकसित होने के समय से लगभग 8-10 साल लग सकते हैं.

क्या एचआईवी वाले सभी लोगों को एड्स है?

एचआईवी का निदान होने का मतलब यह नहीं है कि व्यक्ति को एड्स का निदान भी किया जाएगा. एनएसीओ का कहना है कि हेल्‍थ केयर एक्‍सपर्ट एड्स का निदान तब करते हैं जब एचआईवी इंफेक्‍शन वाले लोगों को severe opportunistic infections (ओआई) होने लगते हैं, या उनकी सीडी 4 सेल काउंट एक निश्चित लेवल से नीचे गिर जाता है. इम्‍यून फंग्‍शन सीडी 4 सेल काउंट, और सीडी 4 सेल्‍स, या व्‍हाइट ब्‍लड सेल्‍स द्वारा मापा जाता है.

एचआईवी पर भारत की स्थिति

2021 में नाको के अनुमान के अनुसार, एचआईवी संक्रमण ने कुल जनसंख्या का 0.21 प्रतिशत प्रभावित किया. राज्यों में, मिजोरम में वयस्क एचआईवी प्रसार की संख्या सबसे अधिक है और एचआईवी (पीएलएचआईवी) के साथ रहने वाले लोग लगभग 2.7 प्रतिशत 15-49 आयु वर्ग के बीच के हैं. कुल जनसंख्या के लगभग 1.4 प्रतिशत के साथ नागालैंड में एचआईवी से पीड़ित लोगों की संख्या दूसरे नंबर पर है, इसके बाद मणिपुर (1.05 प्रतिशत), आंध्र प्रदेश (0.67 प्रतिशत), तेलंगाना (0.47 प्रतिशत) अन्य का स्थान है.

इसे भी पढ़ें: माताओं के लिए सेल्‍फ केयर: मदर्स डे पर रेकिट ने अपनी प्रतिबद्धता दोहराई, कहा- हमारे कार्यक्रमों का केंद्र रहेंगी माताएं

2022 थीम

प्रत्येक वर्ष, यूएनएड्स के पास यह सुनिश्चित करने के लिए काम करने के लिए एक विषय होता है कि समुदायों को एचआईवी कार्यक्रमों से जुड़ने और नागरिक समाज के पूर्ण समावेश को बढ़ावा देने के लिए सशक्त बनाया जाता है. वर्षों से, सबसे बुनियादी एचआईवी सेवाओं, जैसे टेस्टिंग और ट्रीटमेंट, तक पहुंच में असमानता बनी हुई है.

इस वर्ष, यूएनएड्स एक विशिष्ट विषय, “समानता” पर ध्यान केंद्रित करता है, जिसका उद्देश्य इन असमानताओं और नागरिकों के बीच की असमानताओं को दूर करना है जो एड्स को समाप्त करने में प्रगति को रोक रहे हैं.

विषय एचआईवी उपचार, इसके परीक्षण और रोकथाम के लिए सेवाओं की उपलब्धता, गुणवत्ता और उपयुक्तता बढ़ाने के लिए कार्रवाई का आह्वान करता है. विषय एचआईवी के साथ रहने वाले लोगों द्वारा सामना किए जाने वाले कलंक और बहिष्करण से निपटने के लिए कानूनों, नीतियों और प्रथाओं में सुधार के महत्व पर भी प्रकाश डालता है और विशेष रूप से बच्चों और प्रमुख आबादी और उनके भागीदारों के लिए आवश्यक एचआईवी सेवाओं तक पहुंच बनाता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार एचआईवी/एड्स के बारे में कुछ तथ्य इस प्रकार हैं:

  1. अब तक लगभग 40.1 मिलियन लोग एचआईवी से अपनी जान गंवा चुके हैं.
  2. 2021 में एचआईवी से संबंधित कारणों से लगभग 650,000 लोग मारे गए और 1.5 मिलियन संक्रमित हो गए.
  3. 2021 के अंत में, अनुमानित 38.4 मिलियन लोग एचआईवी के साथ जी रहे थे, जिनमें से दो-तिहाई (25.6 मिलियन) WHO अफ्रीकी क्षेत्र में थे.
  4. UNAIDS द्वारा निर्धारित प्रस्तावित वैश्विक ’95/95/95′ लक्ष्यों को पाने के लिए, देशों को अगले दस सालों में 7.7 मिलियन एचआईवी से संबंधित मौतों की सबसे खराब स्थिति से बचने के लिए अपने प्रयासों को फिर से दोगुना करने की आवश्यकता है. ’95/95/95′ लक्ष्य एचआईवी के साथ जी रहे सभी लोगों में से 95 प्रतिशत को अपनी एचआईवी स्थिति जानने की आवश्यकता के बारे में बात करता है, निदान किए गए एचआईवी संक्रमण वाले सभी लोगों में से 95 प्रतिशत को निरंतर एंटी-रेट्रोवायरल थेरेपी (एआरटी) की आवश्यकता है, और एआरटी प्राप्त करने वाले सभी लोगों में से 95 प्रतिशत का 2025 तक दमन होगा.

लोग एचआईवी से कैसे संक्रमित होते हैं?

नाको के अनुसार, एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन संबंध, एचआईवी संक्रमित ब्‍लड या ब्‍लड प्रोडक्‍ट के ट्रांसफ्यूजन, या एचआईवी संक्रमित ब्‍लड से दूषित सुइयों को साझा करने से एचआईवी फैल सकता है. इसके अलावा, एचआईवी संक्रमित माताएं इसे गर्भावस्था के दौरान, जन्म के दौरान या प्रसव के बाद अपने बच्चे को दे सकती हैं. यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि एचआईवी सामाजिक संपर्कों जैसे हाथ मिलाने, एक साथ ट्रेवल करने, गले मिलने या किस करने से नहीं फैलता है.

एचआईवी के लिए ट्रीटमेंट

वर्तमान में, एचआईवी/एड्स का कोई इलाज नहीं है, हालांकि, ऐसी कई दवाएं हैं जो एचआईवी को कंट्रोल कर सकती हैं और जटिलताओं को रोक सकती हैं. प्रभावी एंटी-रेट्रोवायरल ट्रीटमेंट (एआरटी) दवाएं उपलब्ध हैं जो एचआईवी पॉजिटिव व्यक्ति के जीवन को बढ़ा सकती हैं.

इसे भी पढ़ें: अमेरिका से पब्लिक हेल्थ की पढ़ाई करके लौटे दंपत्ति महाराष्ट्र के आदिवासी इलाके के लिए बने स्वास्थ्य दूत

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=