NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India

मानसिक स्वास्थ्य

दिव्‍यांग लोगों के लिए मेंटल हेल्‍थ सुनिश्चित करने की चुनौती

बनेगा स्‍वच्‍छ इंडिया की टीम ने स्‍पेशल केयर वाले लोगों के साथ बातचीत करके उनके जीवन में उन कारकों को समझने की कोशिश की, जो उनके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहे हैं

Read In English
दिव्‍यांग लोगों के लिए मेंटल हेल्‍थ सुनिश्चित करने की चुनौती

नई दिल्ली: जमशेदपुर के 32 वर्षीय विनीत सरायवाला, जो रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा से पीड़ित हैं, कहते हैं, “मेरे जैसे स्‍पेशल केयर वाले लोगों के लिए मेंटल हेल्‍थ के मुद्दे जन्म के दिन से शुरू हो जाते हैं, यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें उम्र बढ़ने के साथ दृष्टि खत्‍म होती जाती है. दिव्‍यांगता के कई मुद्दों पर प्रकाश डालते हुए और यह व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है पर सरायवाला ने कहा,

हमारे आसपास बहुत कुछ हो रहा है. पहला, हमें खुद को स्वीकार करने में सालों लग जाते हैं, दूसरी बात यह कि हमारे आस-पास का समाज दिव्‍यांग लोगों के लिए नहीं बनाया गया है, इसलिए जीवन के हर मोड़ पर हम किसी न किसी तरह से भेदभाव महसूस करते हैं. हमें स्कूलों में धमकाया जाता है, हमें परिवार के सदस्यों, रिश्तेदारों और दोस्तों द्वारा पूछा जाता है कि हम ऐसे क्यों हैं, इसके साथ आने वाला फैसला, यह सब मानसिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ता है.

दिव्‍यांग लोगों के लिए मेंटल हेल्‍थ सुनिश्चित करने की चुनौती

सरायवाला एकमात्र पीड़ित नहीं हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, 1 अरब से अधिक लोगों के दिव्‍यांग होने का अनुमान है, यह दुनिया की आबादी का लगभग 15 प्रतिशत है. WHO कहता है, विश्व स्तर पर, अनुमानित 264 मिलियन लोग डिप्रेशन से पीड़ित हैं, जो दिव्‍यांगता के प्रमुख कारणों में से एक है, इनमें से कई लोग एंग्‍जाइटी के लक्षणों से भी पीड़ित हैं. रोग और नियंत्रण रोकथाम केंद्र (सीडीसी) इस बात पर प्रकाश डालता है कि दिव्‍यांग एडल्‍ट को दिव्‍यांग लोगों की तुलना में अधिक मानसिक संकट झेलतना पड़ता है. इसमें कहा गया है, 2018 में, अनुमानित 17.4 मिलियन (32.9%) दुनिया भर में दिव्‍यांग वयस्कों ने लगातार मेंटल क्राइसेस झेला है.

इसे भी पढ़ें: World Mental Health Day 2022: मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण को सभी के लिए वैश्विक प्राथमिकता बनाना है जरूरी

सीडीसी ने यह भी बताया गया है कि COVID-19 महामारी के दौरान, आसोलेशन, डिस्कनेक्ट, गलत रूटिन और कम स्वास्थ्य सेवाओं ने दिव्‍यांग लोगों के जीवन और मेंटल वेल‍बींग को बहुत प्रभावित किया है. डब्ल्यूएचओ के अनुसार, सभी के बीच मेंटल हेल्‍थ प्रोब्‍लम के बड़े कारणों में से एक बेरोजगारी है.

इन आंकड़ों को संदर्भ में रखते हुए, विनीत सरायवाला जो आंशिक रूप से नेत्रहीन हैं, आगे कहते हैं कि उनके लिए अपने रूटीन वर्क को यथासंभव प्रभावी ढंग करना मुश्किल है, वे अपने परिवार और दोस्तों को देख नहीं पाते, जो खाना टेबल पर परोसा जा रहा है और उसके आस-पास की खूबसूरत दुनिया कभी-कभी बहुत निराशाजनक होती है, लेकिन वह इन चीजों से ज्यादा परेशान नहीं होते. उन्होंने आगे कहा,

मैंने मुझे मिल रहे आशीर्वाद पर ध्‍यान देना शुरु किया, जो मेरे पास नहीं है उसके बारे में सोचने के बजाय, मैं अपने अतिरिक्त या विशेषाधिकारों को गिनता हूं, जो मेरे पास है. मेरी अच्छी शिक्षा तक पहुंच थी, मैं आईआईएम बेंगलुरु को पास कर पाया था, मैं एक कॉर्पोरेट दुनिया का अनुभव ले सकता है. मैं उन लोगों के बारे में सोचता था जिनके पास मेरे जैसे अवसर नहीं होते. भारत में, 85 प्रतिशत दिव्‍यांग लोगों के पास स्थायी नौकरी नहीं है, जो मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति को भी बढ़ाता है. कई कॉर्पोरेट या नौकरी चाहने वाले सोचते हैं कि दिव्‍यांग लोग अपनी दिव्‍यांगता के कारण नौकरी या जरूरी काम नहीं कर पाएंगे और इसलिए उन्हें काम पर नहीं रखना चाहिए. इस सोाच को बदलने के लिए, 2020 में, मैंने अपनी कॉर्पोरेट नौकरी छोड़ने और स्‍पेशल नीड वाले लोगों के लिए एक मंच लॉन्च करने का फैसला किया, जिसे एटिपिकल कहा जाता है, जो विशेष जरूरतों वाले भारत भर के लोगों के पोर्टफोलियो को उजागर करता है, उन्हें नौकरी खोजने में मदद करता है, इंटरव्‍यू कराता है, उन्हें सलाह देता है और तैयारी करता है. ताकि उन्हें समान अवसरों तक पहुंच प्राप्त हो.

सरायवाला ने आगे बताया कि भारत को और अधिक समावेशी बनाने के लिए अधिकारियों, व्यक्तियों, नियोक्ताओं को किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए, उन्होंने कहा,

हमारे देश में बुनियादी ढांचा एक बहुत बड़ा मुद्दा है. कल्पना कीजिए कि आप अपनी पसंदीदा जगह, मूवी हॉल, मॉल या रेस्तरां में सिर्फ इसलिए नहीं जा पा रहे हैं क्योंकि आप स्‍पेशल नीड वाले व्यक्ति हैं. सिर्फ इंफ्रास्ट्रक्चर ही नहीं, हमारा डिजिटल स्पेस भी खास जरूरत वाले लोगों के लिए फ्रेंडली नहीं है. अगर मुझे सब्जी ऑर्डर करनी है, या बस एक कैब बुक करनी है, तो मैं नहीं कर सकता, क्योंकि वे हम जैसे लोगों के लिए नहीं बने हैं, विशेष जरूरतों वाले लोगों के लिए बने हैं. मैं इन ऐप्स को बिना मदद के एक्सेस नहीं कर सकता. और यहीं एक देश के रूप में हमारी कमी है. और यह सब एक व्यक्ति की भलाई और मानसिक स्थिति पर भारी असर डालता है. ये छोटी-छोटी चीजें हैं जो किसी व्यक्ति को निर्भर बनाती हैं और कोई भी व्‍यकित ऐसा होना पसंद नहीं करता है.

इसे भी पढ़ें: यह 36 वर्षीय भारत की पहली महिला दिव्यांग स्टैंड-अप कॉमेडियन है जो हास्य का उपयोग दिव्यांगता पर धारणाओं को तोड़ने के लिए करती है

महाराष्ट्र के जालना जिले के 39 वर्षीय संतोष काकरे, जो नेत्रहीन हैं, कहते हैं,

मैं एक टीचर बनना चाहता था, और इसलिए मैंने भोपाल से बी.एड पूरा किया. लेकिन, मैं नौकरी नहीं कर सका. मैं लगातार छह साल से बेरोजगार था. मैंने 2011 में अपना बी.एड पूरा किया और 2016 तक मुझे नौकरी नहीं मिली. ऐसा नहीं था कि कोई ऑप्‍शन नहीं थीं, लेकिन यह परिस्थितियां थीं. दृष्टिबाधित लोगों को मदद की जरूरत है या एक व्यक्ति जो उनके लिए परीक्षा दे सकता है, मैं प्रतियोगी परीक्षाओं में उतरूंगा, लेकिन कभी-कभी मदद करने वाला व्यक्ति समय पर पेपर पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं था, कभी-कभी, वे खुद को नहीं जानते थे पढ़ने या लिखने के लिए और कई बार मुझे मदद भी नहीं मिली. नतीजतन, मैं बेरोजगार रह गया था. यह सब मानसिक रूप से निराशाजनक था और कई बार मेरा मन करता था कि मैं हार मान लूं.

दिव्‍यांग लोगों के लिए मेंटल हेल्‍थ सुनिश्चित करने की चुनौती

काकरे आगे बताते हैं कि वह लगातार छह वर्षों तक नौकरी नहीं कर सके, और उनके पास देखभाल करने के लिए एक परिवार था – एक पत्नी, जो नेत्रहीन भी थी, एक बेटा और एक बेटी. उन्होंने कहा,

मैं बी.एड ग्रेजुएट था, क्षमता थी, इच्छाशक्ति थी, लेकिन समान अवसर नहीं दिए गए थे. ऐसे में मेरे पास अपने लिए काम करने के अलावा कोई ऑप्‍शन नहीं था. मैंने रेलवे स्टेशन के फुटवियर ब्रिज में दस्तावेज़ फ़ाइलें और खिलौने बेचना शुरू किया. यह काम मैंने 3-4 साल तक किया. इन सभी वर्षों के दौरान, एक चीज जो स्थिर रही, वह थी मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे और विडंबना यह है कि कोई भी वास्तव में इसके बारे में बात नहीं करता है.

काकरे कहते हैं कि उन्हें पैनिक अटैक, मानसिक आघात का सामना करना पड़ा था और कई रातों को नींद नहीं आई थी, यह सोचकर कि वह अपने परिवार की देखभाल कैसे कर पाएंगे और क्या उन्हें कभी नौकरी मिल पाएगी. आज काकरे टीसीएस में विश्लेषक के रूप में कार्यरत हैं. वह बताते हुए कि उन्हें यह नौकरी कैसे मिली, उन्होंने कहा,

शुरू से ही, मैं नेत्रहीन लोगों के लिए कई बड़े गैर सरकारी संगठनों से जुड़ा था, मैं उन्हें अपना रिज्यूमे भेजता था ताकि वे मुझे नौकरी दिलाने में मदद कर सकें. उसके माध्यम से मैंने पहले नेत्रहीन लोगों के लिए एक अन्य एनजीओ – साइट सेवर्स में नौकरी की, और फिर बैरियर बिग सॉल्यूशन के लिए काम करने का मौका मिला, जहां, मैं अपने जैसे लोगों, विशेष जरूरतों वाले लोगों के लिए समाधान बनाने पर काम कर रहा था. मैंने ऐप्स और वेबसाइटों को उनके लिए सुलभ बनाया. और फिर मैं एटिपिकल ऑर्गनाइजेशन में आया, जो मेरे जैसे लोगों को बड़ी कंपनियों में अच्छे अवसर दिलाने में मदद कर रहा था, मैंने अपना रिज्यूमे भेजा और इस साल फरवरी में, मुझे टीसीएस मिला.

इसे भी पढ़ें: फैशन बियॉन्ड बाउंड्रीज़: एक फैशन शो जो देता है दिव्‍यांग लोगों के समावेश को बढ़ावा

विशेष आवश्यकता वाले लोगों के सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में बात करते हुए जब नौकरी खोजने की बात आती है और यह उनके मानसिक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है,
काकरे ने कहा,

विशेष आवश्यकता वाले लोगों को बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. सबसे बड़ी चुनौती यह नहीं है कि हमारे पास सीमित कौशल है, भले ही हम कहें कि हम काम से समझौता नहीं होने देंगे, मुद्दा यह नहीं है कि कई नियोक्ता हमें वह अवसर देने के लिए तैयार नहीं हैं. दूसरा, एक और बड़ा मुद्दा यह है कि हम मदद के लिए दूसरे लोगों पर निर्भर हैं, नौकरियों के लिए आवेदन करने से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं को क्रैक करने तक, हमें एक ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता है, जो यह सब करने में हमारी मदद करे. और उस मदद को पाना कोई आसान काम नहीं है. मैं छह साल से बेरोजगार था इसलिए नहीं कि मेरे पास कौशल और ज्ञान नहीं था, लेकिन मुझे एक आदर्श मैच या व्यक्ति नहीं मिला, जो मेरी मदद कर सके. तीसरा, हमारा सिस्टम ऐसी तकनीकों या सॉफ़्टवेयर से लैस नहीं हैं जो दिव्‍यांग लोगों के अनुकूल हैं. और, अंत में, सुलभ वातावरण हर जगह नहीं है. यह सब व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव डालता है.

हमारा समाज कैसे अधिक समावेशी हो सकता है, इस पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने आगे कहा,

भर्ती करने वालों को अपने कर्मचारियों को विविध लोगों के साथ काम करने के लिए ट्रेंड करना चाहिए. सरकार को इस पर विशेष ध्यान देना चाहिए, कई सरकारी परीक्षाएं हैं जो विशेष आवश्यकता वाले लोगों के लिए अनुकूल नहीं हैं. यहां तक ​​​​कि अगर मुझे अपना आधार कार्ड अपडेट करना है, तो मैं यह सब अपने आप नहीं कर सकता, क्योंकि इसमें कैप्चा सेटिंग्स हैं, जिसके लिए एक व्यक्ति को अक्षरों को देखने और खाली जगह भरने की आवश्यकता होगी. स्पीच टू टेक्स्ट का विकल्प नहीं है. तो इस साधारण सी बात को भी अपडेट करने के लिए, मुझे एक व्यक्ति की आवश्यकता है. ये कुछ छोटी-छोटी बातें हैं, जिन्हें हमें एक समाज के तौर पर देखना शुरू कर देना चाहिए. मैं यह भी सोचता हूं कि सरकार को निजी कंपनियों को विशेष आवश्यकता वाले लोगों के लिए अधिक नौकरियां खोलने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए, हमारे जैसे लोगों के बारे में अपने कर्मचारियों को जागरूक करने के लिए कंपनियों के मैनेजमेंट की भी आवश्यकता है. मुझे लगता है, विशेष जरूरतों वाले लोगों, उनकी आवश्यकताओं के बारे में जागरूकता नहीं है और इसलिए समावेशिता गायब है.

काकरे ने अपनी बात खत्‍म करने से पहले कहा,

लोगों को अंतर नहीं करना चाहिए. समान अवसर प्रदान किए जाने चाहिए. इंफ्रा, प्रौद्योगिकी को विशेष जरूरतों वाले लोगों के साथ फ्रेंडली होना चाहिए और अंत में मेंटल हेल्‍थ का मुद्दा और यह हम पर कैसे असर डाल रहा है, इस पर भी बात की जानी चाहिए. अभी बातचीत भी नहीं हो रही है.

इसे भी पढ़ें: विकलांग व्यक्तियों को कार्यबल में शामिल करने से सकल घरेलू उत्पाद में 3-7 फीसदी की वृद्धि हो सकती है: आईएलओ

वाराणसी की शगुन पाठक, जो अब बार्कलेज में काम कर रही है और जिसे न्यूरोमस्कुलर स्कोलियोसिस से पीडित है. यह एक ऐसी बीमारी है, जो एक व्यक्ति की रीढ़ को प्रभावित करती है, जिसके कारण एक क्ति चलने में असमर्थ होता है. अपने बारे में बताते हुए उन्‍होंने कहा,

मेरी दिव्‍यांगता कुछ नहीं है. जिसके साथ मैं पैदा हुई थी, यह एक दुर्घटना के बाद विरासत में मुझे मिली, ये दुर्घटना तब हुई जब मैं 7 साल की थी. मैं बास्केटबॉल खिलाड़ी थी और उसी साल मेरा एक्सीडेंट हुआ था, मैं जिला स्तर पर खेलने जा रही थी. लेकिन जीवन की कुछ और योजनाएं थीं शुरू में मैंने अपनी शर्त कभी स्वीकार नहीं की. मेरे मन में आत्मघाती विचार भी थे, क्योंकि मैं नई लाइफ स्‍टाइल का सामना करने और जीवन को विशेष जरूरतों वाले व्यक्ति के रूप में स्वीकार करने में सक्षम नहीं थी, लेकिन मेरे माता-पिता उनके कारण ही मैंने इस जीवन को स्वीकार किया और आज मैं जो कुछ भी कर रही हूं, उसके कारण मैं खुद को भाग्यशाली मानती हूं, मैं इसे अन्यथा नहीं कर पाती.

दिव्‍यांग लोगों के लिए मेंटल हेल्‍थ सुनिश्चित करने की चुनौती

शगुन ने सिर्फ 12वीं तक पढ़ाई की है, वह वाराणसी छोड़कर अपनी शर्तों पर जिंदगी जीने के लिए दिल्ली-एनसीआर आ गई. उसका आदर्श वाक्य अपने लिए एक उपयुक्त नौकरी खोजना और जीवन का निर्माण करना था. उन्‍होंने 2010 की शुरुआत में नौकरियों की तलाश शुरू कर दी थी, लेकिन 2013 तक सफल नहीं हुई, बाद में उन्‍हें बार्कलेज में एक इंटरव्‍यू को मंजूरी दे दी. उपयुक्त नौकरी न मिलने और उस पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में अपने संघर्षों के बारे में बताते हुए, उन्होंने कहा,

ज्यादातर बार, अगर मुझे नौकरी मिल जाती है, तो वातावरण विशेष जरूरतों वाले व्यक्ति के लिए सुलभ या अनुकूल नहीं था, इसलिए मेरे पास इसे स्वीकार न करने के अलावा कोई ऑप्‍शन नहीं था और जब वातावरण सुलभ था, मुझे स्वीकार नहीं किया गया, क्योंकि मुझे खुद को साबित करने का मौका कभी नहीं मिला, क्योंकि नियोक्ता ने सोचा था कि मैं फिट नहीं रहूंगी.

वह आगे कहती हैं कि विशेष जरूरतों वाले व्यक्ति के लिए चुनौतियों की लिस्‍ट बहुत लम्‍बी है जिसे समझाया नहीं जा सकता.

हम अपने जीवन के हर मोड़ पर संघर्ष का अनुभव करते हैं. हमारे पास विभिन्न गंतव्यों की यात्रा के लिए एक ऑटो वाले तक जाने जैसी सरल और बुनियादी चुनौतियां हैं. वे हमें ऐसा महसूस कराते हैं जैसे हमें बिना किसी की मदद के यात्रा करने का कोई अधिकार नहीं है. अब कल्पना कीजिए कि यह हमारे मानसिक अस्तित्व पर कितना असर डालता है, क्योंकि ये बुनियादी चीजें हैं. हम अन्य लोगों की तरह स्वतंत्र रूप से स्थानों पर नहीं जा सकते हैं क्योंकि हमें सुलभ वातावरण की तलाश करनी है. यह कोई ऐसी चीज नहीं है जिसके बारे में एक सामान्य व्यक्ति चिंता करता है, लेकिन हम रोजाना इससे गुजरते हैं. और जाहिर तौर पर यह हमारे मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, जिसके बारे में कोई बात नहीं करता.

शगुन ने एक अपील के साथ अपनी बात खत्‍म करने हुए कहा,

समाज में स्वीकार्यता होनी चाहिए और यह तभी आ सकता है जब हर कोई हमारी आवश्यकताओं को समझे. अधिकारियों को विशेष जरूरतों वाले लोगों के लिए अधिक सुलभ वातावरण और स्थान बनाने पर ध्यान देना चाहिए.

इसे भी पढ़ें: मिलिए एक राइटर, अवॉर्ड विनर एक्‍टर, आरजे जिन्होंने अपनी दिव्‍यांगता को अपनी उपलब्धियों के रास्ते में आने नहीं दिया

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस 2022 के बारे में

हर साल, 10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के रूप में मनाया जाता है, जिसका उद्देश्य दुनिया भर के लोगों के मानसिक स्वास्थ्य की रक्षा और सुधार के प्रयासों को फिर से शुरू करने का अवसर देना है. इस वर्ष, इस दिन को ‘सभी के लिए एक वैश्विक प्राथमिकता बनाना मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण’ विषय के साथ चिह्नित किया जा रहा है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि मेंटल हेल्‍थ के कई पहलुओं को चुनौती दी गई है; और 2019 में महामारी से पहले ही विश्व स्तर पर आठ में से एक व्यक्ति एक मानसिक विकार के साथ जी रहा था. साथ ही, मानसिक स्वास्थ्य के लिए उपलब्ध सेवाएं, कौशल और वित्त पोषण कम है, और विशेष रूप से निम्न और मध्यम आय वाले देशों में जो आवश्यक है उससे यह बहुत कम है.

हाल के वर्षों में, वैश्विक विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने में मानसिक स्वास्थ्य की महत्वपूर्ण भूमिका की स्वीकार्यता बढ़ रही है, हालांकि, बहुत अधिक प्रगति नहीं हुई है, क्योंकि अभी भी डिप्रेशन दिव्‍यांगता के प्रमुख कारणों में से एक है, 15-29 साल के बच्चों में आत्महत्या मौत का चौथा प्रमुख कारण है. डब्ल्यूएचओ आगे कहता है कि गंभीर मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों वाले लोग समय से पहले मर जाते हैं – जितना कि दो दशक पहले – रोके जाने योग्य शारीरिक स्थितियों के कारण मरते थे.

इसके अलावा, मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति वाले लोग अक्सर गंभीर मानवाधिकारों के उल्लंघन, भेदभाव को झेलते हैं. इस विकट स्थिति को बदलने और मानसिक स्वास्थ्य के महत्व को उजागर करने के लिए, 10 अक्टूबर को दुनिया भर में विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के रूप में मनाया जाता है.

इसे भी पढ़ें: मानसिक स्वास्थ्य: दफ्तरों में तनाव से कैसे निपटें? विशेषज्ञों का जवाब

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Highlights: Banega Swasth India Launches Season 10

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पढ़ें

This website follows the DNPA Code of Ethics

© Copyright NDTV Convergence Limited 2024. All rights reserved.