Connect with us

प्रेरणादायी दिव्यांग

मिलिए एक राइटर, अवॉर्ड विनर एक्‍टर, आरजे जिन्होंने अपनी दिव्‍यांगता को अपनी उपलब्धियों के रास्ते में आने नहीं दिया

शुरुआती 25 वर्षों तक अशाब्दिक होने से लेकर रेडियो शो की मेजबानी और विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित होने तक, 41 वर्षीय डेन दिव्‍यांग लोगों के लिए एक प्रेरणा हैं

Read In English
An Author, Award-Winning Actor, RJ Who Didn't Let His Disability Come In The Way Of His Achievements
मिलिए डेन से जिन्होंने अपनी अक्षमताओं को अपनी क्षमताओं के आड़े नहीं आने दिया

नई दिल्ली: सयोमदेब मुखर्जी का जन्म नवंबर 1980 में कोलकाता में एक संयुक्त परिवार में हुआ था. किसी भी अन्य बच्चे की तरह, मुखर्जी, जिसे प्यार से डेन कहा जाता था, घर में शरारते करता था और अपनी हरकतों से परिवार को हंसाता था. लेकिन समय के साथ उनकी मांसपेशियां सिकुड़ने लगीं और पांच साल की उम्र तक उनकी वाणी पर भी असर पड़ने लगा. डेन जाहिर तौर पर एक दुर्लभ आनुवंशिक विकार, डोपामाइन-रिस्पॉन्सिव डिस्टोनिया के साथ पैदा हुआ था, जिसके परिणामस्वरूप वह 25 साल की उम्र तक अशाब्दिक था. इस विकार की खोज सबसे पहले 1995 में जापान के डॉ. सेगावा ने की थी और इसे सेगावा के नाम से भी जाना जाता था.

इसे भी पढ़ें: विकलांग व्यक्तियों को कार्यबल में शामिल करने से सकल घरेलू उत्पाद में 3-7 फीसदी की वृद्धि हो सकती है: आईएलओ

बनेगा स्वस्थ इंडिया की टीम से इस विकार और उसके निदान के बारे में बात करते हुए डेन ने कहा,

डोपामाइन एक एंजाइम है, जो नर्वस सिस्‍टम द्वारा नर्वस सेल्‍स के बीच संदेश प्रसारित करने के लिए उपयोग किया जाता है. मेरा शरीर पर्याप्त मात्रा में डोपामिन का प्रोडक्‍शन नहीं करता है और जो कुछ भी है वह इंटेलिजेंस सेंटर केंद्र द्वारा स्रावित होता है, जिसके परिणामस्वरूप मेरा मोटर फंग्‍शन बहुत प्रभावित हुआ है. मेरे जन्म के 15 साल बाद, पहली बार मानव जाति के लिए इस विकार की खोज की गई, जिसके बाद मेडिकल ट्रायल किया गया. मुझे याद है, उस समय डॉक्टर ताजा जानकारी के लिए विदेशी मेडिकल जर्नल्स का सहारा लेते थे. मेरे पिता के दोस्त, एक बाल रोग विशेषज्ञ, को एक ऐसी पत्रिका मिली जिसमें सेगावा सिंड्रोम पर केवल एक पैराग्राफ था. पश्चिम में, लोगों को इस बीमारी के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी, लेकिन फिर भी, मैं खुद को भाग्यशाली मानता हूं कि जब मैं 25 साल का हुआ तो मुझे दवाएं मिल गईं.

इस विकार ने डेन को जीवन के सभी क्षेत्रों में सीखने और ज्ञान प्राप्त करने से कभी नहीं रोका. डेन के पिता, पेशे से एक डॉक्टर हैं, उन्हें जीव विज्ञान, भौतिकी, शरीर विज्ञान और शरीर रचना विज्ञान पढ़ाते थे, उनके चाचा उन्हें ग्रीक पौराणिक कथाओं के बारे में शिक्षित करते थे.

खुद को परिवार का “ब्लॉटिंग पेपर” बताते हुए डेन ने कहा,

मेरे चाचा, जिनका पिछले साल सितंबर में निधन हो गया, ने मेरे जीवन में चाणक्य की भूमिका निभाई. मैंने विभिन्न प्रकार के शास्त्रों के बारे में सीखा और लोगों को सिनेमा पर चर्चा करते हुए देखना और सुनना भी सीखा. मुझे समझने की शक्ति अच्छी थी. मेरे माता-पिता ने हमेशा सुनिश्चित किया कि मैं यात्रा करूं क्योंकि उनका मानना था कि यात्रा किए बिना, मुझे अपने देश का लोकाचार नहीं मिलेगा.

डेन और उनके परिवार के बीच कम्युनिकेशन रेगुलर वर्बल कम्युनिकेशन के दायरे से बाहर था. पलक झपकने का अर्थ होगा ‘हां’ और एक विशेष ध्वनि का अर्थ होगा ‘नहीं’. उसके पास एक टंग स्विच भी था, एक उपकरण जिसे वह अपनी जीभ के माध्यम से टाइप करने और बातचीत करने के लिए उपयोग करता था. डेन ने कहा,

मेरे शरीर में कोई वॉलंटरी मसल्स नहीं थीं. मुझे विभिन्न स्विच के साथ आज़माया गया. जैसे मेरी जीभ के सामने एक स्विच लगा हुआ था और एक विजुअल कीबोर्ड था. मैं एक जीभ स्विच के माध्यम से कीबोर्ड पर प्रदर्शित होने वाले अक्षरों और शब्दों का सेलेक्‍शन करूंगा. इस तरह मैं काम करता और सम्मेलनों में पेपर पेश करता. इस वजह से मेरी जीभ हमेशा सूज जाती है. बाद में, मैं पलक झपकते स्विच पर गया.

इसे भी पढ़ें: सफलता, समर्पण और संघर्ष की कहानी, ऑटिज्म से पीड़ित सिंगर बेंजी ने म्यूजिक के जरिए दुनिया में बनाई अपनी पहचान

मुखर्जी परिवार को डेन के साथ संवाद करने और उनके शब्दों को समझने में कभी भी कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ा, जो कुछ भी वह एक ब्‍लू मून में एक बार बोल सकता था. बातचीत करते समय, परिवार डेन के साथ आंख से संपर्क बनाए रखेगा और उसे एक-एक करके वर्णमाला समझाएगा. डेन ने कहा,

उदाहरण के लिए, अगर मैं बॉल कहूं, तो वे पूछेंगे, ‘ए’ और ‘डी’ के बीच पहला अक्षर है? तब मैं पलक झपकते ही लेटर चुनता.

डेन की शारीरिक अक्षमता क्वाड्रा प्लेजिया तक फैली हुई है – चार अंगों का पैरालिसि, पूरे शरीर में डिफॉर्मिटी, मुड़ी हुई रीढ़ की हड्डी और डिस्लेक्सिया. उसकी अक्षमता बिगड़ सकती है जिसका अर्थ है कि यदि डेन दवा बंद कर देता है तो लक्षण वापस आ सकते हैं.

सभी अक्षमताओं के बावजूद, 41 वर्षीय डेन ने विभिन्न भूमिकाएं निभाई हैं और आज, वह एक लेखक, पुरस्कार विजेता अभिनेता, एक रेडियो जॉकी हैं और यहां तक कि दिव्‍यांग लोगों को उनकी चुनौतियों से उबरने और पूर्ण जीवन जीने में मदद कर रहे हैं.

एक बच्चे के रूप में, डेन किंडरगार्टन गए और फिर कोलकाता में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ सेरेब्रल पाल्सी (IICP) चले गए. 2005 में, जब उन्होंने ठीक होना शुरू किया, तो डेन सर्टिफाइड एजुकेशन के लिए उपस्थित हुए. 27 साल की उम्र में, उन्होंने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग (NIOS) के माध्यम से 10वीं कक्षा पास की और 29 साल की उम्र में 12वीं की परीक्षा में शामिल हुए. उन्‍होंने कहा,

उस दौरान मेरे ऊपर एक बड़ा संकट आ गया था क्योंकि मेरे माता-पिता चाहते थे कि मैं पढ़ाई करूं और समय गंवाने से मैं निराश हो गया. मैं अपनी दिव्‍यांगता के कारण बित चुके जीवन को फिर पाना चाहता था. मुझे याद है कि 12वीं कक्षा की परीक्षा के दौरान कंप्यूटर प्रोग्रामिंग सीखना और इंटर्नशिप करना था, लेकिन चूंकि इसने मुझे उत्साहित नहीं किया, इसलिए मैंने इस्तीफा दे दिया और IICP के मीडिया विंग में शामिल हो गया.

इसे भी पढ़ें: Able 2.0: इनेबल इंडिया दिव्यांग लोगों को रोजगार दिलाने में कर रहा है मदद

IICP में काम करते हुए, डेन ने कोलकाता में 91.9 फ्रेंड्स एफएम के स्टेशन प्रोग्रामिंग हेड जॉयदीप बनर्जी से मुलाकात की. डेन ने जिसे रेडियो स्टेशन के साथ एक रेगुलर मीटिंग कम इंटरव्‍यू माना, वह उसके लिए नौकरी का अवसर बन गया.

उस मुलाकात के बाद के दिनों को अपने चेहरे पर एक बड़ी मुस्कान के साथ याद करते हुए डेन ने कहा,

जॉयदीप ने मुझसे पूछा, ‘आप जीवन के बारे में क्या सोचते हैं?’ और मैंने कहा, ‘जीवन ईश्वर का सुंदर उपहार है, जिसका अक्सर मानव जाति द्वारा दुरुपयोग किया जाता है.’ उन्होंने मुझे एक रेडियो शो की पेशकश की जो एक आश्चर्य की बात थी. हालांकि मैं एक बंगाली हूं, मेरी बातचीत हमेशा अंग्रेजी में होती थी, जिसमें बंगाली में 42 के विपरीत 26 अक्षर होते थे. शो के पहले एपिसोड को रिकॉर्ड करने में हमें 12 घंटे लगे और मुझे लगा कि इस रेडियो स्टेशन पर यह मेरा आखिरी दिन है. मैंने IICP से इस्तीफा नहीं दिया क्योंकि मुझे अपने कौशल पर भरोसा नहीं था. तो, पहले 15 दिनों के लिए, मैं दो नौकरियां कर रहा था. मैं सुबह 8 से 2:30 बजे तक IICP में होता और उसके बाद दोपहर 3 से 11 बजे तक रेडियो पर होता और फिर मैं घर जाता, नहाता, रात का खाना खाता और 1 बजे से 4 बजे तक पढ़ाई करता.

डेन ने पांच साल तक ‘हाल छेरो नाह बंधु’ (नेवर गिव अप – डियर फ्रेंड) नाम के एक रेडियो शो की मेजबानी की और 822 एपिसोड किए. उन्हें 2014 में रेडियो एक्सीलेंस अवार्ड और सर्वश्रेष्ठ बंगाली रेडियो जॉकी द्वारा सम्मानित किया गया था. अपनी रेडियो यात्रा को अमर करते हुए, डेन ने एक किताब ’52 स्टेप्स’ लिखी, जो 9 फरवरी, 2019 को जारी की गई थी.

2015-2018 से, डेन ने एक थिएटर कलाकार के रूप में काम किया, और बाद में, IICP में वापस चले गए. बीच में, उन्होंने एक और किताब ‘मेमोयर्स ऑफ टाइम’ लिखी, जिसे 23 जनवरी, 2016 को कोलकाता में लॉन्च किया गया था, और एक फिल्म ‘वन लिटिल फिंगर – एबिलिटी इन डिसेबिलिटी’ में भी काम किया, जो 2019 में अमेरिका में और 16 नवंबर 2020 को विश्‍व भर में रिलीज हुई थी. रूपम सरमा द्वारा लिखित और निर्देशित, इस फिल्म के कलाकारों में 80 से अधिक बच्चे और दिव्‍यांग वयस्क शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें: Leaving No One Behind: इकोज, एक कैफे जिसे विकलांग लोगों द्वारा मैनेज किया जाता है

संयोग से, डेन ने फिल्म में एक आरजे की मुख्य भूमिका निभाई और 5 सितंबर, 2019 को सिनसिनाटी फिल्म फेस्टिवल में ‘सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया. अपनी दिव्‍यांगता और अभिनय की शुरुआत के बारे में बात करते हुए, डेन ने कहा,

मैं सीखने की अक्षमता वाला व्यक्ति हूं. मुझे डिस्लेक्सिया है. लोगों ने मुझे पढ़कर सुनाया है और मैंने सुनने से सीखा है. अब, मेरे पास जो सबसे बड़ा मित्र है, वह है ऑडियोबुक. फिल्म में काम करने के दौरान मुझे डायलॉग्स सुनने, याद रखने, याद करने और डिलीवर करने थे. एक अवॉर्ड पाना हैरानी भरा था, क्योंकि मुझे उम्मीद नहीं थी और मैं इसे खोने से डरता था. मैं जानता हूं कि कोई भी निर्माता दूसरी फिल्म के लिए मुझ पर भरोसा नहीं करेगा, हालांकि मुझे अभिनय का शौक है.

दिव्‍यांग लोगों के लिए काम करने और आने वाली पीढ़ियों और दिव्‍यांगों के लिए एक पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करने के लिए, डेन अब इनेबल इंडिया के साथ काम कर रहा है, जो एक गैर सरकारी संगठन है जो 1999 से दिव्‍यांग लोगों की आर्थिक स्वतंत्रता और सम्मान की दिशा में काम कर रहा है.

डेन का मानना है कि मेरे आनुवंशिक विकार के देर से निदान का खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ा. उसकी भतीजी, जिसे एक समान आनुवंशिक विकार है, किसी भी दिव्‍यांगता से मुक्त जीवन जी रही है. इसे ध्यान में रखते हुए, डेन ने समावेश और दिव्‍यांगता के प्रति लोगों के दृष्टिकोण में बदलाव पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि 80 के दशक में लोगों को दिव्‍यांगों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. यह 90 के दशक में बदल गया जब लोग जागरूक होने लगे और बाद में थोड़ी दिव्‍यांगता को समझने लगे.

सहस्राब्दी के पहले दशक में, लोगों ने समानता देना शुरू कर दिया, समावेश के बारे में बात की और इस विशेष दशक में, मैं व्यक्तिगत रूप से एक समावेशी समाज में प्रगति की तलाश कर रहा हूं जहां अधिक दिव्‍यांगता प्रोफेशनल्‍स विकसित होने जा रहे हैं, और सामाजिक क्षेत्र में अधिक समावेश होने जा रहा है. दोस्ती और प्यार में दिव्‍यांगता की बाधा नहीं दिखती. जीवन का प्रत्येक पहलू अपनी समग्रता में समावेशी होगा. उन्होंने कहा कि संपूर्ण समतावादी समाज केवल एक आकांक्षा नहीं है, यह एक संभावना है कि मैं अपने जीवनकाल में ऐसा होते हुए देखता हूं.

इसे भी पढ़ें: किसी को पीछे न छोड़ना: बनाएं एक ऐसा समावेशी समाज, जिसमें दिव्‍यांगों के लिए भी हो समान अवसर

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=