Connect with us

कोरोनावायरस के बारे में

कोविड-19 महामारी बनी हुई है पब्‍लिक हेल्‍थ अमरजेंसी ऑफ इंटरनेशनल कंसर्न: विश्व स्वास्थ्य संगठन विशेषज्ञ

जबकि भारत समेत कई देश कोरोनोवायरस के खिलाफ सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों में ढील दे रहे हैं, विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञों के समूह ने कहा कि COVID-19 अभी भी एक वैश्विक आपातकाल है

Read In English
कोविड-19 महामारी बनी हुई है पब्‍लिक हेल्‍थ अमरजेंसी ऑफ इंटरनेशनल कंसर्न: विश्व स्वास्थ्य संगठन विशेषज्ञ
महामारी से लड़ने के लिए देशों को अपने सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों को बढ़ाना चाहिए: विश्व स्वास्थ्य संगठन
Highlights
  • अनुशंसित होने पर टीकाकरण और बढ़ावा देकर अपनी सुरक्षा करें: WHO
  • मास्क पहनना जारी रखें, खासकर भीड़-भाड़ वाली जगहों पर: WHO
  • घर के अंदर, खिड़कियां और दरवाजे खुले रखें, अच्छे वेंटिलेशन में निवेश करें:

नई दिल्ली: विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, दुनिया भर से नए कोरोनोवायरस मामलों और इससे होने वाली मौतों की संख्या में लगातार तीसरे सप्ताह गिरावट आई है. हालांकि, डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि इस कमी की व्याख्या सावधानी से की जानी चाहिए, क्योंकि कई देशों ने अपनी परीक्षण रणनीतियों को बदल दिया है, जिससे मामलों में कमी दिख रही है. भारत समेत देशों ने भी कोविड-19 के खिलाफ सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों में ढील दी है. कोविड पर डब्ल्यूएचओ की आपातकालीन समिति ने बुधवार (13 अप्रैल) को सर्वसम्मति से पुष्टि की कि वायरस एक बड़ा सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरा बना हुआ है और जोर देकर कहा कि देशों को सुरक्षा उपायों को छोड़ना बंद कर देना चाहिए.

इसे भी पढ़ें: राय: कोविड और लिंग आधारित हिंसा के जोखिम को कम करने के लिए जरूरी है हर घर में शौचालय

डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों ने जोर देकर कहा कि दुनिया अभी भी महामारी के मध्य चरण में है और यह अंत से बहुत दूर है. कोविड पर डब्ल्यूएचओ की आपातकालीन समिति के अध्यक्ष डिडिएर हाउसिन (Didier Houssin) ने कहा,

महामारी अभी भी अंतरराष्ट्रीय चिंता का एक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल बनी हुई है. उच्चतम स्तर का अलर्ट जो डब्ल्यूएचओ दे सकता है. अभी हमारे पहरेदारों को नीचा करने या सुरक्षा उपायों को हटाने का समय नहीं है – इसके विपरीत, यह एक बेहद स्‍ट्रॉग रिकमंडेशन है. COVID-19 महामारी के संबंध में स्थिति अभी खत्म नहीं हुई है, वायरस का प्रचलन अभी भी बहुत सक्रिय है, मृत्यु दर अधिक है और वायरस अप्रत्याशित तरीके से विकसित हो रहा है. अभी ढील देने का समय नहीं है, न ही निगरानी, परीक्षण और रिपोर्टिंग में कमी करने का, न ही सार्वजनिक और सामाजिक स्वास्थ्य उपायों और टीकाकरण में ढिलाई देने की बात आती है.

रुग्णता और मृत्यु दर को कम करने के लिए COVID-19 टीकाकरण एक महत्वपूर्ण उपकरण है: WHO

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ टेड्रोस अदनोम घेब्रेयसस (Dr Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने लोगों से टीका लगवाने, मास्क पहनना जारी रखने का आग्रह किया है, विशेष रूप से भीड़-भाड़ वाले इनडोर स्थानों में और घर के अंदर अच्छा वेंटिलेशन सुनिश्चित करने के लिए. वे कहते हैं-

यह वायरस समय के साथ अधिक संक्रामक हो गया है और यह विशेष रूप से असुरक्षित और असंक्रमित लोगों के लिए घातक बना हुआ है, जिनके पास स्वास्थ्य देखभाल और एंटीवायरल तक पहुंच नहीं है. यह रुग्णता और मृत्यु दर को कम करने का एक महत्वपूर्ण उपकरण है.

COVID-19 से निपटने पर WHO की सिफारिशें

WHO की विशेषज्ञ समिति ने कहा है कि कुछ चीजें सभी देशों के लिए अहम हैं:

– जुलाई 2022 की शुरुआत तक टीकाकरण किए गए सभी देशों की कम से कम 70 प्रतिशत आबादी की वैश्विक डब्ल्यूएचओ सिफारिशों के अनुरूप राष्ट्रीय COVID-19 टीकाकरण लक्ष्यों को प्राप्त करें.

– वायरस और जनसंख्या प्रतिरक्षा में परिवर्तन के जवाब में महामारी से लड़ने के लिए देशों को अपने सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों को बढ़ाना चाहिए.

– एक रिस्‍क बेस्‍ड अप्रोच की जरूरत है. जोखिमों का मूल्यांकन, शमन और संचार करके सामूहिक आयोजनों के लिए जोखिम-आधारित दृष्टिकोण अपनाएं. यह स्वीकार करते हुए कि सामूहिक समारोह इसके लिए अलग-अलग चालक और जोखिम को बढ़ा सकते हैं, महामारी विज्ञान के संदर्भ (epidemiological context) (चिंता के रूपों की व्यापकता और संचरण की तीव्रता सहित), निगरानी, ​​संपर्क अनुरेखण और परीक्षण क्षमता, साथ ही जनता के पालन पर विचार करना महत्वपूर्ण है. इस जोखिम मूल्यांकन और आयोजनों की योजना बनाते समय स्वास्थ्य और सामाजिक उपाय अपनाए जाने चाहिए.

– देशों को, अस्पताल में भर्ती होने, गहन देखभाल इकाइयों में प्रवेश और मौतों जैसे COVID-19 के आंकड़ों की निगरानी के लिए संकेतक एकत्र करने चाहिए और इन्‍हें सार्वजनिक रूप से साझा किया जाना चाहिए.

– देशों को स्वास्थ्य तक पहुंच बढ़ानी चाहिए, जिसमें सभी स्तरों पर स्वास्थ्य सेवाओं की बहाली और विशेष रूप से बच्चों और युवा वयस्कों पर महामारी के प्रभावों से निपटने के लिए सामाजिक प्रणालियों को मजबूत करना शामिल है.

इसे भी पढ़ें: “मास्क पहनने, हाथ साफ रखने जैसे दिशानिर्देश 31 मार्च के बाद भी जारी रहेंगे” : स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने किया स्‍पष्‍ट

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts