Connect with us

विशेषज्ञों के ब्लॉग

राय: कोविड और लिंग आधारित हिंसा के जोखिम को कम करने के लिए जरूरी है हर घर में शौचालय

विशेषज्ञों का कहना है कि भारत में शहरी गरीबों में, एक वर्ग जो साझा शौचालयों पर निर्भर है, कोविड का जोखिम बहुत अधिक है

Read In English
राय: कोविड और लिंग आधारित हिंसा के जोखिम को कम करने के लिए जरूरी है हर घर में शौचालय
विशेषज्ञों का कहना है कि साझा शौचालयों का उपयोग करने वाली महिलाओं और लड़कियों को इन सुविधाओं तक पहुंचने के दौरान लगातार उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है

‘रोकथाम इलाज से बेहतर है’ इस पुरानी कहावत के महत्व को कोविड-19 महामारी ने और भी मजबूती से सामने रखा. देश भर में सामूहिक रूप से लोगों ने खुद को बचाने के लिए मास्क पहनना, दूरी बनाए रखना और सार्वजनिक स्थानों से परहेज करने जैसी सावधानियां बरतीं. हालांकि, लोगों का एक बड़ा वर्ग बना हुआ है, जिनके लिए इनमें से कुछ सावधानियां का विकल्प ही नहीं हैं. भारत में शहरी गरीबों के लिए, एक वर्ग जो साझा शौचालयों पर निर्भर है, बीमारी का जोखिम बहुत अधिक है – जैसा कि कई अध्ययनों से पता चला है. ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन के एक फीचर, 1 ने उल्लेख किया कि मुंबई में “अत्यधिक उपयोग और खराब रखरखाव वाले मेगा सामुदायिक शौचालयों की उपस्थिति को शहर में कोविड -19 मामलों के विस्फोट के लिए ‘प्रमुख कारण’ के रूप में देखा जाता है”. पहले से ही रोजगार के नुकसान और स्वास्थ्य सुविधाओं तक पहुंच की कमी के बोझ तले दबे, शहरी झुग्गी बस्तियों में रहने वाले लोगों के पास संचारी रोगों के कारण लंबे समय तक तनाव में रहने के लिए अल्प संसाधनों की समस्‍या है. साझा शौचालयों का उपयोग करने वाली महिलाओं और लड़कियों को इन सुविधाओं तक पहुंचने के दौरान लगातार उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है. देखभाल की अर्थव्यवस्था की भूमिकाओं और अपने मासिक धर्म स्वच्छता के प्रबंधन की अन्य जरूरतों के बोझ तले दबे होने के कारण, उन्हें अधिक असमानता का सामना करना पड़ता है. कोविड के दौरान इन असमानताओं को और बढ़ा दिया गया था जब साझा सुविधाओं तक पहुंच ने संक्रमणों की संप्रेषणीयता के मामले और खतरे को बढ़ा दिया था.

इसे भी पढ़ें: महिलाओं द्वारा, महिलाओं के लिए, दिल्ली में लिंग भेद तोड़ती पिंक एम्बुलेंस

इस परिदृश्य में, व्यक्तिगत घरेलू शौचालय (आईएचएचटी) समुदायों के समग्र स्वास्थ्य और भलाई को संबोधित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. घर में शौचालय होने से महिलाओं और किशोरियों की गोपनीयता और सुरक्षा संबंधी चिंताओं को दूर किया जा सकता है और मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन की उनकी जरूरतों को पूरा किया जा सकता है. बुजुर्गों, विकलांग लोगों और ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के लिए घरेलू शौचालय एक उपाय हो सकता है. यहां तक कि नागरिकों को अपने घरों में शौचालय बनाने के लिए प्रेरित करने के लिए जागरूकता और प्रोत्साहन आधारित दृष्टिकोण अपनाया गया है, इन शौचालयों के निर्माण में कई बाधाएं हैं. कुछ प्रमुख चिंताओं में शामिल हैं:

– छोटे आवासों वाले उच्च घनत्व वाले क्षेत्रों में जगह की कमी
– अन्य ढांचागत मुद्दे जैसे पानी की आपूर्ति की कमी, सीवरेज कनेक्शन प्राप्त करने में असमर्थता, विशेष रूप से शहरों की कॉम्पैक्ट बस्तियों में.
– व्यवहार संबंधी मुद्दे जैसे सामुदायिक शौचालय सुविधाओं की प्राथमिकता, जरूरत की तथाकथित कमी और घर के अंदर शौचालय बनाने के लिए समुदाय के सदस्यों में झिझक.

विभिन्न शहरों के अनुभवों ने इन बाधाओं को दूर करने की संभावनाओं और तरीकों का रास्‍ता दिखाया है. समुदाय के सदस्यों और सरकारी हितधारकों द्वारा छोटे घरों में जगह के अनुकूल पुन: उपयोग, समूह सुविधाओं की संभावनाएं, स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से स्वच्छता ऋण तक पहुंच और शहरी मलिन बस्तियों में सीवरेज पहुंच प्रदान करने के लिए उचित उपाय अपनाए जाते हैं. उदाहरण के लिए, पुणे नगर निगम ने शेल्टर एसोसिएट्स (एसए) के साथ साझेदारी में अपने वन होम वन टॉयलेट (ओएचओटी) कार्यक्रम के माध्यम से 3186 आईएचएचटी का निर्माण किया है. इस मॉडल के तहत, एसए शौचालयों के निर्माण के लिए जरूरी चीजों की लागत को कवर करता है, समुदाय के सदस्य श्रम लागत को कवर करते हैं और निर्माण की प्रक्रिया को तेज करने में मदद करने के लिए सामग्री को उनके घर तक पहुंचाया जाता है. इन शौचालयों के निर्माण पर लगातार जोर दिया जा रहा है, खासकर महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा की दृष्टि से, समुदाय के सदस्यों को इस दिशा में एक कदम उठाने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है.

इसी तरह, शौचालयों के निर्माण के लिए पर्याप्त जगह की कमी को दूर करने के लिए, महाराष्ट्र के वाई, महाड, सिन्नार, वडागांव और वीटा जैसे कुछ शहरों ने सामूहिक शौचालय का विचार पेश किया है, जिसमें संयुक्त परिवार या दो से तीन घरों में एक शौचालय है. समूह शौचालय, भले ही एक घर द्वारा पूरी तरह से उपयोग नहीं किया जाता है, बड़ी संख्या में लोगों तक पहुंच को सीमित करता है, स्वच्छता के रखरखाव की सुविधा प्रदान करता है और सामुदायिक और सार्वजनिक शौचालयों से जुड़े कई जोखिमों को कम करता है.

स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से बैंकों और सूक्ष्म-वित्त संस्थानों (एमएफआई) के माध्यम से स्वच्छता ऋण ने भी महिलाओं और कमजोर समुदायों से संबंधित अन्य समूहों को व्यक्तिगत घरेलू शौचालय बनाने में मदद की है. महाराष्ट्र के जालना में महज 12 वर्ग मीटर के एक छोटे से घर में रहने वाली सुमन को भी जगह की कमी घर में शौचालय सह बाथरूम बनाने से नहीं रोक सकी. सुमन एक स्वयं सहायता समूह (एसएचजी) की सदस्य हैं, जिसके माध्यम से वह एक निजी बैंक से 11,000 रुपये लेने और 5500 रुपये आंतरिक एसएचजी ऋण के रूप में ले पाने में सफल हुईं और शौचालय बना सकीं. जालना में अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों से एसएचजी को जोड़कर 300 से अधिक महिलाओं को स्वच्छता ऋण मिल पाया है.

इसे भी पढ़ें: किस तरह ग्रामीण भारतीय इलाकों में महिलाएं लिंग भेद को खत्‍म कर नए और स्थायी कल के लिए काम कर रही हैं…

जुटाए गए डाटा और व्यवहार परिवर्तन कार्यक्रम समुदायों की स्वच्छता जरूरतों की समझ को बढ़ाते हैं. इन्हें जब सामुदायिक जागरूकता कार्यक्रमों के साथ जोड़ा गया है, जिसमें घर में शौचालयों की जरूरत और खुले में शौच के खतरों और पर्याप्त उपायों के इस्‍तेमाल की जानकारी पर जोर दिया गया है, तो बेहतर नतीजे मिले हैं. समुदायों की भूमिका को दिखाने करने के उद्देश्य से, खासतौर पर महिलाओं और स्थानीय सरकार द्वारा देश भर में सबसे कमजोर क्षेत्रों में व्यक्तिगत घरेलू शौचालयों के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका, सीआरडीएफ, सीईपीटी विश्वविद्यालय में जल और स्वच्छता केंद्र, के भागीदारों के साथ. नेशनल फेकल स्लज एंड सेप्टेज मैनेजमेंट एलायंस (एनएफएसएसएम एलायंस) ने आईआईएचटी के निर्माण में इन कथित बाधाओं को सफलतापूर्वक संबोधित करने के तरीके को प्रदर्शित करने के लिए मामलों का एक संग्रह विकसित किया है.

सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) 6 और 2030 के लिए इसका लक्ष्य 6.2 सभी के लिए पर्याप्त और समान स्वच्छता और स्वच्छता तक पहुंच, खुले में शौच को समाप्त करने और महिलाओं और लड़कियों और कमजोर परिस्थितियों में विशेष ध्यान देने पर जोर देता है. सामाजिक मुद्दों की परस्पर संबद्धता को देखते हुए, सुरक्षित स्वच्छता तक पहुंच के कई गुना प्रभाव सार्वजनिक स्वास्थ्य संकेतकों में सुधार, महिलाओं और लड़कियों के लिए शिक्षा और आजीविका के अवसरों में सुधार और हाशिए पर रहने वाले व्यक्तियों और समूहों के लिए सुरक्षा के रूप में देखा जा सकता है. सभी के लिए स्वच्छता नहीं हो सकती, क्योंकि शौचालय तक पहुंचने की कीमत एक व्यक्ति का स्वास्थ्य और सुरक्षा है. यह व्यक्तिगत घरेलू शौचालयों के महत्‍व को बढ़ाता है क्‍योंकि सामुदायिक शौचालयों के अनुचित रखरखाव से जटिल होने जैसे कई मुद्दों के चलते उनके निर्माण के लिए निरंतर प्रोत्साहन की जरूरत होगी.

इसे भी पढ़ें: अमेरिका से पब्लिक हेल्थ की पढ़ाई करके लौटे दंपत्ति महाराष्ट्र के आदिवासी इलाके के लिए बने स्वास्थ्य दूत

(ध्रुव भावसार सेंटर फॉर वाटर एंड सैनिटेशन (सी-डब्ल्यूएएस) में सीनियर प्रोग्राम लीड हैं और अरवा भारमल सेंटर फॉर वाटर एंड सेनिटेशन में प्रोग्राम लीड हैं. सीईपीटी यूनिवर्सिटी के सी-डब्ल्यूएएस (C-WAS) ने (पूर्व में सेंटर फॉर एनवायरनमेंटल प्लानिंग एंड टेक्नोलॉजी) शहरी जल और स्वच्छता संबंधी अनुसंधान किया है.)

(डॉ विवेक चौहान (पीएचडी), मैनेजर – रेकिट वॉश (WASH) हैं)

अस्वीकरण: ये लेखक के निजी विचार हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

More हिंदी में पड़े

Latest Posts