Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

कोविड योद्धा: मिलें कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में भारत की मदद करने वाले 34 वर्षीय अमेरिकी डॉक्टर से

डॉ हरमनदीप सिंह बोपाराय फिलहाल डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स के साथ मुंबई में एक अस्पताल में काम कर रहे हैं

Read In English
कोविड योद्धा: मिलें कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में भारत की मदद करने वाले 34 वर्षीय अमेरिकी डॉक्टर से
Highlights
  • डॉ बोपाराय ने कोविड की पहली लहर के दौरान न्यूयॉर्क में काम किया था
  • कोविड से लड़ने में मदद करने के लिए डॉ बोपाराय इस साल अप्रैल में अमृतसर आए
  • डॉ बोपाराय वर्तमान में मुंबई में डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स के साथ काम कर रहे

नई दिल्ली: 2020 में कोविड-19 महामारी की पहली लहर के दौरान न्यूयॉर्क में एक फ्रंटलाइन कार्यकर्ता के रूप में काम करने के बाद, डॉ हरमनदीप सिंह बोपाराय इस साल की शुरुआत में अपने होमटाउन अमृतसर लौट आए. ऐसा उन्‍होंने इसलिए किया ताकि कोविड मामलों की बढ़ती संख्या में मदद की जा सके. महामारी की दूसरी लहर के दौरान बड़े पैमाने पर केसलोएड के साथ देश के संघर्ष, 34 वर्षीय डॉ बोपाराय, जो एनेस्थिसियोलॉजी और क्रिटिकल केयर के विशेषज्ञ हैं, ने वापस रहने और अपने सहयोगियों को अदृश्य दुश्मन से लड़ने में मदद करने का फैसला किया. एनडीटीवी के साथ एक साक्षात्कार में, इस कोविड योद्धा ने न्यूयॉर्क में काम करने को याद किया और भारत में काम करने के बारे में विस्तार से बात की.

इसे भी पढ़ें : दुनिया लैंगिक असमानता और महिलाओं के खिलाफ हिंसा के शेडो पेंडेमिक से जूझ रही है: सुसान फर्ग्यूसन, भारत की संयुक्त राष्ट्र महिला प्रतिनिधि

मैं महामारी की पहली लहर के दौरान न्यूयॉर्क में था, जब यह इटली और चीन के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका में आया था. जब मैं अप्रैल में भारत वापस आया, तो मेरा इरादा उन सीखों का इस्‍तेमाल करना था जो हमने विदेशों में ली थीं. ताकि क्षमता निर्माण शुरू किया जा सके और यहां के स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ-साथ बुनियादी ढांचे दोनों की मदद की जा सके. मामले बहुत तेजी से बढ़ने लगे इसलिए मैंने अपनी सभी प्रतिबद्धताओं पर बने रहने और टालने का फैसला किया क्योंकि हमें डेक पर सभी की जरूरत थी, डॉ बोपाराय ने कहा.

इसके बाद, डॉ बोपराई डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स नामक एक अंतरराष्ट्रीय मानवीय संगठन के साथ मुंबई गए और 1000-बेड वाले कोविड अस्पताल में उनके साथ लगभग तीन हफ्ते बिताए. मुंबई में अपने काम के बारे में बात करते हुए, डॉ बोपाराय ने कहा, “हमने अपनी टीम के साथ वार्डों में सहायता की और साथ ही हम तकरीबन 300 या ज्‍यादा डॉक्टरों और नर्सों को किसी तरह से कोविड रोगियों को आकस्मिक रूप से देखने के लिए प्रशिक्षित करने में सक्षम रहे.”

आगे इस बारे में बात करते हुए कि कैसे कोविड ने अमेरिका और भारत को प्रभावित किया और कैसे दोनों देशों ने महामारी से लड़ाई लड़ी, डॉ बोपाराय ने कहा, “हालांकि अमेरिका में स्वास्थ्य सेवा का बुनियादी ढांचा निश्चित रूप से बहुत अधिक उन्नत है, फिर भी, फ्रंटलाइन कार्यकर्ता कुछ हद तक अनजान थे. न्यूयॉर्क में पहली लहर के दौरान सिस्टम मरीजों की संख्या से पूरा था, लेकिन हमारे पास अभी भी पर्याप्त डॉक्टर और नर्स थे, हमारे पास अभी भी एक प्रबंधनीय केसलोड था.

भारत में, हमने जो देखा है, वह यह है कि हमारे द्वारा देखे गए मामलों की संख्या के कारण हमारा मौजूदा बुनियादी ढांचा बड़े पैमाने पर प्रभावित हो गया है. उसके साथ, हमारी आपूर्ति श्रृंखला, हमारी ऑक्सीजन आपूर्ति, सब कुछ तनावग्रस्त हो गया है, उन्होंने कहा.

डॉ बोपाराय ने एक और अंतर पर बात करते हुए कहा कि यहां, भारत में, हर कोई, स्वास्थ्य कार्यकर्ता और नागरिक दूसरों की मदद करने के लिए और संकट से उबरने के लिए आगे आया और जो उनके मुताबिक उत्साहजनक है. हालांकि, अब जब देश में कोविड के मामले कम हैं, तो डॉ बोपाराय ने स्थिति का जायजा लेने और जहां भी संभव हो क्षमता को बढ़ाने पर काम करने, प्रश‍िक्षण देने और जो संभव हो सके उस स्‍तर पर तैयार रहने की सलाह देते हैं.

महामारी से अपनी सीख साझा करते हुए, डॉ बोपाराय ने कहा, सीमित सुविधाओं और बुनियादी ढांचे के साथ भी, हम बड़ी संख्या में लोगों की मदद कर सकते हैं, अगर हम यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि हमारे पास उस बुनियादी ढांचे का कुशल उपयोग है, साथ ही साथ लोगों के लिए पर्याप्त समर्थन भी है, जो काम कर रहे हैं.

भविष्य के केसलोड से निपटने के लिए, डॉ बोपाराय स्वास्थ्य पेशेवरों और अन्‍य लोगों को जो अग्रिम पंक्ति में हैं, के समर्थन की सिफारिश करते हैं और उन्‍हें मानिसक राहत और जहां भी जरूरत हो प्रशिक्षण देने की सलाह भी देते हैं.

डॉ बोपाराय ने कहा, यहां रहने का मेरा एक इरादा इनमें से किसी भी खाली स्‍थान को जरूरत होने पर भरने में मदद करने को जारी रखने का है.

इसे भी पढ़ें : फ्रंटलाइन वर्कर्स से प्रेरित ओडिशा के 22 वर्षीय कोविड योद्धा ने महामारी के खिलाफ लड़ाई में लिया हिस्‍सा

Highlights From The 12-Hour Telethon

Leaving No One Behind

Mental Health

Environment

Join Us