Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

इन 5 टिप्‍स से पैरेंट्स बच्‍चों को लिंग रूढ़िवादिता से बचने में मदद कर सकते हैं

विशेषज्ञों के अनुसार, ज्यादातर बच्चे 18 महीने की उम्र से ही लिंग को पहचानने की क्षमता विकसित कर लेते हैं

Read In English
इन 5 टिप्‍स से पैरेंट्स बच्‍चों को लिंग रूढ़िवादिता से बचने में मदद कर सकते हैं

नई दिल्ली: जब 5 साल के लड़के अर्जुन को उसकी 5 साल की दोस्त राशी ने घर-घर खेलते समय उनके लिए चाय बनाने के लिए कहा, तो उसने इनकार कर दिया और कहा कि लड़कियां ‘कुकिंग’ करती हैं और लड़के जाते हैं ऑफिस. यह तर्क लड़ाई में बदल गया और घर-घर का उनका छोटा-सा खेल कुछ ही समय में खत्म हो गया. यूनिसेफ (संयुक्त राष्ट्र बाल कोष) के अनुसार, बच्चे अपने घरों और समुदायों में रोज़ किताबों, मीडिया और उनकी देखभाल करने वाले बड़ों के बीच लैंगिक असमानता देखते हैं. यह दृष्टिकोण और व्यवहार बच्चों को उनके वयस्कता तक प्रभावित करते हैं. एक्‍स्‍पर्ट का कहना है कि यह उनके आत्मसम्मान, रिश्ते, स्वास्थ्य और सुरक्षा को प्रभावित कर सकता है. विशेषज्ञों के अनुसार, 18 महीने से कम उम्र के अधिकांश बच्चे महिला और पुरुष जैसे रूढ़िवादी लिंग समूहों को पहचानने की क्षमता विकसित कर लेते हैं. यह जानने के लिए कि माता-पिता बच्चे के शुरुआती वर्षों में लैंगिक रूढ़िवादिता को कैसे चुनौती दे सकते हैं, NDTV ने महिलाओं और लड़कियों के सशक्तिकरण के लिए काम करने वाले एक गैर-सरकारी संगठन ‘अक्षरा केंद्र’ की सह-संस्थापक नंदिता शाह और संस्थापक-निदेशक चरित जग्गी से बात की. We The Young, LGBTQIA+ (समलैंगिक, समलैंगिक, उभयलिंगी, ट्रांसजेंडर, इंटरसेक्स, क्वीर, अलैंगिक और अधिक) मुद्दों, मानसिक स्वास्थ्य, लैंगिक असमानता और यौन उत्पीड़न के बारे में कहानियों को साझा करने के लिए युवाओं के लिए एक ऑनलाइन मंच है.

इसे भी पढ़ें : किशोर यौन स्वास्थ्य: इन पांच विषयों पर आपको अपने पूर्व-किशोर या किशोर के साथ चर्चा करनी चाहिए

खुद को शिक्षित करके जेंडर रूढ़िवादिता से दूर रहें

शाह ने कहा, ‘लैंगिक रूढ़िवादिता से दूर रहने वाले बच्चों की परवरिश की दिशा में पहला कदम स्वयं लैंगिक रूढ़ियों को दूर करना है. इसके लिए वयस्कों ने अपने जीवन में जो देखा उसे बदलना होगा. उन्हें खुद को शिक्षित करने और लिंग के बारे में जागरूक करने की भी आवश्यकता है और कौन-सी गतिविधियां या धारणाएं भेदभावपूर्ण हैं, ये भी समझना होगा. पैरेंट्स और टीचर्स को पहले अपने खुद के व्यवहार को सुधारने के लिए निरंतर प्रयास करने की जरूरत है.’ उन्होंने कहा कि बच्चे अपने माता-पिता और शिक्षकों की नकल करते हैं और इसलिए यदि वे अपने परिवार में वयस्क पुरुषों को गैजेट ठीक करने या अपने परिवार की महिलाओं को ज्यादातर खाना पकाने का काम करते देखते हैं, तो वे यह मानने लगते हैं कि यह ‘पुरुषों का काम’ है और ‘ महिलाओं की नौकरी’.

उन्‍होंने कहा, अपने बच्चे को अलग-अलग तरह के काम करते हुए देखने की आदत डालें. बच्चों को बताया जाना चाहिए कि वे अपने हितों का पालन करने के लिए आजाद हैं, भले ही जेंडर के मानदंड कुछ भी हों, इसका अभ्यास घर पर स्वयं करें.

अपने बच्चों की एक्टिविटी को सीमित न करें

जग्गी ने कहा कि बच्चों के लिए यह जानना जरूरी है कि वे खेल, स्कूल में कठिन विषय लेने, खाना पकाने या सफाई जैसी गतिविधियां कर सकते हैं, जो आमतौर पर एक विशेष जेंडर से जुड़ी होती हैं. उन्होंने कहा,

सभी बच्चों को, जैविक सेक्स की परवाह किए बिना, अपनी पूरी क्षमता तक पहुंचने का अधिकार है कि वे जो चाहें सीख सकते हैं या अपनी पसंद के खेल में भाग ले सकते हैं या किसी खिलौने से खेल सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : किशोर यौन स्वास्थ्य: विशेषज्ञों कहते हैं, पैरेंट्स, टीचर्स को सेक्स और सेक्‍चूऐलिटी पर चुप्पी के चक्र को तोड़ने की जरूरत है

जेंडर न्यूट्रल पेरेंटिंग और जेंडर मार्केटिंग से सावधान रहें

शाह ने जोर देकर कहा कि पैरंट्स को जेंडर न्‍यूट्रल शब्‍दों का अधिक प्रयोग करना चाहिए. जैसे ‘पुलिस मैंन की जगह पुलिस अधिकारी या महिला पुलिस, इसी तरह लड़का या लड़की की बजाए ‘बच्चों’ या ‘बच्चा’ कहना. उन्होंने कहा कि अपने बच्चों की तारीफ या अनुशासन करते समय उनके जेंडर के आधार पर भेदभाव न करें. उन्होंने जोर देकर कहा कि जेंडर न्‍यूट्रल भाषा का उपयोग करने के साथ-साथ, उन्होंने बच्चों के लिए खिलौने खरीदते समय सावधानी बरतने पर जोर दिया, क्योंकि ये बच्चे के व्यक्तित्व के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और जेंडर मार्केटिंग के जाल में नहीं फंसते हैं.

बच्चों के खिलौने और कपड़े तेजी से जेंडर द्वारा विभाजित होते जा रहे हैं, क्योंकि कंपनियां लैंगिक रूढ़िबद्ध समाज का शोषण करके मुनाफा कमाने की कोशिश करती हैं. लड़कियों और लड़कों दोनों को खेलने के लिए खिलौनों की एक विस्तृत सीरीज दें, जैसे खिलौने, गुड़िया, कार बनाना. उन्हें खेल, पहेलियां, खिलौने दें, जो जेंडर बेस्‍ड न हों या लोगों को गैर-रूढ़िवादी भूमिकाओं में दिखाएं जैसे कि महिला प्लंबर या पुरुष नर्स. कलर्स को अनजेंडर करें. अपने बच्चों को उनकी पसंद के अनुसार, उनके खिलौनों और कपड़ों के कलर चुनने दें. लड़कियों पर गुलाबी रंग और लड़कों पर नीला रंग न थोपें.

इसे भी पढ़ें : Children And Gender Identity: माता-पिता और शिक्षक नॉन-कंफर्मिंग एडोल्‍सेंस यानी लैंगिक गैर-अनुरूपता वाले किशोरों का समर्थन कैसे करें?

जेंडर मीडिया से बचें

जग्गी के अनुसार, बच्चों को किताबों, फिल्मों और मीडिया के अन्य रूपों में पाए जाने वाले गैर-रूढ़िवादी चरित्रों से अवगत कराने से व्यवहार के पैटर्न को फिर से चेंज किया जा सकता है और अन्य जेंडर के प्रति उनके दृष्टिकोण को व्यापक बनाया जा सकता है. उदाहरण के लिए, पुरुषों जैसे लिंग आधारित मीडिया संदेश आक्रामक, भारी और मजबूत होते हैं, या महिलाओं का हाइपरसेक्सुअलाइज्ड चित्रण इस बात को प्रभावित करता है कि लोग कम उम्र से ही अपने जेंडर को कैसे समझते हैं. उन्होंने कहा,

कम उम्र में बच्चे सूचनाओं को जल्दी अवशोषित कर लेते हैं क्योंकि उनका दिमाग तेज गति से बढ़ रहा होता है. इस प्रकार, यह जरूरी है कि आप उन्हें विभिन्न संसाधनों तक पहुंचने में मदद करें, जो लैंगिक रूढ़िवादिता को संचालित नहीं करते हैं.

बच्चों को महिला-पुरुष दोनों तरह के दोस्‍त बनाने के लिए प्रोत्साहित करें

जग्गी के अनुसार, बच्चों के लिए यह सीखना जरूरी है कि सामाजिक कौशल कैसे विकसित किया जाए, ताकि वे अपने साथियों के साथ सम्मानपूर्वक बातचीत कर सकें, चाहे उनका जेंडर कुछ भी हो. उन्होंने कहा कि बच्चों को लिंग-विविध बच्चों के साथ घुलने-मिलने की अनुमति नहीं देने से अन्य जेंडर के लोगों के प्रति सेक्सिस्ट दृष्टिकोण जैसे नकारात्मक प्रभाव पड़ सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : राय: “Shhhhhh…” से व्यापक कामुकता शिक्षा तक

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=