NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India

ताज़ातरीन ख़बरें

भारत में बच्चों के लिए पहली कोविड वैक्सीन को मिली मंजूरी, जानें इसकी खासियत

जायडस कैडिला एक तीन डोज स्पेशलाइज्ड नीडल-फ्री वैक्सीन है, जो प्रत्येक डोज के बीच 4 सप्ताह के अंतराल में दिया जाता है. सितंबर में वैक्सीन के बाजार में आने की उम्मीद है

Read In English
भारत में बच्चों के लिए पहली कोविड वैक्सीन को मिली मंजूरी, जानें इसकी खासियत

नई दिल्ली: भारत के दवा नियामक ने हाल ही में जायडस कैडिला की तीन-डोज वाली कोविड-19 डीएनए वैक्सीन को 12 साल और उससे अधिक उम्र के वयस्कों और बच्चों में आपातकालीन इस्तेाल के लिए मंजूरी दे दी है, जिससे देश में इस्तेमाल के लिए अधिकृत छठा वैक्सीन आ गया है. कैडिला हेल्थकेयर लिमिटेड के रूप में सूचीबद्ध जेनेरिक दवा निर्माता ने 1 जुलाई को ZyCoV-D के प्राधिकरण के लिए आवेदन किया , जो देश भर में 28,000 से अधिक वालंटियर्स के लेट-स्टेज- ट्रायल में 66.6 प्रतिशत की प्रभावकारिता दर पर आधारित था.

इसे भी पढ़ें: जानिए व्हाट्सएप पर मिनटों में कैसे पा सकते हैं आप COVID-19 वैक्‍सीनेशन का सर्टिफिकेट

ZyCoV-D कोरोनावायरस के खिलाफ दुनिया का पहला प्लास्मिड डीएनए वैक्सीन है. यह वायरस से आनुवंशिक सामग्री के एक हिस्से का इस्तेमाल करता है जो विशिष्ट प्रोटीन बनाने के लिए डीएनए या आरएनए के रूप में निर्देश देता है जिसे इम्यून सिस्टम पहचानती है और प्रतिक्रिया करती है. यह एक तीन डोज स्पेशलाइज्ड नीडल-फ्री वैक्सीन है, जो प्रत्येक डोज के बीच 4 सप्ताह के अंतराल में दिया जाता है.

वैक्सीन के बारे में अधिक जानकारी जानने के लिए, एनडीटीवी ने जायडस ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ शर्विल पटेल से बात की
वैक्सीन के पहले कई पहलुओं पर प्रकाश डालते हुए, डॉ शर्विल पटेल ने कहा, “इस यात्रा को शुरू करने से पहले हमारे दिमाग में कुछ चीजें थीं. हमें एक ऐसे प्लेटफॉर्म की जरूरत थी, जिसे तेजी से नए स्ट्रेन या वेरिएंट के मुताबिक बनाया जा सके. दूसरा, हम यह सुनिश्चित करना चाहते थे कि सेफ्टी प्रोफ़ाइल अच्छी हो क्योंकि हम इसे बड़ी संख्या में लोगों को देना चाहते थे, इसलिए यह ज्यादा महत्वपूर्ण था. इसलिए, धीरे-धीरे हमने जनसंख्या पर चरणबद्ध चरण, ट्रायल्स शुरू किए.वैक्सीन के बारे में बात करते हुए और यह कैसे कई लोगों में वैक्सीन की झिझक से निपटा सकता है, डॉ शर्विल पटेल ने कहा,

तो, यह पहली डोज है जो बिना सुई के दी जाएगी. सुई के डर से वैक्सीन लेने में बहुत हिचकिचाहट होती है, इससे वह चिंता दूर हो जाती है.

आगे बात करते हुए, इसे दवा नियामक निकाय से आपातकालीन मंजूरी कैसे मिली, डॉ शर्विल पटेल ने कहा,

वैक्सीन की सेफ्टी प्रोफ़ाइल जैसी चीजों को देखते हुए, क्योंकि इसमें कोई वेक्टर-बेस्ड इम्यूनिटी नहीं है, इसे बिना सुई के दिया जा सकता है और यह तेजी से खुद को नए वेरिएंट में अपडेट कर सकता है, भारत का दवा नियामक हमें आपातकालीन मंजूरी देने में सक्षम था. हमारे पहले के सभी ट्रायल्स में, हमने बहुत कम या ऐसे सुरक्षा संकेत नहीं देखे थे जो बहुत चिंताजनक थे. ट्रायल्स के दौरान, हमने महसूस किया कि जैब बच्चों के लिए भी सुरक्षित हो सकता है और इसलिए हम आगे बढ़े और सचेत रूप से 12-18 वर्ष की आयु के 1000 से अधिक बच्चों का एक ग्रूप बनाया.

आपूर्ति और मूल्य निर्धारण के बारे में बात करते हुए, डॉ शर्विल पटेल ने कहा कि वर्तमान में उनके पास देश के प्रत्येक व्यक्ति को वैक्सीन की आपूर्ति करने की क्षमता नहीं है, लेकिन फिलहाल, कंपनी एक महीने में एक करोड़ डोज उपलब्ध कराने पर विचार कर रही है. उन्होंने कहा,

बाजार में वैक्सीन उपलब्ध होने से पहले कंपनी को स्टेरिलिटी टेस्ट, ऑडिट जैसी कई चीजों से गुजरना पड़ता है. अगर सब कुछ ठीक रहा, तो डोज सितंबर तक उपलब्ध हो सकती है और अक्टूबर के मध्य या अंत तक पूरे पैमाने पर उपलब्ध हो सकती है. अभी के लिए, मूल्य निर्धारण पर कुछ भी तय नहीं किया गया है.

इसे भी पढ़ें: जन-जन तक स्वास्थ्य सेवाएं, दिल्ली ने नए कॉम्पैक्ट ‘मोहल्ला क्लीनिक’ लॉन्च किए

Highlights: Banega Swasth India Launches Season 10

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पढ़ें

This website follows the DNPA Code of Ethics

© Copyright NDTV Convergence Limited 2024. All rights reserved.