Connect with us

बेहतर भविष्य के लिए रेकिट की प्रतिबद्धता

सीजन 8 में, हम सभी को शामिल करने के लिए 360° दृष्टिकोण अपना रहे हैं: रवि भटनागर

रेकिट के रवि भटनागर का कहना है कि देश का स्वास्थ्य यहां के लोगों के स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है.

Read In English
सीजन 8 में, हम सभी को शामिल करने के लिए 360* दृष्टिकोण अपना रहे हैं: रवि भटनागर

नई दिल्ली: एक फेसबुक लाइव सत्र में रेकिट के डायरेक्‍टर एक्सटर्नल अफेयर्स और पार्टनरशिप, दक्षिण एशिया के रवि भटनागर कहते हैं, बनेगा स्वस्थ इंडिया (बीएसआई) के सीजन 8 में, अभियान का उद्देश्य इस तथ्य पर ध्यान देना है कि एक देश के रूप में हम अपनी सबसे कमजोर आबादी के समान ही स्वस्थ हैं. डेटॉल और एनडीटीवी 2014 से स्वच्छ और स्वस्थ भारत की दिशा में काम कर रहे हैं. इस साल, अभियान ‘एक स्वास्थ्य, एक ग्रह, एक भविष्य- किसी को पीछे नहीं छोड़ना’ के एजेंडे के साथ अपने आठवें वर्ष में आगे बढ़ रहा है. पेश हैं इंटरव्यू के कुछ अंश

NDTV: किसी देश के नागरिकों का स्वास्थ्य उसकी प्रगति से जुड़ा होता है. क्या आप इस बात से सहमत हैं?

रवि भटनागर: हां, यह बहुत ज़रूरी है. हम भारत की आजादी के 75वें वर्ष के करीब हैं, जिसने हमें कई महत्वपूर्ण सबक सिखाए हैं. इन सबकों में से एक है ‘वी कैन डू इट’. जब मैं कहता हूं ‘वी कैन डू इट’, हमने इसे करके दिखाया है, हमने इसे कई बार साबित किया है. चाहे वह चेचक हो या पोलियो उन्मूलन, या एचआईवी और तपेदिक (टीबी) के लिए भारत की प्रतिक्रिया, या स्वास्थ्य केंद्रों के लिए भारत की प्रतिक्रिया, या सरकार की विभिन्न योजनाओं- आयुष्मान भारत के माध्यम से भारत में लाखों लोगों को बीमा प्रदान करने का मामला हो. अब हम कुछ बहुत ही रोचक और आकर्षक की ओर बढ़ रहे हैं जो है-डिजिटल स्वास्थ्य रिकॉर्ड पर काम करना. ये स्वास्थ्य रिकॉर्ड हम में से प्रत्येक को बेहतर होने, स्वस्थ होने में मदद करेंगे और यह सार्वजनिक स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से ट्रैकिंग के लिए बहुत महत्वपूर्ण है कि भारत प्रमुख स्वास्थ्य संकेतकों पर कैसा प्रदर्शन कर रहा है. इसलिए एनडीटीवी के साथ इस अभियान को शुरू करने से लेकर मेरी यात्रा वास्तव में दिलचस्प रही है, जहां हमने सीजन 1 में 2,500 स्कूलों के साथ काम किया, व्यवहार परिवर्तन पर काम किया, एनडीटीवी-डेटॉल बस भारत के कुछ गांवों में अब तक 20 मिलियन स्कूली बच्चों तक पहुंची. भारत भर में, किशोर स्वास्थ्य पर काम करना, स्व-देखभाल जैसी नई अवधारणाओं पर काम करना, डेटॉल हाइजीन इम्पैक्ट बॉन्ड पर उत्तर प्रदेश, अन्य राज्यों की सरकार के साथ काम करना और व्हाइटहैट जूनियर जैसी अन्य जैसी तकनीकी कंपनियों को प्रोत्साहित करना ताकि बच्चे हाइजिंन और सेनेटाइजेशन पर कोडिंग कर सकें और वे आकर्षक विचार लेकर आ रहे हैं.

NDTV: हम अपने अभियान के राजदूत अमिताभ बच्चन के साथ 3 अक्टूबर को अपना नया सीज़न लॉन्च करने जा रहे हैं और ‘लीविंग नो वन बिहाइंड’ विषय पर ध्यान केंद्रित करेंगे. हमने कोविड से सीखा है कि हम किसी को पीछे नहीं छोड़ सकते. हम ‘वन हेल्थ, वन प्लैनेट, वन फ्यूचर’ पर भी फोकस कर रहे हैं. इस पर आपके क्या विचार हैं?

रवि भटनागर: मैं इसे संक्षेप में बताऊंगा, ‘सबका साथ, सबका विकास’ कुंजी है. ‘सबका विकास’ तभी हो सकता है जब भारत स्वस्थ होगा और भारत तभी स्वस्थ हो सकता है जब कोई पीछे न रहे, क्योंकि भारत में एक विशाल स्वदेशी आबादी है जो ओडिशा, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह राज्यों में बिखरी हुई है. यह समय है, जबको साथ लेकर चलने का, ताकि स्वास्थ्य सेवा एक विशेषाधिकार न हो, स्वास्थ्य सेवा एक अधिकार हो. हम आकांक्षी जिलों की नींव और स्वास्थ्य पर भारत की विकास की कहानी का समर्थन करते हैं जहां हम मृत्यु दर और रुग्णता को कम करके महत्वपूर्ण योगदान देते हैं. हमने सार्वजनिक-निजी-रोगी साझेदारी के साथ मिलकर काम किया और हमने ‘एक स्वास्थ्य, एक विश्व, एक भविष्य’ की अवधारणा पर काम किया, जहां हम सिर्फ इंसानों की देखभाल नहीं कर रहे हैं, हम पौधों और जानवरों की भी देखभाल कर रहे हैं, हम अपने अभियान के माध्यम से 360 डिग्री का दृष्टिकोण अपना रहे हैं ताकि कोई पीछे न रहे.

इसे भी पढ़ें : एक्सपर्ट ब्लॉग: फूड सिस्टम में ये 8 सुधार, जनजातीय आबादी को दिला सकते हैं भरपूर पोषण

NDTV: हम समावेशिता के बारे में बात कर रहे हैं, आपको क्या लगता है कि LGBTQ के लोगों को इसमे कैसे शामिल करें और उन्हें आगे कैसे लाएं?

रवि भटनागर: LGTBQIA+ अधिकारों और हकों के लिए अनुच्छेद 377 के खिलाफ भारत की यात्रा बहुत लंबी रही है. मुझे भारत सरकार के सामाजिक न्याय मंत्रालय को बधाई देनी चाहिए, जो सभी कार्यक्रमों में समावेश सुनिश्चित करने के लिए लगातार कदम उठा रहा है. एक कंपनी के रूप में, हम यह भी मानते हैं कि यह किया जाना चाहिए था. जनगणना के माध्यम से जनसंख्या की अंतिम गणना में, पहली बार ट्रांसजेंडर जनसंख्या का भी शामिल किया गया था. उनके अपने अधिकार हैं, उनके अपने मुद्दे हैं, तो उन मुद्दों से कैसे निपटें, शायद उनके स्वास्थ्य के मुद्दे, गरीबी के मुद्दे, खाद्य सुरक्षा, हकदारी, बेरोजगारी और अन्य मामले. इसलिए, हम एक साथ काम करने और उनके समाधान तलाशने का प्रयास करते हैं, जिन पर भारत की जनगणना में पहले कभी विचार नहीं किया गया था.

मैं पूरे भारत में बहुत से युवाओं से मिल रहा हूं जैसे मणिपुर के सद्दाम ने YA_ALL नाम से अपना संगठन शुरू किया, जो न केवल LGBTQIA + समुदायों के मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों की देखभाल कर रहा है, बल्कि मणिपुर मे ंLGBTQIA + आबादी की भारत की पहली फ़ुटबॉल टीम को एक साथ लाने में सफल रहा है. विभिन्न पूर्वोत्तर राज्यों के बच्चे एक साथ आए हैं और सीख रहे हैं. YA_AL LGBTQIA+ आबादी को स्‍कॉलरशिप भी दे कर रहा है. अन्य संगठन भी हैं जो बहुत अच्छा काम कर रहे हैं. फिर भी, उनके प्रयास बहुत बड़े हैं और हम सभी को एक साथ आने की जरूरत है. मैंने अपने करियर में हमसफर ट्रस्ट के पूर्व प्रमुख अशोक रो कवि द्वारा किए गए कार्यों को देखा है. मैं जे.वी.आर. प्रसाद राव, राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (NACO) के प्रमुख के प्रति भी हृदय से आभार प्रकट करता हूं, मैं लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी, मानवेंद्र सिंह गोहिल के प्रयासों को
स्वीकार करता हूं, जो समावेश और विविधता के बहुत शुरुआती विजेता रहे. ये वे लोग हैं जिन्होंने एचआईवी महामारी को रोकने के लिए बहुत काम किया और लक्ष्‍य तक पहुंचने में मदद की, जो 90-90-90 है, ताकि अधिकतम टेस्‍ट हो सके, लोग बाहर जा सकें और फायदा ले सकें. यात्रा बहुत बड़ी है और डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया प्रोग्राम के तहत रेकिट ने अपनी ओर से इस मुद्दे में निवेश किया है और हम जल्द ही वृंदावन, उत्तर प्रदेश में ट्रांसजेंडर स्वास्थ्य के लिए अपना पहला केंद्र शुरू कर रहे हैं और यह लगभग 50,000 डॉक्टरों के एक बड़े नेटवर्क के साथ होगा. भारत में 4 लाख से अधिक मैप की गई ट्रांसजेंडर आबादी को स्वास्थ्य लाभ दिया जाएगा. यह महत्वपूर्ण है क्योंकि यह प्रमुख आबादी का हिस्‍सा है. बड़ी संख्या में स्वास्थ्य मुद्दों, मनोवैज्ञानिक मुद्दों, भलाई के मुद्दों पर ध्यान देने की आवश्यकता है और यह प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी है कि वे उनके साथ खड़े हों और उनके और हमारे बीच के अंतर को कम करें. हमें एक दुनिया, एक भविष्य बनना पड़ेगा.

NDTV: टेलीथॉन का उद्देश्य क्या है और इस सीजन में अभियान क्या हासिल करने की कोशिश कर रहा है?

रवि भटनागर: डॉ. रॉय, हमारे ग्लोबल सीईओ लक्ष्मण नरसिम्हन और हमारे दक्षिण एशिया प्रमुख गौरव जैन के नेतृत्व में यह एक मजेदार यात्रा रही है. इस साल फोकस काफी बड़ा है. यह एक स्वास्थ्य, एक ग्रह, एक भविष्य को लेकर है, लेकिन आप जानते हैं, यह केवल यहीं तक सीमित नहीं है, टेलीथॉन के दिन की शुरुआत भारत में 75 साल के स्वास्थ्य, स्वच्छता और पोषण से होती है, इसके बाद कुछ ऐसा होता है जिस पर संयुक्त राष्ट्र भी काम कर रहा है जैसे- किसी को पीछे नहीं छोड़ना, आत्म-देखभाल, भारत की कोविड प्रतिक्रिया और तीन बुनियादी कदमों का ध्यान रखना- टीकाकरण के साथ-साथ हाथ धोना, चेहरे पर मास्क लगाना और सामाजिक दूरी बनाए रखना. अगला विषय जिस पर हम टेलीथॉन पर चर्चा करेंगे, वह है कोविड के बाद भारत के स्वास्थ्य, पोषण और स्वच्छता की कहानी. हम इसमें कुछ ऐसे लोगों को भी शामिल करने की कोशिश कर रहे हैं जो सबसे आगे रहे हैं, लोगों की मदद कर रहे हैं. हमारे पास डेटॉल सैल्यूट नाम का एक बहुत ही सुंदर अभियान है, अभियान में भाग लेने वाले सभी लोगों का तहे दिल से आभार. हम अभियान में आम लोगों के बारे में बात कर रहे हैं, ताकि किसी को पीछे न छोड़ने की पूरी अवधारणा को साकार किया जा सके. हम विज्ञान और स्वच्छता के बारे में भी बात करेंगे. ये कुछ महत्वपूर्ण स्तंभ हैं जिनके बारे में हम दिन भर बात करेंगे.

NDTV: हमें अपने काम के बारे में बताएं. आप बाइक पर जा रहे हैं, लोगों की मदद कर रहे हैं, जरूरतमंद लोगों को जरूरी सामान बांट रहे हैं.

रवि भटनागर : व्यक्तिगत तौर पर मैं जो काम करता हूं वह उस संगठन का प्रतिबिंब है जहां मैं काम करता हूं और संगठन का उद्देश्य मुझसे गाड़ी चलवाता है, मुझे रात में जगाए रखता है. मैं भारत में, भारत के बाहर, रेकिट के सभी शुभचिंतकों को धन्यवाद देना चाहता हूं. ऐसा एक बार भी नहीं हुआ कि मैंने मदद मांगी और नहीं मिली- भले ही यह प्लाज्मा दान को लेकर हो या कुछ और. हमने Bikers For India के माध्यम से एक विशाल प्लाज्मा डोनेट करने का नेटवर्क बनाया है. अब हम बड़ी संख्या में अनाथ और कमजोर बच्चों के साथ
काम कर रहे हैं जो कोविड से प्रभावित हैं. रेकिट हमें वेतन के रूप में जो भुगतान करता है, मैं यह सुनिश्चित करता हूं कि उसमें से कुछ राशि उन चीजों की ओर जाए, जो वास्तव में मुझे प्रेरित करती हैं और मुझे व्यक्तिगत रूप से लगता है कि मैं डेटॉल, ड्यूरेक्स और इन जैसे अन्‍य ब्रांडों के साथ काम करके धन्य हूं. जब मैं कंपनी में अपने सीनियर्स की यात्रा देखता हूं, तो मुझे व्यक्तिगत रूप से लगता है कि अगर वे ऐसा कर सकते हैं, तो मुझे भी अपने जीवन में कुछ ऐसा करना चाहिए, जिसका समाज पर पॉजिटिव असर पड़े. यह सिर्फ एक विनम्र शुरुआत है, मुझे विश्वास है कि ऐसे दिन आएंगे जब मैं बहुत बड़े पैमाने पर योगदान कर सकूंगा.

इसे भी पढ़ें : कोविड-19 ने दशकों में विश्व भूख, कुपोषण में सबसे बड़ी वृद्धि का कारण बना है: संयुक्त राष्ट्र

NDTV: हम मेंटल हेल्‍थ को दूर-दराज के क्षेत्रों में कैसे ले जा सकते हैं, खासकर जब हम जानते हैं कि देश में मेंटल हेल्‍थ प्रोफेशनल्‍स की कमी है?

रवि भटनागर: भारत में मानसिक स्वास्थ्य के मामले में जनसंख्या अनुपात के लिए पर्याप्त डॉक्टर नहीं है. हालांकि, भारत द्वारा कुछ बड़े प्रयास किए गए जहां बेयरफुट डॉक्टरों या अंतिम मील के डॉक्टरों की अवधारणा थी, ताकि मानसिक समर्थन मांगने के इस शहरी-ग्रामीण विभाजन का ध्यान रखा जा सके. NIMHANS, टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान, और अन्य जैसे प्रतिष्ठित संस्थान हैं और फिर मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों पर काम करने वाले नागरिक समाज संगठनों का एक बड़ा नेटवर्क भी है. मैं कुछ स्पष्ट करना चाहता हूं, जिससे लोग बहुत भ्रमित होते हैं. मानसिक स्वास्थ्य और मानसिक बीमारी के बीच बहुत बड़ा अंतर है. तो सभी मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े मुद्दे मानसिक बीमारी के मुद्दे नहीं हैं. इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि हम अपनी कुछ आयुष स्वास्थ्य देखभाल प्रणालियों पर ध्यान केंद्रित करें, जैसे ‘सिद्ध’, योग, ‘प्राणायाम’, इसे बाकी दुनिया भी स्वीकार करती है. यदि आपको मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हैं तो एक विशाल समर्थन नेटवर्क की आवश्यकता होती है. बेयरफुट डॉक्टर का एक नेटवर्क होने की जरूरत है, स्थानीय समुदायों में चैंपियन होने की जरूरत है, ताकि एक ऐसा नेटवर्क हो जो देखभाल और समर्थन के लिए उपलब्ध हो.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=