Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

समावेशी समाज बनाने पर जानिए पैरालिंपियन दीपा मलिक की राय

सभी को साथ लेते हुए, एक समावेशी समाज कैसे बनाया जा सकता है, बता रही हैं पैरालिंपियन दीपा मलिक

Read In English
समावेशी समाज बनाने पर जानिए पैरालिंपियन दीपा मलिक की राय

नई दिल्‍ली: डेटॉल और एनडीटीवी, 2014 से स्वच्छ और स्वस्थ भारत की दिशा में काम कर रहे हैं. इस साल, हम इस अभियान के आठवें सीजन में कदम रख रहे हैं, हमारा उद्देश्य एक स्वास्थ्य, एक ग्रह, एक भविष्य है- किसी को पीछे नहीं छोड़ना है, क्योंकि केवल तभी एक राष्‍ट्र समृद्ध बन सकता है, जब सभी स्वस्थ रहें. स्वस्थ भारत ही संपूर्ण भारत है. सीज़न 8 की शुरुआत करने के लिए, ‘एनडीटीवी-डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया’ की टीम ने डॉ. दीपा मलिक के साथ एक विशेष फेसबुक लाइव सेशन किया. दीपा लकवे की शिकार होने के बावजूद सभी बाधाओं को पार करती हुईं आगे बढ़ी हैं. फेसबुक लाइव सेशन के दौरान हमने उनसे यह समझने की कोशिश की कि कैसे हम, एक राष्ट्र के रूप में, किसी को पीछे नहीं छोड़ते हुए एक समावेशी समाज का निर्माण कर सकते हैं. डॉ. मलिक भारत की पहली पैराप्लेजिक महिला बाइकर, तैराक, रैलीस्टि और भारत की पहली महिला पैरालंपिक पदक विजेता भी हैं. आज वह व्हीलिंग हैप्पीनेस फाउंडेशन के माध्यम से अन्य विकलांग लोगों को सक्षम बना रही है.

इसे भी पढ़ें : एक्सपर्ट ब्लॉग: फूड सिस्टम में ये 8 सुधार, जनजातीय आबादी को दिला सकते हैं भरपूर पोषण

पेश है पद्म श्री, खेल रत्न से सम्‍मानित और अर्जुन पुरस्कार विजेता डॉ. दीपा मलिक के साथ हमारी चर्चा के कुछ अंश.

NDTV: आपने अपना करियर केवल 30 साल की उम्र में शुरू किया था. आप हार मान सकती थीं और भाग्य से मुंह मोड़ सकती थीं जैसा कि ज्यादातर लोग करते हैं. लेकिन आप पदक जीतने के लिए आगे बढ़ीं, आपको किस चीज ने प्रेरित किया?

डॉ. दीपा मलिक: मुझे लगता है कि पहचान की तलाश ने मुझे प्रेरित किया. लकवे के कारण शरीर से लाचार होने के बाद, मैं एक उदास व्यक्ति के रूप में या एक ऐसे व्यक्ति के रूप में नहीं जानी जाना चाहती थी, जिसे मेरे बच्चे, पति और परिवार एक दायित्व, नकारात्मकता का स्रोत माना जाता है. मैं सिर्फ एक व्यक्ति बनना चाहती थी, एक ऐसा व्यक्ति, जिसे किसी ऐसे व्यक्ति के रूप में देखा जा सकता है, जो फिट, खुश है. इसलिए मैंने कुछ चीजें करने का फैसला किया, जो अंततः रूढ़िवाद को तोड़ने वाली साबित हुईं. देश ने यह किया था और यहां तक कि खेलों में शामिल होना रूढ़िबद्धता को तोड़ने का एक विस्तार मात्र था, विकलांगता यात्रा से परे क्षमता.

एनडीटीवी: क्या आप हमें अपनी पहल ‘व्हीलिंग हैप्पीनेस’ के बारे में बता सकती हैं, जो वास्तव में विकलांगता को क्षमता में बदल रही है?

डॉ. दीपा मलिक: बचपन में मुझे लगभग चार साल तक ट्यूमर और लकवा झेलना पड़ा था. मेरी कुछ बड़ी सर्जरी, रीहबिलटैशन हुआ या कह सकते हैं कि यह दिव्‍यांगता के साथ मेरा एक समय था. जब मेरी बड़ी बेटी का जन्म हुआ, मेरे पहले बच्चे का एक्सीडेंट हो गया, उसके सिर में गंभीर चोट आई, जिससे उसके शरीर के बाईं ओर लकवा हो गया. इसलिए, केवल 30 साल की छोटी उम्र में मुझे अपने बच्चे के बचपन में दिव्‍यांगता से जूझना पड़ा. मुझे ट्यूमर हो गया और मुझे सीने में लकवा मार गया. व्यावहारिक रूप से लंबे समय तक लगातार दिव्‍यांगता के आसपास वर्जनाओं का सामना करने का करना पड़ा. फिर डेढ़ दशक बाद, मैंने अपने बच्चे की दिव्‍यांगता देखी और एक और दशक बाद, मैंने फिर से अपनी दिव्‍यांगता देखी. मुझे एहसास हुआ कि दिव्‍यांगता के आसपास कुछ भी नहीं बदला है. भारत प्रगति कर सकता है, देश में बहुत सारी शिक्षा, कंप्यूटर, इंटरनेट, तकनीक आ रही है, लेकिन जब दिव्‍यांगता के बारे में विचारों की बात आती है, तो यह अभी भी नेगेटिव है. लोग नहीं जानते कि दिव्‍यांग लोगों के साथ कैसे व्यवहार किया जाए. बुनियादी ढांचे को दिव्‍यांगों के अनुकूल बनाने के लिए लोग पर्याप्त संवेदनशील नहीं हैं. बहुत सारे मौके नहीं हैं.

तभी मैंने देखा कि मां-बेटी की जोड़ी के रूप में हमें किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा है. और मैं इसके लिए देविका (मेरी बेटी) को बहुत श्रेय देती हूं क्योंकि वह युवा परिप्रेक्ष्य में लाईं, वह युवा दृष्टिकोण था कि हम लोगों की मदद करने के तरीके को औपचारिक रूप दें. व्हीलिंग हैप्पीनेस’ इसलिए बनाई गई, क्योंकि हम लोगों से कह रहे थे कि वे अपने खुशी के सूत्र को पहचानें, उन्हें पुनर्जीवित करें और उन्हें फिर से जीवंत करें, और हम इसे प्राप्त करने में उनका समर्थन करेंगे. तब लोगों को लगा कि व्हीलचेयर पर बैठे-बैठे मैं ही दु:ख का पहिया चला रहा हूं. हमने इसे बदल दिया और इसे खुशी का पहिया बना दिया.

NDTV: पिछले 75 सालों में हम समावेश के मामले में कितनी दूर आ गए हैं? वास्तव में समावेशन को लाने के लिए हमें और कितना कुछ करने की जरूरत है?

डॉ. दीपा मलिक: सुधार ही बदलाव है और बदलाव ही प्रगति है. इसलिए, अगर हम कहते हैं कि हमने यह सब किया है, तो यह गलत होगा. हम निश्चित रूप से महिला सशक्तिकरण, समावेशन, हाशिए के वर्ग को प्रगति में शामिल करने और उनकी व्यक्तिगत प्रगति के विषयों पर सकारात्मक दिशा में आगे बढ़े हैं. ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’, ‘सुगम्य भारत’, सुलभता के बारे में बहुत सारी बातें हैं, और यहां तक कि अगर मैं पैरा-स्पोर्ट्स के बारे में बात करती हूं, तो यह लोगों के दिलों को छूने के लिए एक बड़ा स्तर और एक बड़ा माध्यम है. अगर देश में पैरालंपिक खेलों का विकास हो रहा है तो यह निश्चित रूप से मानसिकता बदल रहा है, लेकिन मुझे अभी भी लगता है कि हमें निश्चित रूप से एक लंबा रास्ता तय करना है.

जब आप देखते हैं कि शासन का ध्यान और नीतियां समावेशी हैं, तो वे व्यवस्था से बाध्य हो जाते हैं. निष्पादन व्यक्तिगत रूप से प्रत्येक मनुष्य पर अधिक निर्भर है. नीतियां बनाई जा सकती हैं और किताबों में, पैनल पर, संविधान में रखी जा सकती हैं, लेकिन सरकार भी लोगों के लिए, लोगों के द्वारा, लोगों के लिए है. यदि लोग इसमें शामिल नहीं होते हैं, तो यह सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त रूप से संवेदनशील बनें कि प्रधानमंत्री के ऐसे हर विचार और नीति का कार्यान्वयन हो,जो बनाई गई हैं, इसलिए नागरिकों पर भी बहुत सारी जिम्मेदारी है.

NDTV: दिव्‍यांग लोगों के सामने आने वाली चुनौतियां क्या हैं और हम इनका मुकाबला कैसे कर सकते हैं?

डॉ. दीपा मलिक: मैं इसे एक्सेसिबिलिटी नामक एक शब्द के साथ जोड़ सकती हूं -चाहे वह मानसिकता में हो, या भौतिक बुनियादी ढांचे में, या डिजिटल रूप से. अब पूरी दुनिया डिजिटल हो गई है, लेकिन कितने लोगों ने अपनी वेबसाइट, डिजिटल इंटरफेस को आसान बनाने का प्रयास किया है? हर वेबसाइट को डिसेबल-फ्रेंडली बनाने के तरीके हैं, लेकिन क्या लोग वाकई इसे उस लेवल तक ले जा रहे हैं? यदि पहुंच है, तो हम में से अधिक लोग बाहर आ सकते हैं, सामान्य जीवन जी सकते हैं, उन चीजों में भाग ले सकते हैं, जहां हमें कौशल को सुधारने का अवसर मिल सकता है.

इसे भी पढ़ें : अवसाद और डिप्रेशन जैसे मैंटल हेल्‍थ इशू से ग्रस्‍त बच्‍चे को इस तरह हैंडल करें प‍ैरेंट्स

NDTV: भारत में दिव्‍यांग लोगों पर COVID-19 का क्या असर पड़ा है?

डॉ. दीपा मलिक: ईमानदारी से, दिव्‍यांग लोगों ने इसे सक्षम लोगों की तुलना में बेहतर तरीके से लिया है, क्योंकि हम पहले से ही अपने जीवन में लॉकडाउन के अभ्यस्त हैं. हम पहले से ही बाहर कदम रखने में सक्षम नहीं हैं या शायद हमें ज्‍यादातर घर पर ही रहना पड़ता है क्‍योंकि बाहर निकलना हमारे लिए आसान नहीं है. लेकिन, हां, जब आप पहले से ही काफी मदद पर निर्भर हों तो यह मुश्किल हो जाता है. उदाहरण के लिए, मुझे हर दिन एक फिजियो से मिलना होता है. अगर मुझे जगह ए से बी जाना है, तो मुझे मदद के लिए दो लोगों की जरूरत है, लेकिन लॉकडाउन ने वह मदद छीन ली.

सबसे ज्यादा नुकसान उन लोगों को हुआ, जिन्होंने ब्रेडविनर्स को खो दिया और वह बच्चा जिसने माता-पिता को COVID से खो दिया या जिस पर वे निर्भर थे. बौद्धिक अक्षमता वाले बच्चों को सबसे अधिक नुकसान इसलिए हुआ, क्योंकि उनकी देखभाल कौन करेगा? इसने एक शून्य पर छोड़ दिया गया.

NDTV: हम विकलांग लोगों के लिए समावेश कैसे ला सकते हैं?

डॉ. दीपा मलिक: पहल करें और बदलाव का हिस्सा बनें. दुनिया की 15 प्रतिशत आबादी किसी न किसी रूप में दिव्‍यांगता से ग्रस्त है और अब समय आ गया है कि दुनिया के इस 15 प्रतिशत हिस्‍से को नजरअंदाज न किया जाए. हमें समावेशन और विकलांगता को समावेशन के केंद्र में लाना होगा. हम में से हर कोई अपने जीवन में किसी न किसी बिंदु पर दिव्‍यांगता या शारीरिक चुनौती का सामना करता है. यह बात केवल दिव्‍यांग लोगों पर ही लागू नहीं होती है. यह गर्भावस्था का एक उन्नत चरण हो सकता है, जहां एक महिला को अधिक सहायता की आवश्यकता होती है.

एक साथ खड़े हुए बिना हम एक महाशक्ति या सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था नहीं बन सकते. समग्र विकास में सभी की भागीदारी शामिल है और किसी भी मामले में, किसी राष्ट्र, समाज का स्वास्थ्य सीधे तौर पर इस बात पर निर्भर करता है कि उस समाज में महिलाओं, बुजुर्गों और दिव्‍यांगों के साथ कैसा व्यवहार किया जाता है.

NDTV: दिव्‍यांगों को COVID-19 महामारी की तीसरी लहर से कैसे बचाया जा सकता है?

डॉ. दीपा मलिक: अगर आप किसी को बचाना चाहते हैं, तो दिव्‍यागों को भूल जाइए. केवल दो बुनियादी कदम हैं: पहला, सुनिश्चित करें कि वे टीका लगवाएं, क्योंकि टीकाकरण अभियान दिव्‍यांग लोगों के लिए समान रूप से महत्वपूर्ण है. उनके टीकाकरण बूथ पर जाना सुनिश्चित करें या फिर टीकाकरण की उनके निवास तक पहुंच हो. दूसरा, एक जिम्मेदार नागरिक बनें. मास्क पहनें, ताकि आपके आसपास के लोग सुरक्षित रहें. स्प्रेडर न बनें.

NDTV: दिव्‍यांगों के लिए क्या-क्या सुविधाएं की गई हैं और दिव्‍यांगों के लिए टीकों पर सरकार क्या कर रही है?

डॉ. दीपा मलिक: सरकार ने बूथों तक पहुंच बनाने का प्रयास किया है. ऐसे ही एक बूथ पर मैंने खुद जाकर टीका लगवाया था. वे ऐसे स्थान और केंद्र चुन रहे हैं जहां आसानी से पहुंचा जा सकता हो. वे गाड़ियों से बाहर भी आ रहे हैं और गाड़ियों के अंदर भी इंजेक्शन दे रहे हैं. मुझे अपनी सेकेंड डोज कार में बैठ कर मिली. वे बाहर निकलने को कहकर मुझे परेशान नहीं करना चाहते थे. इसके लिए कई एनजीओ भी काम करते हैं. उदाहरण के लिए, हमने दिल्ली में एक एनजीओ Swayam के साथ भागीदारी की. उन्होंने आठ विशेष सुलभ वैन शुरू की. आप बस लॉग इन कर सकते हैं और वैन से आपको टीकाकरण केंद्र ले जाने का अनुरोध कर सकते हैं.

NDTV: दिव्‍यांगों की कैसे मदद की जा सकती है और उन्हें कैसे दवाएं और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सकती हैं?

डॉ. दीपा मलिक: अगर हर व्यक्ति अपने चारों ओर 500 वर्ग मीटर तक किसी दिव्‍यांग की मदद करने का प्रण करता है तो, 85 प्रतिशत सक्षम लोग 15 प्रतिशत दिव्‍यांगों की आसानी से मदद कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : किशोर यौन स्वास्थ्य: इन पांच विषयों पर आपको अपने पूर्व-किशोर या किशोर के साथ चर्चा करनी चाहिए

अब आप बनेगा स्‍वस्‍थ इंडिया हिंदी पॉडकास्‍ट डिस्‍कशन सुन सकते हैं महज ऊपर एम्बेड किए गए स्‍पोट‍िफाई प्लेयर पर प्ले बटन दबाकर.

हमें एप्‍पल पॉडकास्‍ट और गूगल पॉडकास्‍ट पर फॉलो करें. साथ ही हमें रेट और रिव्‍यू करें.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts