Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

मिलिए असम के वुडन माफिया से

असम की इस कहानी से जानिए पेड़ों को काटने से जमीन, जानवरों और वहां रहने वाले लोगों पर क्या असर पड़ता है?

Read In English
Meet The Wood Mafia Of Assam

नई दिल्ली: असम दुनिया के सबसे समृद्ध जैव विविधता क्षेत्रों में से एक है, जहां कई दुर्लभ पौधों और जानवरों की प्रजातियां हैं, इसलिए यहां के जंगलों को शोषण से बचाना और भी महत्वपूर्ण है. 1970 में असम के ताराबारी गांव में लकड़ी माफिया घुस गए और उन्होंने वहां के स्थानीय लोगों को पेड़ काटने और अपना व्यापार करने के लिए प्रोत्साहित किया, लेकिन बाद में ग्रामीणों को एहसास हुआ कि पेड़ों को काटने से उनकी जमीन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है. ताराबारी गांव के एक ग्रामीण जेर्मिया मुचाहारे, जिन्हें लकड़ी माफिया द्वारा इस्तेमाल किया गया था, ने महसूस किया कि पेड़ों को काटने से उनके गांव में कृषि पर सीधा प्रभाव पड़ रहा था, और यह फसलों और ग्रामीणों को भी प्रभावित कर रहा था. क्षेत्र के पशु भी प्रभावित हुए.

एनडीटीवी से बात करते हुए जेर्मिया मुचाहारे ने कहा कि,

मौसम में काफी बदलाव आया है. बारिश कम हो गई है, गर्मीग्‍ बढ़ गई है. और मिट्टी में नमी का स्तर भी कम हो गया है. हम अपना गांव ताराबाड़ी छोड़कर मजदूरी करने के लिए दिल्ली और मुंबई चले जाते थे. लेकिन फिर, 2020 में COVID महामारी के दौरान, हमने अपने वृक्षारोपण की शुरुआत की. यह हमारे लिए बहुत बड़ा वरदान रहा है, क्योंकि उस दौरान हम काम के लिए गांव नहीं छोड़ सकते थे. यहां काम करना हमारे लिए काफी फायदेमंद रहा है.

इसे भी पढ़ें: मैंग्रोव लगाकर चक्रवातों से लड़ रही हैं सुंदरवन की रिज़िल्यन्ट महिलाएं

जर्मिया लकड़ी माफिया का हिस्सा बनने से लेकर पेड़ फिर से लगाने का शौक रखने वाला व्यक्ति बन गया. वृक्षारोपण अभियान न केवल जलवायु, मिट्टी और फसलों पर नियंत्रण रखने में अपनी भूमिका निभा रहा है, बल्कि यह ग्रामीणों के लिए रोजगार भी पैदा कर रहा है.

ताराबारी गांव के लोगों ने भी वहां एग्रोफोरेस्ट्री शुरू की. एग्रोफोरेस्ट्री एक ऐसी प्रणाली है जिसमें पेड़ या झाड़ियां फसलों के आसपास या फसलों के बीच उगाई जाती हैं. इसके कई लाभ हैं, जैसे कि प्रधान खाद्य फसलों से बहुत अधिक पैदावार, यह आय सृजन से किसानों की आजीविका को बढ़ाता है. अब ग्रामीण अच्छी फसल उपज के साथ-साथ एग्रोफोरेस्ट्री से कमाई करने में सक्षम हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts