Connect with us

मानसिक स्वास्थ्य

जानिए, भारतीय कर्मचारियों की क्रिएटिविटी और प्रोडक्टिविटी पर खराब मेंटल हेल्थ कैसे असर डालती है

जैसा कि 10 अक्टूबर ‘विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस’ के रूप में मनाया जाता है. चलिए हम एक नज़र इस बात पर डालते हैं कि आखिर कैसे मानसिक स्वास्थ्य कर्मचारियों की सेहत पर असर डालता है

Read In English
जानिए, भारतीय कर्मचारियों की क्रिएटिविटी और प्रोडक्टिविटी पर खराब मेंटल हेल्थ कैसे असर डालती है

नई दिल्ली: रवींद्र एक आईटी प्रोफेशनल थे, जिनका करियर शानदार तरीके से ऊपर की ओर बढ़ रहा था. अमेरिका की कॉर्नेल यूनिवर्सिटी से एमएस के साथ आईआईटी बॉम्बे से ग्रेजुएट उनके सपने और आकांक्षाएं बड़ी थीं. वह एक मिडिल-क्लास परिवार से थे और उनके अकादमिक और करियर ऑप्शन किसी सफलता की कहानी की तरह थे. उन्हें एक वैश्विक आईटी फर्म में अपनी ड्रीम जॉब मिली और वह 5 साल बाद, भारत के एक प्रसिद्ध आईटी स्टार्ट-अप में शामिल हो गए, जहां उन्हें फाइनेंशियल स्टेक्स के साथ एक बहुत ही सीनियर पोजिशन का ऑफर दिया गया था जो काफी अनोखा था. वह अपने काम के लिए हमेशा प्रतिबद्ध थे, वह कई घंटों तक काम करते थे और अपने बिज़नेस गोल्स को प्राप्त करने में कोई कसर नहीं छोड़ते थे. इसके बावजूद करीब 6 साल बाद उनका परफॉर्मेंस धीरे-धीरे कम होने लगा.

उन्होंने अपने लक्ष्यों को हासिल करने के लिए जितना कठिन प्रयास किया, उतना ही वह असफल होते गए. वह अब पहले की तरह अपने काम का आनंद नहीं ले रहे थे और उनके बॉस के साथ-साथ परिवार भी अब उनसे बहुत खुश नहीं लग रहे थे. वह अकेलापन महसूस करने लगे थे. आखिर उनके साथ ऐसा क्या ग़लत हो रहा था?

इसे भी पढ़ें: ‘सितार फॉर मेंटल हेल्थ’: मिलिए भारत के सबसे कम उम्र के सितार वादकों में से एक ऋषभ रिखीराम शर्मा से

आजकल, पहले से कहीं ज़्यादा, पुरुषों, महिलाओं और यहां तक कि किसी भी उम्र के बच्चों को ‘एंग्जायटी’ और ‘डिप्रेशन’ से पीड़ित सुनना असामान्य नहीं है. मेंटल हेल्थ से जुड़ी चिंताएं और समस्याएं विश्व स्तर पर बढ़ रही हैं, मेंटल डिसऑर्डर अब दुनिया भर में हेल्थ से जुड़े टॉप प्रमुख कारणों में से एक हैं. 2017 की डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में दुनिया भर में डिप्रेशन के मामलों का 18 प्रतिशत हिस्सा है.

‘एसोचैम’ के एक अध्ययन से पता चला है कि निजी क्षेत्र के कम से कम 43 प्रतिशत कर्मचारी अपने काम से संबंधित किसी न किसी मानसिक स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित हैं. आज के हाइपर-कॉम्पिटिटिव और कनेक्टेड होकर भी डिस्कनेक्टेड, वर्कप्लेस में मेंटल हेल्थ के मुद्दे लगातार बढ़ रहे हैं.  इन मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के ट्रिगर क्या हो सकते हैं?

हम इस तथ्य से इनकार नहीं करते हैं कि ज़्यादा वर्कलोड, दबाव और तनाव व्यक्ति को जल्द ही बर्नआउट की ओर ले जाता है. और फिर भी, लोग ओवरटाइम काम करने और बेहतर वेतन, प्रमोशन और जॉब सिक्योरिटी के लिए काम का बोझ लेने के लिए तैयार हैं. लेकिन अगर इसका रिवॉर्ड इच्छा के अनुसार नहीं हैं, तो यह निराशा, कम मनोबल और कम प्रेरणा की ओर बढ़ जाता है, जो एंग्जायटी और डिप्रेशन को बढ़ावा देते हैं. इसके अलावा जो अन्य कारक खराब मानसिक स्वास्थ्य में योगदान कर सकते हैं, वे हैं टीम के सदस्यों के साथ खराब वर्किंग रिलेशन, खराब वर्किंग एनवायरनमेंट और ऑर्गनाइज़ेशनल कल्चर, जो ऑफिस पॉलिटिक्स, स्टिग्मेटाइज़ेशन, प्रिज्यूडिसेस, फेवरिटिज्म आदि की ओर ले जाता है.

इसे भी पढ़ें: दिव्‍यांग लोगों के लिए मेंटल हेल्‍थ सुनिश्चित करने की चुनौती

वर्क फ्रॉम होम और गिग वर्क के बढ़ते ट्रेंड के साथ, एम्प्लॉयी-ऑर्गनाइजेशन गैप बढ़ गया है, जिससे कर्मचारी को ‘ऑर्गनाइज़ेशनल मेंबर’ के रूप में पहचान के स्थिर सहारे से वंचित कर दिया गया है, जिसके परिणामस्वरूप उनमें डिप्रेशन और एंग्जायटी का प्रसार बढ़ गया है. ये मानसिक स्वास्थ्य मुद्दे न केवल कर्मचारी के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं बल्कि उनकी प्रोडक्टिविटी को भी प्रभावित करते हैं. कम प्रोडक्टिविटी काम के तनाव को बढ़ा सकती है और इसके कई दुष्परिणाम हो सकते हैं.

चेतावनी के कौन से संकेत हैं जो मेंटल हेल्थ वर्क एफिशिएंसी पर भारी पड़ रहे हैं? मंडे मॉर्निंग ब्लूज़, काम पर देर से आना, दिमागी तौर पर कहीं खो जाना और दिमाग से अनुपस्थित होना, ध्यान की कमी और गलतियाँ करना, काम और ज़िंदगी के बीच खराब संतुलन, थकान और अपने काम के बारे में सामान्य रूप से नकारात्मक भावना रखना, जैसे कुछ चेतावनी संकेत हो सकते हैं कि सब ठीक नहीं है. जब ये चीजें लंबी अवधि के लिए होती हैं, तो उनके सीनियर्स, साथियों और सहकर्मियों के साथ खराब संबंध हो सकते हैं. इससे मनोबल कम हो सकता है, इनसिक्योरिटी हो सकती है और अप्रेज़ल और प्रोफेशनल ग्रोथ पर भी इसका असर पड़ सकता है.

समय के साथ, यह क्लिनिकल एंग्जायटी और डिप्रेशन का कारण बन सकता है जो ज़िंदगी के अन्य क्षेत्रों जैसे जनरल हेल्थ और संबंधों में फैल सकता है. इन पहलुओं का प्रोडक्टिविटी पर एक और इनडायरेक्ट नेगेटिव इम्पैक्ट पड़ता है क्योंकि जीवन के सभी क्षेत्र इतने इंटरडिपेंडेंट और जटिल रूप से परस्पर जुड़े हुए होते हैं. दूसरे शब्दों में, एक ओर, ऑर्गेनाइजेशन लाइफ, विशेष रूप से मॉडर्न वर्क लाइफ, मेंटल हेल्थ के मुद्दों को जन्म दे सकती है, और दूसरी ओर मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे कम प्रोडक्टिविटी का कारण बन सकते हैं और खुद को प्रभावित कर सकते हैं.

इसलिए, मिलियन डॉलर का सवाल उठता है कि- “समस्या को कम करने के लिए कदम किसे उठाना चाहिए- एक व्यक्ति जिसका जीवन प्रभावित होता है या संबंधित संगठन को?” वास्तव में, बाद के पक्ष में पर्याप्त आर्थिक तर्क है. यह खुद संगठनों के हित में है कि वे कर्मचारियों की मेंटल हेल्थ के लिए उनकी सेहत पर काम करें.

इसे भी पढ़ें: मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण को सभी के लिए वैश्विक प्राथमिकता बनाना है जरूरी

कोई संस्था इसके लिए क्या कर सकती है?

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, संगठनों को रिश्तों, सामाजिक समर्थन और सहानुभूति को महत्व देने वाली संस्कृति को बढ़ावा देकर अपने खुद के सेट-अप में नेगेटिव स्टीरियोटाइप, स्टिग्मा, डिस्क्रिमिनेशन और डर को कम करने के लिए सक्रिय रूप से काम करने की ज़रूरत है. कंपनियां ऊपर से नीचे तक सभी स्तरों पर हितधारकों के लिए मेंटल हेल्थ पर सेंसिटाइजेशन प्रोग्राम और वर्कशॉप के माध्यम से इसे प्राप्त कर सकती हैं, ताकि सभी कर्मचारी अपने और अपने सहयोगियों के व्यवहार में मेंटल हेल्थ के चेतावनी के संकेतों को पहचानने में सक्षम हों.

दूसरा, कंपनियों को एक सक्षम वातावरण बनाना चाहिए जो कर्मचारियों को किसी के द्वारा “निर्णय या उपहास” किए जाने के डर के बिना उनकी व्यक्तिगत चुनौतियों के बारे में बात करने की अनुमति देता हो. जिन लोगों ने अपने मानसिक स्वास्थ्य संघर्षों को पार कर लिया है, उनकी सफलता की कहानियों को इंटरेक्टिव फोरम में साझा किया जा सकता है या अगर संभव हो तो सलाह देने की पहल को शुरू किया जा सकता है. साइकोलॉजिकल सेफ्टी के परिणामस्वरूप सांस्कृतिक परिवर्तन बिना किसी डर के डिस्क्लोज़र को बढ़ावा देता है, और वर्कप्लेस के मुद्दों को सामने लाने में एक लंबा रास्ता तय करता है.

तीसरा, संगठन थेरप्यूटिक इंटरवेंशन में निवेश कर सकते हैं. वे फुल टाइम या साइकोलॉजिकल काउंसलर की सेवाएं ले सकते हैं. आज की डिजिटल दुनिया में, वे अन्य डिजिटल मेंटल हेल्थ रिसोर्स जैसे काउंसलिंग ऐप तक सीधे पहुंच प्रदान कर सकते हैं.
चौथा, संगठनों को अपने कर्मचारियों के लिए अवकाश सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाने की जरूरत है. भारत में यह दावा करके ईमानदारी दिखाना आम बात है कि “मेरे सभी अवकाश लैप्स हो गए”, “मैंने कोई छुट्टी नहीं ली है”. अब और नहीं, कई संगठनों ने अब अपने कर्मचारियों के लिए निर्धारित अवकाश और छुट्टियां लेना अनिवार्य कर दिया है.

इसे भी पढ़ें: मानसिक स्वास्थ्य: दफ्तरों में तनाव से कैसे निपटें? विशेषज्ञों का जवाब

जबकि संगठनों को सक्रिय रूप से अपना काम करने की ज़रूरत है, व्यक्तिगत स्तर पर भी ओनरशिप होनी चाहिए. पहला कदम यह जानना है कि किसी को समस्या है तो- इसे स्वीकार करना और इसे अपनना; इनकार नहीं करना- “यह मेरे साथ नहीं हो सकता” या “मैं इतना कमजोर नहीं हूं. याद रखें- समस्याओं को स्वीकार करना ताकत का संकेत है, कमजोरी का नहीं. आज, मीडिया में कई जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं और जागरूकता बढ़ाने पर सरकार के ध्यान के साथ, अधिक से अधिक लोग अपने निजी जीवन में अपनी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर रहे हैं और यही कारण है कि इसके आसपास का स्टिग्मा कम हो रहा है.

व्यापक स्तर पर, प्रत्येक व्यक्ति को यह महसूस करना चाहिए कि इच्छाओं पर ब्रेक लगाना, सीमाओं को जानना, शौक पैदा करना जो उनके काम के जीवन से परे उनके साथ रहेंगे, मजबूत सोशल सपोर्ट सिस्टम विकसित करना, रिलैक्सेशन ट्रेनिंग, माइंडफुलनेस और मेडिटेशन प्रैक्टिस, और यह जानना कि ‘नहीं’ कब कहना है, जैसे कुछ अहम कदम हैं जो एक व्यक्ति खराब मानसिक स्वास्थ्य को रोकने के लिए सबसे पहले उठा सकता है.

संक्षेप में, खराब मानसिक स्वास्थ्य एक खतरा है जो एक व्यक्ति के साथ-साथ एक कर्मचारी के रूप में उसकी प्रोडक्टिविटी को प्रभावित करके व्यक्ति को प्रभावित करता है. संगठनों और कर्मचारियों के बीच बढ़ते गैप और उनके बीच संबंध अधिक से अधिक कॉन्ट्रैक्चुअल होते जा रहे हैं, जिसके साथ यह समस्या केवल और बड़ी होती जा रही है. इस प्रकार से यह आवश्यक है कि संगठन समस्या से निपटने के लिए महत्वपूर्ण प्रयास और निवेश करें.

इसे भी पढ़ें: एक 22 साल का लेखक अपनी किताबों के साथ बच्चों को मानसिक समस्याओं से लड़ने में कर रहा मदद

(लेखक के बारे में: प्रोफेसर राजेश चांदवानी आईआईएम-ए में फैकल्टी सदस्य हैं और विनीता सिंधवानी सतीजा मानसिक और सार्वजनिक स्वास्थ्य में सलाहकार हैं.)

Disclaimer: ये लेखक के निजी विचार हैं.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=