Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

क्‍या हैं नए कोविड वेरिएंट एक्‍सई के लक्षण: 10 बातें, जो आपको पता होनी चाहिए

नया कोविड वेरिएंट एक्‍सई क्या है? इसके लक्षण क्या हैं? यहां हैं 10 बातें, जो आपको जाननी चाहिए.

Read In English
Symptoms Of New COVID Variant XE: 10 Things To Know

नई दिल्ली: भारत में नए कोविड वेरिएंट एक्‍सई (COVID variant XE ) का पहला मामला बुधवार (6 अप्रैल) को सामने आया. बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने घोषणा की कि दक्षिण अफ्रीका की यात्रा के इतिहास वाली एक 50 वर्षीय महिला नए खोजे गए कोरोनावायरस संस्करण एक्‍सई से संक्रमित हो सकती है. हालांकि, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि वर्तमान साक्ष्य भारत में कोविड के एक्‍सई संस्करण की उपस्थिति की पुष्‍ट‍ि नहीं करते हैं और मीडिया रिपोर्टों का खंडन करते हुए दावा किया कि मुंबई में नए म्‍यूटेशन का एक मामला सामने आया था.

इसे भी पढ़ें: “मास्क पहनने, हाथ साफ रखने जैसे दिशानिर्देश 31 मार्च के बाद भी जारी रहेंगे” : स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने किया स्‍पष्‍ट

कोरोनवायरस के एक्सई संस्करण पर अभी अधिक जानकारी आने का इंतजार है. उसके कुछ लक्षणों और संकेतों पर नजर रखना जरूरी है. यहां है अहम जानकारी-

– विश्व स्वास्थ्य संगठन के कोविड-19 टेक्निकल लीड डॉ मारिया वैन केरखोव का कहना है कि एक्‍सई वैरिएंट को ‘रीकॉम्बीनेंट’ कहा जाता है, जिसका अर्थ है कि ओमिक्रोन के BA.1 के साथ-साथ BA.2 वेरिएंट के म्यूटेशन शामिल हैं. जब कोई मरीज कोविड के कई प्रकारों से संक्रमित होता है, तो रिकॉम्बिनेंट म्यूटेशन सामने आता है.

– डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि कोरोनावायरस का यह प्रकार अभी तक का सबसे संक्रामक कोविड संस्करण हो सकता है.

– डब्ल्यूएचओ ने आगे कहा कि ओमीक्रोन के BA.2 उप-संस्करण की तुलना में एक्‍सई म्‍यूटेशन 10 प्रतिशत अधिक संक्रामक प्रतीत होता है.

– WHO का कहना है कि एक्‍सई म्यूटेशन को वर्तमान में ओमिक्रोन वेरिएंट के हिस्से के रूप में ट्रैक किया जा रहा है और लक्षण ओमिक्रोन की तरह हो सकते हैं, जिसमें बुखार, गले में खराश, गले में खराश, खांसी और सर्दी, त्वचा में जलन और डिस्कलरेशन और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल परेशानियां शामिल हैं.

– वर्तमान में, एक्‍सई से ज्‍यादा गंभीर रोग होने का कोई प्रमाण नहीं है.

– रिपोर्ट में यूके स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी (यूकेएचएसए) के मुख्य चिकित्सा अधिकारी, सुसान हॉपकिंस के हवाले से कहा गया है कि ऐसे वेरिएंट आमतौर पर “अपेक्षाकृत जल्दी” मर जाते हैं.

– डब्ल्यूएचओ के अनुसार, इस पुनः संयोजक का पता पहली बार यूनाइटेड किंगडम में 19 जनवरी को चला था और इसके बाद से लगभग 637 मामले सामने आए हैं.

– थाईलैंड और न्यूजीलैंड में भी एक्सई वेरिएंट का पता चला है और डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि म्यूटेशन के बारे में और अधिक कहने से पहले और डाटा की जरूरत है.

– डॉ मारिया वान केरखोव का कहना है कि वायरस अभी भी हमारे साथ है और वास्तव में तेजी से फैल रहा है.

– वह आगे कहती हैं कि संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने और इस तरह बीमारी और मृत्यु के प्रसार को कम करने के लिए सभी को हमारे पास मौजूद सभी साधनों का उपयोग करने की जरूरत है. उन्‍होंने कहा कि इन तरीकों में टीके शामिल हैं, यह सुनिश्चित करते हुए कि हमें हमारे लिए उपलब्ध खुराक का पूरा कोर्स मिल जाए और इसके साथ ही मास्किंग और उचित सामाजिक दूरी बनाए रखने जैसे अन्य उपायों का पालन करें.

इसे भी पढ़ें: जलवायु संकट: वैश्विक तापमान में वृद्धि पूर्व-औद्योगिक स्तर से 1.5 डिग्री सेल्सियस से अधिक खतरनाक क्यों है?

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts