Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

एचआईवी संक्रमण का पता लगाने के लिए कौन-कौन से टेस्ट हैं?

डब्ल्यूएचओ के अनुसार क‍िसी व्यक्त‍ि को एचआईवी टेस्ट से पहले संभावित जोखिम के 3-4 सप्ताह बाद इंतजार करना चाहिए

एचआईवी संक्रमण का पता लगाने के लिए कौन-कौन से टेस्ट हैं?
एचआईवी है या नहीं, यह सुनिश्चित करने का एकमात्र तरीका जांच करना है.
Highlights
  • सरकारी अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों पर एचआईवी जांच नि:शुल्क की जाती है
  • रैपिड किट टेस्ट देशभर के सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर उपलब्ध हैं
  • एचआईवी के खिलाफ एंटीबॉडी एक्सपोजर के 28 दिनों के भीतर विकसित होते हैं

नई दिल्ली: विशेषज्ञों के अनुसार, यह पता करने का कि किसी को एचआईवी संक्रमण है या नहीं, एकमात्र तरीका है परीक्षण या जांच करवाना है. भारत सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (NACO) का कहना है कि एचआईवी का समय पर डाइग्नोज होने से लोगों की जान बचाई जा सकती है. हालांकि, किसी को भी एचआईवी स्क्रीनिंग करने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है, नाको का कहना है कि परीक्षण केवल सूचित सहमति के साथ किया जा सकता है, जब व्यक्ति ने इनमें से किसी के लिए पूर्व-परीक्षण परामर्श प्राप्त किया हो- व्यवहार परिवर्तन, नैदानिक ​​​​उद्देश्य, सेरोप्रेवलेंस अध्ययन, सुरक्षा सुनिश्चित करना और अनुसंधान.

इसे भी पढ़ें: विश्व एड्स दिवस 2021: क्यों ‘एचआईवी को हराना आसान नहीं है

एचआईवी टेस्ट क्या है?

UNAIDS का कहना है कि यह पता लगाने के लिए कि क्या किसी व्यक्ति का वायरस से कोंट्रेक्ट हुआ है, आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले एचआईवी परीक्षण एचआईवी के जवाब में प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा उत्पादित एंटीबॉडी का पता लगाते हैं, क्योंकि वे वायरस की तुलना में बहुत आसान (और सस्ता) हैं.

हैदराबाद के यशोदा हॉस्पिटल्स के कंसल्टेंट फिजिशियन डॉ शशिधर रेड्डी गुथा के मुताबिक, एंटी-एचआईवी एंटीबॉडी का पता लगाना एचआईवी के परीक्षण और एचआईवी के डाइग्नोज की रीढ़ है. उन्होंने कहा कि एंटीबॉडी की उपस्थिति इंगित करती है कि क्या व्यक्ति एचआईवी से संक्रमित है और असुरक्षित व्यवहार के जरिए संक्रमण को दूसरों तक पहुंचा सकता है. डॉ गुथा ने कहा कि ज्यादातर लोगों के लिए यह एंटीबॉडी विकसित होने में तकरीबन एक महीने का समय लगता है. रक्तदान, सर्जिकल प्रक्रियाओं के लिए जाने से पहले नियमित परीक्षण या आपातकालीन परीक्षण के उद्देश्य से, रैपिड किट परीक्षण किया जाता है और आगे की पुष्टि के लिए एलिसा (एंजाइम-लिंक्ड इम्युनोसॉरबेंट एसे) और वेस्टर्न ब्लॉट परीक्षण किए जाते हैं. उन्होंने कहा कि ये सभी परीक्षण प्रक्रियाएं रोगी के रक्त या सीरम पर की जाती हैं. उन्होंने आगे बताया कि अगर कोई व्यक्ति एचआईवी पॉजिटिव है, तो वे एचआईवी वायरल लोड टेस्ट और सीडी 4 (विभेदन 4 का क्लस्टर) सेल काउंट भी करते हैं.

जब कोई नमूना किसी एक मेथड के इस्तेमाल से की गई जांच में सकारात्मक नतीजे देता है, तो नाको दिशानिर्देशों के अनुसार, डाइग्नोज की पुष्टि करने के लिए इसे एक दूसे मेथड से फिर जांचना होता है. दिशानिर्देश आगे कहते हैं कि अगर किसी नमूने ने दो मेथड का इस्तेमाल करने के बाद भी नतीजे सकारात्मक दिए हैं, तो उसे एक और परीक्षण का उपयोग करके फिर से परीक्षण करना होगा. तीनों परीक्षण विधियों में सकारात्मक होने के बाद ही किसी व्यक्ति के एचआईवी संक्रमण होने की पुष्टि होती है.

इसे भी पढ़ें: World AIDS Day: क्या है एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी यानी ART?

रैपिड किट टेस्ट: इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है. यह 15-20 मिनट में नतीजे दे देता है. इन जांचों में किसी खास मशीन की जरूरत नहीं होती और गर्भावस्था परीक्षण की तरह ही सिंपल होते हैं बस हल्का सा रक्त का सेंपल लेने में दर्द महसूस हो सकता है. नाको के अनुसार बाजार में मौजूद ज्यादात रैपिड किट परीक्षण बेहद संवेदनशील होते हैं और सटीक नतीजे देते हैं. अगर नतीजा सकारात्मक आता है, तो परीक्षण के दूसरे तरीके का उपयोग करके इसकी पुष्टि की जाती है.

एलिसा या एंजाइम-लिंक्ड इम्यूनोसॉरबेंट एसे (ELISA, Enzyme-Linked Immunosorbent Assay): जब किसी व्यक्ति को रैपिड किट टेस्ट के मेथड से एचआईवी पॉजिटिव परिणाम मिलते हैं, तो उन्हें पुष्टि के लिए एक दूसरे मेथड के साथ जांचा जाता है. इसे एलिसा विधि कहा जाता है, जिसमें आमतौर पर परिणाम आने में 2-3 घंटे लगते हैं. अगर एचआईवी के प्रति एंटीबॉडी मौजूद हैं (सकारात्मक), तो निदान की पुष्टि के लिए आमतौर पर परीक्षण दोहराया जाता है. अगर एलिसा नकारात्मक है, तो आमतौर पर अन्य परीक्षणों की जरूरत नहीं होती है. एलिसा परीक्षण वायरस के होने का पता लगाने के लिए या तो एचआईवी एंटीजन या एंटीबॉडी का इस्तेमाल एक खास तरह के कागज से जुड़ा होता है, जिसे नाइट्रोसेल्यूलोज पेपर कहा जाता है.

वेस्टर्न ब्लॉट (Western Blot) : यह एक और पुष्टिकरण जांच है. वेस्टर्न ब्लॉट में, कई एचआईवी विशिष्ट प्रतिजन नाइट्रोसेल्यूलोज पेपर पर अवशोषित हो जाते हैं. मौजूद एंटीबॉडी स्ट्रिप पर मौजूद एंटीजन से जुड़ जाती है और एंटीजन-एंटीबॉडी कॉम्प्लेक्स का पता लगाया जाता है.

एचआईवी वायरल लोड टेस्ट (HIV Viral Load Test): एक बार जब एक मरीज के पॉजिटिव होने की पुष्टि हो जाती है, तो उन्हें एचआईवी वायरल लोड के लिए एक टेस्ट भी करना होता है. यह परीक्षण रक्त में एचआईवी की मात्रा को मापता है. इसका उपयोग प्रारंभिक एचआईवी संक्रमण का पता लगाने और उपचार की प्रगति की निगरानी के लिए किया जाता है. तीन प्रौद्योगिकियां रक्त में एचआईवी वायरल लोड को मापती हैं: रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन-पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन (आरटी-पीसीआर), ब्रांच्ड डीएनए (बीडीएनए) और न्यूक्लिक एसिड सीक्वेंस-बेस्ड एम्प्लीफिकेशन एसे (NASBA). सभी तीन परीक्षणों में, डीएनए अनुक्रमों का उपयोग करके एचआईवी का पता लगाया जाता है जो खासतौर पर वायरस से जुड़े होते हैं.

सीडी4 (क्लस्टर ऑफ डिफरेंशियल 4) सेल काउंट: वायरल लोड के साथ-साथ सीडी4 सेल काउंट करना जरूरी है, जो मरीज की इम्युनिटी को मापता है. अगर सीडी4 की संख्या 500 से कम है, तो रोगियों में संक्रमण विकसित होने की संभावना होती है. सीडी4 जितना ज्यादा होगा, रोगी उतना ही स्वस्थ होगा. लेकिन सीडी4 की संख्या जो भी हो, नाको के दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि मरीज के एचआईवी पॉजिटिव होने की पुष्टि होते ही इलाज शुरू कर देना चाहिए.

डॉ गुथा ने कहा, सभी एचआईवी जांच बेहद संवेदनशील होती हैं और तकरीबन हर बार सटीक नतीजे मिलते हैं.

संभावित एक्सपोजर के बाद जांच कब कराएं?

एचआईवी के लिए परीक्षण किए जाने से पहले एक व्यक्ति को संभावित जोखिम के बाद कम से कम 3-4 सप्ताह इंतजार करना चाहिए. ऐसा इसलिए है क्योंकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार,

ज्यादातर मामलों में, लोग संक्रमण के 28 दिनों के भीतर एचआईवी के प्रति एंटीबॉडी विकसित कर लेते हैं. इस समय के दौरान, लोग तथाकथित ‘विंडो’ अवधि का अनुभव करते हैं – जब मानक परीक्षणों द्वारा पता लगाने के लिए एचआईवी एंटीबॉडी का उच्च स्तर में उत्पादन नहीं किया गया है और जब उनमें एचआईवी संक्रमण के कोई लक्षण नहीं हो सकते हैं, लेकिन यह भी कि जब वे तब भी दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं.

संक्रमण के बाद कोई इंसान गर्भावस्था में महिला शिशु को, स्तनपान के दौरान, यौन साथी में एचआईवी का प्रसार कर सकते हैं.

कहां से कराएं जांच?

डॉ गुथा के अनुसार, रैपिड किट जांच किसी भी अस्पताल- छोटे या बड़े, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी), जिला स्तर के अस्पताल, निजी अस्पतालों, सरकारी अस्पतालों और सभी जिलों में नाको द्वारा संचालित एकीकृत परामर्श और परीक्षण केंद्र (आईसीटीसी) में उपलब्ध हैं. जिसे जांच कराने की जरूरत है वह अपने नजदीकी चिकित्सा केंद्र में जा सकता है और अपना परीक्षण करवा सकता है.

हालांकि, एलिसा और वेस्टर्न ब्लॉट जैसी दूसरी जांचें लैब प्रक्रियाओं की मदद से होती हैं और सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर उपलब्ध नहीं हैं. डॉ गुथा ने कहा कि ये सिर्फ जिला स्तर के अस्पतालों और आईसीटीसी में उपलब्ध हैं.

एचआईवी परीक्षण की लागत?

भारत सरकार एचआईवी/एड्स परीक्षण और उपचार पूरी तरह से निःशुल्क प्रदान करती है. डॉ गुथा के अनुसार, हर साल 90 फीसदी से ज्यादा एचआईवी परीक्षण सरकारी अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों और आईसीटीसी में किए जाते हैं. निजी अस्पतालों में, एलिसा परीक्षण की लागत लगभग 1,200 से 1,500 रुपये है. एचआईवी वायरल लोड और सीडी4 काउंट, जिसे सकारात्मक परीक्षण के बाद एक व्यक्ति को कई बार लेने की जरूरत होती है कि कीमत तकरबीन 3,000 से 5,000 रु है.

इसे भी पढ़ें: राय: HIV से पीड़ित लोगों द्वारा अनुभव की जाने वाली मानसिक स्वास्थ्य चुनौतियां

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts