Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

Blog: फूड क्रेविंग को जानें और गट माइक्रोब्स को समझें

गट माइक्रोब्‍स की भूमिका बताते हुए मुनमुन गनेरीवाल कहती हैं कि गट-माइक्रोबायोटा-ब्रेन एक्सिस है, जो बताते हैं कि कैसे रोगाणु आपकी खाने की आदत में बदलाव करते हैं

Read In English
Blog: Decoding Food Cravings And The Role Of Gut Microbes
मुनमुन गनेरीवाल का सुझाव है कि डाइट की एकरसता को दूर करें और अपने भोजन में विविधता को अपनाएं

आप इस बात से सहमत होंगे कि हम ऐसे समाज और वातावरण में रहते हैं जो हमें विश्वास दिलाते हैं कि यदि आप केवल अपने खाने और प्रॉपर एक्‍सरसाइज को कंट्रोल कर सकते हैं, तो आप मोटे नहीं होंगे. लेकिन ईमानदारी से कहूं तो ऐसा नहीं है. आइए जानते हैं कैसे.

मानो या न मानो, लेकिन आपके गट माइक्रोब्‍स बहुत कुछ कहते हैं

आप जो खाना खाते हैं वह आपकी गट में रहने वाले खरबों बैक्टीरिया को खिलाता है. पीनट बटर सैंडविच और ट्यूना सबवे रोल के बीच आप क्या खाना चुनते हैं, यह निर्धारित करेगा कि आपके गट माइक्रोब्‍स क्या हैं और वे क्या करते हैं. कई अन्य कारक भी एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं और ‘माइक्रोबायोम’ पर अपना प्रभाव डालते हैं, यह गट माइक्रोब्स के इको-सिस्टम के लिए वैज्ञानिक शब्द है. लेकिन डाइट इन छोटे निवासियों का सबसे बड़ा निर्धारक माना जाता है. और यदि ऐसा है, तो क्या यह उचित नहीं है कि वे अपने हितों को बढ़ावा देने के लिए कुछ नीतियां विकसित करें? जो कुछ भी आप उन्हें भेजते हैं उसे निष्क्रिय रूप से स्वीकार करने के बजाय, यह आपको प्रभावित करता है-कि आप क्या खाना चाहते हैं. तो, मान लीजिए कि आज रात के खाने के लिए आपने बर्गर चुना है. आप खाने की टेबल पर हैवी बर्गर की चाहत रखेंगे. इसलिए, चॉकलेट या चिप्स की इच्‍छा के लिए खुद को और अपनी ‘इच्छा शक्ति’ को दोष देना गलत है. आपके आंत में बैक्टीरिया फूड की क्रेविंग की आवृत्ति और तीव्रता को कंट्रोल करते हैं.

क्या आपने देखा है कि आप अक्सर उन खाद्य पदार्थों के लिए तरसते हैं जो पहले से ही आपकी डाहट पर हावी हैं? उदाहरण के लिए, यदि आप हर सुबह कॉफी पीने के आदी हैं, तो आप उठते ही इसके लिए तरसने लगते हैं, तो क्या हुआ अगर आपका पोषण विशेषज्ञ आपसे अपने दिन की शुरुआत कॉफी के साथ नहीं करने के लिए कहता है? आपके रोगाणु इसे चाहते हैं. और ऐसा इसलिए है क्योंकि जब आप कुछ समय से एक ही तरह के खाद्य पदार्थ खा रहे होते हैं, तो गट में परिणामी जीवाणु मिश्रण भी ब्रेन को समान खाद्य पदार्थों की आपूर्ति करने के लिए कहता है. आपका माइक्रोबायोम उन खाद्य पदार्थों के लिए जीवाणु मिश्रण को बनाए रखने के लिए क्रेविंग पैदा करता है. इसलिए, जब आप तीन दिनों के लिए ‘हेल्‍दी’ डाइट पर रहने के बाद अपका मन नॉर्मल चिप्स और कोला पीने का करता है, तो रोगाणु आपको ऐसा करने के लिए कहते हैं. यह एक दुष्चक्र की तरह है: आप अपने रोगाणुओं को अच्छी तरह से खिलाने के लिए स्वस्थ खाने की कोशिश करते हैं, लेकिन, रोगाणु जंक और अनहेल्‍दी खाद्य पदार्थों के लिए आपकी अनियंत्रित लालसा को भ्रमित करते हैं, जिससे आपके लिए हेल्‍दी डाइट पर रहना मुश्किल हो जाता है. आप देखते हैं, आप उन्हें महत्व नहीं दे सकते हैं, लेकिन उनके पास कई चतुर तरकीबें हैं, जिनमें से एक को वैज्ञानिक रूप से ‘गट-माइक्रोबायोटा-ब्रेन एक्सिस’ कहा जाता है.

गट-माइक्रोबायोटा-ब्रेन एक्सिस

गट-माइक्रोबायोटा-ब्रेन एक्सिस बताते हैं कि रोगाणु आपके खाने के व्यवहार में कैसे हेरफेर करते हैं. आपका गट और ब्रेन वेगस वेल्‍स के माध्यम से संवाद करते हैं, पेट के रोगाणुओं को भोजन की लालसा को प्रभावित करने और आपके लिए दिन के लिए मेनू चुनने के लिए एक संभावित मार्ग देते हैं. GMB एक्सिस के माध्यम से, आपके रोगाणु जानते हैं कि भोजन के बाद आपको खुश, तृप्त जैसा महसूस कैसे कराया जाए. ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारे गट माइक्रोबायोटा से बैक्टीरिया न्यूरोट्रांसमीटर नामक कुछ कैमिकल्‍स के संश्लेषण को कंट्रोल करते हैं, जो प्रभावित करते हैं कि हम कैसा महसूस करते हैं, हम क्या चाहते हैं, आदि. उदाहरण के तौर पर, गर्भावस्था के दौरान क्रेविंग (सलाम नमस्ते से प्रीति जिंटा के बारे में सोचें) अक्सर पूरी तरह से अलग होती हैं. ऐसा महिला की सामान्य प्राथमिकताओं से उसकी गट में माइक्रोबियल कॉकटेल में बदलाव के कारण होता है. गर्भावस्था को चलाने वाले हार्मोनल बदलाव भी मां के माइक्रोबायोटा की संरचना को प्रभावित करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप वह उन खाद्य पदार्थों को पसंद नहीं करती जो एक बार उसे काफी पसंद होते थे. पर गर्भावस्था में वह उन चीजों के लिए तरसते है जिन्हें वह कभी पसंद नहीं करती थी.

क्या करें?

यह सच है कि आपके गट के रोगाणु भोजन की लालसा को आकार देते हैं और आपके भोजन की पसंद और आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं. लेकिन यह भी सच है कि आपके पास अपने माइक्रोबायोम को फिर से आकार देने और पुन: संतुलित करने की शक्ति है. हम सब के पास यह शक्ति है. शुरुआत करने वालों के लिए, आप डाइट विविधता से शुरू कर सकते हैं. आहार की एकरसता को दूर करें और अपने भोजन में विविधता को अपनाएं. विविधता प्रमुख है.

अमेरिकन गट प्रोजेक्ट के हालिया निष्कर्षों से पता चला है कि आपके भोजन जितने विविध होंगे, आपके माइक्रोबायोम उतने ही विविध होंगे- यानी- बैक्टीरिया की विभिन्न प्रकार की प्रजातियां होना. जब आपके पेट में एक विविध समुदाय होता है, तो यह एक अप्रिय सूक्ष्म जीव को हरकत करने से रोकता है. कई प्रजातियों के वर्चस्व वाले एक समृद्ध माइक्रोबायोम का मतलब होगा खाने के व्यवहार में कम हेरफेर, कम क्रेविंग और अंततः आप बेहतर भोजन के ऑप्‍शन और हेल्‍थ की ओर जाने लगते हैं. इसलिए, अपनी डाहट में केवल साबुत अनाज, दाल, फल, सब्जियां आदि शामिल करने से काम नहीं चलेगा- जब तक आप यह सुनिश्चित नहीं करते कि वे हर समय एक ही प्रकार की डाहट आप न ले रहे हों. उदाहरण के लिए, डाइट इंड्रस्‍टी ने ‘चीनी’ के लिए चिंता की एक नई लहर फैला दी है. जनता या तो 30-दिन के नो शुगर चैलेंज में भाग ले रही है या सभी चीनी को ‘स्वस्थ’ गुड़ से बदलने में व्यस्त है. इसके बजाय आहार विविधता की अवधारणा समावेश पर आधारित है – सभी प्रकार के खाद्य पदार्थों को शामिल करना इसमें शामिल है.

इसलिए, जब चीनी की भी बात आती है, तो इसे पूरी तरह से खत्म करने के बजाय, विभिन्न रूपों के बीच बदलाव करना महत्वपूर्ण होता है ताकि आपके पास किसी एक प्रकार की अधिकता न हो. मेरा सुझाव है कि सप्ताह के सातों दिनों में चार दिन शहद, दो दिन गुड़ और एक दिन शक्कर का सेवन करें. यही हाल फलों, सब्जियों, दालों और बाजरा की देसी किस्मों का भी है. अच्छी बात यह है कि विभिन्न प्रकार के खाने की कोशिश करना जेब पर भी आसान होता है. चूंकि उनमें से अधिकांश को लोग जानते नहीं हैं, इसलिए उन्हें अत्यधिक कीमत पर नहीं बेचा जाता है. मैं कहूंगी यह आपके लिए जीत की स्थिति है. तो आप किसका इंतज़ार कर रहे हैं? आशा है कि आप इस नए साल में बदलाव करेंगे. आपको कामयाबी मिले!

(लेखक के बारे में: मुनमुन गनेरीवाल एक नेशनल बेस्ट-सेलिंग राइटर, सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट और गट माइक्रोबायोम स्‍पेशलिस्‍ट हैं.)

Disclaimer: ये लेखक के निजी विचार हैं. 

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=