Connect with us

कचरा प्रबंधन

एक्‍सपर्ट से जानें: एशिया के सबसे बड़े डंपसाइट – गाजीपुर और दिल्ली के वेस्‍ट मैनेजमेंट प्रोग्राम में क्या खामी है?

बनेगा स्वस्थ इंडिया टीम ने दिल्ली के वेस्‍ट मैनेजमेंट प्रोग्राम और आगे की राह में क्या दिक्‍कत है, को समझने के लिए पर्यावरण विशेषज्ञों से बात की.

Read In English
Experts Speak: What Went Wrong With Asia’s Largest Dumpsite - Ghazipur And Delhi’s Waste Management Programme?
एक्‍सपर्ट से जानें: एशिया के सबसे बड़े डंपसाइट - गाजीपुर और दिल्ली के वेस्‍ट मैनेजमेंट प्रोग्राम में क्या गड़बड़ हुई है?

नई दिल्ली: गाजीपुर – एशिया का सबसे बड़ा डंपसाइट पिछले कुछ समय से अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय सुर्खियां बटोर रहा है. 1984 में दिल्ली सरकार द्वारा शुरू किया गया लैंडफिल 2002 में ही क्षमता को पार कर गया था. इसके बावजूद दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) लगातार लैंडफिल काम करता रहा, नतीजा यह रहा कि समस्या दिन-ब-दिन बढ़ती ही जा रही है. इससे भी बुरी बात यह है कि 2017 में इस कचरे के ढेर के ढह जाने से दो लोगों की जान चली गई थी और पांच लोग घायल हो गए थे. ढहने के बाद भी, लैंडफिल में दिल्ली के सभी हिस्सों से कचरा मिलता रहा. वेस्‍ट डंप प्रमुख आग ब्रेकआउट के लिए भी जाना जाता है. मार्च 2022 में, साइट पर भयानक आग लग गई, जो लगभग 55 घंटे तक बिना रुके धधकती रही.

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट और एक्‍सपर्ट्स द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, आज डंप साइट में राष्ट्रीय राजधानी से हर दिन लगभग 3,000 मीट्रिक टन कचरा डाला जा रहा है. नगर निगम द्वारा 2019 में की गई अंतिम गणना के अनुसार कूड़े का पहाड़ लगभग 65 मीटर लंबा (लगभग 213 फीट) है, जो ताजमहल की ऊंचाई के लगभग बराबर है, जो लगभग 73 मीटर और कुतुब मीनार से सिर्फ 8 मीटर छोटा है.

तो, गाजीपुर में वास्तव में क्या गलत हो रहा है और हम सालों से इन सभी हादसों को कंट्रोल करने में सक्षम क्यों नहीं हैं? टीम बनेगा स्वस्थ इंडिया ने दिल्ली के वेस्‍ट मैनेजमेंट प्रोग्राम में क्या सही नहीं है और आगे की राह पर समाधान के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए विशेषज्ञों के साथ बात की.

इसे भी पढ़ें: भारत में सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट है कड़ी चुनौती

NDTV: क्या गाजीपुर में हुई ये दुर्घटनाएं चेतावनी के संकेत हैं कि हम एक टाइम बम पर बैठे हैं और शायद भारत को अपने कचरे का उचित प्रबंधन करना शुरू कर देना चाहिए?

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट की लैंडफिल विशेषज्ञ ऋचा सिंह: सामान्य तौर पर डंपसाइट्स हमारे देश के सामने सबसे बड़ी चुनौती है. स्वच्छ भारत 2.0 के तहत जनादेश के बाद भी, जिसमें शहरों को एक विशेष समय सीमा के भीतर डंपसाइट्स को साफ करने की आवश्यकता होती है, हमारे शहर ऐसा करने में सक्षम नहीं हो रहे हैं क्योंकि यह बहुत चुनौतीपूर्ण है. गाजीपुर जैसे बड़े डंप साइट के लिए यह और भी चुनौतीपूर्ण है, पहला क्योंकि यह बहुत बड़ा है, दूसरा क्योंकि अधिकारियों के पास फ्रेश वेस्‍ट के मैनेजमेंट के लिए कोई समाधान नहीं है. लैंडफिल या डंपसाइट का पहला नियम यह है कि एक बार जब यह अपनी सीमा पार कर लेता है, तो ताजा कचरे को डंप करना बंद कर देना चाहिए. लेकिन भारत में गाजीपुर और अन्य डंपसाइट्स में जो हो रहा है, वह यह है कि भले ही अधिकारी बायोरेमेडिएशन कर रहे हों और लैंडफिल की ऊंचाई कम कर रहे हों, समस्या यह है कि वे लगातार ताजा कचरा इसमें डाल रहे हैं. ताजा कचरे को डंप करना बंद करने की जरूरत है अन्यथा यह एक दुष्चक्र बन जाएगा.

उदाहरण के लिए गाजीपुर में, पूर्वी दिल्ली नगर निगम प्रतिदिन लगभग 2,000 टन ओल्‍ड वेस्‍ट या ओल्‍ड म्युनिसिपालिटी सोलिड वेस्‍ट का उपचार कर रहा है और फिर वे प्रतिदिन लगभग 2,500 टन कचरा भी डाल रहे हैं. इस तरह, प्रक्रिया कभी न खत्म होने वाला चक्र बन जाती है. हमें पुराने कचरे के उपचार के लिए एक तंत्र की आवश्यकता है जो पहले से ही डंप साइट में पड़ा हुआ है और साथ ही हमें ताजा कचरे के उपचार के लिए कुछ सोलिड वेस्‍ट मैनेजमेंट प्रोग्राम एक्‍शन प्‍लान की आवश्यकता है ताकि कचरे की नेग्लिजिबल मात्रा को डंपसाइट्स में छोड़ दिया जा सके. दुर्भाग्य से, शहरों में अधिकांश कचरा हमारे पहले ही मर चुके लैंडफिल में समाप्त हो जाता है और इसलिए अधिकारियों के लिए साइट को खाली करना थोड़ा चुनौतीपूर्ण होता है.

चित्रा मुखर्जी, सलाहकार, वेस्‍ट एंड सस्टेनेबल लाइवलीहुड: दिल्ली या भारत में लैंडफिल का इतिहास बहुत दुखद है. उदाहरण के लिए, गाजीपुर लैंडफिल, यह मूल रूप से एक डंप साइट है जहां दिल्ली से सभी कचरे को फेंक दिया जाता है. कोई लीचेट कलेक्‍शन सिस्‍टम नहीं है, बेस पर कोई लेयर नहीं है जिसे आप लैंडफिल में डालते हैं जब कचरा एकत्र किया जाता है, परिणामस्वरूप यह केवल हवा, पानी और भूमि को प्रदूषित करता है. गाजीपुर लैंडफिल पहली बार 1984 में बनाया गया था और 2002 में यह संतृप्ति सीमा तक पहुंच गया क्योंकि यह 20 मीटर की ऊंचाई को पार कर गया है. दिशानिर्देशों के अनुसार, जब लैंडफिल एक निश्चित निशान को पार करते हैं, तो उन्हें बंद कर दिया जाना चाहिए. लेकिन गाजीपुर के साथ ऐसा कुछ नहीं हुआ. हमने अभी भी गाजीपुर को बंद नहीं किया है, तो जाहिर है कि ऊंचाई बढ़ती रहेगी और 2017 जैसी दुर्घटनाएं और आग बड़े पैमाने पर होंगी. हम जब आग को देखते हैं तो उसके बारे में केवल बात करते हैं, लेकिन तथ्य यह है कि लैंडफिल के अंदर हमेशा आग सुलगती रहती है क्योंकि गीले कचरे के सभी डीकंपोजिशन के कारण मीथेन गैस निकलती है. लैंडफिल एक ऐसी चीज है जिस पर शहर को वास्तव में विचार करने की जरूरत है क्योंकि ये लैंडफिल नहीं हैं बल्कि सिर्फ एक डंप साइट हैं और ये सभी अपनी संतृप्ति सीमा तक पहुंच गए हैं. साथ ही, हमें लैंडफिल के लिए मूल्यवान भूमि खरीदने में अधिक से अधिक पैसा बर्बाद नहीं करना चाहिए, इसके बजाय हमें पुन: उपयोग, रिसाइकल के बारे में सोचना चाहिए.

स्वाति सिंह सम्ब्याल, इंडिपेंडेंट वेस्ट एंड सर्कुलर इकोनॉमी एक्सपर्ट: भारत में हमारे पास जितने भी लैंडफिल हैं, वे सैनिटरी लैंडफिल नहीं हैं, ये सिर्फ डंपसाइट हैं और यह सबसे बड़ी चुनौती है. इन स्थलों का निर्माण किसी दिशा-निर्देश के तहत नहीं किया गया है. इन साइटों में ऊपर और नीचे की परतों की कोई अवधारणा नहीं है, जो किसी भी लैंडफिल के निर्माण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है ताकि यह पर्यावरण को प्रदूषित न करे. दिल्ली में आकर, राष्ट्रीय राजधानी में लैंडफिल टिक टिक टाइम बम की तरह हैं, न केवल गाजीपुर बल्कि तीनों लैंडफिल – गाजीपुर, भलस्वा और ओखला. ये लैंडफिल 1984, 1994 और 1996 से उपयोग में हैं और इन सभी में अभी भी लगभग 2600, 2200 और 1500 टन प्रतिदिन फ्रेश वेस्‍ट डाला जा रहा है. इसलिए, ऐसे परिदृश्य को देखते हुए जहां ये साइटें एक चुनौती हैं और हम अभी भी दैनिक आधार पर इतना ताजा कचरा डाल रहे हैं, तो स्पष्ट रूप से संसाधनों पर बोझ पड़ेगा. और ऐसे परिदृश्य में जहां शहर में प्रतिदिन 11,500 टन कचरा पैदा हो रहा है, जिसमें से केवल 40 प्रतिशत ही संसाधित हो रहा है, हम वास्तव में इसे बंद करने पर काम नहीं कर रहे हैं. गाजीपुर की बात करें तो वहां अब तक जो भी सुधारात्मक कार्य हुए हैं, वे पूरे नहीं हुए हैं.

NDTV: गाजीपुर कैसे स्थानीय लोगों के स्वास्थ्य और जीवन को प्रभावित कर रहा है और पर्यावरण को प्रदूषित कर रहा है?

चित्रा मुखर्जी: गाजीपुर जैसे लैंडफिल पर्यावरण के लिए बेहद खतरनाक हैं. हमेशा गीला कचरा होता है जो सड़ रहा है, भूजल और मिट्टी को प्रदूषित कर रहा है, गीले कचरे के अपघटन के कारण मीथेन गैस निकल रही है, जो सबसे शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैसों में से एक है. दूसरे, गैस भी पूरे जलवायु परिवर्तन का एक हिस्सा है और अंत में हमेशा बीमारियों का खतरा होता है क्योंकि इस कचरे पर बहुत सारी मक्खियां और मच्छर पैदा होते हैं. वर्तमान में, गाजीपुर लैंडफिल में हमारे पास हर तरह का कचरा है – चाहे वह सैनिटरी कचरा हो, कोविड मास्क, बैटरी या ई-कचरा हो. लैंडफिल मूल रूप से एक डंप साइट है, जो शहर द्वारा उपयोग की जाने वाली प्रत्येक चीज को प्राप्त करती है. पर्यावरण ही नहीं, आसपास रहने वाले लोगों के लिए भी यह बहुत हानिकारक है. लैंडफिल से निकलने वाले सभी जहरीले धुएं में रोज सांस लेना बहुत खतरनाक है. आप कल्पना कर सकते हैं, जब आप लैंडफिल या कचरे के ढेर से गुजरते हैं तो आप अपना मुंह बंद कर लेते हैं क्योंकि गंध असहनीय होती है. कल्पना कीजिए, लैंडफिल में काम करने वाले लोगों के जीवन की. उन्हें लगातार सिरदर्द, जी मिचलाना, उल्टी, ब्रोंकाइटिस, रीढ़ की हड्डी की समस्या है, यह सब उनके दैनिक जीवन का हिस्सा है. लोग लैंडफिल के चारों ओर रह रहे हैं, यह अपने आप में एक बड़ी संख्या है.

इसे भी पढ़ें: भारत में सोलिड वेस्‍ट मैनेजमेंट: कचरे के बढ़ते पहाड़ों की चुनौती – लैंडफिल्स

ऋचा सिंह: गाजीपुर या अधिकांश भारतीय लैंडफिल वैज्ञानिक रूप से नहीं बनाए गए हैं और नियामक दिशानिर्देशों का पालन नहीं करते हैं. वे केवल भूमि का एक टुकड़ा है जिसका उपयोग कचरे को डंप करने के लिए किया जाता है जिसके परिणामस्वरूप तल पर कोई बेस लेयर नहीं होती है, कचरे के कारण उत्पन्न होने वाले खतरनाक तरल के इलाज के लिए कोई सुविधा नहीं होती है और साथ ही उत्सर्जित होने वाले गैस भी होते हैं. लैंडफिल कचरे को डंप करने की इस पूरी प्रक्रिया के दौरान, बड़ी मात्रा में लीचेट का उत्पादन होता है, साथ ही H2S गैस, जो प्रकृति में कार्सिनोजेनिक है, मीथेन गैस जैसी बहुत सारी गैसें होती हैं, जिनमें ग्लोबल वार्मिंग की विशाल क्षमता होती है. तो, कुल मिलाकर, ये सभी चीजें पर्यावरण और लैंडफिल के आसपास रहने वाले लोगों को प्रभावित करती हैं. दरअसल, जो लोग 5 किमी के आसपास रहते हैं, वे कई तरह के प्रदूषण के संपर्क में आते हैं. जैसा कि हम सभी जानते हैं कि भूजल पीने के पानी का वास्तविक सोर्स है, अब यदि आप

उस पानी का उपयोग पीने के लिए नहीं भी करते हैं तो आसपास के रहने वाले लोग इसका उपयोग नहाने और अपने बर्तन साफ करने के लिए करते हैं.

नतीजतन, वे कई तीव्र और पुरानी बीमारियों के विकास के संपर्क में हैं. अंत में, जिस हवा में लोग सांस लेते हैं, वह भी बहुत खतरनाक है क्योंकि इसमें सल्फर, नाइट्रोजन और कार्सिनोजेनिक गैसों जैसे डाइऑक्साइजन फ्लोराइड जैसे ऑक्साइड की हाई कान्सन्ट्रेशन होगी, जो निश्चित रूप से एक प्रकार का एपिसोडिक प्रदूषक है, जो लैंडफिल में लगी आग के प्रकोप के दौरान उत्पन्न होता है. तो, कुल मिलाकर, लैंडफिल खराब हैं और लोगों के जीवन और पर्यावरण को नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं.

स्वाति सिंह सम्ब्याल: मिक्‍सड वेस्‍ट को डंप करना एक बहुत बड़ी चुनौती है – इससे न केवल पर्यावरण को नुकसान होता है बल्कि आसपास रहने वाले लोगों को भी नुकसान होता है. कुल मिलाकर ऐसे स्थलों से उत्पन्न लीचेट न केवल भूजल को दूषित कर रहा है क्योंकि ये स्थल 20 वर्ष से अधिक पुराने हैं बल्कि ऐसे स्थलों से निकलने वाले उत्सर्जन भी जलते समय वायु को प्रदूषित कर रहे हैं और ये स्थल चालू हैं. हर समय आग लगती है जो मीथेन गैस छोड़ती है, जो एक शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैस है. प्रारंभ में, जब इन स्थलों की योजना बनाई गई थी, तो शायद वे शहर से 30-40 किलोमीटर दूर थे, लेकिन आज हम उस बिंदु पर पहुंच गए हैं जहां वे हमारे आस-पास के क्षेत्र का बहुत हिस्सा हैंन, इनके आसपास रहता है. गाजीपुर लैंडफिल दिल्ली का चेहरा बन गया है, लैंडफिल के सामने अपार्टमेंट हैं, एक मंडी है, मुर्गी पालन है – तो स्पष्ट रूप से यह कार्रवाई करने का सही समय है. हमें वेस्‍ट मैनेजमेंट की दरारों को समझने की जरूरत है और वास्तव में स्‍टैप ए से जी पर काम करना चाहिए. निपटान स्पष्ट रूप से कोई समाधान नहीं है, हमें सेग्रीगेशन, रिसाइकिल, पुन: उपयोग और अपने कचरे को कम करने और लैंडफिल पर निर्भरता के बारे में सोचने की जरूरत है.

NDTV: दिल्ली के वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम में क्या खराबी है?

चित्रा मुखर्जी: सिर्फ दिल्ली ही नहीं, हमारे ज्यादातर शहरों में कचरा प्रबंधन की प्रथाएं गलत हैं और पूरी तरह से गड़बड़ हैं. उन सभी को कुछ दशक पहले अपने वेस्‍ट मैनेजमेंट के बारे में सोचना शुरू कर देना चाहिए था. दिल्ली सहित हमारे सभी शहरों ने अब तक सोचा है कि एनर्जी प्‍लांट में इंसीनरेशन और कचरे को स्थापित करके और अधिक से अधिक लैंडफिल लगाने का रास्ता तय करना है. हम अभी भी कचरे के सेंट्रलाइज्‍ड प्रोसेसिंग के बारे में बात करते हैं, लेकिन हमें वास्तव में जिस बारे में बात करनी चाहिए, वह है डीसेंट्रलाइज्‍ड प्रोसेसिंग वेस्‍ट मैनेजमेंट, जिसका सीधा-सा मतलब है कि कचरे को स्थानीय रूप से उस स्रोत पर प्रबंधित किया जाता है जहां इसका उत्पादन होता है. इसलिए, चाहे वह घर, कॉलोनी, बाजार, कार्यालय हो – वे जो कचरा पैदा कर रहे हैं उसका प्रबंधन उनके द्वारा स्रोत पर किया जाना चाहिए और हमें पुरानी तकनीकों के बारे में नहीं सोचना चाहिए. हमें अपने कचरा बीनने वालों पर भरोसा करना चाहिए, रीसाइक्लिंग, पुन: उपयोग जैसे विकल्पों को चुनना चाहिए. मुझे पूरी उम्मीद है कि ईडीएमसी गाजीपुर को ऊंचा बनाने और गाजीपुर जैसे ताजा डंपसाइट नहीं खोजने का एक तरीका खोजेगा. हमें यह समझने की जरूरत है, हम तब तक कचरे या लैंडफिल से छुटकारा नहीं पा सकते हैं जब तक कि हम सोर्स सेग्रीगेशन शुरू नहीं करते, जो कि जनादेश में से एक है और सोलिड

वेस्‍ट मैनेजमेंट रूल्‍स के पहले नियमों में से एक है. ऐसा नहीं है कि लैंडफिल की जरूरत नहीं है, इसकी जरूरत होगी, लेकिन हमें इसे वैज्ञानिक तरीके से बनाने की जरूरत है. केवल, निष्क्रिय अपशिष्ट को लैंडफिल में भेजा जाना चाहिए – यहां तक कि अपशिष्ट प्रबंधन पिरामिड में भी – शीर्ष विकल्प पुन: उपयोग कर रहे हैं, रीसाइक्लिंग – लैंडफिल और अपशिष्ट से ऊर्जा अंतिम विकल्प हैं – ऐसा ही होना चाहिए और हमें उस पिरामिड को समझने की आवश्यकता है.

ऋचा सिंह: वर्तमान में अधिकांश शहर दोतरफा सेग्रीगेशन को प्राप्त करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, जो आपके कचरे को दो श्रेणियों में अलग करना है – गीला और सूखा कचरा, लेकिन इसके बावजूद हमारे देश में इंदौर, भोपाल, अंबिकापुर, महाराष्ट्र में कराड – उन्होंने वेस्‍ट सेग्रीगेशन में बहुत अच्छा किया है, जैसी कई सफलता की कहानियां हैं. इंदौर वह शहर है जो कचरे को छह श्रेणियों में अलग कर रहा है – गीला, सूखा, प्लास्टिक, खतरनाक, स्वच्छता और ई-कचरा और ऐसा नहीं है कि उन्होंने एक दिन में यह सब हासिल किया. हमें यह समझने की जरूरत है कि कचरा प्रबंधन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें समय लगेगा, इच्छा होना बहुत जरूरी है. इंदौर ने स्थानीय निकायों द्वारा व्यापक जागरूकता अभियान के साथ दोतरफा सेग्रीगेशन के साथ शुरुआत की और उन्होंने इसे केवल तीन वर्षों में हासिल किया. शहर नागरिकों को वेस्‍ट सेग्रीगेशन की प्रथा को अपनाने और उनके 95 प्रतिशत कचरे का उपचार करने के लिए प्रेरित करने में सक्षम था. आज वे यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि केवल 5 से 10 प्रतिशत अस्वीकृत कचरा या कचरा जो पुनर्चक्रण योग्य नहीं है, केवल वैज्ञानिक रूप से डिजाइन किए गए डंपिंग ग्राउंड में जाता है. ऐसा ही कुछ छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में भी किया जा रहा है. ये सभी अच्छे उदाहरण हैं जिनसे दिल्ली को सीख लेनी चाहिए.

स्वाति सिंह सम्ब्याल: दिल्ली की कचरा प्रबंधन प्रणाली भारी केंद्रीकृत है, संग्रह से लेकर प्रसंस्करण तक, जिसमें 80 प्रतिशत प्रसंस्करण इंसीनरेशन के माध्यम से हो रहा है, विकेंद्रीकरण पर कम ध्यान दिया जाता है. दिल्ली एक ऐसा शहर है जहां विकेंद्रीकरण बहुत जल्दी हो सकता है, हमारे पास 1200 से अधिक ढेलोस हैं, हम इसे सामग्री वसूली सुविधा में क्यों नहीं बदल सकते, जो हमेशा बहस का मुद्दा रहा है. और हम इतनी भूमि का उपयोग क्यों नहीं कर सकते जो पार्क और उद्यान के लिए उपलब्ध है जहां हम स्रोत पर गीले कचरे के प्रबंधन के लिए सूक्ष्म प्रसंस्करण संस्थाएं बना सकते हैं. यह एक बड़ी खामी है, इतने सालों में भी हम केंद्रीकृत व्यवस्था से विकेंद्रीकृत व्यवस्था में नहीं बदल पाए हैं.

NDTV: कचरे के संकट को ठीक या कम करने के लिए ऐसे कुछ हल बताएं, जिन्‍हें दिल्ली में शुरू किया जाना चाहिए?

ऋचा सिंह: मुझे लगता है, अधिकारियों को शुरुआत के लिए कचरे के सेग्रीगेशन पर ध्यान देना चाहिए और ताजा कचरे के उपचार के लिए एक कार्य योजना के साथ आना चाहिए, तभी लैंडफिल की ऊंचाई कम की जा सकती है और हम पुराने कचरे से छुटकारा पा सकते हैं. हमें यह भी समझने की जरूरत है कि ठोस कचरा प्रबंधन पिरामिड में डंपसाइट और लैंडफिल सबसे कम पसंदीदा ऑप्‍शन हैं – रीसाइक्लिंग एक ऐसी चीज है जिसे करने की जरूरत है, यह सबसे पसंदीदा विकल्प है. दिल्ली को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि शहर

द्वारा उत्पादित अधिकांश कचरे का उपचार किया जा रहा है और इसे केवल नागरिकों को प्रेरित करके किया जा सकता है, हमें उन्हें अपने कचरे को सोर्स पर ही अलग करने और फिर कचरे को विभिन्न सुविधाओं तक पहुंचाने के लिए शिक्षित करने की आवश्यकता है.

शहर को तत्काल आधार पर जिन छह कदमों पर ध्यान देना शुरू करना चाहिए, वे हैं – सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, सोर्स सेग्रीगेशन शुरू करें, हमें कचरे को स्रोत पर नहीं मिलाना चाहिए, क्योंकि वेस्‍ट जनरेटर के रूप में हम सभी को इस अभ्यास का पालन करना चाहिए, हमें सेग्रीगेशन शुरू करना चाहिए. दूसरा यह है कि शहर के अधिकारियों के पास सही ट्रीटमेंट तंत्र होना चाहिए. यदि नागरिक अपने कचरे को सोर्स पर अलग कर रहे हैं तो प्राधिकरण को भी अलग से कचरा एकत्र करना चाहिए. वर्तमान में, भले ही वेस्‍ट सेग्रीगेशन किया जा रहा हो, जब इसे कचरा संग्रहकर्ता को दिया जाता है, तो इसे फिर से मिलाया जाता है क्योंकि अधिकारियों के पास अलग किए गए कचरे को लेने की सुविधा नहीं होती है. इन्फ्रास्ट्रक्चर भी होना चाहिए, अगर आप इंदौर और भोपाल को देखें तो उनके पास अलग-अलग कचरे को इकट्ठा करने के लिए अनुकूलित मशीनरी या वाहन हैं, दिल्ली में वर्तमान में वह व्यवस्था नहीं है. तीसरा, हमें पर्याप्त संख्या में रीसाइक्लिंग सुविधाओं की आवश्यकता है जहां हम विभिन्न प्रकार के कचरे को चैनलाइज करते हैं, चौथी बात अनौपचारिक क्षेत्र का एकीकरण है, ऐसे कई लोग हैं जो हमारे कचरे का प्रबंधन करने में मदद करते हैं लेकिन वे हमारी वेस्‍ट मैनेजमेंट सीरीज में पहचाने नहीं जाते हैं. पांचवीं बात निश्चित रूप से हमें वैज्ञानिक प्रकार के लैंडफिल का निर्माण करने की आवश्यकता है जो इन डंपसाइटों की तरह नहीं हैं, आखिरी और छठी चीज इन साइटों में ताजा कचरा डाले बिना लैंडफिल से मौजूदा कचरे का उपचार करना है. एक साथ उठाए गए ये सभी छह कदम हमारे कचरा प्रबंधन का चेहरा बदल सकते हैं और कचरे के विशाल पहाड़ों को कम कर सकते हैं.

चित्रा मुखर्जी: सोर्स सेग्रीगेशन और समुदाय की भागीदारी इसकी कुंजी है. हमें आरडब्ल्यूए, समुदाय, लोगों, स्थानीय अधिकारियों को शामिल करना होगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि लोग अपने कचरे को सोर्स पर कम से कम दो श्रेणियों में अलग कर रहे हैं – गीला और सूखा. आज भारत और दुनिया में ऐसे शहर हैं जो अपने कचरे को 5-6 श्रेणियों में अलग कर रहे हैं, लेकिन मैं कहूंगी, हमें कम से कम बुनियादी दो तरह से सेग्रीगेशन से शुरुआत करनी चाहिए – सूखा और गीला. वेस्‍ट मैनेजमेंट की पूरी बात यह है कि हमें अपने द्वारा उत्पन्न कचरे को कम करने की जरूरत है, और हमें सामग्री पर वापस जाने की जरूरत है. हमें सब कुछ लैंडफिल नहीं करना है. शुरुआत के लिए, मुझे लगता है कि नगर पालिकाओं के पास एक लिस्‍ट होनी चाहिए कि कितना कचरा एकत्र किया जा रहा है, कितना पुन: उपयोग किया जा रहा है और कितना रिसाइकल किया जा रहा है. एक बार आपके पास यह डेटा हो जाने के बाद, आप अच्छे नीतिगत उपाय करने में सक्षम होते हैं और फिर आपको समुदाय को शामिल करना चाहिए – उन्हें स्थानीय रूप से खाद बनाना, सेग्रीगेशन और रिसाइकल शुरू करना चाहिए.

स्वाति सिंह सम्ब्याल: शहरों में वेस्‍ट मैनेजमेंट के काम करने के लिए लोगों की इच्छा के साथ-साथ राजनीतिक और प्रशासन दोनों को साथ-साथ चलने की जरूरत है. दिल्ली में बहुत वेस्‍ट मैनेजमेंट प्रबंधन उपनियम हैं, यह 2018 में आया था, यह न केवल स्रोत सेग्रीगेशन को अनिवार्य करता है बल्कि इसका पालन न करने पर दंड और जुर्माना के साथ कचरे को कम करने और प्रसंस्करण पर भी जोर देता है. उपनियमों को

पारित होने के बाद यह लगभग पांचवां वर्ष है, लेकिन जमीन स्‍तर पर बहुत कुछ नहीं बदला है. इसलिए अब समय आ गया है कि हम इसे लागू करें. इसके अलावा, एक जनरेटर के रूप में समझना महत्वपूर्ण है – व्यक्तिगत या थोक, हमें सोर्स पर वेस्‍ट को कम करने पर काम करने की आवश्यकता है, सेग्रीगेशन किया जाना चाहिए, यह अब ऑप्‍शनल नहीं है. एक बार जब हम इसे हासिल कर लेते हैं, तो वेस्‍ट जनरेटर को एक कदम आगे बढ़ना चाहिए और कचरे को कम करने के बारे में सोचना चाहिए. हमने इंदौर, मैसूर, अंबिकापुर, पणजी जैसे बड़े शहरों में सफल मॉडल देखे हैं, जिनमें दिल्ली के कुछ वार्ड भी शामिल हैं, जिसमें जनरेटर ने अपने गीले कचरे को स्रोत पर ही उपचारित करने का निर्णय लिया.

जब हम एमसीडी के बारे में बात करते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि वे इस कचरे के प्रबंधन के लिए उपयुक्त सिस्टम तैयार करें. उन्हें लैंडफिल पर निर्भर किए बिना भी अनुपालन सुनिश्चित किए बिना जितना संभव हो उतना संसाधित करना चाहिए. अंत में केवल नगर पालिकाओं का काम नहीं है, यह एक बड़ी मूल्य श्रृंखला है – यह औपचारिक क्षेत्र, अनौपचारिक क्षेत्र, निगम, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड है – इसलिए सभी को एक साथ आना होगा. अनौपचारिक क्षेत्र हमारे कचरे के प्रबंधन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, मेरे लिए वे असली कचरा योद्धा हैं.

इसे भी पढ़ें: विचार: हमारा स्थान, हमारा भविष्य, जानिए कैसे एक युवा नेता कचरे को अलग करने और समुदायों को एकजुट करने की कोशिश कर रहा है

NDTV: वेस्‍ट मैनेजमेंट के मामले में दिल्ली को दूसरे शहरों से क्‍या सीख लेनी चाहिए?

ऋचा सिंह: इंदौर में प्रतिदिन 550 टन गीला कचरा 17,000 किलोग्राम बायो-सीएनजी में बदला जा रहा है. जबकि, दिल्ली में एक दिन में लगभग 11,000 टन कचरा पैदा हो रहा है और इसमें से 50-60 प्रकृति में जैविक या गीला है. इसलिए अगर हम इन आंकड़ों पर गौर करें तो कल्पना कीजिए कि दिल्ली जैसे शहर में यह कितना टिकाऊ ऑप्‍शन बन सकता है, जहां सीएनजी की कीमत भी बहुत ज्यादा है.

चित्रा मुखर्जी: भारत के अंदर ही वेस्‍ट मैनेजमेंट के कई अच्छे उदाहरण हैं. उदाहरण के लिए मैसूर में, नागरिकों की भागीदारी इतनी अधिक है कि आज पूरे शहर के कचरे का मैनेजमेंट सोर्स पर ही किया जा रहा है. उन्होंने अपने सभी नागरिकों को घर पर कचरे का सेग्रीगेशन करवाकर शुरुआत की, फिर उनके पास सूखी वेस्‍ट सामग्री की रिकवरी की सुविधा है जहां सभी रिसाइकल सामग्री एकत्र की जाती हैं और सोर्स की रिकवरी की जाती है. महाराष्ट्र में एक छोटी सी जगह है जिसे वेंगुर्ला कहा जाता है – उन्होंने अपना स्‍मॉल प्लास्टिक बैन लगाया है, फिर केरल में एलेप्पी है, गोवा में पणजी, दिल्ली को इन सभी उद्धरणों से सीखने की जरूरत है. दिल्ली को यह सबक सीखना चाहिए कि वेस्‍ट मैनेजमेंट को छोटे वर्गों में विभाजित किया जाना चाहिए – हमें पूरी दिल्ली के बारे में नहीं सोचना चाहिए, हमें शहर को छोटे हिस्सों में तोड़ने की जरूरत है और यही वह जगह है जहां विकेंद्रीकृत व्यवस्थाएं आती हैं, इसलिए हम एक वार्ड, कॉलोनी में कचरा प्रबंधन पर ध्यान देने की जरूरत है – और फिर पूरे शहर को लक्षित करें. यदि आप केवल सोर्स सेग्रीगेशन और वेस्‍ट रिकवरी प्राप्त करते हैं, तो अपने सभी वेस्‍ट मैनेजमेंट को पाना बहुत आसान है. वास्तव में यही कुंजी है. वर्तमान में, दिल्ली में केवल 60 प्रतिशत कचरा वास्तव में एकत्र किया जा रहा है और शेष को लैंडफिल में डाला जा रहा है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=