Connect with us

कचरा प्रबंधन

कचरा प्रबंधन संकट: वेस्‍ट से एनर्जी ट्रीटमेंट प्‍लांट कितने प्रभावी हैं?

टीम बनेगा स्वस्थ इंडिया ने पर्यावरण विशेषज्ञों से बात की और यह जानने की कोशिश की कि वेस्‍ट से एनर्जी प्‍लांट भारत के कचरे का आदर्श समाधान क्यों नहीं हैं.

Read In English
Garbage Management Crisis: How Effective Are Waste To Energy Treatment Plants?
कचरा प्रबंधन संकट: वेस्‍ट से एनर्जी ट्रीटमेंट प्‍लांट कितने प्रभावी हैं?

नई दिल्ली: “जियो या जीने दो, हमें सांस लेने दो (जियो और जीने दो और हमें स्वतंत्र रूप से सांस लेने में मदद करें); डब्ल्यूटीई प्‍लांट को हटाना है, जिंदगी बचानी है (हमें डब्ल्यूटीई पौधों को हटाने और अपनी जान बचाने की जरूरत है) – ये नई दिल्ली में सुखदेव विहार के निवासियों के कुछ संदेश थे. इन निवासियों ने दिल्ली के ओखला इलाके में वेस्ट-टू-एनर्जी (WTE) प्लांट के विरोध में बार-बार आवाज उठाई है और इसे बंद करने का आह्वान किया है. 23 मार्च, 2019 को वापस, दक्षिण दिल्ली के 300 से अधिक निवासियों ने ओखला वेस्ट-टू-एनर्जी (WTE) प्लांट के विरोध में सबसे बड़ी ओपन-चेन रैलियों में से एक का आयोजन किया. उनकी अपील थी कि शहर के बीचों-बीच स्थित डब्ल्यूटीई प्लांट से जहरीला धुंआ निकल रहा है, जिससे वातावरण दुर्गंध से भर रहा है और लोगों को बीमार कर रहा है. पर्यावरणविद् अनिल अग्रवाल द्वारा शुरू की गई एक पाक्षिक पत्रिका डाउन टू अर्थ द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, लोगों को पर्यावरण के सामने आने वाली चुनौतियों से अवगत कराने के उद्देश्य से, दस लाख से अधिक लोग आवासीय कॉलोनियों में रहते हैं जो प्‍लांट के चारों ओर निवास करते हैं.

यह वह परिदृश्य है जब पर्यावरण प्रभाव आकलन (ईआईए) मानदंड कहता है कि बॉयलर, विस्फोट के मामले में, 260 मीटर के दायरे में सब कुछ खतरनाक रूप से प्रभावित करेगा और आवास और शहरी विकास मंत्रालय के एक मैनुअल में कहा गया है कि ऐसे संयंत्रों को नजदीक नहीं होना चाहिए आवासों और उद्योगों से 300 मीटर से अधिक दूरी पर इन्‍हें होना चाहिए. इससे भी बुरी बात यह है कि इन दिशानिर्देशों के बावजूद, ओखला डब्ल्यूटीई प्लांट सुखदेव विहार डीडीए फ्लैट्स, हाजी कॉलोनी जैसे रिहायशी इलाकों के आसपास है और प्लांट से महज 45 मीटर की दूरी पर स्थित है.

इसे भी पढ़ें: भारत में सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट है कड़ी चुनौती

यह केवल ओखला डब्ल्यूटीई प्‍लांट की बात ही नहीं है, यह सभी डब्ल्यूटीई संयंत्रों के बारे में है क्योंकि कमोबेश सभी समान जोखिम पर हैं. देश में अधिकांश डब्ल्यूटीई संयंत्रों द्वारा बार-बार उल्लंघन किया जाता है. 2016 में, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने पर्यावरण को प्रभावित करने के लिए ओखला डब्ल्यूटीई प्लांट पर 25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था. हालांकि देश में सभी चार चालू इंसीनरेटर-बेस्‍ड डब्ल्यूटीई प्‍लांट ने सतत उत्सर्जन निगरानी प्रणाली (सीईएमएस) स्थापित की है, जो पर्यावरण मंत्रालय और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी), दिल्ली स्थित पर्यावरण थिंक टैंक को वास्तविक समय प्रदूषण डेटा भेजता है. सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट का कहना है कि इसे लागू करने में ढिलाई बरती गई है. अधिकांश संयंत्रों में उपकरण मानकीकरण, दोषपूर्ण स्थापना और अपर्याप्त रखरखाव की कमी है.

यह बताते हुए कि डब्ल्यूटीई प्‍लांट भारत के लिए आदर्श समाधान क्यों नहीं हैं, वेस्‍ट एंड सस्टेनेबल लाइवलीहुड की सलाहकार चित्रा मुखर्जी ने कहा,

देश का पहला डब्ल्यूटीई प्‍लांट 1987 में तिमारपुर, दिल्ली में स्थापित किया गया था. उस समय, आने वाले कचरे की खराब गुणवत्ता के कारण इसे बंद करने से पहले यह सिर्फ 21 दिनों तक चला था. तब से, देश में 130 मेगावाट क्षमता के 14 और डब्ल्यूटीई प्‍लांट स्थापित किए गए हैं. इनमें से आधे को पहले ही बंद कर दिया गया है और बाकी पर्यावरण उल्लंघन के लिए जांच के दायरे में हैं. यह इस बात का प्रमाण है कि डब्ल्यूटीई प्‍लांट एक आदर्श समाधान नहीं हैं बल्कि वे वेस्‍ट मैनेजमेंट का एक मात्र टूल हैं.

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट की लैंडफिल विशेषज्ञ ऋचा सिंह ने इसी तथ्य को दोहराते हुए और इस बात पर प्रकाश डाला कि डब्ल्यूटीई भारत में पैदा होने वाले कचरे के लिए एक आदर्श समाधान क्यों नहीं है, उन्‍होंने कहा,

हमें लगता है कि ऊर्जा की बर्बादी वह जादुई तकनीक है और हर चीज का वन स्टॉप सॉल्यूशन है. लेकिन हमें यह समझना होगा कि हमारे पास बहुत अलग टाइप का कचरा है. यदि आप हमारे द्वारा उत्पन्न कचरे की संरचना को देखें तो आप पाएंगे कि इसमें से अधिकांश बायोडिग्रेडेबल और जैविक कचरा है जो कि आपका भोजन या रसोई का कचरा है. इस प्रकार के कचरे में 70-80 प्रतिशत पानी होता है, अब जब आप इस कचरे को अपशिष्ट से एनर्जी प्‍लांट में डालते हैं, तो आप बस अधिक पानी जलाने पर पैसा खर्च कर रहे हैं और यहीं पर वेस्ट-टू-एनर्जी प्लांट के पीछे का तर्क विफल हो जाता है.

इसे भी पढ़ें: भारत में सोलिड वेस्‍ट मैनेजमेंट: कचरे के बढ़ते पहाड़ों की चुनौती – लैंडफिल्स

राष्ट्रीय राजधानी के बारे में विशेष रूप से बात करते हुए, स्वतंत्र अपशिष्ट और परिपत्र अर्थव्यवस्था विशेषज्ञ स्वाति सिंह सम्ब्याल ने कहा कि दिल्ली एक दिन में 11,000 टन कचरा उत्पन्न करती है, जिसमें से केवल 10 प्रतिशत नॉन-रिसाइक्लेबल योग्य है, जो इस बात पर प्रकाश डालता है कि दिल्ली को स्पष्ट रूप से तीन डब्ल्यूटीई प्‍लांट की आवश्यकता नहीं है.

विशेषज्ञों ने भारत में डब्ल्यूटीई प्‍लांट के साथ प्रमुख मुद्दों को भी सूचीबद्ध किया:

1. भारत के कचरे का कैलोरी मान कम होता है

परिभाषा के अनुसार, ऊष्मीय मान वेस्‍ट को जलाने पर उत्पन्न ऊष्मा या ऊर्जा की मात्रा है. सीएसई के अनुसार, डब्ल्यूटीई प्‍लांअ के लिए आदर्श कैलोरी मान 1,900-3800 किलो कैलोरी/किलोग्राम है. हालांकि, भारत का वेस्‍ट कैलोरी वेल्‍यू 1,411-2,150 किलो कैलोरी/किलोग्राम के बीच कहीं भी होता है, जिसे जलाने के लिए बहुत कम माना जाता है.

इस अवधारणा को समझाते हुए सिंह ने कहा कि भारत का कचरा पानी से भरा है, अब इसे जलाने के लिए अधिक ईंधन की आवश्यकता होगी, जो पर्यावरण को अधिक प्रभावित करेगा क्योंकि इससे अधिक उत्सर्जन होगा. उन्‍होंने कहा,

फीड स्टॉक, वेस्ट-टू-एनर्जी प्लांट में जिस तरह का कचरा होना चाहिए, उसका हाई कैलोरी वेल्‍यू होना चाहिए, जिसका अर्थ है हीटिंग वैल्यू. अधिक पानी की बर्बादी के साथ, यह मूल्य काफी कम हो जाएगा, जिसके परिणामस्वरूप बहुत अधिक उत्सर्जन उत्पन्न होगा. अब, क्या आप दिल्ली जैसे शहर में कल्पना कर सकते हैं, जहां हवा की गुणवत्ता पहले से ही खराब है, अधिक से अधिक वेस्‍ट से एनर्जी प्‍लांट के कार्यान्वयन के साथ, हम हवा से और समझौता कर रहे हैं और आसपास के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहे हैं.

डब्ल्यूटीई प्‍लांट में प्रोसेसिंग के लिए भेजे जा रहे कचरे के इस मुद्दे पर प्रकाश डालते हुए, मुखर्जी ने कहा,

वेस्ट-टू-एनर्जी प्लांट में जिस तरह के कचरे की जरूरत होती है, वह लगभग 1800 किलो कैलोरी/किलोग्राम होता है. लेकिन भारत में वेस्‍ट कैलोरी वेल्‍यू में कम है (कचरे को जलाने पर उत्पन्न होने वाली गर्मी या ऊर्जा की मात्रा), इसमें कार्बनिक सामग्री ज्‍यादा है और 1500 किलो कैलोरी/किलोग्राम से कम है. तो यह तकनीक भारत में कैसे काम करेगी और इसीलिए गाजीपुर में वेस्ट-टू-एनर्जी प्लांट भी काफी समय से बंद था.

2. प्रभावी होने के लिए, डब्ल्यूटीई प्‍लांट को केवल अलग वेस्‍ट की जरूरत होती है

2016 के ठोस वेस्‍ट मैनेजमेंट नियमों को रेखांकित करते हुए और डब्ल्यूटीई प्‍लांट के लिए इसमें क्या कहा गया है, मुखर्जी ने कहा,

2016 के कचरे से प्रबंधन के नियमों में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि डब्ल्यूटीई प्‍लांट को वह कचरा मिलना चाहिए जो गैर-बायोडिग्रेडेबल, गैर-प्रतिक्रियाशील और गैर-पुनर्नवीनीकरण योग्य हो. लेकिन इस समय जब सेग्रीगेशन नहीं हो रहा है तो आप उस अलग किए गए कचरे को इन प्लांट्स में कैसे भेजेंगे. नतीजतन, जो हो रहा है, वह यह है कि नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्‍ट जिसमें लगभग 50-60 प्रतिशत गीला कचरा है, 15-16 प्रतिशत सूखा पुनर्चक्रण योग्य है, और 10-15 प्रतिशत निष्क्रिय कचरा इन संयंत्रों में जा रहा है. तो, यह कैसे काम करेगा? हम इन प्रौद्योगिकियों के निर्माण में सरकार के पैसे का उपयोग कर रहे हैं. इसका उपयोग यहां किया जा रहा है क्योंकि यह हमारे अपशिष्ट प्रबंधन संकटों के लिए एक आसान विकल्प है.

मुखर्जी ने यह कहते हुए अपनी बात खत्‍म की कि हमारे शहरों में कचरे के पुन: उपयोग और पुनर्चक्रण पर ध्यान केंद्रित करना समय की आवश्यकता है.

स्वाति सिंह संब्याल ने भी यही बात दोहराई और कहा,

इन संयंत्रों की सबसे बड़ी खामी यह है कि इनमें मिलावट हो रही है न कि कचरा अलग-अलग है. मिश्रित कचरा जलाने के लिए उपयुक्त नहीं है, कचरे को जलाने के लिए अतिरिक्त ईंधन की भी आवश्यकता होती है, जिससे पौधे आर्थिक रूप से बहुत अलाभकारी हो जाते हैं और यही कारण है कि न केवल दिल्ली में बल्कि अन्य शहरों में डब्ल्यूटीई प्‍लांट ठीक से काम नहीं कर रहे हैं. हम वास्तव में डब्ल्यूटीई के लिए आवश्यक कचरे की संरचना और मात्रा पर ध्यान केंद्रित नहीं कर रहे हैं.

3. डब्ल्यूटीई प्‍लांट द्वारा उत्पादित बिजली नेग्लिजिबल है

मुखर्जी कहती हैं कि भारत में इंसीनरेशन एक बहुत ही आसान विकल्प है. हम क्या करते हैं कि हम बस अपने कचरे को जला देते हैं या बस इसे लैंडफिल में डाल देते हैं. लेकिन ये उचित उपाय नहीं हैं. यह बताते हुए कि डब्ल्यूटीई प्‍लांट एक मिथ्या नाम क्यों है, उन्‍होंने कहा,

ये प्‍लांट वास्तव में ज्यादा बिजली का उत्पादन नहीं करते हैं, जो बिजली पैदा होती है वह बहुत ही नेग्लिजिबल होती है. न ही ये शहर में बिजली की किसी भी जरूरत को पूरा करते हैं. ये मूल रूप से वे इंसीनरेशन हैं जिनका उपयोग पश्चिम और विकासशील देश अपने कचरे के प्रबंधन के लिए करते रहे हैं. वहां भी यह तकनीक खत्‍म होने लगी है, इसलिए प्‍लांट निर्माता भारत और चीन में बाजार बनाने की कोशिश कर रहे हैं. ये बहुत महंगे पौधे हैं; उन्हें बहुत अधिक निगरानी और पर्यावरण मानदंडों की आवश्यकता होती है जिन्हें पूरा करने की आवश्यकता होती है.

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट के आंकड़े भी इस तथ्य पर प्रकाश डालते हैं कि पश्चिमी देश डब्ल्यूटीई तकनीक को चरणबद्ध तरीके से समाप्त कर रहे हैं. सीएसई के अनुसार, अमेरिका ने 1997 के बाद से एक भी इंसीनरेशन बेस्‍ड डब्ल्यूटीई प्‍लांट स्थापित नहीं किया है क्योंकि अमेरिकी पर्यावरण संरक्षण एजेंसी और यूरोपीय आयोग ने नगरपालिका सॉलिड वेस्‍ट इंसीनरेशन के लिए व्यापक मानक विकसित किए हैं.

4. पर्यावरण और निवासियों के स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले डब्ल्यूटीई प्‍लांट

यह बताते हुए कि डब्ल्यूटीई प्‍लांट पर्यावरण और आसपास के लोगों के स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित कर रहे हैं, स्वाति सिंह सम्ब्याल ने कहा,

आदर्श रूप से डब्ल्यूटीई प्‍लांट के लिए बॉटम ऐश (जो नगर निगम के कचरे के दहन से निकलने वाला ठोस अवशेष है) 20 प्रतिशत से अधिक नहीं होना चाहिए और हमारे अधिकांश प्‍लांट्स के लिए यह 40 प्रतिशत तक है. बाद की राख का निपटान भी चुनौतीपूर्ण है और हमारे पास स्पष्ट रूप से उस कचरे के उपचार के लिए कोई तंत्र नहीं है, शायद शहर के किसी कोने में पहले से ही इस राख का एक पहाड़ है जो पहले से ही है और एक बड़ा असर पैदा कर रहा है क्योंकि यह प्रकृति में खतरनाक है.

इसके आसपास रहने वाले लोगों के जीवन पर WTE के स्वास्थ्य प्रभाव के बारे में बात करते हुए, सम्ब्याल ने कहा,

डब्ल्यूटीई प्रकृति में बहुत प्रदूषणकारी हैं क्योंकि हम खराब गुणवत्ता वाले कचरे को खिला रहे हैं. हम सुखदेव विहार कॉलोनी में ओखला प्‍लांट के भारी प्रभाव को जानते हैं, जिसमें डॉक्टरों ने निवासियों को केवल तभी ट्रांसफर करने की सलाह दी है जब यह उनके लिए एक व्यवहार्य विकल्प हो. इसलिए, डब्ल्यूटीई कई मायनों में बेस्‍ट ऑप्‍शन नहीं है, बेशक वे बड़े शहरों के लिए आवश्यक हैं, लेकिन हमारे पास अपने स्वयं के डब्ल्यूटीई प्‍लांट की मांग करने वाले हर शहर में कचरे से एनर्जी प्‍लांट के साथ हब या रीजनल इंटीग्रेटेड डिमांडिंग स्थल क्यों नहीं हो सकते हैं, कि मुझे लगता है कि यह सही नहीं है.

इसे भी पढ़ें: विचार: हमारा स्थान, हमारा भविष्य, जानिए कैसे एक युवा नेता कचरे को अलग करने और समुदायों को एकजुट करने की कोशिश कर रहा है

समाधान

वेस्‍ट संकट के समाधान पर प्रकाश डालते हुए, सिंह ने कहा कि हमें वेस्‍ट से एनर्जी प्‍लांट पर निर्भर रहने के बजाय अपनी ऊर्जा को वेस्‍ट मैनेजमेंट के मूल नियम पर केंद्रित करना चाहिए और वह है वेस्‍ट सेग्रीगेशन. उन्होंने आगे कहा, “हमें अलग-अलग कचरे को अलग-अलग रीसाइक्लिंग सुविधाओं में डालना चाहिए, न कि उन सभी को कचरे से एनर्जी प्‍लांट में डालना चाहिए.”

डब्ल्यूटीई प्‍लांट विभिन्न देशों के लिए काम करते हैं लेकिन भारत के लिए नहीं

सीएसई की एक रिपोर्ट में, कहा कि डब्ल्यूटीई कचरे के केवल अंश के लिए ऑप्‍शन हो सकता है जिसे अन्य तकनीकों द्वारा प्रबंधित नहीं किया जा सकता है. इसमें कहा गया है कि प्रौद्योगिकी का चुनाव – चाहे कचरे को जलाया जाना, खाद बनाया जाना चाहिए या पुनर्नवीनीकरण किया जाना चाहिए – सब कुछ कचरे की गुणवत्ता पर निर्भर करता है. दूसरी ओर, डाउन टू अर्थ ने अपनी एक रिपोर्ट में एम्स्टर्डम का एक उदाहरण साझा किया और कहा कि नीदरलैंड की राजधानी में दुनिया के सबसे बड़े इन्सीनरेटर बेस्‍ड डब्ल्यूटीई संयंत्रों में से एक है, जो हर दिन लगभग 4,400 टन कचरे को बैलेंस करता है और इसकी बिजली दक्षता दर 30 प्रतिशत से अधिक है, जो दुनिया में सबसे अधिक है. यह सालाना 1 मिलियन मेगावाट-घंटे बिजली और 600 गीगा जूल गर्मी पैदा करता है, जो शहर में 0.32 मिलियन घरों की सेवा के लिए पर्याप्त है. लेकिन कहते हैं कि वही तकनीक, हालांकि, भारत के नगरपालिका कचरे की गुणवत्ता और संरचना के कारण भारत में विफल रही है और क्योंकि भारत के अधिकांश शहर अभी भी अलग-अलग कचरे को इकट्ठा करते हैं, जिसमें हाई मॉइश्‍चर सामग्री (लगभग 50 प्रतिशत) और कम कैलोरी वेल्‍यू होता है.

सीएसई का सुझाव है कि कचरे में कम से कम सेल्‍फ सस्टेनिंग कम्बस्चन 1,800 किलो कैलोरी/किलोग्राम होना चाहिए. स्वीडन, नॉर्वे और अमेरिका जैसे देशों में डब्ल्यूटीई संयंत्रों ने काम किया है क्योंकि वहां कचरा 1,900-3,800 किलो कैलोरी/किलोग्राम के बीच है. हालांकि, भारत में अधिकांश डब्ल्यूटीई संयंत्रों के बंद होने के पीछे लो कैलोरी वेल्‍यू था.

दिल्ली की बात करें तो, वर्तमान में राष्ट्रीय राजधानी में तीन वेस्‍ट-टू-एनर्जी प्‍लांट हैं और चौथा अगस्त से दक्षिणी दिल्ली के तहखंड इलाके में चालू हो जाएगा. शहर में, जेनेरल ट्रेंड में इंसीनरेशन को अपशिष्ट प्रसंस्करण की प्राथमिक विधि के रूप में उपयोग करने की ओर है, भले ही इसे निवासियों और पर्यावरण विशेषज्ञों दोनों के कड़े प्रतिरोध का सामना करना पड़ा हो. निवासियों ने भी ऐसे पौधों से उत्पन्न प्रदूषण को अपने जीवन को प्रभावित करने के रूप में चिह्नित किया है और विशेषज्ञों ने बताया है कि यह उचित समय है कि शहर को ऊर्जा संयंत्रों के लिए कचरे को स्थापित करने के बजाय घरेलू कचरे को अलग करने पर ध्यान देना शुरू करना चाहिए. इसलिए, भारत के बढ़ते कचरा संकट से निपटने के लिए कोई आसान समाधान या शॉर्टकट नहीं हैं. इसे अलग-अलग कचरे, कम्पोस्ट ऑर्गेनिक/बायोडिग्रेडेबल कचरे की मूल बातों पर वापस जाना होगा और गैर-बायोडिग्रेडेबल कचरे का यथासंभव पुनर्चक्रण करना होगा और जो कुछ भी बचा है उसे न तो खाद बनाया जा सकता है और न ही पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है. और भारत के भीतर ऐसे कुछ सफल उदाहरण हैं जिनमें कचरा प्रबंधन के इन बुनियादी सिद्धांतों के प्रभावी कार्यान्वयन से शहर कचरा मुक्त हो गए हैं या जीरो-वेस्‍ट स्‍टेटस पा रहे हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=