NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India

कोरोनावायरस के बारे में

नेचुरल इंफेक्‍शन के जरिए हर्ड इम्युनिटी का आइडिया ‘मूर्खता’ है: डॉ. सौम्या स्वामीनाथन

विश्व स्वास्थ्य संगठन की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने एनडीटीवी को बताया कि कोविड के खिलाफ लड़ने के लिए नेचुरल इंफेक्‍शन के माध्यम से हर्ड इम्युनिटी पाने का विचार “मूर्खतापूर्ण” है क्योंकि इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ती है.

Read In English
अस्पताल में भर्ती और मौतों को कम करने के लिए हम जिन COVID टीकों का उपयोग कर रहे हैं, वे बहुत अच्छी तरह से काम कर रहे हैं: डॉ सौम्या स्वामीनाथन
अस्पताल में भर्ती और मौतों को कम करने के लिए हम जिन COVID टीकों का उपयोग कर रहे हैं, वे बहुत अच्छी तरह से काम कर रहे हैं: डॉ सौम्या स्वामीनाथन

नई दिल्ली: डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने एनडीटीवी को बताया कि जनसंख्‍या और टीकाकरण कराने में शामिल जटिलताओं को देखते हुए भारत ने बड़ी आबादी का टीकाकरण करके सराहनीय काम किया है. डॉ. स्वामीनाथन ने आगे कहा कि कोविड-19 से लड़ने के लिए नेचुरल इंफेक्‍शन के माध्यम से हर्ड इम्युनिटी पाने का विचार ‘मूर्खतापूर्ण’ है. वह कहती हैं कि इस तरह से बड़ी कीमत चुकानी पड़ती है और डब्ल्यूएचओ ने हमेशा अपने इस कदम को बनाए रखा है.

डॉ. स्वामीनाथन ने आगे ओमिक्रॉन सब-वेरिएंट, BA.2 के बारे में बात की, उन्होंने कहा कि यह BA.1 की तुलना में अधिक शक्तिशाली है और इसका ट्रांसमिशन अन्य सब-वेरिएंट से अधिक है.

‘यह कुछ देशों, खासकर भारत और डेनमार्क में अपनी पकड़ बना रहा है. वैश्विक स्वास्थ्य निकाय अभी तक ओमिक्रॉन के प्रभाव पर टिप्पणी नहीं कर सकता, क्योंकि यह अपेक्षाकृत नया वेरिएंट है. यह जानने के लिए दो महीने का समय बहुत कम है कि क्या यह पुन: संक्रमण का कारण बनता है और यह लॉन्‍ग टर्म इम्‍युनिटी को कैसे प्रभावित करता है. उन्होंने कहा कि हमने कुछ अध्ययन देखे हैं, जहां नए वेरिएंट से ठीक होने वाले रोगियों के ब्‍लड ने डेल्टा इंफेक्‍शन में मदद की, लेकिन हमें नहीं पता कि यह भविष्य के वेरिएंट के लिए सही होगा या नहीं.’

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 ओमिक्रोन वेरिएंट: जानें क्या कहते हैं WHO के एक्सपर्ट

ओमिक्रॉन के लिए वर्तमान टीके कैसे प्रतिक्रिया दे रहे हैं, यह चर्चा का विषय है. डॉ. स्वामीनाथन ने कहा कि लैब स्‍तर के अध्ययन से पता चलता है कि एंटीबॉडी के नए वेरिएंट को बेअसर करने की संभावना कम है. उन्‍होंने कहा कि यह डेल्टा वेरिएंट से भी कम होगा, जो पहले से ही वैक्सीन के लिए पिछले वेरिएंट की तुलना में कम प्रतिक्रियाशील था, जिसके आसपास टीके विकसित किए गए थे.

फिर भी, क्लिनिकल डेटा टीकाकरण वाले रोगियों में मृत्यु और गंभीर बीमारी के कम मामलों को दर्शाता है. उन्होंने कहा कि इस बात को लेकर चिंतित होने की जरूरत नहीं है कि मौजूदा टीके ओमिक्रॉन स्ट्रेन पर काम करते हैं या नहीं.

डॉ. स्वामीनाथन ने कहा, ‘अस्पताल में भर्ती होने और मौतों को कम करने के मामले में हम जिन टीकों का इस्तेमाल सुरक्षा के लिए कर रहे हैं, वे बहुत अच्छी तरह से काम कर रह हें. वे सभी हमारी मदद करते हैं. बुजुर्ग और कमजोर लोग अब बेहतर तरीके से सुरक्षित हैं. यह दर्शाता है कि टीके प्रभावी हैं और एक अच्छा रक्षा तंत्र है.’

उन्होंने आगे बताया कि हमें न केवल एंटीबॉडी रिस्पॉन्स को ध्यान में रखना चाहिए, बल्कि क्लिनिकल डेटा को भी ध्यान से देखना चाहिए और टी-सेल प्रतिक्रिया जैसे अन्य कारकों का भी अध्ययन करना चाहिए.

उन्‍होंने कहा, ‘हाइब्रिड इम्युनिटी इस समय हमारे पास सबसे मजबूत इम्युनिटी है. यह तब है जब किसी व्यक्ति को ओमिक्रॉन इंफेक्‍शन हो गया है और उसे टीके की खुराक भी मिल गई है.’

इसे भी पढ़ें: ओमिक्रोन को सामान्य सर्दी मानने की गलती कतई नहीं करनी चाहिए: डॉक्टर्स

डॉ. स्वामीनाथन ने यह भी चेतावनी दी कि COVID-19 एक RNA वायरस है और यह स्वाभाविक रूप से बदलता रहता है, इसलिए भविष्य में और अधिक म्यूटेशन हो सकते हैं. इसलिए, उन्‍होंने कहा, डब्ल्यूएचओ एक सार्वभौमिक वैक्सीन पर चर्चा कर रहा है जो वायरस के सभी प्रकारों के खिलाफ काम करेगा.

‘पैन-कोरोनावायरस वैक्सीन या पैन-SARS वैक्सीन होली ग्रेन बनाने वाले के लिए आदर्श होगी. वैज्ञानिक रूप से, यह प्रशंसनीय और संभव है, लेकिन इन सभी पर काम किया जा रहा है और हमें इंतजार करना होगा और देखना होगा. उन्‍होंने इसकी तुलना एक सार्वभौमिक इन्फ्लूएंजा वैक्सीन बनाने के प्रयासों से की.’

उन्‍होंने कहा, ‘वर्तमान में, इन्फ्लूएंजा शॉट को हर साल नए स्‍ट्रेन के कारण संशोधित करना पड़ता है. विषम बूस्टर शॉट्स, बूस्टर शॉट के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले अलग-अलग टीके, साथ ही स्थानीय म्यूकोसल इम्‍युनिटी देने के लिए इंट्रानैसल वैक्सीन भी अन्य प्रकारों से निपटने के लिए विकसित की जा रही है.’

इसके अलावा, उन्‍होंने बूस्टर शॉट्स पर कॉल लेने के लिए स्थानीय डेटा का अध्ययन करने पर जोर दिया.

‘अपने स्वयं के अध्ययन से आने वाला अपना डेटा होना आदर्श है. किसी दूसरे देश का डेटा लेना और किसी की रणनीति पर काम करने की कोशिश करना आदर्श या संभव नहीं है. स्थानीय वैज्ञानिक अनुसंधान और डेटा होना महत्वपूर्ण है. डब्ल्यूएचओ बूस्टर टीकों को शुरू करने के लिए कुछ समूहों को प्राथमिकता देने की आवश्यकता पर स्पष्ट रहा है. बढ़ती उम्र और अंतर्निहित सहरुग्णता जोखिम कारक हैं.’

यह पूछे जाने पर कि कॉमरेडिटी वाले वरिष्ठ नागरिकों को बूस्टर शॉट्स के लिए प्राथमिकता क्यों दी जाती है, जबकि कई युवा भी अन्‍य रोगों का सामना करते हैं, उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे कोई बड़ा होता जाता है, इम्‍युन सिस्‍टम कम होता जाता है और इसलिए प्रतिरक्षा स्तर बढ़ाने के लिए अतिरिक्त प्रोत्साहन की आवश्यकता होती है.

इसे भी पढ़ें: COVID-19: सरकार ने दिए ओमि‍क्रोम वेरिएंट से जुड़े सवालों के जवाब

[corona_data_new]

Highlights: Banega Swasth India Launches Season 10

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पढ़ें

This website follows the DNPA Code of Ethics

© Copyright NDTV Convergence Limited 2024. All rights reserved.