Connect with us

कोई पीछे नहीं रहेगा

लीविंग नो वन बिहाइंड: एक समावेशी समाज का निर्माण

प्रेम क्या है? न केवल रोमांस, आकर्षण और स्नेह, बल्कि सहानुभूति, देखभाल, समावेशता, मानवता, जो प्रत्येक को एक समान मानती है

Read In English
लीविंग नो वन बिहाइंड: एक समावेशी समाज का निर्माण
आइए हम उस प्यार को नमन करें, जो दिव्‍यांग लोगों को प्रोत्साहित और सशक्त बनाता है...

नई दिल्ली: विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, दुनिया की 15 फीसदी आबादी किसी न किसी रूप में दिव्‍यांगता के साथ रहती है, जिसमें से 80 फीसदी भारत जैसे विकासशील देशों में रहती है. महामारी ने लोगों को अलग तरह से प्रभावित किया है, कुछ लोगों को दूसरों की तुलना में अधिक तबाह कर दिया है. जैसे-जैसे दुनिया ठीक हो रही है, हमें इसे एक साथ रहना होगा. हम किसी को पीछे नहीं छोड़ सकते, क्योंकि ऐसा करना प्रेम की विफलता होगी. प्रेम क्या है? न केवल रोमांस, आकर्षण और स्नेह, बल्कि सहानुभूति, देखभाल, समावेश, मानवता जो प्रत्येक को एक समान मानती है. यह एक ऐसा प्यार है जो सभी दिव्‍यांगों को सम्मान के साथ जीवन जीने के अधिकार को पहचानने की क्षमता देता है. यह वह प्रेम है जो दिव्‍यांग लोगों को समाज पर निर्भर व्यक्तियों के रूप में नहीं देखता है, उन्हें दया, दान या चिकित्सा उपचार की वस्तु मात्र नहीं समझता है. यह एक ऐसा प्यार है जो दिव्‍यांग लोगों को प्रोत्साहित और सशक्त बनाता है.

इसे भी पढ़ें: सफलता, समर्पण और संघर्ष की कहानी, ऑटिज्म से पीड़ित सिंगर बेंजी ने म्यूजिक के जरिए दुनिया में बनाई अपनी पहचान

एक व्यक्ति अपने जीवन में किसी भी समय चिकित्सीय जटिलताओं या जीवन-परिवर्तनकारी घटनाओं से – बौद्धिक और शारीरिक रूप से दिव्‍यांगता का सामना कर सकता है. कुछ लोग इसके साथ जन्‍म लेते हैं जबकि कुछ लोगों को आकस्मिक ये अवस्‍था मिल जाती है. यद्यपि पिछले 40 वर्षों में बहुत सुधार, अधिक जागरूकता और परिवर्तन आया है, फिर भी समाज दिव्‍यांग लोगों के लिए सबसे बड़ी बाधा है. रूढ़िबद्धता, कलंक और भेदभाव- ये सभी स्थायी चुनौतियां हैं वहीं अल्प रोजगार, अपर्याप्त नौकरी की गुणवत्ता दिव्‍यांग लोगों की अन्य समस्याएं हैं.

भारत 2007 में दिव्‍यांग व्यक्तियों के अधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCRPD) की पुष्टि करने वाले पहले देशों में से एक था. इसमें जीवन के सभी पहलुओं को कवर करने वाले 33 लेख शामिल हैं. 17 गोल्‍स और 169 टारगेट के साथ, सतत विकास लक्ष्यों (SDGs) में 11 स्थानों पर स्पष्ट रूप से दिव्‍यांगता और दिव्‍यांग व्यक्तियों को शामिल किया गया है. चूंकि भारत एजेंडा 2030 के लिए दृढ़ता से प्रतिबद्ध है, इसका मतलब है कि एसडीजी और मौजूदा सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों के बीच तालमेल होना चाहिए. हमें अपने दैनिक जीवन में दिव्‍यांग व्यक्तियों की जरूरतों को ध्यान में रखना होगा, क्योंकि यह वह जगह है जहां अधिकतम चुनौतियां मौजूद हैं – या तो विचारहीनता या कार्यस्थलों और सार्वजनिक स्थानों तक पहुंच की चुनौतियों को समझने की कमी के साथ-साथ शिक्षा, स्वास्थ्य और स्वच्छता सुविधाएं, परिवहन और नई प्रौद्योगिकियां में आने वाली चुनौतियों को समझना होगा.

हम एक समावेशी समाज का निर्माण कैसे कर सकते हैं?

1. भेदभावपूर्ण कानूनों और नीतियों, नकारात्मक दृष्टिकोण और भेदभाव सहित दिव्‍यांग व्यक्तियों के बहिष्कार के कारण मौलिक बाधाओं पर ध्‍यान देना
2. सतत विकास लक्ष्यों के कार्यान्वयन में मुख्य धारा की अक्षमता
3. विकलांगों के लिए सतत विकास लक्ष्यों की दिशा में प्रगति की निगरानी और मूल्यांकन में निवेश करना
4. क्षमता निर्माण, प्रौद्योगिकी, वित्त, नीति, संस्थागत सामंजस्य और बहु-हितधारक भागीदारी के क्षेत्रों में दिव्‍यांगों के लिए एसडीजी के कार्यान्वयन के साधनों को मजबूत करना

सुगमता केवल एक ऐसा मुद्दा नहीं है जो दिव्‍यांग लोगों पर लागू होता है – यह एक ऐसा मुद्दा है जो हर किसी को प्रभावित करता है. एक समावेशी दुनिया एक बेहतर दुनिया है और विकलांग लोगों के लिए समावेशीता हासिल करने के लिए हमें सकारात्मक तरीके से बात करनी चाहिए. सुगम्य भारत अभियान (सुगम्य भारत अभियान) दिव्‍यांग व्यक्तियों (पीडब्ल्यूडी) के लिए सार्वभौमिक पहुंच पाने के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान है. 2016 में, दिव्‍यांगता अधिकार कार्यकर्ताओं द्वारा सालों की मेहनत के बाद, संसद ने कानून के तहत शामिल दिव्‍यांगों की श्रेणियों को 7 से बढ़ाकर 21 कर दिया.

भारत में, दिव्‍यांग लोगों की रोजगार दर बहुत ही कम है. 2011 की जनगणना के आंकड़ों से पता चलता है कि भारत में दिव्‍यांगों के 13.4 मिलियन लोग जो 15-59 वर्ष के रोजगार योग्य आयु वर्ग में हैं, 9.9 मिलियन गैर-श्रमिक या सीमांत श्रमिक थे.

अनअर्थइनसाइट द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में लगभग 3 करोड़ विकलांग (PwD) लोग हैं, जिनमें से लगभग 1.3 करोड़ रोजगार योग्य हैं, लेकिन केवल 34 लाख लोग ही संगठित, असंगठित क्षेत्रों, सरकार के नेतृत्व वाली योजनाओं या स्वरोजगार में कार्यरत हैं. अनअर्थइनसाइट के संस्थापक और सीईओ गौरव वासु ने कहा कि, “अध्ययन ने भारत में पीडब्ल्यूडी प्रतिभा के पूरे परिदृश्य को कवर किया गया, जो 18 वर्ष से अधिक आयु के हैं और संभावित रूप से बैंकिंग, एफएमसीजी, खुदरा, प्रौद्योगिकी, बीपीओ में कार्यरत हो सकते हैं. उन्हें टॉपलाइन के नजरिए से शामिल करना बेहद जरूरी है, जैसा कि हम इसे कॉरपोरेट जगत में कहते हैं, जो आपकी जीडीपी है और जो विविधता हम ज्ञान और उनके योगदान के संदर्भ में लाते हैं.

इस तथ्य को देखते हुए कि गणना अभ्यास में दिव्‍यांगता को कम आंका जाता है, यह संख्या वास्तव में बहुत अधिक हो सकती है. लेकिन अर्थ यह है कि हम लाखों दिव्‍यांग युवाओं को सामाजिक सुरक्षा या अपने स्वयं के परिवारों और देखभाल करने वालों पर निर्भर होने के लिए मजबूर कर रहे हैं. हम उन्हें अक्षम कर रहे हैं. एक राष्ट्र के रूप में, हमें खुद से पूछना होगा कि हम लाखों दिव्‍यांग लोगों के लिए क्या चाहते हैं – जीवन भर निर्भरता या समावेश, या फिर गरिमा, रोजगार और समान अधिकार? आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि इसका उत्तर हमारी वार्षिक जीडीपी में 5-7% जोड़ सकता है.

इसे भी पढ़ें: Able 2.0: इनेबल इंडिया दिव्यांग लोगों को रोजगार दिलाने में कर रहा है मदद

उभरती अर्थव्यवस्था के लिए इस बहिष्करण का क्या अर्थ है?
• विश्व स्तर पर, विश्व बैंक का मानना है कि दिव्‍यांग लोगों को अर्थव्यवस्था से बाहर छोड़ने से सकल घरेलू उत्पाद लगभग 5% से 7% हो जाता है.
• अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) यह भी सुझाव देता है कि दिव्‍यांग व्यक्तियों को कार्यबल में शामिल करने से सकल घरेलू उत्पाद में लगभग 3-7% सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है.

इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन के सीनियर डिसएबिलिटी स्पेशलिस्ट एस्टेबन ट्रोमेल ने कहा, “कुछ साल पहले हमने एक अध्ययन किया था कि अगर दिव्‍यांग व्यक्तियों के पास गैर-दिव्‍यांग आबादी के समान रोजगार अवसर होंगे और हम वृद्धि करते रह तो इसका असर सकल घरेलू उत्पाद में 3- 7 प्रतिशत वृद्वि के रूप में देखा जा सकता है.” दिव्‍यांग व्यक्तियों को शामिल करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन का दृष्टिकोण दिव्‍यांग व्यक्तियों के अधिकारों को सुनिश्चित करने के साथ-साथ समावेश के आर्थिक लाभों को पहचानने पर आधारित है. ट्रोमेल कहते हैं,

मुझे लगता है कि यह महत्वपूर्ण है कि नीति निर्माता और अन्य हितधारक उन निवेशों के बारे में सोचना बंद कर दें जो PwD के लिए सहायक प्रौद्योगिकी, व्यक्तिगत सहायता के मामले में समाज में पूरी तरह से भाग लेने में सक्षम होने के लिए आवश्यक हैं. हमें इन समर्थनों के बारे में सोचने की ज़रूरत है जो न केवल संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के अनुसार PwD के लिए प्राप्त करने का अधिकार रखते हैं बल्कि उन्हें निष्क्रिय प्राप्तकर्ताओं से सक्रिय नागरिकों और करदाताओं में बदलने के लिए निवेश के रूप में भी देखते हैं.

भारत दिव्‍यांग लोगों के एक विशाल, बिना इस्‍तेमाल की प्रतिभा लिए हुए है, जो देश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है. सही नीति और रणनीति बदलाव, और सही प्रवर्तन के साथ, यह एक वास्तविक मौका है कि हम पीडब्ल्यूडी आबादी के बीच रोजगार दर बढ़ाने की दिशा में काम करें. इनेबल इंडिया, एक गैर सरकारी संगठन 1999 से दिव्‍यांग लोगों की आर्थिक स्वतंत्रता और सम्मान की दिशा में काम कर रहा है. शांति राघवन, संस्थापक, इनेबल इंडिया ने हमें बताया,

वर्षों पहले जब मेरे भाई ने 15 साल की उम्र में अपनी आंखों की रोशनी खोनी शुरू की थी, तो हमने हर बाधा के लिए हल ढूंढा और हर कदम पर उन्हें अपना मूल्य समझाया, इसलिए इस यात्रा की परिणति उन्हें एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करने तक लेकर गई और अब हम चाहते हैं कि हर दिव्‍यांग व्यक्ति को भारत में ये अवसर मिले. अन्य एनजीओ के साथ काम करने के बाद यह देखकर कि विकलांग लोग कितना हासिल कर रहे हैं, मुझे लगता है ‘यो!’

रोजगार योग्य कौशल सीखने के साथ-साथ दिव्‍यांग लोगों को सहायक तकनीक, सुलभ वातावरण, वित्तीय समावेशन, और सबसे महत्वपूर्ण इच्छुक नियोक्ता जैसे सक्षम तंत्र की भी आवश्यकता होती है. इनेबल इंडिया के सह-संस्थापक और सीईओ दीपेश सुतारिया ने कहा, “हमारे पास एक सेल है जिसे सक्षम दृष्टि कहा जाता है जो इस भीड़ को संबोधित करता है आप दृष्टिबाधित व्यक्ति को नौकरियों के लिए कैसे सक्षम और तैयार करते हैं और उन्हें विभिन्न आजीविका विकल्प तलाशने में मदद करते हैं और उनकी आकांक्षाओं का निर्माण करते हैं.”

और एक इम्प्लॉयर के दृष्टिकोण से, प्रवीण चंद टाटावर्ती, सीईओ और एमडी, एलेगिस ग्लोबल सॉल्यूशंस, ग्लोबल वर्कफोर्स मैनेजमेंट ने हमें बताया, “एनेबल इंडिया के साथ हमारी यात्रा 10 साल पहले शुरू हुई थी और तब से हमारी समावेश यात्रा शुरू चल रही है. हमारे लिए समावेश की शुरुआत दयनीय होने, सहानुभूति के नजरिए से किसी की देखभाल करने से हुई, लेकिन पिछले 10 वर्षों में हमारी सोच बदल गई है. अब समावेश का अर्थ है अच्छी व्यावसायिक समझ, नवाचार, का अर्थ है समाज के उस बड़े हिस्से को गले लगाना जिसे बहिष्कृत कर दिया गया है और आज हम सक्षम के साथ काम करने के लिए उत्साहित हैं और हमारे पास बहुत से अलग-अलग लोग हैं, वे हमें बेहतर इंसान बनाते हैं इसलिए मैं सभी से आग्रह करता हूं कि अपनी टीम में एक दिव्‍यांग व्यक्ति को शामिल करें और इससे होने वाले प्रभाव और परिवर्तनों को देखें.”

जीवन में कई भूमिकाएं निभाने के बाद डेन एनेबल इंडिया में शामिल हो गए. कोलकाता के स्टीफन हॉकिंग के रूप में जाने जाने वाले, लेखक, पुरस्कार विजेता अभिनेता और रेडियो जॉकी सयोमदेब मुखर्जी, जिन्हें डेन के नाम से जाना जाता है, का जन्म डोपा-उत्तरदायी डायस्टोनिया नामक एक दुर्लभ आनुवंशिक विकार के साथ हुआ था. वह 25 साल तक नहीं बोल सका, वास्तव में, उनकी स्थिति का निदान 25 वर्षों के बाद किया गया था. लेकिन आज 41 वर्षीय डेन दिव्‍यांग लोगों को उनकी चुनौतियों से उबरने में मदद कर रहे हैं, और जीवन को पूरा कर रहे हैं.

इनेबल इंडिया (EILABS) के प्रोजेक्ट लीड सयोमदेब मुखर्जी (डेन) कहते हैं,

सभी मोर्चों पर जीवन मेरे लिए एक बड़ी यात्रा रही है, मैं बोल सकता हूं या नहीं, लेकिन मुझे विश्वास है कि जब आपके पास परिवार, लोग और सर्वशक्तिमान का आशीर्वाद होगा, तो आप जीवन में लाभ प्राप्त करेंगे. मैं कमाना चाहता था, आर्थिक रूप से स्वतंत्र होना चाहता था और एक चमत्कार हुआ मुझे कोलकाता के एक रेडियो चैनल से एक शो की एंकरिंग करने के लिए कॉल आया. फिर मैंने एक फिल्म में भी एक्टिंग की, जहां मुझे डायलॉग को सुनना, याद रखना, रिकॉर्ड करना और वितरित करना था और भगवान की कृपा के लिए मुझे सिनसिनाटी अवॉर्ड में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिला, खुशी से साझा किया.

इसे भी पढ़ें: मिलिए एक राइटर, अवॉर्ड विनर एक्‍टर, आरजे जिन्होंने अपनी दिव्‍यांगता को अपनी उपलब्धियों के रास्ते में आने नहीं दिया

एक और चुनौती दिव्‍यांगों के लिए प्रशिक्षित चिकित्सा पर्यवेक्षण है, गलत निदान की संभावना अधिक रहती है, दुर्लभ स्थितियों का अक्सर कोई इलाज नहीं होता है, और नई दवा के विकास में दशकों लग सकते हैं. सयोमदेब कहते हैं,

हमें पेशेवरों, अधिक शोध, गतिविधि की आवश्यकता है जिसके लिए हमें संसाधनों की जरूरत है और हम समाज, अर्थव्यवस्था और संस्कृति के उत्थान के हर पहलू के लिए दुनिया के लिए और अधिक अवसर पैदा कर सकते हैं.

निःशक्तता अनिवार्य रूप से एक त्रासदी नहीं है, न ही दिव्‍यांग लोग इसे इस रूप में देखते हैं. बहुत से लोगों ने, बड़ी चुनौतियों का सामना करते हुए, अपने जीवन में जबरदस्त सफलता पाई है. यह 27 साल की बेंजी की कहानी है. बेंजी ने न केवल 9 साल की उम्र में अपना पहला म्‍यूजि एल्बम जारी किया, बल्कि तीन राष्ट्रीय पुरस्कार भी जीते, दो बार लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल हुए और भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक हजार से अधिक बार परफॉर्म किया. बेंजी की मां कविता ने हमें बताया,

बेंजी का जब जन्म हुआ, सभी पैरेंट्स की तरह हम बेहद खुश थे, लेकिन 1.5 महीने में सब कुछ बदल गया. डॉक्टर ने हमें बताया कि उसे एक प्रॉब्‍लम है और उसे जीवन भर थैरेपी लेनी होगी.

बेंजी कम उम्र में ऑटिज्म की शिकार हो गई थी. बेंजी एक बहुत ही खास सिंगर थी, जो बातचीत नहीं कर सकती, लेकिन संगीत के माध्यम से खुद को अभिव्यक्त करती है. उनकी मां, कविता ने देखा कि बेंज़ी की आंखों में संगीत था, रोशनी थी, लेकिन वह समझ नहीं पा रही थी कि वह किस पर प्रतिक्रिया कर रही है – रोशनी पर या फिर संगीत पर. कविता, बेंजी की मां ने कहा, “हमने धीरे-धीरे उसके जीवन में म्‍यूजिक लाए, क्योंकि हमारे भारतीय संगीत रागों में उपचार की शक्ति है और वे विभिन्न नसों को उत्तेजित करते हैं.” उसने अपनी आवाज और स्‍पीच में मदद करने के लिए बहुत कम उम्र से भारतीय शास्त्रीय राग सीखना शुरू कर दिया था. लेकिन गायन रागों ने उसकी कमजोर आवाज को मजबूत दी और उसे मधुरता में बदल दिया.

ऑटिज्म स्पेक्ट्रम विकार वाले बच्चों के विकास में माता-पिता की भागीदारी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. और बेंजी भाग्यशाली है क्योंकि उसे उनका पूरा समर्थन और प्यार मिला. कविता कहती हैं, “संगीत उसकी दवा है, उसकी आत्मा है, उसकी भाषा है”.

दिव्‍यांग लोगों को जिस सहायता की आवश्यकता होती है, और जो बेंजी जैसा कोई व्यक्ति हर दिन पाता है, वह परिवारों और विस्तारित समुदायों से, या फिर एक दूसरे से आ सकता है. ऐसी ही एक कहानी है मधु और दिनेश की, बिना शर्त प्यार की कहानी. मधु जन्म से ही शत-प्रतिशत दृष्टिबाधित है और उसकी ऑप्टिक नर्व पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है. दिनेश को धीरे-धीरे दिखना बंद हो गया, जब वह 8 वर्ष के थे, उन्‍हें पूरी तरह से दिखना बंद हो गया था. वे दोनों एक सॉफ्टवेयर कंपनी में मिले जो स्क्रीन रीडर विकसित करती है. नेत्रहीन उपयोगकर्ताओं को कंप्यूटर के साथ काम करने देने के लिए एक स्क्रीन रीडर वाक् तकनीक का उपयोग करता है. मधुबाला शर्मा, सीनियर कंसल्टेंट, लर्निंग एंड डेवलपमेंट, कॉन्सेंट्रिक्स ने अपनी प्रेम कहानी साझा की. “हम पहली बार अपनी किशोरावस्था में नेशनल एसोसिएशन फॉर ब्लाइंड में मिले थे, लेकिन हम सॉफ्टवेयर कंपनी में ठीक से मिले, जहां मैं एक टेस्टर थी और वह एक सॉफ्टवेयर डेवलपर था. उनका प्रस्ताव बहुत दिलचस्प था, उन्होंने मुझसे एक लड़की को प्रपोज करने के बारे में पूछा, लेकिन मुझसे सारे विचार लेने के बाद, उन्होंने मुझसे कहा कि मैं वह लड़की थी जिसे वह पसंद करते थे.”

मधु और दिनेश अपने 15 वर्षीय बेटे नमिश के साथ रहते हैं और सामान्य जीवन जी रहे हैं.

शर्मा कहती हैं, “हम आम लोगों की तरह रहते हैं, बेशक हमारी चुनौतियां अलग हैं, पालन-पोषण पर झगड़े करते हैा, छुट्टियां मनाते हैं, सैर-सपाटे पर जाते हैं और हम समाज के सदस्यों का योगदान कर रहे हैं, हम हैप्‍पी टैक्‍स पेयर हैं. चूंकि हमें अपने बेटे को पालने के लिए संसाधन मिलते हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हमारा नजरिया खुद से जुड़ी दया या खराब चीज की भावना के बजाय खुद को आजादी देना है.”

मधु और दिनेश दोनों ही शिक्षा और प्रौद्योगिकी के प्रबल समर्थक हैं और मानते हैं कि वे हमारे समय के महान प्रवर्तक हैं. वास्तव में, प्रौद्योगिकी ने दिनेश के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

पब्लिसिस सपिएंट के प्रबंधक प्रौद्योगिकी, दिनेश कौशल कहते हैं, “हमारे पास दिव्‍यांगता का जीवंत अनुभव है इसलिए हम जानते हैं कि हम क्या चाहते हैं ताकि दिव्‍यांग व्यक्ति स्वयं किसी भी प्रौद्योगिकी विकास में शामिल हों, इसलिए जब मैंने दिव्‍यांग समुदाय के लिए सॉफ्टवेयर विकसित किया, तो मुझे लगा कि यह केवल कुछ ऐसा नहीं है जिसकी आवश्यकता है बल्कि ऐसा इसलिए है क्योंकि मुझे पता था कि मुझे क्या चाहिए. दिव्‍यांग होने के कारण मैंने अंधेपन से पीड़ित कई लोगों से फीडबैक भी लिया. इसलिए प्रौद्योगिकी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि हमारे लिए यह हमारी आंखों को वापस पाने जैसा है.”

पिछले कुछ सालों में, दिव्‍यांगता अधिकार आंदोलन ने समावेशी कानूनों को प्रभावी बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जो कड़ी मेहनत से जीत में बदल गई. अब प्रश्न स्वीकृति से समान भागीदारी में परिवर्तन का है. जब तक अधिक दिव्‍यांग लोग सरकार, सार्वजनिक स्थानों, स्कूलों, कार्यालयों में प्रवेश नहीं करते हैं, तब तक उनके मतभेदों और जरूरतों की समझ उतनी ही अस्पष्ट होगी जितनी अब सार्वजनिक क्षेत्र में है. समावेशिता के लक्ष्य को पाने में सक्षम होने के लिए, विकास और निर्णय लेने में समान भागीदार होने के परिप्रेक्ष्य में आमूल-चूल परिवर्तन की आवश्यकता है. दिव्‍यांग लोग सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समूह बनाते हैं, लेकिन दुर्भाग्य से, यह समूह हमेशा एक सीमांत प्राथमिकता रहा है. एक सर्व-समावेशी और सुलभ समाज बनने के लिए हमें दिव्‍यांगता के प्रति अपनी धारणाओं को बदलने और बाधाओं को तोड़ने के लिए दिव्‍यांग समुदाय के साथ सहयोग करने की आवश्यकता है क्योंकि यह प्यार ही हमें इंसान बनाता है – प्यार जो भेदभाव नहीं करता, प्यार जो स्वीकार करता है, शामिल करता है और प्रेरित करता है.

इसे भी पढ़ें: Leaving No One Behind: इकोज, एक कैफे जिसे विकलांग लोगों द्वारा मैनेज किया जाता है

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts