Connect with us

कोई पीछे नहीं रहेगा

सफलता, समर्पण और संघर्ष की कहानी, ऑटिज्म से पीड़ित सिंगर बेंजी ने म्यूजिक के जरिए दुनिया में बनाई अपनी पहचान

मिलिए बेंजी से, एक ऑटिज्म से पीड़ित सिंगर, जो एक अवॉर्ड विनिंग परफॉर्मर हैं और उन्होंने इंडियन क्लासिकल म्यूजिक की ट्रेनिंग से अपनी आवाज और स्पीच में सुधार महसूस किया है

Read In English

नई दिल्ली: मिलिए बेंजी से, एक ऑटिज्म से पीड़ित सिंगर, जो एक अवॉर्ड विनिंग परफॉर्मर हैं और उन्होंने इंडियन क्लासिकल म्यूजिक की ट्रेनिंग से अपनी आवाज और स्पीच में सुधार महसूस किया है.

दिव्यांगता चुनौतीपूर्ण है लेकिन सपनों को पूरा करने और अपने चुने हुए फील्ड में सफलता प्राप्त करने में बाधा नहीं हो सकती है. इसके लिए साहस, दृढ़ इच्छाशक्ति और एक सहायक वातावरण की जरूरत होती है. ऑटिज्म से पीड़ित 27 वर्षीय बेंजी कुमार ऐसे ही एक उपलब्धि हासिल करने वाली का एक उदाहरण हैं.

अपनी पूरी यात्रा के दौरान, उनके माता-पिता के दृढ़ संकल्प और बिना शर्त प्यार ने बेंजी को वह सपोर्ट दिया जो उन्हें इंडिपेंडेंट होने और अपने लिए एक नाम बनाने के लिए जरूरी था. जबकि उनका परिवार विकार के साथ जन्म होने से उनके लिए चिंतित हो गए, वे भी उनकी स्थिति के बारे में घबराए, क्योंकि वे अभी तक पूरी तरह से समझ नहीं पाए थे कि बेंजी और उनके जीवन के लिए बेंजी के विकार का क्या मतलब है. अपने बच्चे की मेडिकल कंडिशन के बारे में जानने के लिए उन्हें जिन संघर्षों का सामना करना पड़ा, उन्हें याद करते हुए 59 वर्षीय सामाजिक कार्यकर्ता, बेन्जी की मां, कविता कुमार ने कहा,

हम एक बेटी को लेकर चिंचित थे लेकिन क्योंकि वह एक प्रीमेच्योर बच्ची थी और जन्म के समय बहुत कमजोर थी, उसे 40 दिनों के लिए अस्पताल में एक इनक्यूबेटर में रखा गया था. जब वह घर आई, तो हमने देखा कि बेंजी अन्य बच्चों की तरह नहीं थी. उसका शरीर शायद ही कोई हलचल कर पा रहा था. यहां तक कि उसकी आंखों की पुतलियों में भी कोई हलचल नहीं थी और उसकी पलकें झपकाना भी बहुत दुर्लभ था. पहले तो हमने सोचा कि यह सब ट्रीटमेंट की वजह से हो रहा जो उसने अपने जीवन के पहले 40 दिनों में झेला था. लेकिन कुछ दिनों बाद हमने इस बारे में एक डॉक्टर से सलाह ली. डॉक्टर ने कहा कि कुछ मानसिक विकास है और उसे ‘मानसिक रूप से मंद’ घोषित कर दिया. हमने कुछ और डॉक्टरों से परामर्श किया उन्होंने भी ऐसा ही कहा कि बेंजी जीवन भर बिस्तर पर पड़े रहेंगी या व्हीलचेयर पर निर्भर रहेंगी.

Leaving No One Behind: Benzy, A Singer With Autism Who Expresses Herself Through Music

“स्पेशल चाइल्ड्स को जो सपोर्ट चाहिए वह परिवारों, कम्यूनिटी और बड़े पैमाने पर समाज से आता है,” बेंजी की मां कविता कुमार कहती हैं.

इसे भी पढ़ें: किसी को पीछे न छोड़ना: बनाएं एक ऐसा समावेशी समाज, जिसमें दिव्‍यांगों के लिए भी हो समान अवसर

कुमार ने आगे कहा कि, उनके बच्चे के साथ क्या गलत था और उस स्थिति में उसके लिए सबसे अच्छा क्या हो सकता है, हमने यह पता लगाने के लिए अपनी रिसर्च को जारी रखने का फैसला किया.

27 साल पहले भारत में ऑटिज्म एक प्रसिद्ध विकार नहीं था. हमें बस इतना बताया गया कि हमारा बच्चा ‘मानसिक रूप से मंद’ श्रेणी में आता है. हमारे रिश्तेदारों ने कहा कि हमें उसकी देखभाल के लिए सिर्फ एक फुल टाइम मैड रखनी चाहिए क्योंकि उसके जैसे बच्चों के लिए और कुछ नहीं किया जा सकता है, लेकिन वह बिस्तर पर क्यों पड़ी है? उसका भविष्य कैसा होगा? हमें कैसे पता चलेगा कि उसके लिए क्या अच्छा है और क्या नहीं? अभी भी बहुत सारे प्रश्न थे जिनसे हम जूझ रहे थे. बेंजी की बीमारी के बारे में और जानने के लिए हम यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका गए जहां डॉक्टरों ने उसकी जांच की और उसे देखा. तब अमेरिकन साइकियाट्रिक एसोसिएशन द्वारा उन्हें ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (एएसडी) का पता चला था. अमेरिका में डॉक्टरों ने हमें बताया कि जैसे-जैसे वह बड़ी होती जाएगी, एएसडी के लक्षण कम होते जाएंगे और वह उम्र बढ़ने के साथ-साथ एक सामान्य जीवन जी सकती है, लेकिन लगातार सपोर्ट के साथ. इसने हमें कुछ समझ, आशा और दिशा दी.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर एक न्यूरोडेवलपमेंटल डिसऑर्डर है जो तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है और प्रभावित व्यक्ति के समग्र संज्ञानात्मक, भावनात्मक, सामाजिक और शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है. भारत के दिव्यांग व्यक्तियों के अधिकार अधिनियम, 2016 ने एएसडी को दिव्यांगता के रूप में मान्यता दी है. यह किसी व्यक्ति के सामाजिक कौशल, दोहराव की आदतों, स्पीच और अशाब्दिक संचार क्षमताओं को प्रभावित करता है. रिहेबिटेशन काउंसिल ऑफ इंडिया, संसद के एक अधिनियम के तहत एक वैधानिक निकाय जो पुनर्वास और स्पेशल एजुकेशन की दिशा में काम करता है, का कहना है कि भारत में 500 में से लगभग 1 व्यक्ति को ऑटिज्म है.

कुमार के अनुसार, बेंजी भी आंशिक पैरालाइसिस से पीड़ित है, जिसके कारण वह अपना बायां हाथ नहीं हिला सकती है. कुमार ने एक स्कूल शिक्षक के रूप में अपना करियर छोड़ने का फैसला किया और बेंजी को कम से कम दूसरों की मदद के बिना अपने दिन-प्रतिदिन के बुनियादी कार्यों को करने में सक्षम बनाने के लिए अपना जीवन समर्पित करने का फैसला किया.

आज बेंजी ने अपनी देखभाल करने की क्षमता से कहीं अधिक हासिल किया है. उसने न केवल अपनी चुनौतियों को पार किया है, बल्कि वह एक संगीतकार है जिसने कई पुरस्कार जीते हैं और पूरे भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक हजार से अधिक परफॉर्मेंस दी हैं. भले ही बेंजी फ्लूएंट बात नहीं कर सकती, लेकिन उसने गीत गाने की प्रतिभा को निर्दोष रूप से विकसित किया है.

Leaving No One Behind: Benzy, A Singer With Autism Who Expresses Herself Through Music

डॉक्टरों ने कह दिया था कि बेंजी जीवन भर चल नहीं पाएंगी, लेकिन अपने माता-पिता के दृढ़ संकल्प और बिना शर्त प्यार के साथ वह इंडिपेंडेंट हो गई और उसने अपना नाम बनाया

बेंजी की म्यूजिक जर्नी तब शुरू हुई जब वह लगभग दो साल की थीं.

एक दिन जब मैंने उसके खिलौनों में से एक पर संगीत बजाया, तो मैंने बेंजी की आंखों में हलचल देखी, लेकिन मुझे यकीन नहीं था कि यह संगीत या प्रकाश था जिसने उसे कुछ पॉजिटिव रिएक्शन दिया. फिर मैंने कुछ और ध्वनियों और रोशनी के साथ प्रयोग किया. मैंने उसके कमरे में कुछ क्लासिकल म्यूजिक बजाया और जल्द ही मुझे पता चल गया कि वह रागों के प्रति पॉजिटिव रिएक्शन दे रही है. वास्तव में, यह उस पर एक उपचारात्मक प्रभाव पड़ा क्योंकि इसने उसकी आक्रामकता और बेचैनी को शांत किया. तब मैंने उसकी आवाज और स्पीज में सुधार के लिए इंडियन क्लासिकल म्यूजिक को अपनाने का फैसला किया.

इसे भी पढ़ें: समावेशी समाज बनाने पर जानिए पैरालिंपियन दीपा मलिक की राय

बेंजी के माता-पिता ने रागों की उपचार शक्ति के बारे में अधिक अध्ययन किया और पाया कि भारतीय शास्त्रीय संगीत में कई स्वर शरीर में विभिन्न तंत्रिकाओं को उत्तेजित करते हैं. उन्होंने बेंजी की डेली रूटीन के हर पहलू में संगीत को शामिल किया. कुमार के अनुसार, एक ऑटिस्टिक बच्चा होने के कारण, बेंजी को नई चीजों और परिस्थितियों के साथ तालमेल बिठाने में परेशानी होती थी. उन्होंने कहा कि एक ऑटिस्टिक बच्चे को कुछ सीखने या अपने जीवन में कुछ नया स्वीकार करने के लिए धैर्य और कुछ क्रियाओं को दोहराने की जरूरत होती है. बेंजी को अपना पहला राग गाने में करीब चार साल लगे, लेकिन उसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा.

एक ऑटिस्टिक बच्चे का मस्तिष्क एक खाली सीडी की तरह होता है. आप इसे जानकारी के साथ खिलाते रह सकते हैं. हालांकि, उनका मस्तिष्क कब और कैसे जानकारी के साथ खेलेगा और उनका व्यवहार क्या होगा, यह अप्रत्याशित है. उनके पास आमतौर पर एक अच्छी याददाश्त होती है लेकिन आप नहीं बना सकते वे शांत बैठते हैं और किसी चीज पर ध्यान केंद्रित करते हैं. हालांकि अब वह काफी स्थिर है, बेंजी बचपन में बेहद बेचैन थी, लेकिन बहुत अच्छी याददाश्त के साथ.

5 साल की उम्र में बेंजी ने इंडियन क्लासिकल म्यूजिक की ट्रेनिंग लेना शुरू कर दिया था. चूंकि वह एक स्थान पर अधिक समय तक बैठ कर ध्यान केंद्रित नहीं कर सकती थी, इसलिए कई शिक्षकों ने उसे सिखाना छोड़ दिया. जब एक 79 वर्षीय संगीत शिक्षिका ने उसे एक जगह बैठने की उम्मीद किए बिना मूल नोट्स और राग सुनाने के लिए सहमति दी, तभी उसने वास्तव में संगीत सीखना शुरू किया. धीरे-धीरे वह इस रूटीन से सहज हो गई और शांत होकर संगीत शिक्षिका के पास बैठने लगी.

बेंजी ने नोट्स और रागों को याद करने के लिए तेज थी. उसे संगीत में बहुत दिलचस्पी थी. जल्द ही उसने गाना शुरू कर दिया. फिर हमने उसे पियानो दिया और थोड़ी देर बाद उसने कीबोर्ड पर राग बजाना शुरू कर दिया. भले ही बेंजी केवल अपने दाहिने हाथ का उपयोग करके पियानो बजा सकती है, उसे बहुत मजा आता है. दो साल के भीतर वह कुछ रागों में पारंगत हो गई और 7 साल की उम्र में उसने अपनी पहली स्टेज परफॉर्मेंस दी. मैंने उसे अक्षर सिखाने के लिए संगीत का उपयोग करना शुरू किया. मैं चाहती थी कि वह पढ़ना और लिखना सीखे. इसमें बहुत धैर्य और समय लगता था.

अपनी प्रतिभा को और बढ़ाने के लिए, सुश्री कुमार ने अपने संगीत को रिकॉर्ड करने और गायिका शुभा मुद्गल को उनके रिएक्शन और मार्गदर्शन के लिए भेजने का फैसला किया. मुद्गल ने बेंजी की प्रतिभा को पहचाना और उसे अपनी ट्रेनिंग जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया. स्टूडियो में रिकॉर्डिंग करना बेंजी के लिए आसान काम नहीं था क्योंकि हेडफ़ोन पहनना और ट्रैक पर गाना उनके लिए विल्कुल नया था, उन्होंने 9 साल की उम्र में अपना पहला एल्बम ‘बेसिक राग’ टाइटल से रिकॉर्ड किया.

इसे भी पढ़ें: अभ‍िजीत से अभिना अहेर तक, कहानी 45 साल के ‘पाथ ब्रेकर’ ट्रांसजेंड एक्ट‍िविस्ट की…

Leaving No One Behind: Benzy, A Singer With Autism Who Expresses Herself Through Music

गायिका शुभा मुद्गल ने बेंजी की प्रतिभा को पहचाना और अपने माता-पिता को अपनी ट्रेनिंग जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया

10 साल की उम्र में, बेंजी ने अपना दूसरा एल्बम ‘कोशिश’ नाम से रिकॉर्ड किया. चूंकि ऋतिक रोशन बेंजी के पसंदीदा अभिनेता थे, इसलिए उनकी मां उन्हें अपनी सीडी देने गई थीं. उनकी प्रतिभा से प्रभावित होकर, रितिक ने उनका एल्बम लॉन्च करने का फैसला किया. ‘कोशिश’ के लिए जिसमें उनके द्वारा प्रस्तुत प्रार्थना गीत शामिल हैं, बेंजी ने मिनिस्ट्री ऑफ सोशल जस्टिस एंड इंपावरमेंट (MoSJE) से अपना पहला राष्ट्रीय पुरस्कार जीता.

Leaving No One Behind: Benzy, A Singer With Autism Who Expresses Herself Through Music

बेंजी को नेशनल अवॉर्ड्स सहित कई अवॉर्ड मिले हैं

बेंजी को फिल्म ‘कहो ना प्यार है’ के गाने सुनना बहुत पसंद था. इसलिए, हमने सोचा कि शायद वह कुछ बॉलीवुड गाने भी गा सकती हैं. मैंने उन्हें लता मंगेशकर और आशा भोंसले द्वारा गाए गए कुछ गानों के बोल सिखाए. उसने इनका बहुत आनंद लिया और इस बार जब हम लता जी और आशा जी के गीतों का एक और एल्बम रिकॉर्ड करने के लिए स्टूडियो गए, तो यह बहुत आसान था. इस एल्बम के लिए इस बार महिला और बाल मंत्रालय से उन्होंने अपना दूसरा राष्ट्रीय पुरस्कार जीता. उसके बाद उसने MoSJE से अपना तीसरा राष्ट्रीय पुरस्कार जीता जो उन्हें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा उनके एल्बम के लिए दिया किया गया था जिसमें उनके द्वारा गाए गए मूल राग शामिल थे.

Leaving No One Behind: Benzy, A Singer With Autism Who Expresses Herself Through Music

बेंजी ने लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में तीन नेशमल अवॉर्ड और 2 अपीयरेंसेस जीते हैं

तीन राष्ट्रीय पुरस्कारों के अलावा, बेंजी ने लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दो बार उपस्थिति सहित कई अन्य सम्मान अर्जित किए हैं- 2005 में एक संगीत एल्बम जारी करने वाले पहले ऑटिस्टिक बच्चे होने के लिए और 2014 में दुनिया में सबसे अधिक संगीत एल्बम वाले ऑटिस्टिक व्यक्ति होने के लिए. बेंजी ने अब तक 11 एल्बम रिकॉर्ड किए हैं.

Leaving No One Behind: Benzy, A Singer With Autism Who Expresses Herself Through Music

बेंजी ने अब तक 11 एल्बम रिकॉर्ड किए हैं

बेंजी का संगीत तब ठप हो गया जब उनके पिता का 2010 में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया. वह और उसकी मां मिस्टर कुमार को खोने से जूझ रहे थे. बेंजी ने गाना पूरी तरह बंद कर दिया और संगीत को ठुकराना शुरू कर दिया.

जब मैंने अपने पति को खो दिया तो मैं पूरी तरह से टूट गई थी. वह मेरी ताकत के स्तंभ थे और इस यात्रा में मेरे साथी थे और अचानक मैं बिल्कुल अकेली हो गई. क्योंकि मैं बहुत कठिन समय से गुजर रही थी. बेंजी पर उतना ध्यान नहीं दिया जितना मैंने पहले दिया था. बेंजी भी दुखी थी. हर शाम 5-5:30 बजे से वह जोर-जोर से रोती थी क्योंकि इस समय उसके पिता ऑफिस से वापस आते थे. वह उन्हें बहुत याद कर रही थी क्योंकि यह एक रूटीन था उसके लिए अपने पिता को हर दिन शाम 5-5:30 बजे घर आते देखना. कुछ दिनों के बाद मैंने फैसला किया कि मुझे उसके लिए मजबूत होना है.

उसे गाने या क्लास लेने के लिए मजबूर किए बिना, कुमार ने बेंजी के जीवन में संगीत को उसके दुख के लिए एक उपचार तंत्र के रूप में फिर से प्रस्तुत करना शुरू कर दिया. वह अपने लिए एक नया रूटीन बनाने के लिए उसे हर दिन शाम को पार्कों और मंदिरों में ले जाने लगी. जब बेंजी ने शाम को रोना बंद कर दिया, तो उसकी मां ने उसे दिल्ली और उसके आसपास संगीत कार्यक्रमों में ले जाना शुरू कर दिया. उन्हें फिर से गाना शुरू करने में लगभग दो साल लग गए. फ्लूएंट बातचीत करने में असमर्थ होने के बावजूद, बेंजी ने संगीत के माध्यम से अपनी भावनाओं को व्यक्त करना सीख लिया है.

Leaving No One Behind: Benzy, A Singer With Autism Who Expresses Herself Through Music

फ्लूएंट बातचीत न कर पाने के बावजूद बेंजी ने संगीत के माध्यम से अपनी भावनाओं को व्यक्त करना सीख लिया है

अन्य ऑटिस्टिक बच्चों के माता-पिता की मदद करने और उन्हें प्रेरित करने के लिए अपने अनुभव से सीखने का उपयोग करने के उद्देश्य से कुमार ने धूम फाउंडेशन की शुरुआत की. एनजीओ का उद्देश्य दिव्यांग बच्चों को ट्रेंड और समाज में कलाकारों के रूप में स्थापित करने में मदद करना है. मैं बेंजी पर संगीत की शक्ति और उसी चुनौतियों का सामना कर रहे अन्य बच्चों की मदद करना चाहती थी. सुश्री कुमार ने कहा,

ऑटिज्म से पीड़ित बच्चों के विकास में माता-पिता की भागीदारी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. उन्हें अपनी प्रतिभा की पहचान करने के लिए अपने बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम बिताना चाहिए. उन्हें अपने बच्चों को छुपाना नहीं चाहिए या शर्मिंदा या संकोच नहीं करना चाहिए. हर माता-पिता के लिए उनके बच्चे बेशकीमती होने चाहिए चाहे उनकी क्षमता कुछ भी हो. स्पेशल बच्चों को जिस सपोर्ट की जरूरत होती है, वह परिवारों, समुदाय और समाज से बड़े पैमाने पर प्राप्त होता है.

इसे भी पढ़ें: मां-बेटी ने कायम की मिसाल: लोग दिव्यांगों को प्यार की नजर से देखें, तो बदल जाएगा दुनिया का नजरिया

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts