Connect with us

विशेषज्ञों के ब्लॉग

राय: जलवायु परिवर्तन और पोषण संबंधी चुनौतियों से लड़ने में मदद कर सकता है बाजरा

बाजरे के संदर्भ सिंधु घाटी सभ्यता में वापस खोजे जा सकते हैं. तो, बाजरा न तो एक नया ‘सुपरफूड’ है और न ही एक शॉर्ट-लिव क्रेज है जिसके बारे में लोग अचानक बात कर रहे हैं

Read In English
Opinion: Millets Can Help Fight Climatic Change And Nutritional Challenges
जब प्रमुख अनाजों की मैक्रोन्यूट्रिएंट सामग्री के साथ तुलना की जाती है, तो बाजरा पौष्टिक रूप से इसके समान या कुछ हद तक बेहतर होता है

मानवता एक विशाल खाद्य सुरक्षा या कई कारकों द्वारा निर्मित भूख संकट से परेशान है. लेकिन जलवायु परिवर्तन खाद्य उत्पादन और खाद्य प्रणालियों पर व्यापक प्रभाव डाल रहा है. फसल उत्पादन में गिरावट और जैव विविधता का नुकसान हमारे भोजन के पोषण को छीन रहा है. कृषि और खाद्य सुरक्षा में प्रकाशित, ‘बाजरा: कृषि और पोषण संबंधी चुनौतियों का समाधान’ टॉपिक से एक अध्ययन के अनुसार, ड्राई भूमि में कम उपजाऊ मिट्टी – जहां वैश्विक आबादी का लगभग 40 प्रतिशत रहता है – सदी के अंत तक 50-56 प्रतिशत से बढ़ने की भविष्यवाणी की गई है. यह विडंबना ही है कि लाखों लोग भूखे हैं और पोषण की दृष्टि से असुरक्षित हैं, जीवनशैली और अनहेल्‍दी ऑप्‍शन मोटापे और सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी को बढ़ावा दे रहे हैं.

फायदे की फसल या उपज को लेकर इसकी फार्म-टू-फोर्क/दुकान शॉप वेल्‍यू चेन के रूप में बाजरे की काफी चर्चा की जाती है. यह वास्तव में एक तथ्य है कि कोई भी स्थायी खाद्य और पोषण सुरक्षा प्राप्त करने में बाजरे की भूमिका को बढ़ा-चढ़ाकर नहीं बता सकता है.

इसे भी पढ़ें: अपने फूड को जानें: अपनी डाइट में बाजरे को शामिल करने के लिए क्या करें और क्या न करें?

बाजरे की फिर से खोज – पारंपरिक या भविष्य की फसल?

बाजरे के संदर्भ सिंधु घाटी सभ्यता में वापस खोजे जा सकते हैं! तो, बाजरा न तो एक नया ‘सुपर फूड’ है और न ही एक शॉर्ट लिव्‍ड क्रेज है जिसके बारे में लोग अचानक बात कर रहे हैं. मुझे याद है, अपनी दादी के साथ बैठकर देखता था कि कैसे वह अपने और मेरे दादा के लिए हर दिन ज्वार की रोटियां बनाती थी, क्योंकि वे लंच में गेहूं की रोटियां नहीं खाते थे. छुट्टियां उनकी लाइफस्‍टाइल की एक झलक थी, वो बहुत स्वस्थ थी. तीस साल पहले, दिल्ली आकर, मुझे बाजरे की रागी की अपनी खोज भी याद है, क्योंकि यह आपको बाजारों में आसानी से नहीं मिलेगी- और मैं इसे अपने बच्चों को देना चाहता था ताकि ‘शुरुआती परेशानी’ के दौरान उनकी मदद की जा सके. भारत में कई समुदाय पारंपरिक रूप से उत्सव के रूप में बाजरा खाते हैं और सामाजिक ताने-बाने में गहराई से शामिल होते हैं.

इसके बावजूद, 1950 से 2005 के बीच बाजरा प्रोडक्‍शन में काफी गिरावट आई. नीतियों में बदलाव, सब्सिडी का प्रावधान और कुछ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य और लोगों के पसंदीदा आहार में बदलाव ने धीरे-धीरे बाजरा उत्पादन और खपत को कुछ समुदायों जैसे आदिवासी आबादी तक सीमित कर दिया. इस पारंपरिक फसल को इसके सभी लाभों को नकारते हुए, गरीबों का भोजन माने जाने लगा.

इसे भी पढ़ें: POSHAN Maah 2022: मोटापे की चुनौती और डाइट के साथ इसका मुकाबला कैसे करें

पिछले दशक में परिदृश्य फिर से बदलने लगा. शुगर, बीपी और कोरोनरी हार्ट डिजिज (सीएचडी) जैसे नॉन-कम्‍युनिकेबल रोग बढ़ रहे हैं, मुख्य रूप से शहरी आबादी के बीच और बाजरे की फिर से डिमांड होने लगी है. दुनिया के गर्म होने, पानी की कमी, खेती के लिए कम भूमि की उपलब्धता और जनसंख्या वृद्धि के कारण भोजन की बढ़ती जरूरतों के साथ, बाजरे ने कमजोर देशों को स्थायी खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने का मौका प्रदान किया.

बाजरा उथली, कम उपजाऊ/लवणीय मिट्टी पर उग सकता है, इसे कम पानी की जरूरत होती है. यह 60-90 दिनों की कम अवधि में उग जाता है. बाजरा C4 अनाज के समूह के अंतर्गत आता है जो वातावरण से अधिक कार्बन डाइऑक्साइड लेता है और इसे ऑक्सीजन में ट्रांसफर करता है. इसलिए ये पर्यावरण के अधिक अनुकूल है. बाजरा को सामान्य परिस्थितियों में लंबी अवधि के लिए स्‍टोर किया जा सकता है और इस प्रकार इसे ‘अकाल भंडार’ के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है, जो बारिश पर निर्भर छोटे किसानों के लिए महत्वपूर्ण है. बाजरा वास्तव में भविष्य की फसल है.

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रीय पोषण माह 2022 महिलाओं के स्वास्थ्य और बच्चों की शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करेगा

बाजरा, या गेहूं या चावल? पोषण के मामले में कौन ज्‍यादा सही है?

जब प्रमुख अनाज की मैक्रोन्यूट्रिएंट इंग्रीडिएंट के साथ तुलना की जाती है, तो बाजरा पौष्टिक रूप से समान या कुछ हद तक बेहतर होता है. बाजरा हाई फाइबर कंटेंट, कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स और बायोएक्टिव यौगिकों से भरपूर ग्लूटेन-मुक्त प्रोटीन है जो इसे सूटेबल हेल्‍दी ऑप्‍शन बनाता है. अध्ययनों से पता चलता है कि बाजरे में खनिज सामग्री 1.7 से 4.3 ग्राम/100 ग्राम तक होती है, जो गेहूं (1.5 प्रतिशत) और चावल (0.6 प्रतिशत) जैसे मुख्य अनाज से कई गुना अधिक है. बाजरे की तुलना में फिंगर बाजरे में कैल्शियम की मात्रा लगभग आठ गुना अधिक होती है, बार्नयार्ड बाजरा, और बाजरा आयरन के समृद्ध स्रोत हैं, और फॉक्सटेल बाजरा में सभी बाजरे के बीच जस्ता अधिक होता है. ये बीटा-कैरोटीन और बी-विटामिन विशेष रूप से राइबोफ्लेविन, नियासिन और फोलिक एसिड का भी एक अच्छा स्रोत हैं. बाजरा में थायमिन और नियासिन की मात्रा चावल और गेहूं के बराबर होती है. आवश्यक प्रसंस्करण द्वारा बाजरे के पोषक तत्व-विरोधी गुणों को कम किया जा सकता है. बाजरे को डाइट में शामिल करने से कई पोषक तत्वों की कमी को दूर करने में मदद मिल सकती है. इन मोटे अनाजों को अब पोषक-अनाज कहा जाता है.

अक्सर यह सवाल पूछा जाता है कि बेहतर स्वास्थ्य और पोषण के लिए बाजरे को अपनी डाइट में चावल और गेहूं की जगह लेना चाहिए. एक हेल्‍दी डाइट की कुंजी विविध पौष्टिक आहार होना चाहिए और अनाज को पूरी तरह से दूसरों के साथ नहीं बदलना चाहिए. सभी स्तरों-ग्रामीण, शहरी और विभिन्न आयु के विभिन्न सामाजिक-आर्थिक समूहों पर उपभोक्ताओं के खाने में बाजरा वापस लाने की जरूरत है. बाजरा आसानी से नाश्ते, डिनर और लंच में शामिल किया जा सकता है. पारंपरिक व्यंजनों को दोबारा प्रकाश में लाने के लिए और उन्हें नई पीढ़ी के तक पहुंचाने के लिए भारत भर में विभिन्न एजेंसियां काम कर रही हैं. WFP और NITI Aayog द्वारा शुरू की गई पहल ‘मैपिंग एंड एक्‍सचेंज ऑफ गुड प्रैक्टिस इंन मिलेट्स’ न केवल डिशेज में बल्कि जल्‍दी सीखने और ज्ञान बांटने की दिशा में तेजी से काम कर रही है.

इसे भी पढ़ें: हेल्‍थ एंड न्‍यूट्रीशन: क्या बाजरा आपके लिए फायदेमंद है?

नीतिगत ढांचे और कार्रवाई की जरूरत

जलवायु और पोषण संबंधी चुनौतियां जटिल हैं, और बाजरे को निश्चित रूप से जादू के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए. यह स्थायी खाद्य और पोषण सुरक्षा का एक आशाजनक विकल्प है. चुनौतियां मांग और आपूर्ति दोनों पक्ष और वैल्‍यू सीरीज में हैं, लेकिन भारत सरकार विभिन्न योजनाओं और प्रदान की गई सहायता के माध्यम से बाजरे को बढ़ावा दे रही है. बाजरे के लिए 2018 को राष्ट्रीय वर्ष के रूप में देखने की भारत की दूरदर्शिता और फिर संयुक्त राष्ट्र महासभा में 2023 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष के रूप में घोषित करने के लिए बाजरे की पूरी क्षमता का उपयोग करने के लिए वैश्विक नेतृत्व लेना सही दिशा में एक कदम है. इसने 70 से अधिक देशों और कई हितधारकों के संयुक्त प्रयासों के माध्यम से हाथ मिलाने और बाजरे के पर्यावरण और स्वास्थ्य लाभों के बारे में जागरूकता पैदा करने का मौका दिया है.

इसे भी पढ़ें: पोषण 2.0: भारत शून्य कुपोषण लक्ष्य कैसे पा सकता है?

बाजरे के सबसे बड़े उत्पादक और दूसरे सबसे बड़े निर्यातक के रूप में भारत की स्थिति का लाभ उठाना, राष्ट्रीय स्तर की योजनाओं और नीतियों से राज्य स्तर पर बाजरा मिशनों और अन्य पहलों के माध्यम से होने वाले प्रयास, आईसीएआर संस्थानों और जीवंत नागरिक समाज की सक्रिय भागीदारी और अभिनव निजी क्षेत्र बाजरे को खाद्य प्रणालियों में प्रमुखता से शामिल करना एक प्राप्त करने योग्य लक्ष्य के रूप में प्रतीत होता है. बाजरे के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की घोषणा, इसे खाद्य-आधारित सुरक्षा-जाल में शामिल करने के प्रयास, विकासशील उत्पादों, ब्रांडों में प्रशिक्षण और निवेश प्रदान करना, और बाजरा उत्पादकों के बीच उद्यमिता कौशल एक सक्षम वातावरण बना रहे हैं. इसे 2023 में ही साकार करने के लिए ठोस प्रयासों, सहयोगात्मक कार्यों और संसाधनों की आवश्यकता होगी.

तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और ओडिशा के ग्रामीण इलाकों से यात्रा करते हुए, महिला किसान बाजरा उगाने के बारे में प्यार से बात करती हैं और यह एक लाभदायक प्रस्ताव बन रहा है. कहानियां प्रेरक और सशक्त हैं. मूल्य वर्धित उत्पादों के उभरते दायरे, बढ़ती मांग, मजबूत बाजार संबंधों के साथ नए रास्ते खोलने, प्रौद्योगिकी का उपयोग जो पहले के कठिन परिश्रम को कम करता है, और समग्र रूप से सक्षम वातावरण के साथ, बाजरा महिला सशक्तिकरण में अत्यधिक योगदान देता है.

बाजरा सही मायनों में भविष्य की फसल है.

इसे भी पढ़ें: जानिए बाजरे का अंतर्राष्ट्रीय वर्ष 2023 का क्या अर्थ है

(लेखक के बारे में: प्रज्ञा पैठंकर संयुक्त राष्ट्र वर्ल्‍ड फूड प्रोग्राम में सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल मैनेजर हैं. दुनिया के सबसे बड़े मानवीय संगठन में से एक, WFP, और इससे पहले राष्ट्रीय एड्स कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (एनएसीओ), केयर, प्रज्ञा के साथ काम कर रहे हैं. प्रज्ञा को पोषण और स्वास्थ्य और एचआईवी/एड्स के क्षेत्र में बड़े पैमाने की परियोजनाओं को संभालने का अनुभव है.)

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=