NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India

कोरोनावायरस के बारे में

कोविड वैक्सीन लेने के बाद भी हो गए संक्रमित? एक्सपर्ट से जानें इससे जुड़े सारे सवालों के जवाब

ब्रेकथ्रू इंफेक्शन क्या हैं? ये कितना सामान्य हैं और वैक्सीन लगवाने के बाद कोई खुद को वायरस की चपेट में आने से कैसे बचा सकता है?

Read In English
कोविड वैक्सीन लेने के बाद भी हो गए संक्रमित ? एक्सपर्ट से जानें इससे जुड़े सारे सवालों के जवाब
Highlights
  • पूरी वैक्सीन लगाए व्यक्ति को कोविड हो तो इसे ब्रेकथ्रू इंफेक्शन कहा जाता है
  • भारत में खतरनाक दर से नहीं हो रहे ब्रेकथ्रू इंफेक्शन : एक्सपर्ट
  • कोविड वैक्सीन सुरक्षित हैं, यह मौतों को रोकने में मदद करते हैं: एक्सपर्ट

नई दिल्ली: कोविड-19 वैक्सीन को कोविड-19 महामारी रोकने के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण माना जाता है, जबकि स्वास्थ्य मंत्रालय के शीर्ष सूत्रों के अनुसार, वैक्सीनेशन की दूसरी डोज के बाद भी देश भर में 87,000 से ज्यादा लोग कोविड पॉजिटिव पाए गए, जबकि इनमें से 46 प्रतिशत मामले केरल से हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि यदि कोई व्यक्ति, जिसने कोविड-19 वैक्सीन की दोनों डोज ले ली है, कोविड संक्रमण से संक्रमित हो जाता है, तो इसे ब्रेकथ्रू इंफेक्शन के रूप में जाना जाता है. दुनिया भर से वैक्सीन लगवाने के कुछ दिनों बाद लोगों में कोविड संक्रमण होने के मामले सामने आ रहे हैं. एनडीटीवी की बनेगा स्वस्थ इंडिया टीम ने डॉ राहुल पंडित, डायरेक्टर क्रिटिकल केयर, फोर्टिस हॉस्पिटल्स, मुंबई के साथ बात की यह जानने के लिए कि आखिर यह ब्रेकथ्रू इंफेक्शन है क्या और वैक्सीनेशन के बाद कोई खुद को कोविड होने से कैसे बचा सकता है?

इसे भी पढ़ें: जानिए व्हाट्सएप पर मिनटों में कैसे पा सकते हैं आप COVID-19 वैक्‍सीनेशन का सर्टिफिकेट

सवाल: ब्रेकथ्रू इंफेक्शन क्या हैं?

डॉ राहुल पंडित: जब हम ब्रेकथ्रू को देखते हैं तो इसका मतलब है कि कुछ ऐसा था जो संक्रमण को होने से रोक रहा था, वह रुकना मरीज के शरीर में मौजूद एंटीबॉडी के कारण होता है. अब, ये एंटीबॉडी कहां से आती हैं, ये तब आती हैं जब हम किसी व्यक्ति को टीका लगाते हैं. इसलिए, एक बार जब आप वैक्सीन का शेड्यूल पूरा कर लेते हैं और 15 दिन आगे निकल जाते हैं तो आपको अनिवार्य रूप से पूर्ण प्रतिरक्षा स्थिति मिल जाती है. लेकिन फिर भी जब व्यक्ति कोविड-19 संक्रमण से संक्रमित हो जाता है तो उसे ब्रेकथ्रू इंफेक्शन कहा जाता है.

सवाल : क्यों अभी भी कोविड-19 वैक्सीन लेना बेहद जरूरी है और यह वास्तव में व्यक्ति की सुरक्षा कैसे करता है?

डॉ राहुल पंडित: वैक्सीनेशन अभी भी बेहद जरूरी है, वैक्सीन का मुख्य उद्देश्य और मैं इसे सबसे महत्वपूर्ण कहूंगा कि मौतों को रोकना है. आप दुनिया में किसी भी वैक्सीनेशन प्रोग्रम को देखें, यहां तक कि एक, जो 19वीं शताब्दी की शुरुआत में शुरू किया गया था, जिसका मुख्य उद्देश्य व्यक्तियों की मृत्यु को रोकना था और दूसरा उद्देश्य संक्रमण में कमी देखना था. आखिर में, तीसरा उद्देश्य यह देखना है कि क्या वैक्सीन बीमारी को मिटा सकते हैं और यह केवल तभी देखा जा सकता है जब उन्होंने प्रत्येक व्यक्ति का टीकाकरण किया हो, इसका उदाहरण हमने चेचक और पोलियो जैसी बीमारियों से निपटने के दौरान देखा है.

कोविड-19 के संदर्भ में, भारत में फिलहल छह स्वीकृत टीके हैं और सभी मौतों और संक्रमण की गंभीरता से बहुत अच्छी तरह सुरक्षा प्रदान करते हैं. इसका मतलब है कि जिन लोगों को वैक्सीन लगाया गया है उनमें से अधिकांश सुरक्षित रहेंगे, उस आबादी का छोटा प्रतिशत फिर से कोविड से संक्रमित हो सकता है, लेकिन यह बहुत हल्का संक्रमण होगा, किसी को अस्पताल में भर्ती होने या ऑक्सीजन सपोर्ट की जरूरत नहीं होगी.

सवाल: भारत में, हम कोविड वैक्सीन लेने वाले लोगों को ज्यादा से ज्यादा संक्रमण की चपेट में क्यों देख रहे हैं? क्या यह बहुत तेज गति से हो रहा है, क्या हमें चिंतित होना चाहिए?

डॉ राहुल पंडित: एक बात जो साफ करने की जरूरत है वह यह है कि सौभाग्य से उन लोगों की संख्या बहुत अधिक नहीं है जो पूरी वैक्सीन लगाए हुए हैं और जो वायरस के चपेट में आ रहे हैं. पूरी तरह से वैक्सीन लगवाने के बाद भी वायरस की चपेट में आने वाले लोगों का कुल प्रतिशत बेहद कम है.

अच्छी बात यह है कि जब आप दो समूहों की तुलना करते हैं – जिन व्यक्ति को कोविड वैक्सीनेशन की दोनों डोज लेने के बाद वायरस पकड़ रहे हैं बनाम वैक्सीनेशन के बिना वायरस पकड़ने वाले व्यक्ति की, तो आप देखते हैं कि ज्यादातर मामलों में, जिस समूह को टीका लगाया गया था उन्हें किसी ऑक्सीजन सपोर्ट या हॉस्पिटल बेड की जरूरत नहीं है. इसका जीता जागता उदाहरण यूनाइटेड किंगडम है, आप देखते हैं कि वहां रोजाना लगभग 25,000 से 40,000 मामले आ रहे हैं लेकिन हमने एक बार भी नहीं सुना कि उनके अस्पताल भरे हुए हैं. अधिकांश लोगों की देखभाल घर पर की जा रही है, ठीक वैसे ही जैसे हम इन्फ्लूएंजा या फ्लू के मरीजों का इलाज करते हैं.

इसे भी पढ़ें: जन-जन तक स्वास्थ्य सेवाएं, दिल्ली ने नए कॉम्पैक्ट ‘मोहल्ला क्लीनिक’ लॉन्च किए

सवाल: क्या कोविड-19 वायरस महिलाओं के मासिक धर्म को प्रभावित करता है?

डॉ राहुल पंडित: कोविड-19 एक ऐसा वायरस है, जो शरीर के हर हिस्से को प्रभावित करने के लिए जाना जाता है और उनमें से एक सिस्टम हार्मोनल रेगुलेशन है. तो, कोविड का महिलाओं के मासिक धर्म चक्र पर प्रभाव पड़ता है, लेकिन हमने जो महसूस किया है वह यह है कि अधिकांश हार्मोनल असंतुलन समय के साथ ठीक हो जाते है. मरीजों को उनके हार्मोनल चक्र को ठीक होने में 3 से 6 महीने तक का समय लग सकते हैं. यदि ऐसा नहीं होता है, तो मरीज को अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ के पास जाना चाहिए.

सवाल: क्या भारत में तीसरी लहर का बच्चों पर बड़ा असर पड़ेगा? यदि वयस्कों या उनके माता-पिता को पूरी तरह से वैक्सीन लगाया जाता है, तो क्या बच्चों को स्कूल भेजा जाना चाहिए?

डॉ राहुल पंडित: अब इस बात के प्रमाण बढ़ रहे हैं कि बच्चों में कुछ एंटीबॉडीज हैं. ऐसी रिपोर्टें हैं जिनमें कहा गया है कि 50 से 80 प्रतिशत बच्चों में किसी न किसी प्रकार के एंटीबॉडी पाए गए हैं, इसलिए यह थोड़ा आश्वस्त करने वाला है कि शायद अगर वे संक्रमित हो जाते हैं तो यह हल्का संक्रमण होगा और गंभीर नहीं होगा. दूसरा, हमें ज्यादा चिंता क्यों नहीं करनी चाहिए, यह तथ्य है कि हम जानते हैं कि 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में थाइमस ग्रंथि के कारण उनमें प्रतिरोधक क्षमता अधिक होती है. इसलिए, मुझे लगता है कि तीसरी लहर में संक्रमित होने वाले बच्चों की पूरी संख्या दूसरी लहर से अधिक हो सकती है, लेकिन हम उन परिदृश्यों को नहीं देख रहे हैं जहां अस्पताल पिछली बार की तरह बुरी तरह से भरे हुए हैं.

स्कूल के मोर्चे पर, मुझे लगता है, न केवल उनके माता-पिता, बल्कि उनके शिक्षक और स्कूल के प्रत्येक कर्मचारी ने वैक्सीन लिया हो, तब हम स्कूल खोल सकते हैं. थंब रूल होना चाहिए कोविड-19 प्रोटोकॉल और वैक्सीनेशन का पालन हो. मुझे लगता है कि स्कूल बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास दोनों के लिए बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है. यह न केवल शिक्षा के लिए बल्कि उनके समग्र विकास के लिए भी अच्छा है. इसलिए, यह बेहद जरूरी है कि वे जल्द से जल्द अपना स्कूल शुरू करें, लेकिन यह कहते हुए कि, हम सभी को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि वहां का वातावरण सुरक्षित और स्वस्थ हो.

सवाल: हम भारत में तीसरी लहर के आने की उम्मीद कब कर सकते हैं? अभी हम किस स्टेज पर हैं?

डॉ राहुल पंडित: यदि आप कोविड-19 लहरों को देखते हैं, तो एक पैटर्न है और वह 100 दिनों के चक्र का है जहां हम मामलों को ऊपर और फिर नीचे जाते हुए देखते हैं और फिर आपके पास 100 दिनों की शून्य अवधि होती है, जिसमें हमें एक बड़ी गिरावट दिखाई देती है कोरोनावायरस मामलों में. अभी, देश का अधिकांश हिस्सा उस शून्य चक्र में है, जहां मामलों में भारी कमी आई है. हमारा उद्देश्य इस अंतर को 200 या 300 दिनों के अंतराल पर लाने का प्रयास करना होना चाहिए. हम ऐसा कैसे कर सकते हैं – यदि हम कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन करते हैं, जो मास्किंग, सैनिटाइजेशन और सामाजिक दूरी बनाए रखना है. यदि हम वैक्सीनेशन के साथ-साथ इन तीन नियमों का पालन करते हैं, तो हम एक बड़ा बफर समय पाने में सक्षम होंगे, जिसमें हम अधिक से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन कर सकते हैं. अगर हम अपनी 70 से 80 फीसदी आबादी को 100 से 120 दिनों में वैक्सीन लगवाएं तो भविष्य में लहरें भी आएं तो इसका असर इतना कम होगा कि हमें दर्द नहीं होगा, यह हमारे हर दिन के जीवन को परेशान नहीं कर पाएगा.

फिलहाल जिस दर से हम वैक्सीनेशन कर रहे हैं और जिस दर से लोगों का कोविड उपयुक्त व्यवहार कम हो रहा है, हम इस अंतर को और बढ़ाने में मदद नहीं कर रहे हैं, जो चिंता का विषय है. इसलिए, तीसरी लहर हमें प्रभावित करेगी यदि कोविड उपयुक्त व्यवहार में कमी आती है और टीकाकरण की दर में वृद्धि नहीं होती है. यह सितंबर या अक्टूबर में हो सकता है, इस भविष्यवाणी को कोई नहीं जानता. मूल नियम यह है कि हमें इसे यथासंभव आगे बढ़ाने की जरूरत है.

सवाल: हमें कोविड-19 वैक्सीन से कितनी सुरक्षा मिलती है? ब्रेकथ्रू इंफेक्शन कितना आम हैं?

डॉ राहुल पंडित: क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज वेल्लोर द्वारा किया गया एक अध्ययन था, जो 24,000 स्वास्थ्य कर्मियों पर किया गया था, जिन्हें डबल वैक्सीन लगाया गया था. उस अध्ययन में, जब ब्रेकथ्रू इंफेक्शन का अध्ययन किया गया, तो यह पाया गया कि उन स्वास्थ्य कर्मियों का एक बहुत छोटा प्रतिशत फिर से कोविड से संक्रमित हो गया, केवल एक मृत्यु दर की सूचना मिली थी और अधिकतम व्यक्तियों को अस्पताल में भर्ती होने या आईसीयू या ऑक्सीजन सपोर्ट की जरूरत नहीं थी. यह साबित करता है कि वैक्सीन बहुत सुरक्षित और प्रभावी हैं. मैं ऐसा क्यों कह रहा हूं – स्वास्थ्य कार्यकर्ता वे हैं जो वायरस की चपेट में आसानी से आ सकते हैं क्योंकि वे दिन-प्रतिदिन वायरस को देखते हैं और उससे निपटते हैं. अब अगर उनमें ब्रेकथ्रू इंफेक्शन कम हो रहे हैं तो इसका मतलब सिर्फ इतना है कि हमारे टीके प्रभावी हैं.

इसे भी पढ़ें: जानें क्या होता है लॉन्ग कोविड

सवाल: क्या हमें बूस्टर शॉट लेने पर विचार करना चाहिए? प्राथमिकता क्या होनी चाहिए?

डॉ राहुल पंडित: हम ऐसे लोगों को जानते हैं जिन्होंने दोनों डोज ली हैं या पूरी तरह से वैक्सीन लिया हुआ है, उनमें प्रतिरक्षा 6 से 8 महीने तक मजबूत रहती है. वर्तमान में, मुझे लगता है, जो लोग इम्युनोकॉम्प्रोमाइज्ड हैं या उनमें कुछ या अन्य इम्युनोकॉम्प्रोमाइज्ड बीमारी है, उनमें एंटीबॉडीज की प्रतिक्रिया लंबे समय तक नहीं रहती है, इसलिए हो सकता है कि उन्हें कुछ समय में बूस्टर शॉट की जरूरत हो.
एक अन्य समूह जिस पर हमें ध्यान देना चाहिए, वह है फ्रंटलाइन वर्कर – स्वास्थ्य कर्मचारी, सफाई कर्मचारी, पुलिसकर्मी, , एनजीओ आदि क्योंकि ये दैनिक आधार पर सीधे वायरस के संपर्क में आते हैं लेकिन जब तक पूरी आबादी को वैक्सीनेशन की एक डोज नहीं दे दी जाती, तब तक हम तीसरी डोज देने का निर्णय नहीं ले सकते.

फिलहाल, वैक्सीनेशन के साथ-साथ लोगों की सुरक्षा के लिए मास्किंग, सैनिटाइजेशन और सोशल डिस्टेंसिंग बेहद जरूरी है. जब तक सभी का वैक्सीनेशन नहीं हो जाता, तब तक इन तीन चीजों से बचा नहीं जा सकता .

सवाल : इंट्रानैसल वैक्सीन और बच्चों के लिए नए वैक्सीन पर आपकेक्या विचार है?

डॉ राहुल पंडित: मुझे लगता है, इंट्रानैसल वैक्सीन गेम चेंजर होंगे क्योंकि अभी एक बाधा यह है कि कोविड-19 वैक्सीन एक नीडल बेस्ड वैक्सीन है. इसलिए, हमें इसे संचालित करने के लिए प्रशिक्षित लोगों की जरूरत होती है, इसके लिए निगरानी के समय की भी जरूरत होती है. लेकिन, अगर हमारे पास नेजल ड्रॉप्स हैं, तो यह सब हट जाएगा, मुझे लगता है, यह सिर्फ वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को तेज करने में मदद करेगा.
दूसरी बात जो नई वैक्सीन- Zydus Cadila ने निकाली है, जो असल में तीन डोज वाली वैक्सीन है, बिल्कुल सुरक्षित है. 28,000 वालंटियर्स पर इसका अध्ययन किया गया और इसमें 1,000 से अधिक बच्चे थे और यह पाया गया कि यह वैक्सीन ट रोग के खिलाफ उत्कृष्ट प्रतिरक्षा प्रदान करता है. इसे बहुत अच्छा सेफ्टी प्रोफाइल मिला है. कुछ समय में, हम बच्चों के लिए कोवैक्सिन की भी मंजूरी दे देंगे, फिलहाल, डाटा का अध्ययन किया जा रहा है, परीक्षण किए जा रहे हैं.

सवाल : क्या कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में दूसरी डोज ज्यादा जरूरी है?

डॉ राहुल पंडित: हमने देखा है कि कोविड-19 वैक्सीन की एक डोज से किसी को केवल 30 से 40 प्रतिशत सुरक्षा मिलती है, जो कि वायरस से लड़ने के लिए काफी नहीं है. दूसरी डोज से 75 प्रतिशत सुरक्षा मिलती है. इसलिए, सभी को मेरा सुझाव होगा कि उन्हें जल्द से जल्द वैक्सीन लगवाना चाहिए और अपने निर्धारित कार्यक्रम में वैक्सीनेशन करवाना चाहिए.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Highlights: Banega Swasth India Launches Season 10

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पढ़ें

This website follows the DNPA Code of Ethics

© Copyright NDTV Convergence Limited 2023. All rights reserved.