Connect with us

खुद की देखभाल

सेल्फ केयर: रोज़ाना इन 5 टिप्स को जरूर करें फॉलो

एक्सपर्ट्स की माने तो अगर आप मानसिक तौर पर हेल्दी रहना चाहते हैं तो इसके लिए सेल्फ केयर बेहद जरूरी है

Read In English
सेल्फ केयर: रोज़ाना इन 5 टिप्स को जरूर करें फॉलो

नई दिल्ली: विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, सेल्फ केयर का कॉन्सेप्ट काफी व्यापक है, जिसमें साफ-सफाई, पोषण, वातावरणीय कारक, सामाजिक आर्थिक कारक और सेल्फ मेडिकेशन शामिल होता है. दिल्ली की मनोचिकित्सक डॉ. टीना गुप्ता ने सेल्फ केयर को लेकर अपनी राय दी है. उनका कहना है कि अगर आप मानसिक तौर पर हेल्दी रहना चाहते हैं, तो इसके लिए सेल्फ केयर बेहद जरूरी है. टीना गुप्ता ने सेल्फ केयर से जुड़ी पांच टिप्स साझा करते हुए अपने विचार रखें हैं, जानें…

1. दिन की शुरुआत फोन चेक करके न करें

सुबह उठने के बाद ज्यादातर लोगों को फोन चेक करने की आदत होती है. इसमें वे मैसेज, इमेल और सोशल मीडिया का यूज करना पसंद करते हैं. डॉ. गुप्ता के मुताबिक ऐसा करना एक अच्छी आदत नहीं मानी जा सकती.

डॉ. टीना गुप्ता का मानना है कि लोगों को नींद से उठने के बाद करीब आधे से एक घंटे तक अपने फोन से दूरी बनाई रखनी चाहिए. कभी-कभी ऐसा होता है, जब आप फोन में इमेल, मैसेज या न्यूज को देखकर परेशान भी हो जाते हैं और इसका असर लोगों के पूरे दिन पर भी पड़ जाता है. साथ ही ये वजह तनाव का कारण भी बनती है. इसलिए दिन की अच्छी शुरुआत करने के लिए नींद से उठने के बाद फोन का यूज न करें और इसकी जगह चाय या कॉफी पिएं और रिलैक्स महसूस करें.

इसे भी पढ़ें : अवसाद और डिप्रेशन जैसे मैंटल हेल्‍थ इशू से ग्रस्‍त बच्‍चे को इस तरह हैंडल करें प‍ैरेंट्स

2. रोज अपने दिन की पांच अच्छी चीजों को जरूर लिखें

डॉ. गुप्ता कहती हैं, फर्क नहीं पड़ता कि आपका दिन कितना बुरा था, हम सभी के पास कुछ न कुछ होता है आभारी होने के लिए – एक घर, 3 टाइम का भोजन, शारीरिक स्वास्थ्य, और भी बहुत कुछ.

उन्होंने आगे बताया कि जो भी आभारी हैं उस पर ध्यान केंद्रित करने से चीजों को परिप्रेक्ष्य में डालने में मदद मिल सकती यदि आपके दिन की तनाव पैदा करने वाली घटनाओं पर इतना जोर नहीं दिया जाता है.

3. मेडिटेशन या योगा करें ट्राई

डॉ. गुप्ता का कहना है कि योग और मेडिटेशन दुनिया भर के विशेषज्ञों द्वारा सबसे अधिक सुझाए गए दो तरीके हैं और इनसे अपने मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल करें, क्योंकि ये निश्चित रूप से काम करता है.

उन्होंने आगे कहा, “योग और मेडिटेशन लाइट और सकारात्मक महसूस करने के कुछ बेहतरीन तरीके हैं और इसे अपनाने की काफी अनुशंसा की जाती है. आत्म-देखभाल के इन तरीकों को अपने दैनिक जीवन में अपनाएं. मेडिटेशन से बल्ड प्रैशर को सही रखने के अलावा एंजायटी और डिप्रेशन से दूर रहने में भी मदद मिलती है.

इसे भी पढ़ें : आत्महत्या के मामलों में वृद्धि का चलन: आप विपरित परिस्थितियों में खतरे को कैसे पहचान सकते हैं?

4. सही खाएं

डॉ. गुप्ता कहती हैं, ‘सही मात्रा में पोषण प्राप्त करना जरूरी है’. डॉ. गुप्ता के मुताबिक,

सही भोजन खाने से शॉर्ट टर्म मेमोरी लॉस और इन्फ्लमैशन जैसी बीमारियां दूर रहती हैं. इन बीमारियों के कारण दिमाग और शरीर के दूसरे अंगों पर बुरा असर पड़ता है. शरीर को बेहतर पोषण देने के लिए फैटी फिश, ब्लूबैरी, नट्स, हरी पत्तेदार सब्जियां और ब्रोकली जैसे खाद्य पर्दाथों को खाना बेस्ट रहता है.

5. पूरी नींद लें

आप भावनात्मक और शारीरिक रूप से कैसे कैसा महसूस करते हैं, इसमें नींद का अहम रोल रहता है. पूरी नींद न लेना कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है. कम से कम 8 घंटे की नींद लेना बहुत जरूरी है.

डॉ. गुप्ता कहती हैं कि अगर आप 8 घंटे की नींद लेते हैं, तो आप अंदर और बाहर से अच्छा महसूस करते हैं.

इसे भी पढ़ें : दुनिया लैंगिक असमानता और महिलाओं के खिलाफ हिंसा के शेडो पेंडेमिक से जूझ रही है: सुसान फर्ग्यूसन, भारत की संयुक्त राष्ट्र महिला प्रतिनिधि

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts