NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India NDTV-Dettol Banega Swasth Swachh India

कोरोनावायरस अपडेट

विश्व स्वास्थ्य संगठन को उम्मीद, COVID-19 साल 2023 में ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी नहीं होगा

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा कि, “हमें उम्मीद है कि अगले साल किसी समय हम यह कह पाने में सक्षम होंगे कि कोविड-19 अब वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल नहीं है”

Read In English
World Health Organization Hopes COVID-19 Will No Longer Be A Global Health Emergency In 2023
विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस एडनॉम घेब्रेयसस ने कहा कि कोविड-19 यहां रहने के लिए है

नई दिल्ली: बुधवार (14 दिसंबर) को, विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस एडनॉम घेब्रेयसस ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि 2023 में, COVID-19 महामारी को वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल नहीं माना जाएगा. एक मीडिया ब्रीफिंग में, डॉ. घेब्रेयसस ने महामारी की वर्तमान स्थिति को साझा करते हुए COVID-19 के वक्त को याद किया और कहा,

एक साल पहले, ओमिक्रॉन की पहचान की गई थी और वह धीरे-धीरे फैलना शुरू हो रहा था. उस समय, COVID-19 हर हफ्ते 50,000 लोगों की जान ले रहा था. पिछले हफ्ते, 10,000 से कम लोगों ने अपनी जान गंवाई. यह 10,000 अभी भी बहुत अधिक है – और अभी भी बहुत कुछ है जो सभी देश जीवन बचाने के लिए कर सकते हैं – लेकिन हम एक लंबा सफर तय कर चुके हैं. हमें उम्मीद है कि अगले साल किसी समय हम यह कहने में सक्षम होंगे कि COVID-19 अब वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल नहीं है.

इसे भी पढ़ें: Banega Swasth India Telethon पर WHO की मुख्य वैज्ञानिक से जानें COVID-19 महामारी से जुड़ी अहम बातें

डॉ. घेब्रेयेसस ने स्पष्ट किया कि जनवरी में आपातकालीन समिति की बैठक में आपातकाल की समाप्ति की घोषणा करने के मानदंड बातचीत के विषयों में शामिल होंगे. उन्होंने आगे ‘चेतावनी’ का एक शब्द साझा किया और कहा कि नॉवल कोरोनावायरस दूर नहीं होगा. उन्होंने कहा,

ये यहां रहने के लिए है, और सभी देशों को इन्फ्लूएंजा और आरएसवी (रेस्पिरेटरी सिंसाइटियल वायरस) समेत अन्य श्वसन बीमारियों के साथ इसे मैनेज करना सीखना होगा, ये दोनों अब कई देशों में तेज़ी से फैल रहे हैं.

कोविड को लेकर उम्मीद हो सकती है लेकिन हम अभी भी 2023 में टीकाकरण की कमी जैसी कई अनिश्चितताओं और चुनौतियों का सामना कर रहे हैं. चुनौतियों के बारे में विस्तार से बताते हुए, डॉ. घेब्रेयेसस ने कहा,

कम आय वाले देशों में पांच में से केवल एक व्यक्ति को टीका लगाया गया है. COVID-19 के डायग्नोस्टिक और लाइफ-सेविंग ट्रीटमेंट तक पहुंच अस्वीकार्य रूप से पहुंच से बाहर और असमान बनी हुई है; कोविड-19 के बाद की स्थिति के बोझ में केवल बढ़ने की संभावना है; और इसकी निगरानी में बड़े गैप हैं, जो न केवल COVID-19 के नए रूपों का पता लगाने के लिए बल्कि अन्य संक्रमणों के प्रसार की मॉनिटरिंग के लिए भी एक कमजोरी है.

COVID-19 महामारी दुनिया के लिए स्वास्थ्य पर एक सबक की तरह थी. महामारी से मिली सीख के बारे में बात करते हुए, .डॉ घेब्रेयसस ने कहा,

महामारी के सबसे महत्वपूर्ण सबक में से एक यह है कि सभी देशों को आउटब्रेक, एपिडेमिक और महामारियों के लिए तेजी से तैयार करने, रोकने, पता लगाने और प्रतिक्रिया देने के लिए अपनी सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणालियों को मजबूत करने की आवश्यकता है. एडवांस मेडिकल केयर सिस्टम, एक स्ट्रॉंन्ग पब्लिक हेल्थ सिस्टम की तरह नहीं है. महामारी के अन्य प्रमुख सबकों में से एक प्रतिस्पर्धा और भ्रम के बजाय अधिक मजबूत कोऑपरेशन और कॉलेबोरेशन की आवश्यकता है, जिसने कोविड-19 के लिए वैश्विक प्रतिक्रिया को चिह्नित किया.

अब जबकि हम आपातकाल के अंत की ओर बढ़ रहे हैं, महामारी की शुरुआत जो कि प्रकोप है अभी भी स्पष्ट नहीं है. यह कैसे शुरू हुआ, यह समझने के लिए, डब्ल्यूएचओ चीन से डेटा साझा करने और इस वायरस की उत्पत्ति को बेहतर ढंग से समझने के लिए अनुरोध किए गए अध्ययनों का संचालन करने के लिए कह रहा है.

इसे भी पढ़ें: Long COVID: COVID से बचे आधे लोगों में इंफेक्‍शन के दो साल बाद भी लक्षण दिखाई देते हैं, लैंसेट स्‍टडी

Highlights: Banega Swasth India Launches Season 10

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पढ़ें

This website follows the DNPA Code of Ethics

© Copyright NDTV Convergence Limited 2024. All rights reserved.