Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

World Toilet Day: खास बातें जो आपको जाननी चाहिए

यूनिसेफ ने आगे कहा कि आगे यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि हर समय टॉयलेट का रेगुलर इस्‍तमाल हो.

Read In English
António Guterres, Secretary-General of the United Nations called for ‘massive investment & innovation in sanitation for all’
इस वर्ष विश्व शौचालय दिवस की थीम शौचालयों का महत्व है.

नई दिल्ली: संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, “टॉयलेट की परवाह किसे है? 3.6 अरब लोगों को, क्योंकि उनके पास ठीक से काम करने वाला कोई नहीं है. शौचालय के बिना जीवन गंदा और खतरनाक है और सरकार का इसमें निवेश स्वास्थ्य, उत्पादकता, शिक्षा और नौकरियों में पांच गुना बढ़ोतरी कर सकता है. संयुक्त राष्ट्र ने यह भी कहा है कि अभी, दुनिया सतत विकास लक्ष्य 6 को पूरा करने से दूर है, जिसमें 2030 तक सभी के लिए शौचालय सुनिश्चित करना है. स्वास्थ्य, शिक्षा, लैंगिक समानता, अर्थशास्त्र और पर्यावरण के वैश्विक लक्ष्य गंभीर हैं. इस सतत विकास लक्ष्य को पूरा करने के लिए सरकारों को प्रगति चौगुनी करनी चाहिए.

यह विश्व शौचालय दिवस के लिए 2021 के अभियान का प्रारंभिक बिंदु है, जो हर साल 19 नवंबर को मनाया जाता है. आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसी बातें जो आपको जाननी चाहिए:

वर्ल्‍ड टॉयलेट डे- कैसे अस्तित्व में आया

2001 में स्वच्छता, स्वच्छता के बारे में जागरूकता बढ़ाने के विचार के साथ और कैसे खराब स्वच्छता जनता को मौत के मुंह में ले जा सकती है और अर्थव्यवस्था का लाखों खर्च कर सकती है, सिंगापुर के एक व्यवसायी जैक सिम ने दुनिया भर में बेहतर स्वच्छता और स्वच्छता प्रथाओं के लिए धर्मयुद्ध शुरू किया और विश्व शौचालय संगठन की स्थापना की. वह 19 नवंबर को विश्व शौचालय दिवस के रूप में घोषित करने वाले व्यक्ति थे. स्वच्छता के इस महत्वपूर्ण विषय के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए 2012 में विश्व शौचालय दिवस से जुड़ा पहला नारा सामने आया, जो था, “आई गिव श**, डू यू?”. बाद में, 2013 में, संयुक्त राष्ट्र ने खुले में शौच के दुष्प्रभावों से पीड़ित लोगों को शिक्षित करने के लिए इस दिन को मान्‍यता दी.

इसे भी पढ़ें: जलवायु परिवर्तन अनुकूलन क्या है और यह मानव जीवन रक्षा के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

वर्ल्‍ड टॉयलेट डे की थीम क्या है?

हर साल इस दिन को एक खास थीम के साथ मनाया जाता है. इस वर्ष की थीम टॉयलेट का महत्व है. इस विषय का उद्देश्य जनता को इस बात के लिए शिक्षित करना है कि हम सभी को टॉयलेट के बारे में गंभीरता से सोचना चाहिए और यह सुनिश्चित करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करनी चाहिए कि 2030 तक सभी को सुरक्षित स्वच्छता और शौचालय की सुविधा मिले और दुनिया को सतत विकास लक्ष्य 6: 2030 तक सभी के लिए पानी और स्वच्छता प्राप्त करने में मदद मिले.

वर्ल्‍ड टॉयलेट डे मनाने का उद्देश्य

विश्व शौचालय संगठन के अनुसार, वर्ल्‍ड टॉयलेट डे को स्वच्छता के मुद्दों पर “वैश्विक आवाज” को मजबूत करने और हर जगह, हर किसी के लिए स्वच्छता के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करने के दिन के रूप में चिह्नित किया गया है.

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, इस बार इस दिन का उद्देश्य इस बात की जागरूकता बढ़ाना है कि हमें शौचालय से लेकर मानव अपशिष्ट के परिवहन, संग्रह और उपचार तक, ‘स्वच्छता श्रृंखला’ के साथ बड़े पैमाने पर निवेश और नवाचार की तत्काल आवश्यकता है.

संयुक्त राष्ट्र यह ने भी कहा कि मानवाधिकार-आधारित दृष्टिकोण के रूप में, सरकारों को उन लोगों की बात सुननी चाहिए जो शौचालय की पहुंच से दूर हैं और उन्हें योजना और निर्णय लेने की प्रक्रियाओं में शामिल करने के लिए विशिष्ट धन आवंटित करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें: जलवायु संकट: नेट शून्‍य उत्सर्जन क्या है और क्या इसे 2050 तक पाया जा सकता है?

सुरक्षित स्वच्छता का महत्व

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि पानी, स्वच्छता और स्वच्छता की अपर्याप्त उपलब्धता के कारण हर साल निम्न और मध्यम आय वाले देशों में 8,27,000 मौतें होती हैं.

संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि एक बेहतर पेयजल स्रोत तक पहुंच के लाभों को पूरी तरह से तभी समझा जा सकता है जब बेहतर स्वच्छता और अच्छी स्वच्छता प्रथाओं का पालन हो. वर्तमान स्थिति के बारे में बात करते हुए, यह बताता है कि आज, 2 बिलियन लोगों के पास सुरक्षित रूप से प्रबंधित पेयजल सेवाएं नहीं हैं और 3.6 बिलियन लोगों के पास सुरक्षित रूप से प्रबंधित स्वच्छता सेवाओं की कमी है. संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि बाल मृत्यु दर पर प्रभाव विनाशकारी है, क्योंकि पांच साल से कम उम्र के 700 से अधिक बच्चों की प्रतिदिन खराब स्वच्छता या असुरक्षित पेयजल के कारण डायरिया की बीमारियों से मौत हो जाती है.

भारत में स्वच्छता की स्थिति

यूनिसेफ का कहना है कि भारत ने पूरे देश में खुले में शौच को समाप्त करने की दिशा में तेजी से विकास किया है.

कुछ साल पहले, 2015 में, भारत की लगभग 568 मिलियन लोगों की लगभग आधी आबादी को शौचालयों तक पहुंच की कमी के कारण खेतों, जंगलों, जलाशयों या अन्य सार्वजनिक स्थानों पर शौच करने को मजबरू होना पड़ा था. अकेले भारत में दक्षिण एशिया में 90 प्रतिशत लोग और दुनिया के 1.2 अरब लोगों में से आधे लोग खुले में शौच करते हैं. लेकिन, 2019 तक, शौचालय तक पहुंच न होने वाले लोगों की संख्या में अनुमानित 450 मिलियन लोगों की कमी आई है.

इसे भी पढ़ें: 65 मिलियन की आबादी वाले महाराष्ट्र के 43 शहर जलवायु परविर्तन के लिए यूएन के “रेस टू जीरो” अभियान में शामिल

Highlights From The 12-Hour Telethon

Leaving No One Behind

Mental Health

Environment

Join Us