Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

सतत स्वच्छता क्या है?

सुरक्षित और टिकाऊ पानी, सेनिटेशन और हाइजीन सेवाएं जलवायु परिवर्तन के शमन और अनुकूलन में योगदान कर सकती हैं

Read In English
सतत स्वच्छता क्या है?
स्थायी स्वच्छता के माध्यम से, शौचालयों से अपशिष्ट जल और जैव-ठोस का उपयोग हरित ऊर्जा का उत्पादन करने और जलवायु परिवर्तन के लिए जिम्मेदार कार्बन उत्सर्जन से लड़ने के लिए किया जा सकता है

नई दिल्ली: डेली यूज में, घरेलू स्वच्छता प्रणाली टॉयलेट से अपशिष्ट जल के साथ-साथ सिंक, शावर और वाशिंग मशीन से गंदा पानी उत्पन्न करती है. यूएन वाटर के अनुसार, टॉयलेट शौचालयों से अपशिष्ट जल और कीचड़ में पानी, पोषक तत्व और ऊर्जा होती है और टिकाऊ स्वच्छता प्रणाली इस कचरे का उत्पादक उपयोग कृषि को सुरक्षित रूप से बढ़ावा देने और हरित ऊर्जा के लिए उत्सर्जन को कम करने के लिए कर सकती है. वर्ल्‍ड टॉयलेट डे पर जो हर साल 19 नवंबर को सुरक्षित स्वच्छता तक पहुंच के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है, एनडीटीवी ने स्थायी स्वच्छता और शौचालय जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में कैसे योगदान दे सकते हैं पर विशेषज्ञों से बात की.

इसे भी पढ़ें: जलवायु परिवर्तन अनुकूलन क्या है और यह मानव जीवन रक्षा के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

भारत सरकार के एनविस सेंटर ऑन हाइजीन, सेनिटेशन, सीवेज ट्रीटमेंट सिस्टम्स एंड टेक्नोलॉजी के अनुसार, जून 2021 तक, देश में 72,368 मिलियन लीटर प्रति दिन (एमएलडी) सीवेज उत्पन्न हुआ. प्रतिदिन उत्पादित होने वाले इस कुल कीचड़ में से केवल 28 प्रतिशत (20,236 एमएलडी) का ही उपचार किया जाता है. बचा हुआ 72 प्रतिशत अनुपचारित रहता है, इस प्रकार पारिस्थितिकी तंत्र के लिए यह एक गंभीर खतरा है. विशेषज्ञ स्थायी स्वच्छता की भूमिका और ‘फ्लश और भूलने’ की प्रवृत्ति से परे की आवश्यकता पर जोर देते हैं.

वाटरएड इंडिया के कार्यक्रम समन्वयक डॉ. शिशिर चंद्रा ने कहा, हम बस इतना जानते हैं कि टॉयलेट को फ्लश करने के बाद और मलमूत्र गायब हो गया, अब चाहे वह सेप्टिक टैंक में गया हो, नाले में गया हो या नदी में, हमें क्या फर्क पड़ता है? कई शहरों में सीवर ट्रीटमेंट प्लांट या फेकल स्लज ट्रीटमेंट प्लांट बनने की प्रक्रिया में हैं, और जिन शहरों में यह पहले से ही बना हुआ है, वहां यह अपर्याप्त है, इसलिए सवाल उठता है कि क्या हम आम जनता को भी इस मुद्दे के बारे में पता है, पर्यावरण इसके कारण होने वाली समस्याएं, क्या हम भी समझना चाहते हैं और इसमें एक भूमिका निभाना चाहते हैं?

टिकाऊ स्वच्छता की व्याख्या करते हुए सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट (सीएसई) के वरिष्ठ निदेशक डॉ. सुरेश कुमार रोहिल्ला ने कहा,

सरल शब्दों में, स्थायी स्वच्छता सेफ टॉयलेट, हाइजीन और पानी का प्रावधान है़ जो कि वहनीय, समान, सभी के लिए सुलभ है और पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाता है. सतत स्वच्छता निश्चित रूप से उन उपयोगिताओं पर दबाव कम करती है जो नदियों और अन्य जल निकायों को साफ करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं क्योंकि अपशिष्ट नदियों और खुली भूमि में अनियंत्रित स्रोतों से नहीं जा रहा होगा, पानी के स्रोतों और लोगों, जानवरों की खाद्य प्रणालियों को दूषित नहीं करेगा. इसलिए, टॉयलेट के साथ, स्रोतों का नियंत्रित बिंदु होगा जहां से कीचड़ एकत्र किया जा सकता है और उसका उपचार किया जा सकता है.

टिकाऊ स्वच्छता के बारे में बताते हुए डॉ. चंद्रा ने कहा कि शहरी भारत ने सरकार के प्रमुख स्वच्छ भारत मिशन (एसबीएम)-शहरी के तहत सुरक्षित स्वच्छता की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं. हालांकि, उन्होंने कहा कि टॉयलेट या सीवर कनेक्शन तक पहुंच समाधान का केवल एक हिस्सा है और पर्याप्त और समय पर सेप्टिक टैंक और मल और सेप्टेज के उपचार के बिना, इसे खुले मैदानों और जल निकायों में अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, जिससे नागरिकों को इस समस्या का सामना करना पड़ता है. इसके गंभीर स्वास्थ्य और पर्यावरणीय खतरे हैं.

भारत में, सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च की वरिष्ठ शोधकर्ता अनिंदिता मुखर्जी के अनुसार, सरकार शौचालयों के उपयोग को कई गुना बढ़ाने में सक्षम है जिसके कारण लगभग पूरा देश खुले में शौच मुक्त हो गया है. हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि पानी की आपूर्ति जैसी सेवाओं के अभाव में, लोग पुरानी प्रथाओं को दोबारा न अपनाएं.

सुरक्षित स्वच्छता तक पहुंच सुनिश्चित करना एक सतत प्रक्रिया है और यह केवल शौचालय संरचनाओं के निर्माण तक ही सीमित नहीं है.

सतत स्वच्छता कैसे प्राप्त करें?

डॉ. चंद्रा के अनुसार, केवल 40 प्रतिशत शहर भारत सीवर नेटवर्क से जुड़ा है और लगभग 1,200 चालू/निर्माणाधीन सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) हैं, अधिकांश शौचालय (60 प्रतिशत) साइट पर स्वच्छता प्रणालियों पर निर्भर हैं. डॉ. चंद्रा ने मौजूदा कुछ स्थायी समाधानों पर प्रकाश डाला, जिन्हें आसानी से अपनाया जा सकता है।

डॉ. चंद्रा के अनुसार, मल कीचड़ और सेप्टेज प्रबंधन (FSSM), मानव मल प्रबंधन को प्राथमिकता देता है, जो एक अपशिष्ट धारा है, जिसमें रोग फैलाने की उच्चतम क्षमता है, यह एक कम लागत वाला और आसानी से मापनीय स्वच्छता समाधान है जो मानव अपशिष्ट के सुरक्षित संग्रह, परिवहन, उपचार और पुन: उपयोग पर केंद्रित है, नतीजतन, FSSM समयबद्ध तरीके से सभी के लिए पर्याप्त और समावेशी स्वच्छता प्राप्त करने के साधन का वादा करता है.

डॉ. चंद्रा के अनुसार, जब ग्रामीण भारत की बात आती है, तो सुरक्षित और टिकाऊ स्वच्छता की दिशा में ट्विन लीच पिट टॉयलेट टैक्‍नोलॉजी सबसे आसान और लागत प्रभावी समाधान है और इसे स्वच्छ भारत मिशन के तहत अखिल भारतीय स्तर पर अपनाया गया है. इसी तरह, वाष्पोत्सर्जन शौचालय, जैव-शौचालय, इको-सैन शौचालय कुछ ऐसे उदाहरण हैं जिनका भू-जल विज्ञान, स्थलाकृति और स्थानीय सांस्कृतिक प्रथाओं के आधार पर देश के विभिन्न हिस्सों में प्रयोग किया गया है. इसे स्थायी स्वच्छता के प्रति अच्छे परिणाम और प्रतिक्रिया प्राप्त हुई है.

डॉ. चंद्रा ने कहा, टॉयलेट टैक्‍नोलॉजी के अलावा स्वच्छता न केवल शौचालय निर्माण तक सीमित है, बल्कि इसका दायरा काफी बढ़ा है. इसमें ग्रे और ब्‍लैक वाटर का प्रबंधन, जल भराव की समस्या, पशु मल प्रबंधन, विभिन्न प्रकार के अपशिष्ट प्रबंधन के मुद्दे ये सब आते हैं. सतही जल के मुद्दों को संबोधित करने और स्थायी स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए, अपशिष्ट जल उपचार का विकेंद्रीकरण, अपशिष्ट स्थिरीकरण तालाब, तैरती हुई आर्द्रभूमि, लगाए गए बजरी फिल्टर आदि कुछ ऐसे उदाहरण हैं जिनका देश के विभिन्न हिस्सों में परीक्षण किया गया और इसे बड़े स्तर पर दोहराया जा सकता है. इसके अलावा बायोगैस ट्रीटमेंट प्लांट, वर्मी कम्पोस्टिंग, कचरा पृथक्करण और विभिन्न स्तरों पर प्रबंधन भी स्थायी स्वच्छता सुनिश्चित करने के कुछ उदाहरण हैं.

इसे भी पढ़ें: जलवायु संकट: नेट शून्‍य उत्सर्जन क्या है और क्या इसे 2050 तक पाया जा सकता है?

स्थायी स्वच्छता उपायों को अपनाने के लिए हम क्या कर सकते हैं?

मुखर्जी ने जोर देकर कहा कि सरकार ने स्वच्छ भारत मिशन योजना के तहत सब्सिडी देकर बहुत अच्छा काम किया है. हालांकि, टिकाऊ विकल्पों के बारे में लोगों के बीच ज्ञान की भारी कमी है और इसलिए, निर्माण को जल्दी से पूरा करने और सब्सिडी को तेजी से प्राप्त करने के लिए, लोग अस्थिर संरचनाओं का निर्माण करते हैं.

मुखर्जी ने कहा, मिट्टी की गुणवत्ता, जरूरी वाटर लेवल और वे किस तरह के बेहतर और टिकाऊ टॉयलेट बना सकते हैं, के बारे में निर्णय लेने के लिए संवाद करना और परिवारों को जागरूक करना जरूरी है. उन्हें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके घर से मल कीचड़ का संग्रह और परिवहन सुरक्षित रूप से किया जाता है और एकत्रित कचरे को सीवेज उपचार संयंत्र में ले जाया जाता है ताकि उपचारित अपशिष्ट जल और जैव-ठोस का पुन: उपयोग किया जा सके और बिना जोखिम पैदा किए पुनर्चक्रण किया जा सके.

विशेषज्ञों के अनुसार, कुछ कार्य जो व्यक्ति स्थायी स्वच्छता उपायों को अपनाने के लिए कर सकते हैं, वे से हैं:

– ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में अलग-अलग कारणों से खुले में शौच जारी है. हर व्यक्ति को टॉयलेट के महत्व को समझने की जरूरत है और इसे अपनाने और अपने व्यवहार को बदलने की जरूरत है.
– संपन्न परिवार अपने घरेलू स्तर पर अपशिष्ट जल उपचार प्रणाली विकसित करके सुरक्षित स्वच्छता की दिशा में योगदान कर सकते हैं.
– पर्यावरण के प्रति संवेदनशील बनें और जल निकायों में या खुले में कचरे को डंप करने से बचें, विभिन्न तरीकों और उद्देश्यों से जल निकायों का अतिक्रमण करना बंद करें.
– सेप्टिक टैंक की सही संरचना और डिजाइन के बारे में जानने का प्रयास करें कि इसे कब खाली करना है, सेप्टिक टैंक की सफाई के लिए संपर्क करने वाला संबंधित प्राधिकारी कौन है.
– सुनिश्चित करें कि सेप्टिक टैंक से निकलने वाले ठोस कचरे को ठीक से निपटारा हो, यह एक ट्रीटमेंट प्लांट में भेजा जाए और नाले या खुले मैदान में नहीं डाला जाए.
– एकल निर्मित मकान जिनमें जल निकासी की कोई नाली नहीं है, वहां सोख पिट की व्यवस्था होनी चाहिए, जब तक कि स्थानीय पंचायत या नगरपालिका कोई अन्य ठोस व्यवस्था न करे.
– जलभराव से बचने के लिए हर व्यक्ति को प्रयास करना होगा, चाहे वह गड्ढे के माध्यम से हो या पानी को अवशोषित करने वाले पेड़ लगाकर या अन्य पर्यावरण के अनुकूल तरीके अपनाकर.

इसे भी पढ़ें: 65 मिलियन की आबादी वाले महाराष्ट्र के 43 शहर जलवायु परविर्तन के लिए यूएन के “रेस टू जीरो” अभियान में शामिल

सतत स्वच्छता जलवायु परिवर्तन से लड़ने में कैसे मदद कर सकती है?

मुखर्जी ने कहा कि टॉयलेट न केवल लोगों को कई बीमारियों से सुरक्षित रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं बल्कि जलवायु परिवर्तन से लड़ने और एक स्थायी भविष्य बनाने में भी मदद कर सकते हैं. प्रोफेसर श्रीनिवास चारी, निदेशक, ऊर्जा, पर्यावरण, शहरी शासन और बुनियादी ढांचा विकास, प्रशासनिक स्टाफ कॉलेज ऑफ इंडिया (ASCI) के अनुसार, सुरक्षित और टिकाऊ पानी, स्वच्छता और हाइजीन सेवाएं जलवायु परिवर्तन के शमन और अनुकूलन में योगदान कर सकती हैं. उन्‍होंने कहा,

पानी और इस्‍तेमाल किए हुए जल की प्रबंधन सेवाएं लंबी दूरी की पंपिंग और उपचार के लिए ज्‍यादा ऊर्जा खर्च कर सकती हैं और हाई कार्बन का कारण बन सकती हैं. पानी के उपयोग को कम करना, पानी की दक्षता और रिसाव नियंत्रण, स्वच्छता और सेनिटाइजेशन प्रथाओं के लिए कम पानी का उपयोग, और प्रकृति आधारित उपयोग किए गए जल उपचार कुछ ऐसे उदाहरण हैं जो पानी, स्वच्छता और हाइजीन प्रावधान में कार्बन की तीव्रता को कम करने में मदद कर सकते हैं. बेहतर डिजाइन, योजना और संचालन के माध्यम से जलवायु लचीला पानी, स्वच्छता और हाइजीन प्रावधान, जो कार्बन पदचिह्न को कम करने में भी मदद करता है, जलवायु परिवर्तन जोखिमों के अनुकूलन के लिए आवश्यक है.

इस बारे में बात करते हुए कि जलवायु परिवर्तन स्वच्छता तक पहुंच को कैसे प्रभावित कर सकता है, प्रोफेसर चारी ने जोर देकर कहा कि जलवायु परिवर्तन जल सुरक्षा के लिए एक बड़ा खतरा है. उन्होंने कहा कि पानी की असुरक्षा की यह स्थिति, विशेष रूप से गरीबों के लिए, पीने, स्वच्छता और हाइजीन के लिए पर्याप्त और स्वच्छ पानी की अनुपलब्धता के परिणामस्वरूप हो सकती है. उन्‍होंने आगे कहा,

आपदाओं के दौरान पानी की लागत भी बढ़ सकती है, लागत असमान छू सकती है और गरीब लोगों का स्वास्थ्य और सुरक्षा सीमित हो सकती है. लचीलापन कुंजी है. शौचालय और पानी, हाइजीन और सेनिटाइजेशन देने वाली सेवाओं को जलवायु परिवर्तन के अनुकूल बनाने के लिए रणनीति अपनानी होगी.

Highlights From The 12-Hour Telethon

Leaving No One Behind

Mental Health

Environment

Join Us