Connect with us

कोरोनावायरस अपडेट

India’s Omicron Patient #2 – बेंगलुरू के डॉक्टर ने साझा किए अपने अनुभव

बेंगलुरू के एक डॉक्टर, जो भारत में कोविड-19 के नए वेरिएंट ओमिक्रोन से संक्रमित पाए जाने वाले पहले दो व्यक्तियों में से थे, ने अपना अनुभव साझा किए

Read In English
India’s Omicron Patient #2 - A Bengaluru Doctor Shares His Experience

46 वर्षीय बेंगलुरू के डॉक्टर, जो भारत में ओमिक्रोन पॉजिटिव टेस्ट पाए जाने वाले पहले रोगियों में से एक थे, ने विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा ‘वेरिएंट ऑफ कंसर्न’ के रूप में टैग किए गए वेरिएंट से निपटने पर अपना अनुभव साझा किया. नाम न बताते हुए डॉक्टर ने कहा कि उन्हें तेज बुखार नहीं था, और स‍िर्फ हल्के शरीर में दर्द, ठंड लगना और बुखार का हुआ.

डॉक्टर ने पहले 22 नवंबर को पॉजिटिव टेस्ट किया था और एक बार फिर 7 दिसंबर को कोविड के लिए पॉजिटिव टेस्ट किया है. डॉक्टर ने कोविशील्ड वैक्सीन की दोनों खुराक ली थीं.

एनडीटीवी से बात करते हुए उन्होंने कहा कि वह अब बिल्कुल ठीक हैं. संक्रमण के साथ अपने अनुभव को बताते हुए, वे कहते हैं, “इस वेरिएंट के बारे में चिंता करने की कोई बात नहीं है, क्योंकि दूसरे वेरिएंट के संक्रमण के अधिकांश मामलों के विपरीत, इसमें रेस्पिरेटरी से जुड़ा कोई बड़ा श्वसन लक्षण नहीं था.”

उन्होंने आगे कहा कि उन्हें सर्दी या खांसी का अनुभव भी नहीं हुआ और उनका ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल (Oxygen Saturation Levels) पूरे समय सामान्य रहा. वायरस के लिए सकारात्मक परीक्षण से पहले उन्होंने खुद को आइसोलेट करने के बारे में बताया –

इसे भी पढ़ें: Explained: ओमिक्रॉन कितनी तेजी से फैलता है और रोग की गंभीरता क्या है?

पहली बार 21 नवंबर को लक्षण दिखने के बाद मैंने खुद को एक कमरे में अलग कर लिया और अपने परिवार के किसी सदस्य के संपर्क में नहीं आया. अगली सुबह, मेरा परीक्षण किया गया और आरएटी और आरटी-पीसीआर दोनों परीक्षण कोविड के लिए सकारात्मक थे.

डॉक्टर ने आगे कहा कि वह शुरुआती तीन दिनों के लिए घर पर थे, लेकिन चक्कर आने की एक घटना के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया. उन्होंने कहा –

मेरा ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल 96-97 था, लेकिन मैं कोई जोखिम नहीं लेना चाहता था, इसलिए मुझे भर्ती कराया गया और उसी दिन मोनोक्लोनल एंटीबॉडी के साथ इलाज किया गया. यह 25 नवंबर को था. लेकिन उसके बाद मुझे एक भी लक्षण नहीं दिखा.

इलाज के बारे में बात करते हुए डॉक्टर ने कहा कि वायरस के स्ट्रेन का पता लगाने के लिए जीनोमिक सीक्वेंसिंग तब की गई जब उनका पहली बार टेस्ट पॉजिटिव आया था,

जबकि मोनोक्लोनल एंटीबॉडी से इलाज 25 नवंबर की शाम को शुरू हुआ था. उपचार की सुबह, मुझे कोई लक्षण नहीं दिखा था, हल्का बुखार या मायाल्गिया (मांसपेशियों में दर्द) भी नहीं था,

वे ओमिक्रोन के संपर्क में कैसे आए, इस बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें किसी ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आने की जानकारी नहीं है, जो कोविड पॉजिट‍िव था. लेकिन डॉक्टर के लिए हर दिन अस्पताल जा रहा था और संदेह है कि उसे शायद यह एक ऐसे मरीज से मिला हो, जिसने हाल ही में यात्रा की हो.

उनके संभावित संपर्कों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की गई. उनके अस्पताल में, दो सहयोगियों को छोड़कर, सभी ने नकारात्मक परीक्षण किया है.

डॉक्टर का कहना है कि आमतौर पर संक्रमण के बाद नकारात्मक परीक्षण करने में दो सप्ताह लगते हैं, वह अगले 2-3 दिनों में नकारात्मक परीक्षण करने की उम्मीद कर रहे हैं. वर्तमान में, डॉक्टर को और सात दिनों के लिए निगरानी में रखा गया है. उन्हें एक नकारात्मक आरटी-पीसीआर परीक्षण के बाद ही छुट्टी दी जाएगी.

इसे भी पढ़ें: COVID-19: सरकार ने दिए ओमि‍क्रोम वेरिएंट से जुड़े सवालों के जवाब

मिक्रोन: संख्याओं पर एक नज़र

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, भारत में अब तक ओमिक्रोन के 23 मामले सामने आ चुके हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि पिछले महीने दक्षिण अफ्रीका में पाया गया कोविड वेरिएंट 38 देशों में फैल गया है, लेकिन कहीं से भी किसी की मौत की सूचना नहीं है. उन्होंने यह भी कहा कि अस्पतालों में भर्ती होने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि का कोई सबूत नहीं है और अगर वायरस का यह नया तनाव डेल्टा से ज्यादा खतरनाक है.

दुनिया भर में, 1,300 से अधिक ओमिक्रोन रोगी हैं, इनमें से लगभग 50 प्रतिशत मामले दक्षिण अफ्रीका और यूके में हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=