Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

ऐसे ऑप्‍शन तलाशें जो अंतर बनाने में मदद करें: जलवायु परिवर्तन संकट पर विशेष अमेरिकी दूत जॉन केरी

NDTV के साथ एक स्‍पेशल इंटरव्‍यू में, अमेरिकी जलवायु दूत जॉन केरी ने जलवायु परिवर्तन आपातकाल के बारे में बात की

Read In English
ऐसे ऑप्‍शन तलाशें जो अंतर बनाने में मदद करें: जलवायु परिवर्तन संकट पर विशेष अमेरिकी दूत जॉन केरी

नई दिल्ली: इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) के अनुसार, मानव गतिविधि अभूतपूर्व और कभी-कभी अपरिवर्तनीय तरीकों से जलवायु को बदल रही है. तेजी से बढ़ती गर्मी, सूखे और बाढ़ को ध्यान में रखते हुए, और केवल एक दशक में तापमान में 1.5 डिग्री सेल्सियस वृद्धि को देखते हुए, पैनल ने मानवता के लिए ‘कोड रेड’ चेतावनी जारी की है. दुनिया इस जलवायु संकट से कैसे निपट सकती है, इस बारे में बात करने के लिए, एनडीटीवी के विष्णु सोम ने जलवायु पर विशेष अमेरिकी दूत जॉन केरी के साथ बातचीत की.

इसे भी पढ़ें : गुजरात के दीपेन गढ़िया ने कोविड की दूसरी लहर के दौरान कुछ यूं किया सोशल मीडिया का इस्तेमाल

NDTV से बात करते हुए, केरी ने कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, यूरोपीय संघ और भारत ग्रीनहाउस गैसों के चार सबसे बड़े उत्सर्जक हैं.

उन्होंने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि संयुक्त राज्य अमेरिका, भारत और अन्य देश एक साथ मिलकर जलवायु संकट की समस्या से निपटने के लिए दुनिया का नेतृत्व करें. उन्होंने कहा, ‘बाढ़, मौसम में निरंतर बदलाव के पीछे का कारण महासागरों का गर्म होना है. वातावरण में अधिक नमी बढ़ रही है, दुनिया भर में ट्रेवलिंग जारी है और वर्षा का रिकॉर्ड बार-बार टूट रहा है. हमारे पास अमेरिका में ये भी मिला है. इसलिए, आग, सूखे, बाढ़, भूस्खलन, गर्माहट, ग्लेशियरों के पिघलने आदि के बीच, लोगों के लिए गंभीर होने का समय है.

अधिक से अधिक नवीकरणीय ऊर्जा का उत्पादन ग्लोबल वार्मिंग का एकमात्र हल है: केरी

केरी ने स्वीकार किया कि भारत ने अगले 10 सालों में 450 गीगा वॉट अक्षय ऊर्जा की क्षमता के निर्माण की एक महत्वाकांक्षी चुनौती स्‍वीकार की है और वह बेहतर प्रौद्योगिकी के इस्‍तेमाल के साथ इसे हासिल करने में सक्षम होगा. उन्होंने कहा, ‘हमने भारत के साथ साझेदारी की घोषणा की है, ताकि ऐसा करने में मदद मिल सके और अनुसंधान, विकास, लचीलापन, अनुकूलन पर एक साथ जुड़ सकें और इस संकट से निपटने के लिए अपनी भूमिका निभा सकें.’

इस तर्क पर कि भारत को अब शुद्ध शून्य कार्बन उत्सर्जक बनने के लिए कहा जा रहा है, संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे देशों में कुछ सबसे अधिक प्रदूषणकारी अर्थव्यवस्थाएं होने के बावजूद – जिसने पहली बार उनकी आर्थिक वृद्धि को गति दी – केरी ने कहा कि वह भारत के दृष्टिकोण को समझते हैं.

केरी ने कहा, दिक्‍कत यह है कि प्रकृति यह नहीं जानती है कि यह भारतीय गैसें हैं या चीनी गैसें. यह कुल राशि है, जिससे हमें निपटना है,
लेकिन उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि कोई भी देश समस्या को हल करने के लिए उत्सर्जन को पर्याप्त रूप से कम नहीं कर सकता है.

उन्होंने कहा,

और हां, इस तथ्य के बारे में चिंतित होने का एक कारण ये भी है कि भारत अभी भी विकसित हो रहा है, लेकिन विकल्प विकासशील और विकासशील न होने के बीच नहीं है. हम जलवायु संकट को संबोधित कर सकते हैं और एक ही समय में विकास कर सकते हैं, और हम इसे कई नई तकनीकों के साथ एक जिम्मेदार तरीके से कंट्रोल कर सकते हैं.

क्या होगा अगर हम 1.5 डिग्री सेल्सियस के निशान को तोड़ देते हैं?

केरी ने याद दिलाया कि दुनिया के सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक चेतावनी दे रहे हैं कि हमारे पास केवल बहुत कम समय है, जिसके अंदर फैसला लेने और बुरे परिणामों से बचने के लिए उन्हें लागू करना है. उन्होंने कहा, ‘अभी जो नुकसान हम देख रहे हैं वह 1.2 डिग्री की वृद्धि पर हो रहा है.

इसलिए, 1.5 पर पहुंचने से पहले हमारे पास 0.3 डिग्री है. डिग्री के हर दशमलव के बड़ने का अर्थ है समस्या की अधिक तीव्रता, अधिक गर्मी जिसमें लोग रह रहे हैं. पहले से ही लोग उस गर्मी से जूझ रहे हैं जो हमारे आसपास है. हम दुनिया भर में हर साल 10 मिलियन लोगों को प्रदूषण के कारण खो देते हैं. प्रदूषण, कोयले के जलने और जीवाश्म ईंधन से होता है. इसलिए, हमें इन चीजों पर ध्यान देने की जरूरत है.’उन्होंने कहा कि दुनिया में 20 ऐसे देश हैं, जो सभी 80 प्रतिशत उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार हैं. अन्‍य 20 राष्ट्र जलवायु संकट से निपटने में मदद करने के लिए अतिरिक्त जिम्मेदारी लेते हैं.

अंत में केरी ने जोर देकर कहा कि दुनिया भर के लोगों को बेहतर ऑप्‍शन बनाने की जरूरत है जो एक अंतर बनाने में मदद कर सकें. उन्होंने कहा कि लोगों को इस बारे में सोचना चाहिए कि वे किस तरह का वाहन चलाना चाहते हैं और फिर विकल्पों पर पुनर्विचार करना चाहिए जैसे वे किस तरह का सामान खरीदते हैं और कहां से खाना चुनते हैं.

सभी प्रकार के व्यक्तिगत विकल्प हैं, जो हर कोई लाइफस्‍टाइल के बारे में हर दिन तय कर सकता है. ऐसे ऑप्‍शन चुनें, जो फर्क करने में मदद करें.

इसे भी पढ़ें : नौ साल से रोजाना हजारों भूखे लोगों को मुफ्त खाना दे रहा हैदराबाद का यह टैकी कभी बाल मजदूर था…

Highlights From The 12-Hour Telethon

Leaving No One Behind

Mental Health

Environment

Join Us