Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

Swachh Survekshan 2021 Results: वार्षिक स्वच्छता सर्वेक्षण की मुख्य विशेषताएं

स्वच्छ सर्वेक्षण 2021: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने वार्षिक स्वच्छता सर्वेक्षण के परिणामों की घोषणा की, जो स्वच्छ भारत मिशन का हिस्सा है.

Read In English
Swachh Survekshan 2021 Results: वार्षिक स्वच्छता सर्वेक्षण की मुख्य विशेषताएं
Highlights
  • स्वच्छ सर्वेक्षण स्वच्छ भारत मिशन का हिस्सा है.
  • केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा घोषित किए नतीजे
  • छत्तीसगढ़ तीसरी बार सबसे स्वच्छ राज्य चुना गया

केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा घोषित ‘स्वच्छ सर्वेक्षण 2021’ परिणामों के अनुसार, इंदौर लगातार पांचवीं बार भारत का सबसे स्वच्छ शहर है और छत्तीसगढ़ तीसरी बार सबसे स्वच्छ राज्य है. ‘स्वच्छ सर्वेक्षण पुरस्कार, 2021’ की ‘सबसे स्वच्छ शहर’ श्रेणी में दूसरा और तीसरा स्थान क्रमशः सूरत और विजयवाड़ा को मिला. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 20 नवंबर को केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी की उपस्थिति में पुरस्कार प्रदान किए.

स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 की मुख्य विशेषताएं :

टॉप 3 सबसे स्वच्छ शहर:

A. इंदौर, मध्य प्रदेश
B. सूरत, गुजरात
C. विजयवाड़ा, आंध्र प्रदेश

इसे भी पढ़ें: Swachh Survekshan 2021: जानिए कैसे लगातार 5वें वर्ष भारत का सबसे स्वच्छ शहर बना इंदौर

टॉप 3 सबसे स्वच्छ राज्य (100 से अधिक शहरी स्थानीय निकाय):

A. छत्तीसगढ
B. महाराष्ट्र
C. मध्य प्रदेश

सबसे स्वच्छ गंगा शहर:

A. वाराणसी, उत्तर प्रदेश
B. मुंगेर, बिहार
C. पटना, बिहार

एक लाख से कम आबादी वाले सबसे स्वच्छ शहर:

A. वीटा, महाराष्ट्र
B. लोनावला, महाराष्ट्र
C. सासवड़, महाराष्ट्र

टॉप 3 सबसे स्वच्छ राज्य (100 से कम शहरी स्थानीय निकाय)

A. झारखंड
B. हरियाणा
C. गोवा.

इसे भी पढ़ें: सतत स्वच्छता क्या है?

नई दिल्ली नगर परिषद ने 1-3 लाख आबादी वाले देश के सबसे स्वच्छ छोटे शहर की श्रेणी में पहला स्थान हासिल किया, जबकि होशंगाबाद और तिरुपति (आंध्र प्रदेश) क्रमश “सबसे तेज चलने वाले छोटे शहर” और “नागरिकों की प्रतिक्रिया में सर्वश्रेष्ठ छोटे शहर” के रूप में उभरे.

नवी मुंबई को भी 10-40 लाख की आबादी की श्रेणी में भारत के ‘सबसे स्वच्छ बड़े शहर’ के रूप में पहला स्थान मिला है. 3-10 लाख की आबादी की श्रेणी में नोएडा देश का ‘सबसे स्वच्छ मध्यम शहर’ बनकर उभरा.

सबसे स्वच्छ छावनी बोर्ड:

A. अहमदाबाद, गुजरात
B. मेरठ, उत्तर प्रदेश
C. दिल्ली

सर्वेक्षण के तहत, कुल नौ शहरों – इंदौर, सूरत, नई दिल्ली नगर परिषद, नवी मुंबई, अंबिकापुर, मैसूर, नोएडा, विजयवाड़ा और पाटन को कचरा मुक्त शहर श्रेणी के तहत 5 सितारा शहर रेटिंग के साथ प्रमाणित किया गया है, जबकि 143 शहर 3 स्टार रेटिंग दी गई है.

मंत्रालय के अनुसार, महाराष्ट्र को कुल 92 पुरस्कार मिले हैं, जो किसी भी राज्य द्वारा सबसे अधिक है, इसके बाद छत्तीसगढ़ को 67 पुरस्कार मिले हैं.

स्वच्छ सर्वेक्षण एक अखिल भारतीय वार्षिक स्वच्छता सर्वेक्षण है, जो स्वच्छता, अपशिष्ट यानी कूड़े के प्रबंधन और समग्र स्वच्छता के आधार पर भारत के शहरों, कस्बों और राज्यों को रैंक करता है. मंत्रालय ने कहा कि नवीनतम राष्ट्रव्यापी स्वच्छता सर्वेक्षण में, 28 दिनों में 4,320 शहरों को कवर किया गया, जिसमें 4.2 से अधिक करोड़ लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी थी.

इसे भी पढ़ें: जलवायु परिवर्तन अनुकूलन क्या है और यह मानव जीवन रक्षा के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

(शीर्षक को छोड़कर, इस लेख को एनडीटीवी स्टाफ द्वारा संपादित नहीं किया गया है और एक सिंडिकेटेड फीड से प्रकाशित किया गया है.)

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=

Reckitt’s Commitment To A Better Future

Expert Blog

हिंदी में पड़े

Latest Posts